Connect with us

मनोरंजन

‘पद्मावत’ के आखिरी सीन को बैन करने की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

Published

on

Padmaavat
फाइल फोटो

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को फिल्म पद्मावत के आखिरी सीन को बैन करने के लिए स्वामी अग्निवेश की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की।

बताया जाता है कि स्वामी अग्निवेश नाम के याचिकाकर्ता ने फिल्म पद्मावत के आखिरी सीन पर प्रतिबंध लगाए जाने की कोर्ट से याचिका की थी। याचिकाकर्ता ने यह कहा था कि इस सीन से सती प्रथा को बढ़ावा मिलने का डर है।

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आपको लगता है कि कोई महिला महज फिल्म देखकर खुद को सती कर लेगी। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि इन सालों में महिला सशक्तीकरण काफी आगे बढ़ चुका है।

जब याचिकाकर्ता ने इसके बुरे प्रभाव की दलील जारी रखी तो कोर्ट ने कहा कि आपने देवदास फ़िल्म देखी है वो उपन्यास 1934 मे लिखा गया था उसके बाद उस पर कई फ़िल्में बनी। क्या कोई प्रेमी फ़िल्म देख कर शराबी हुआ? इसके साथ ही कोर्ट ने याचिका ख़ारिज कर दी।

WeForNews

मनोरंजन

अनु मलिक के खिलाफ ‘मी टू’ के तहत आरोप झूठे, निराधार : वकील

Published

on

anu maik-

गायक अनु मलिक ने गायिका श्वेता पंडित द्वारा उनके ऊपर लगाए यौन-उत्पीड़न के आरोपों से इनकार किया है। श्वेता ने उनको बाल प्रेमी और कामुक दरिंदा बताया है।

अनु मलिक के वकील जुल्फिकार मेमन ने कहा, मेरे मुव्वकिल पर लगाए गए आरोप पूर्ण रूप से झूठे और निराधार हैं, इसलिए इन आरोपों को स्पष्ट तरीके से खारिज किया जाता है। मेरे मुव्वकिल ‘मी टू’ आंदोलन का सम्मान करते हैं लेकिन चरित्र खराब करने के मकसद से इस आंदोलन का इस्तेमाल करना निंदनीय है।”

पंडित ने ट्विटर पर एक पोस्ट में वर्ष 2000 की एक घटना का जिक्र करते हुए मलिक के साथ अपने कटु अनुभव को याद किया है। उन्होंने दावा करते हुए कहा, “एक बार स्टुडियो के केबिन में उन्होंने (मलिक) कहा कि वह उसको सुनिधि चौहान और शान के साथ एक गाना देंगे लेकिन पहले मुझे एक चुंबन दो।”

श्वेता पंडित ने उस समय की एक घटना को याद किया जब वह 15 साल की थी। उन्होंने कहा, “वह फिर मुस्कराए, मुझे वह मुस्कराहट सबसे बुरी लगी थी। श्वेता से पहले गायिका सोना महापात्रा ने मलिक के खिलाफ इसी तरह के आरोप लगाए थे।

–आईएएनएस

Continue Reading

मनोरंजन

यौन शोषण से निपटने के लिए रवीना और स्वरा बनेंगी CINTAA की मेंबर

Published

on

Swara-Bhaskar-Raveena
रवीना टंडन-स्‍वरा भास्‍कर (फाइल फोटो)

बॉलीवुड की तरफ से लगातार यौनशोषण के मामले सामने आने के बाद सिने ऐंड टीवी आर्टिस्ट असोसिएशन (CINTAA) एक अहम फैसला लेने जा रहा है। CINTAA ने इस तरह के मामलों को निपटाने के लिए एक कमेटी का गठन करने का फैसला लिया है।

इसमें बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर, रवीना टंडन और रेनुका शाहणे कमिटी की सदस्य होंगी। CINTAA के महासचिव सुशांत सिंह ने बताया कि इंटस्ट्री में इस तरह के मामलों से निपटने के लिए कई लोगों से बातचीत चल रही है। जल्द ही एक कमिटी का गठन किया जाएगा। ऐक्‍ट्रेस रेनुका शाहणे, फिल्‍ममेकर अमोल गुप्‍ते और जर्नलिस्‍ट भारती दुबे, PoSH (प्रिवेंशन ऑफ सेक्शुअल हैरेसमेंट) के वकील और साइकॉलजिस्‍ट भी इस कमिटी का हिस्‍सा बनेंगे।

सुशांत ने बताया कि स्‍वरा भास्‍कर ने इस बारे में हमसे बात की है। व‍ह इस कमिटी की मेंबर होंगी। वह काफी समय से ऐसे मामलों से निपटने के लिए अपने तरीकों से काम कर रही हैं। जब उन्‍होंने हमसे इस बारे में चर्चा की तो मुझे समझ आया है कि हम लोग एक ही लक्ष्‍य के लिए काम कर रहे हैं। हम ऐसी कमिटी बनाने के बारे में सोच रहे हैं जो यौन हिंसा को लेकर लोगों को जागरूक करें। सुशांत ने कहा स्‍वरा के अलावा इसमें वकील वृंदा ग्रोवर भी शामिल होगीं।

PoSH से जुड़े लोग मिलकर लोगों की काउंसिलिंग कर सकेंगे। इसके अलावा लोगों को जागरूक करने के लिए वर्कशॉप बी कराई जाएगी। आगे उन्होंने कहा कि यह कमिटी मजबूत होनी चाहिए कि अगर कोई यौन हिंसा का आरोपी पाया जाएगा तो बॉलीवुड में कोई उन्हें काम नहीं देगा। हम प्रोड्यूसर्स से बात करेंगे क्योंकि बॉलीवुड में वो सभी को काम देते हैं।

WeForNews

Continue Reading

मनोरंजन

मीडिया ‘मीटू’ पर एकतरफा खबरें चलाने से बचे : सुशांत सिंह

Published

on

Sushant Singh

अभिनेता और ‘द सिने एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन’ (सिंटा) के जनरल सेक्रेटरी सुशांत सिंह ने मीडिया से अपील की है कि वे ‘मीटू’ मूवमेंट से जुड़ी एकतरफा नहीं दिखाएं क्योंकि कई झूठे मामले भी सोशल मीडिया के सहारे हाइलाइट किए जा रहे हैं।

सुशांत सिंह बुधवार को सिंटा द्वारा आयोजित एक प्रेस सम्मेलन में मीडिया के साथ बातचीत कर रहे थे। उन्होंने इस दौरान इस अभियान को लेकर अपना पक्ष रखा।सुशांत ने कहा, मुझे लगता है कि फिल्म उद्योग को अलग-थलग किया जा चुका है लेकिन यदि आप देखेंगे तो यह समस्या अन्य सेक्टर्स में भी है फिर चाहे वह कॉरपोरेट हो या राजनीति।

आपको अपने बॉस को खुश करना पड़ेगा, यह लाइन फिल्मों में कई बार इस्तेमाल होती है। इसलिए हां, हम जानते हैं कि यह समस्या हमारी इंडस्ट्री में है लेकिन हम इसे नजरअंदाजर करते आए हैं। सुशांत ने ‘मीटू’ मूवमेंट का स्वागत किया है क्योंकि यह पीड़ितों को अपनी पीड़ा साझा करने का प्रोत्साहन देता है।

सुशांत ने मीडिया से एक तरफा ‘मीटू’ खबरे नहीं चलाने की अपील करते हुए कहा, “मुझे लगता है कि इस अभियान के झंडाबरदारों को बहुत सावधान होने की जरूरत है क्योंकि कुछ लोग इस अभियान को हाइजैक करना चाहते हैं।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular