Connect with us

शहर

पुणे की शीतल महाजन ने साड़ी पहनकर 13 हजार फीट की ऊंचाई से लगाई छलांग, बनाया रिकॉर्ड

Published

on

13 हजार फीट की ऊंचाई से शीतल महाजन लगाई छलांग

पुणे की शीतल राणे-महाजन ने थाइलैंड में सोमवार को रंगीन नौवारी साड़ी पहनकर स्काइडाइविंग करने वाली पहली भारतीय महिला बनने का रिकार्ड अपने नाम कर लिया। स्काइडाइविंग करने के बाद शीतल ने कहा कि अनुकूल मौसम होने की कारण वह 13 हजार फीट की उंचाई से छलांग लगाने में कामयाब रहीं।

शीतल ने कहा कि मैं अगले महीने आने वाले अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कुछ अलग करना चाहती थी। इसलिए मैंने अपने स्काइडाइव के लिए साड़ी पहनने का फैसला लिया। उन्होंने बताया कि उनकी साड़ी करीब 8.25 मीटर लंबी है, जो आम भारतीय साड़ियों से ज्यादा लंबी है।

13 हजार फीट की ऊंचाई से साड़ी में लगाई छलांग, रच दिया इतिहास

शीतल ने बताया कि साड़ी हवा में खुल न जाए इसके लिए उन्होंने साड़ी में कई जगह पिन लगाई, कई जगह इसे कसकर बांधा हुआ था। उन्होंने कहा कि मैं यह साबित करना चाहती थी कि भारतीय महिला न केवल अपने सामान्य दिनचर्या में यह साड़ी पहन सकती है बल्कि स्काइडाइविंग जैसे जोखिम भरे एडवेंचर को भी अंजाम दे सकती है।

बता दें कि शीतल ने साड़ी के ऊपर पैराशूट पहनना, फिर सेफ्टी गियर, संचार सामग्री, हेलमेट, गोगल्स और जूते पहनकर स्काइडाइविंग की। उन्होंने इस काम को अंजाम देने के लिए काफी तैयारी की थी।

WeForNews

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

शहर

छत्तीसगढ़ के नुवापाड़ा सड़क हादसे में 10 की मौत

Published

on

Accident-
सवारियों से भरी बुलेरो एक ट्रक से टकरा गई।

छत्तीसगढ़ के नुवापाड़ा जिले में एक सड़क हदासे में 10 लोगों की मौत हो गई। बोलेरो में सवार एक भजन मंडली ओडिशा के कोमना से आ रही रही थी। ट्रक से टकराने के बाद हादसा हुुुुआ।

ये घटना नुवापाड़ा और खरियार रोड के बीच सिल्दा नाला के पास की है। मिली जानकारी के मुताबिक बोलेरो रात के करीब 2:30 बजे से 3:00 बजे के बीच सामने से आ रहे ट्रक से जा टकराई, जिसमें सवार यात्रियों में से दस लोगों की जान चली गई।

स्थानीय लोगों द्वारा हादसे की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और एनडीआरएफ की टीम ने मतृकों के शव को बाहर निकाला और मर्ग कायम कर सभी शवों को पास के ही अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मिली जानकारी के मुताबिक ये सभी लोग महासमुंद जिले के सांकरा थाना इलाके के रहने वाले थे, जो कि नवरात्रि के चलते माता की चौकी में शामिल होने ओडिशा गए थे। बता दें इस भजन मंडली में सांकरा थाना क्षेत्र निवासी भाजपा मंडल अध्यक्ष सुरजीत सिंह पप्पू भी शामिल थे।

पुलिस के मुताबिक ये सभी लोग ओडिशा के कोमना स्थित वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन के लिए गए थे और वहां से कार्यक्रम कर वापस लौट रहे थे, कि तभी यह हादसा हुआ।हादसे में मृत लोगों में से 9 लोगों की पहचान हो चुकी है। मतृकों में सांकरा थाना क्षेत्र निवासी भाजपा मंडल अध्यक्ष सुरजीत सिंह पप्पू, बल्दीडीह निवासी दिनेश डडसेना, पत्नी चांदनी और उनके दो बच्चे भी शामिल हैं।

बच्चों के नाम भारती और धनंजय डडसेना है। हादसे में बल्डीह सरपंच के पति मेघनाथ निषाद, सांकरा थाना क्षेत्र निवासी घनश्याम नेताम, बहन दिलेश्वरी नेताम, अंसुला के मुकेश अग्रवाल की पहचान की जा चुकी है। जबकि एक अन्य मृतक की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है।

WeForNews

Continue Reading

शहर

आज खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के कपाट, विरोध प्रदर्शन जारी

Published

on

sabrimala

केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट खुलने का समय जैसे-जैसे करीब आ रहा है तनाव बढ़ गया है। क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद यहां महिलाओं को प्रवेश नहीं देने की कोशिश की जा रही है। वहीं, स्वामी अयप्पा के दर्शन के लिए महिला श्रद्धालु जुटने लगीं हैं। मंदिर परिसर के बाहर विरोध-प्रदर्शन और तनाव के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं।

सबरीमाला मंदिर में सभी लड़कियों और महिलाओं को प्रवेश की इजाजत देने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से मंदिर के द्वार आज खुलने जा रहे हैं।

इस बीच, भगवान अयप्पा की सैकड़ों महिला भक्तों ने निलक्कल में कई वाहनों को रोककर चेक किया। इस दौरान वे मासिक धर्म की उम्र वाली महिलाओं को आगे जाने से रोक दिया। इसके बाद तनाव और बढ़ गया। मंदिर परिसर से करीब 20 किलोमीटर दूर निलक्कल बेस कैंप में भगवान अयप्पा के बहुत सारे भक्त ठहरे हुए हैं।

नल्लिकेल और पम्पा बेस पर करीब 1000 से अधिक सुरक्षाकर्मी, जिनमें 800 पुरुष और 200 महिलाएं शामिल हैं। इनके अलावा 500 से अधिक अन्य सुरक्षाकर्मी भी तैनात किए गए हैं।

मंदिर में प्रवेश को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लेना शुरू किया है। पुलिस ने अभी तक कुल 11 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है। इनमें 8 को मंगलवार रात और 3 को बुधवार सुबह हिरासत में लिया गया।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकने की सदियों पुरानी परंपरा को गलत बताते हुए उसे खत्म कर दिया था और सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश करने की इजाजत दी थी। उस आदेश के बाद से बुधवार 17 अक्टूबर को शाम पांच बजे पहली बार मंदिर के द्वार खुलेंगे।

WeForNews 

Continue Reading

शहर

दिल्ली: ट्रक-बस की टक्कर, कई घायल

Published

on

bus

दिल्ली में वजीराबाद फ्लाई-ओवर पर ट्रक और बस की टक्कर हो गई है। इसमें कई लोग घायल हो गए हैं।

WeForNews 

Continue Reading

Most Popular