चालू सीजन में पिछले साल से 26 फीसदी घटा चीनी उत्पादन | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

व्यापार

चालू सीजन में पिछले साल से 26 फीसदी घटा चीनी उत्पादन

Published

on

sugar
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली। चालू गन्ना पेराई सीजन 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) में 15 जनवरी तक देश में तकरीबन 109 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जोकि पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले 26 फीसदी कम है। उद्योग संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, चालू सीजन के शुरुआती साढ़े तीन महीने में देश की चीनी मिलों ने 108.85 लाख टन चीनी का उत्पादन किया जबकि पिछले साल इसी अवधि में चीनी का उत्पादन 147.40 लाख टन हुआ था। इस प्रकार पिछले साल के मुकाबले चीनी का उत्पादन 38.55 लाख टन यानी 26.15 फीसदी घट गया है।

इस्मा ने बताया कि 15 जनवरी तक देशभर में 440 चीनी मिलें चालू थीं जबकि पिछले सीजन में 15 जनवरी 2019 तक देशभर में 511 चीनी मिलें चालू थीं।

हालांकि देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में पिछले साल के मुकाबले इस साल चीनी का उत्पादन बढ़ा है। उत्तर प्रदेश की 119 मिलों में इस साल 15 जनवरी तक 43.78 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जबकि पिछले साल इसी अवधि के दौरान प्रदेश की 117 मिलों ने 41.93 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था।

वहीं, दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य महाराष्ट्र की 139 मिलों ने इस साल 15 जनवरी तक 25.51 लाख टन चीनी का उत्पादन किया जबकि पिछले साल इसी अवधि में प्रदेश की 189 मिलों में चीनी का उत्पादन 57.25 लाख टन हुआ था।

कर्नाटक में भी चीनी का उत्पादन पिछले साल के मुकाबले घटा है। प्रदेश की 63 मिलों ने इस साल 15 जनवरी तक 21.90 लाख टन चीनी का उत्पादन किया जबकि पिछले साल प्रदेश में 65 मिलें चालू थीं जिनमें चीनी का उत्पादन इस अवधि के दौरान 26.76 लाख टन हुआ था।

इस्मा के आंकड़ों के अनुसार, चालू गन्ना पेराई सत्र में गुजरात में चीनी का उत्पादन 3.72 लाख टन, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में 1.85 लाख टन, तमिलनाडु में 1.50 लाख टन, बिहार में 3.30 लाख टन, उत्तराखंड में 1.52 लाख टन और मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ में 1.63 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है।

–आईएएनएस

राष्ट्रीय

राज्यों के हिस्से का 47 हजार करोड़ न देकर केंद्र ने तोड़ा GST क्षतिपूर्ति कानून : कैग

Published

on

GST
File Photo

कैग ने केंद्र सरकार द्वारा नियमों का उल्लंघन करते हुए जीएसटी क्षतिपूर्ति उपकर (सेस) के 47,272 करोड़ रुपये कब्जा की बात सामने आई है।

नियमों के हिसाब से यह रकम जीएसटी लागू होने से घटे राजस्व की पूर्ति के लिए राज्यों में बंटनी चाहिए थी, लेकिन केंद्र सरकार ने इस रकम को अपने ही पास रख लिया। 

सरकारी खातों की अपनी ऑडिट रिपोर्ट में महालेखा परीक्षक व नियंत्रक (कैग) ने वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू होने के पहले दो साल में जुटाई गई इस रकम को अलग से चिह्नित करते हुए टिप्पणी लिखी है।

कैग के मुताबिक, 2017 से जीएसटी लागू होने के कारण राजस्व हानि के बदले राज्यों को मुआवजा देने के लिए नॉन-लैप्सेबल जीएसटी क्षतिपूर्ति उपकर संग्रह निधि में राशि जमा की जानी थी। लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं करते हुए जीएसटी क्षतिपूर्ति कानून का उल्लंघन किया। 

कैग के मुताबिक, वित्त वर्ष 2017-18 में जीएसटी सेस के तौर पर 62,612 करोड़ रुपये जुटाए गए थे, लेकिन इनमें से 56,146 करोड़ रुपये ही क्षतिपूर्ति उपकर संग्रह निधि में स्थानांतरित किए गए। इसके बाद वित्त वर्ष 2018-19 में भी 95,081 करोड़ रुपये में से 54,275 करोड़ रुपये की रकम ही निधि में जमा कराई गई।

2017-18 के 6,466 करोड़ रुपये और 2018-19 में 40,806 करोड़ रुपये की रकम को सरकार ने अपने खातों में ‘अन्य उद्देश्य’ के नाम से दिखाया है। इससे उस साल सरकार के खाते में राजस्व प्राप्ति की अधिकता और राजकोषीय घाटे में कमी दिखाई दी।

कैग की इस रिपोर्ट से केंद्र और राज्यों के बीच सेस क्षतिपूर्ति को लेकर चल रहा विवाद अब और ज्यादा तेज हो सकता है। राज्यों को पिछले वित्त वर्ष से वादे के अनुरूप मुआवजा जीएसटी से नहीं मिल सका है।

केंद्र सरकार ने इसके लिए आर्थिक मंदी का हवाला देते हुए पर्याप्त धन जमा नहीं होने का तर्क दिया है और इस राजस्व कमी को पूरा करने के लिए राज्यों को बाजार से कर्ज उगाहने की सलाह दी है। लेकिन कांग्रेस, वाम, तृणमूल और आप जैसे विपक्षी दलों की सत्ता वाले राज्यों ने केंद्र की इस सलाह का विरोध किया है। ऐसे में कैग की रिपोर्ट के बाद ये राज्य हल्ला मचा सकते हैं।

WeForNews

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्स 835 अंक उछला, 11000 के ऊपर बंद हुआ निफ्टी

Published

on

sensex-min

घरेलू शेयर बाजार में शुक्रवार को जोरदार लिवाली आने से लगातार छह सत्रों की गिरावट पर ब्रेक लगा। सेंसेक्स 835 अंकों की जबरदस्त तेजी के साथ 37,389 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी करीब 245 अंक चढ़कर 11,050.25 पर बंद हुआ। दोनों प्रमुख सूचकांकों में दो फीसदी से ज्यादा की बढ़त दर्ज की गई।

बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद घरेलू शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी आई। आईटी, टेलीकॉम और ऑटो सेक्टरों के शेयरों में जोरदार लिवाली रही।

सेंसेक्स पिछले सत्र से 835.06 अंकों यानी 2.28 फीसदी की तेजी के साथ 37,388.66 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी बीते सत्र से 244.70 अंकों यानी 2.26 फीसदी की तेजी के साथ 11,050.25 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 438.29 अंकों की तेजी के साथ 36,991.89 पर खुला और 37,471.17 तक उछला, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का निचला स्तर 36,730.52 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 104.85 अंकों की तेजी के साथ 10,910.40 पर खुला और 11,072.60 तक उछला, जबकि दिनभर कारोबार के दौरान निफ्टी का निचला स्तर 10,854.85 रहा।

बीएसई मिडकैप सूचकांक पिछले सत्र से 403.47 अंक यानी 2.90 फीसदी की तेजी के साथ 14,336.68 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 327.30 अंकों यानी 2.31 फीसदी की तेजी के साथ 14,495.58 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के सभी 30 शेयरों में तेजी रही जबकि सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच शेयरों बजाज फिनसर्व (6.64 फीसदी), एचसीएल टेक (5.01 फीसदी), भारती एयरटेल (4.98 फीसदी), इंडसइंड बैंक (4.97 फीसदी) और एलएंडटी (4.58 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई के सभी 19 सेक्टरों में तेजी दर्ज की गई। बीएसई के सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच सेक्टरों में टेलीकॉम (5.73 फीसदी), टेक (4.02 फीसदी), आईटी (3.63 फीसदी), ऑटो (3.40 फीसदी) और पूंजीगत वस्तुएं (3.10 फीसदी) शामिल हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्स 1100 अंकों से ज्यादा लुढ़का, 3 फीसदी टूटा निफ्टी

Published

on

Sensex-

खराब वैश्विक संकेतों और डेरीवेटिव सीरीज के अनुबंधों की समाप्ति के चलते गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार में कोहराम का आलम रहा।

सेंसेक्स 1,115 अंक लुढ़कर 36,554 पर ठहरा जबकि निफ्टी 326 अंक टूटकर कर 10,806 पर बंद हुआ। दोनों प्रमुख सूचकांकों में करीब तीन फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

सेंसेक्स पिछले सत्र से 1,114.82 अंकों यानी 2.96 फीसदी की गिरावट के साथ 36,553.60 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी बीते सत्र से 326.30 अंकों यानी 2.93 फीसदी की गिरावट के साथ 10,805.55 पर बंद हुआ।

निराशाजनक वैश्विक संकेतों से घरेलू शेयर बाजार में आरंभिक कारोबार के दौरान बिकवाली का भारी दबाव बना हुआ था।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 386.24 अंकों की गिरावट के साथ 37,282.18 पर खुला और 36,495.98 तक लुढ़का जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 37,304.26 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 120.85 अंकों की गिरावट के साथ 11,011 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 10,790.20 तक लुढ़का जबकि कारोबार के दौरान निफ्टी का ऊपरी स्तर 11,015.30 रहा।

आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Amarinder Singh
राजनीति15 mins ago

किसान बिल: भगत सिंह के गांव में आज धरने पर बैठेंगे कैप्टन अमरिंदर

Congress protest Flag
राष्ट्रीय32 mins ago

किसान आंदोलन: आज चंडीगढ़ में सड़कों पर उतरेगी कांग्रेस, कृषि कानून के विरोध में पैदल मार्च

shiv sena
राजनीति32 mins ago

शिवसेना के मुखपत्र सामना में केंद्र सरकार पर हमला

राष्ट्रीय42 mins ago

भारत को मिले पांच और राफेल विमान, अक्तूबर में लाए जाएंगे स्वदेश

खेल42 mins ago

आईपीएल-13 : राजस्थान ने पंजाब को 4 विकेट से हराया

Coronavirus
अंतरराष्ट्रीय54 mins ago

फ्रांस और ब्रिटेन में तेजी से बढ़ रहे मामले

राजनीति57 mins ago

केरल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीएफ थॉमस का निधन

Coronavirus
राष्ट्रीय1 hour ago

कोरोना: देश में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 50 लाख पार के पार

राष्ट्रीय1 hour ago

दिल्ली से पंजाब तक किसानों का हल्लाबोल, इंडिया गेट पर अज्ञात लोगों ने ट्रैक्टर में लगाई आग

TikTok
अंतरराष्ट्रीय1 hour ago

अमेरिका: टिकटॉक को एप स्टोर पर बैन करने के राष्ट्रपति ट्रंप के आदेश पर कोर्ट की रोक

Mayawati
राजनीति3 weeks ago

मायावती शासन की अनियमितताओं पर शुरू होगी कार्रवाई

राजनीति1 week ago

किसान बिल पर हंगामे के चलते राज्यसभा के 8 सांसद निलंबित

Blood Pressure machine
लाइफस्टाइल4 weeks ago

हाई-ब्लड प्रेशर, हाइपरटेंशन में वायु प्रदूषण का योगदान : शोध

Sonia Gandhi and Rahul
ब्लॉग3 weeks ago

कांग्रेस की बीमारियां उन्हें क्यों सता रहीं जिन्होंने इसे वोट दिया ही नहीं?

Rhea-
मनोरंजन3 weeks ago

सुशांत केस : ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को भेजा गया मुंबई जेल

former president pranab-mukjerjee
राष्ट्रीय4 weeks ago

भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति का 84 साल की उम्र में निधन

Rhea Chakraborty
मनोरंजन4 weeks ago

सुशांत मामला : रिया से आज फिर पूछताछ करेगी सीबीआई

खेल4 weeks ago

राष्ट्रीय खेल दिवस: खेल रत्न, अर्जुन अवॉर्ड, द्रोणाचार्य-ध्यानचंद पुरस्कार की पूरी लिस्ट

Supreme Court
राष्ट्रीय3 weeks ago

लोन मोरेटोरियम केस: SC ने कहा- आखिरी सुनवाई से पहले जवाब दाखिल करे सरकार

Suresh-Raina
खेल4 weeks ago

पूरे सीजन के लिए आईपीएल से बाहर हुए रैना

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति6 days ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 week ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन1 month ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय1 month ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय2 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय5 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर5 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular