Connect with us

शहर

…अचानक हाथी से गिर पड़े असम के डेप्युटी स्पीकर, देखें वीडियो

Published

on

Assam
असम विधानसभा के डिप्टी स्पीकर मल्लाह करीपंत। PHOTO CREDIT (ANI)

असम विधानसभा के नवनिर्वाचित डेप्युटी स्पीकर और बीजेपी विधायक कृपानाथ मल्लाह के साथ 6 अक्टूबर को बड़ा हादसा होते-होते बच गया। दरअसल मल्लाह अपने विधानसभा क्षेत्र रातबारी पहुंचे हुए थे।

उनके क्षेत्र रताबरी में एक स्वागत समारोह का आयोजन किया गया था, जहां वह हाथी की सवारी कर रहे थे। अचानक हाथी तेजी से चलने लगा और मल्लाह ऊपर से सीधे जमीन पर आ गिरे। डेप्युटी स्पीकर को नीचे गिरा देख समर्थकों में हड़कंप मच गया और वे तेजी से उन्हें उठाने के लिए आगे बढ़े। इस घटना में उन्हें कोई चोट नहीं आई, वो पूरी तरह सुरक्षित हैं।

न्यूज एजेंसी ने इस घटना का एक वीडियो जारी किया है जिसमें दिखाई दे रहा है कि मल्लाह के समर्थक उन्हें हाथी पर बिठा रहे हैं लेकिन जैसी की हाथी आगे बढ़ने लगता है मल्लाह का संतुलन बिगड़ जाता है वो फिसलते-फिसलते सीधे जमीन पर गिर जाते हैं। यह घटना 6 अक्टूबर की है।

WeForNews

शहर

जम्मू में 5वें दिन भी कर्फ्यू जारी

Published

on

जम्मू में 15 फरवरी से लागू कर्फ्यू पांचवें दिन भी जारी है। पुलिस सूत्रों ने कहा, “जम्मू में 15 फरवरी को लगाया गया कर्फ्यू आज भी जारी रहेगा। कर्फ्यू में ढील देने पर फैसला शाम तक होने की संभावना है।” 

प्रशासन ने सोमवार को जम्मू के दक्षिणी इलाकों में दोपहर दो बजे से शाम पांच तक के लिए कर्फ्यू में ढील दे दी थी। 

कर्फ्यू के बाद से शहर में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं आई है।

इसी बीच प्रशासन सोशल मीडिया पर फर्जी, भड़काऊ पोस्ट और तस्वीरें अपलोड करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रहा है। 

जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने मंगलवार को यहां मीडिया को बताया कि जम्मू में रहने वाले सभी कश्मीरी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गों का कर्तव्य है कि वे अपने कश्मीरी भाइयों और बहनों के साथ खड़े रहें। 

उन्होंने जम्मू में राष्ट्र विरोधी नारे लगाने वालों को भी चेतावनी दी। 

गुप्ता ने कहा, “जम्मू देश के हितों के खिलाफ जाने वाली किसी भी चीज को बर्दाश्त नहीं करेगा। सांप्रदायिक सौहार्द और हिंदुओं, मुसलमानों, सिखों और ईसाइयों के बीच भाईचारा भारत का आधार है और जो कोई भी इसे मिटाने की कोशिश कर रहा है वह सीधे भारत के दुश्मनों के हाथों में खेल रहा है।” 

पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के विरोध में प्रदर्शन के दौरान शरारती तत्वों द्वारा कश्मीर घाटी के नंबर प्लेट वाले कुछ वाहनों को आग के हवाले कर दिए जाने और अन्य को क्षतिग्रस्त करने के बाद शहर में कर्फ्यू लगाया गया था। 

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर एकतरफा यातायात को अनुमति

Published

on

jammu kashmir
File Photo

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग एकतरफा यातायात के लिए खुला है और प्रशासन ने वाहनों को केवल श्रीनगर से जम्मू की ओर जाने की अनुमति दी है।

यातायात विभाग के एक अधिकारी ने कहा, “राजमार्ग एकतरफा यातायात के लिए खुला है और वाहनों को आज श्रीनगर से जम्मू की ओर जाने की अनुमति दी जाएगी।”

उन्होंने कहा, “सोमवार को जम्मू से श्रीनगर की ओर जाने वाले सभी वाहनों को रास्ता दे दिया गया और कश्मीर घाटी जाने वाले वाहनों से सुरक्षित रूप से जवाहर सुरंग पार कर ली।”

उल्लेखनीय है कि 12 फरवरी तक सात दिन बंद रहने के बाद, राजमार्ग की आंशिक बहाली से घाटी में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति स्थिर हो गई है।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

माघ पूर्णिमा: पांचवें शाही स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु

Published

on

प्रयागराज में माघ पूर्णिमा स्नान के लिए रात 12 बजे से ही संगम तट पर श्रद्धालु पहुंच गए हैं। मेला प्रशासन ने इस पर्व पर एक करोड़ 60 लाख लोगों के स्नान का अनुमान लगाया है।

मेलाधिकारी विजय किरण आनंद की मानें तो संगम में स्नान के लिए सोमवार से ही श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा है। 

किरन आनंद ने बताया कि कई जिलों के मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। मजिस्ट्रेट को निर्देश दिए गए हैं कि वे आवश्यकतानुसार अतिरिक्त फोर्स भी ले सकते हैं। सभी जगह निगरानी की जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था सु²ढ़ रखी गई है।’

मेलाधिकारी ने बताया कि मेला क्षेत्र में 96 कंट्रोल वॉच टावर स्थापित हैं। 440 सीसीटीवी कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है।’

पुलवामा हमले के बाद प्रशासन मेला क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पहले से ज्यादा अलर्ट है। 

उन्होंने बताया कि त्रिवेणी स्नान के लिए सुबह से श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। रेलगाड़ियों से आने वालों की भीड़ सीमित है, जबकि निजी वाहन जैसे ट्रैक्टर, जीप, बस आदि से 90 प्रतिशत श्रद्धालु संगम पहुंच रहे हैं।

कुंभ मेले के डीआईजी केपी सिंह ने बताया कि पुलिस व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त है और यातायात की विशेष निगरानी की जा रही है। माघी पूर्णिमा पर आने वाले स्नानार्थी अपने वाहन को निर्धारित पाकिर्ंग पर ही खड़ा करें।

मेला प्रशासन की सबसे बड़ी जिम्मेदारी श्रद्धालुओं को स्नान के बाद सुरक्षित उनके गंतव्य तक भेजने की सुविधा देना है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular