Connect with us

व्यापार

शेयर बाजार : आर्थिक आंकड़ों, तिमाही नतीजों पर रहेगी नजर

Published

on

sensex
File Photo

अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल प्रमुख आर्थिक आंकड़ों, कंपनियों के अप्रैल-जून तिमाही नतीजों, वैश्विक बाजारों के रुख, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के प्रति रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों के प्रदर्शन पर निर्भर करेगी।

अगले सप्ताह जिन कंपनियों के तिमाही नतीजे जारी होंगे, उनमें हिन्दुस्तान यूनीलीवर अप्रैल-जून तिमाही के आंकड़े सोमवार (16 जुलाई) को जारी करेगी। जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइज और अशोक लीलैंड अप्रैल-जून तिमाही के आंकड़े मंगलवार (17 जुलाई) को जारी करेंगे।

अल्ट्राटेक सीमेंट अप्रैल-जून की कमाई के आंकड़े बुधवार (18 जुलाई) को जारी करेंगे। बजाज फाइनेंस और कोटक महिंद्रा बैंक अप्रैल-जून तिमाही के आंकड़े गुरुवार (19 जुलाई) को जारी करेंगे। विप्रो, बजाज ऑटो और एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी अप्रैल-जून तिमाही के आंकड़े शुक्रवार (20 जुलाई) को जारी करेंगे।

सरकार की ओर से जून महीने के लिए थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े सोमवार (16 जुलाई) को जारी होंगे। वार्षिक आधार पर डब्ल्यूपीआई मई में 4.43 फीसदी पर रही, जबकि इसके एक महीने पहले यह 3.18 फीसदी पर थी।

विदेशी मोर्चे पर, अमेरिका और रूस के बीच सोमवार (16 जुलाई) को शिखर बैठक हो रही है, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे। वे सीरिया और यूक्रेन में चल रही लड़ाई के साथ ही दोनों देशों द्वारा एक-दूसरे पर लगाए गए प्रतिबंध के मुद्दे पर भी चर्चा कर सकते हैं।

अमेरिका अपनी खुदरा बिक्री के जून के आंकड़े सोमवार (16 जुलाई) जारी करेगा। अमेरिका में मासिक खुदरा बिक्री दर मई में 0.8 फीसदी बढ़ी थी, जबकि अप्रैल में खुदरा बिक्री दर में 0.4 फीसदी दर वृद्धि दर्ज की गई थी।

–आईएएनएस

व्यापार

सेंसेक्स में 33 अंकों की तेजी

Published

on

देश के शेयर बाजारों में शुक्रवार को तेजी रही। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 33.29 अंकों की तेजी के साथ 35,962.93 पर और निफ्टी 13.90 अंकों की तेजी के साथ 10,805.45 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 30.55 अंकों की तेजी के साथ 35,960.19 पर खुला और 33.29 अंकों या 0.09 फीसदी तेजी के साथ 35,962.93 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,019.02 के ऊपरी स्तर और 35,813.85 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 29.25 अंकों की तेजी के साथ 15,192.84 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 4.07 अंकों की तेजी के साथ 14,501.76 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 7.05 अंकों की गिरावट के साथ 10,784.50 पर खुला और 13.90 अंकों या 0.13 फीसदी तेजी के साथ 10,805.45 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,815.75 के ऊपरी और 10,752.10 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 13 सेक्टरों में तेजी रही। दूरसंचार (3.08 फीसदी), तेल और गैस (1.74 फीसदी), उपभोक्ता सेवाएं (0.98 फीसदी), ऊर्जा (0.95 फीसदी) और बिजली (0.93 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

सेंसेक्स के सर्वाधिक गिरावट वाले पांच सेक्टरों में स्वास्थ्य (0.81 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (0.69 फीसदी), उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.31 फीसदी), उद्योग (0.28 फीसदी) और वित्त (0.17 फीसदी) प्रमुख रूप से शामिल रहे।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

देश की थोक महंगाई दर नवंबर में 4.64 फीसदी

Published

on

Inflation
प्रतीकात्मक तस्वीर

खाद्य व तेल की कीमतों में कमी की वजह से थोक मूल्य पर आधारित देश की सलाना महंगाई दर नवंबर में घटकर 4.64 फीसदी रही है। यह अक्टूबर में 5.28 फीसदी थी। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, साल-दर-साल आधार पर थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) के आंकड़े में वृद्धि दर्ज की गई है, जो कि साल 2017 के इसी महीने में 4.02 फीसदी थी।

मंत्रालय ने नवंबर के लिए ‘भारत की थोक मूल्य सूचकांक संख्या’ की समीक्षा में कहा, “मासिक डब्ल्यूपीआई पर आधारित सालाना मुद्रास्फीति दर (अनंतिम) नवंबर में (साल 2017 के अक्टूबर की तुलना में) 4.64 फीसदी रही, जबकि इसके पिछले महीने यह 5.28 फीसदी (अनंतिम) और पिछले साल के नवंबर में 4.02 फीसदी रही थी।”

वाणिज्य मंत्रालय के आधिकारिक बयान में कहा गया है, “चालू वित्त वर्ष में अबतक बिल्ड अप मुद्रास्फीति दर 4.73 फीसदी रही है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 2.83 फीसदी थी।”

क्रमिक आधार पर, प्राथमिक वस्तुओं पर खर्च 0.88 फीसदी घटा है, जिसका डब्ल्यूपीआई में 22.62 फीसदी भार है। यह अक्टूबर में 1.79 फीसदी पर था। इसी प्रकार खाद्य पदार्थो की कीमतें गिरी हैं। इस श्रेणी का डब्ल्यूपीआई सूचकांक में भार 15.26 फीसदी है।

इसके अतिरिक्त ईंधन और बिजली खंड, जिसका सूचकांक में भार 13.15 फीसदी है, में नवंबर में 16.28 फीसदी वृद्धि दर रही है। विनिर्मित उत्पादों के खर्च में 4.21 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

नेपाल ने भारतीय नोटों पर लगाया बैन

Published

on

NOTE

नेपाल में अब सबसे बड़े भारतीय मुद्रा के रूप में एक सौ रुपये का नोट ही चलेगा। नेपाल सरकार ने 100 रुपये से अधिक के भारतीय नोटों के प्रचलन पर रोक लगा दी। नेपाल के प्रमुख अखबार काठमांडू पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार ने तत्काल प्रभाव से इस फैसले को लागू करने का आदेश दिया है।

नेपाल के सूचना एवं प्रसारण मंत्री गोकुल प्रसाद बसकोटा के मुताबिक, सरकार ने लोगों से कहा है कि वे 100 रुपये से ज्यादा के यानी 200, 500 और 2,000 रुपये के नोटों को न रखें। इन्हें अमान्य करार दिया जा चुका है। सिर्फ 100 रुपये के भारतीय नोट को ही नेपाल में कारोबार एवं अन्य चीजों के लिए स्वीकार किया जा सकेगा।

बता दें कि नेपाल में 200 और 500 रुपये के नोटों का नेपाल में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होता है। नवंबर 2016 में भारत सरकार की ओर से 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों के प्रचलन को बंद करने से नेपाल में अब भी पुरानी भारतीय करंसी के अरबों रुपये फंसे हुए हैं।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular