Connect with us

खेल

हमें ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है : विराट कोहली

Published

on

virat kohli

लंदन, 8 अगस्त (आईएएनएस)| भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि बेशक पहले टेस्ट मैच में हमारी बल्लेबाजी थोड़ी कमजोर थी, लेकिन दूसरे टेस्ट मैच से पहले हमारे बल्लेबाजों को इस पर ज्यादा सोचने या कुछ विशेष करने की आवश्यकता नहीं बस धैर्य रख कर अच्छी मानसिकता के साथ खेलने की जरूरत है।

पहले मैच में विराट के अलावा कोई और बल्लेबाज चल नहीं सका था और एजबेस्टन में टीम को 31 रनों से मुंह की खानी पड़ी थी। विराट ने पहले मैच की पहली पारी में 149 और दूसरी पारी में 51 रन बनाए थे।

दूसरा मैच लॉर्ड्स में गुरुवार से शुरू हो रहा है। इस मैच में टीम अपनी गलतियों से सीख आगे बढ़ पांच मैचों की सीरीज में बराबरी करना चाहेगी।

खराब बल्लेबाजी पर कोहली ने मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में कहा, “मुझे नहीं लगता कि इतनी जल्दी किसी चीज पर फैसला लेना चाहिए। हम लोग एक टीम के तौर पर दूसरे लोगों से ज्यादा धैर्य रखते हैं। हम लोग इतनी जल्दी किसी चीज पर फैसला नहीं लेते। जहां तक विकेट गिरने की बाद यह तकनीकी नहीं मानसिक ज्यादा होता है।”

कप्तान ने कहा, “आप विकेट गिरने के बाद किस तरह से सोचते हैं खासकर पहली 25-30 गेंदों के बारे में। आपके पास प्लान होना चाहिए कि आपको 30 गेंदों में क्या करना चाहिए। यहां हमें थोड़ा शांत रहने की जरूरत है जो हम एक टीम के तौर पर बात कर चुके हैं। हमें ज्यादा सोचने या कुछ विशेष करने की जरूरत है।”

विराट ने ऐसे संकेत दिए हैं कि वह लॉर्ड्स में दो स्पिनरों के साथ उतर सकते हैं। विराट ने हालांकि हमेशा की तरह साफ तौर पर टीम संयोजन के बारे में कुछ नहीं कहा।

इस मैच में दो स्पिनरों को उतारने के सवाल पर कोहली ने कहा, “यह आकर्षक है। विकेट देखी तो वो सूखी लग रही है। यहां लॉर्ड्स में बीते कुछ महीनों से गर्मी पड़ रही है। मुझे लगता है कि पिच में बल्लेबाजों, तेज गेंदबाजों और स्पिनरों सभी के लिए कुछ न कुछ होगा। दो स्पिनरों का उतराने का ख्याल अच्छा है, लेकिन हमें टीम संतुलन भी देखना होगा।”

इंग्लैंड के कप्तान जोए रूट ने साफ कर दिया है कि 20 साल के ओली पोप भारत के खिलाफ टेस्ट पदार्पण करेंगे। कोहली ने पोप को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्हें इस मौके का लुत्फ उठाना चाहिए।

उन्होंने कहा, “यह उनके लिए बड़ा मौका है। मैंने उन्हें बल्लेबाजी करते नहीं देखा है, लेकिन इंग्लैंड टीम में आए हैं तो अच्छे ही होंगे। एक विपक्षी के तौर पर हमे उन्हें जल्दी से जल्दी आउट करना चाहेंगे। वहीं एक क्रिकेट खिलाड़ी के तौर पर मैं खुश हूं कि उन्हें इंग्लैंड के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिला है। मैं उन्हें कहूंगा कि इस मौके का लुत्फ उठाएं।”

इंग्लैंड ने हालांकि पहले मैच की तरह एक दिन पहले अंतिम एकादश का ऐलान नहीं किया है। इसका फैसला टीम मैच से पहले ही लेगी।

खेल

अनाथ आश्रम में पला, ढाबों में काम कर इस दिव्यांग ने ऐसे जीता गोल्ड मेडल

Published

on

पैरा एशियन गेम्स में नारायण ठाकुर ने गोल्ड जीत रचा इतिहास।

जन्म से ही दिव्यांग नारायण ठाकुर ने जकार्ता में चल रहे एशियन पैरा गेम्स में 100 मीटर टी 35 स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया।

नारायण ठाकुर के पिता का निधन आठ साल की उम्र में हो गया। उसके बाद से ही आठ साल तक वह एक अनाथ आश्रम में गुजारे। वहां से निकलने के बाद पेट पालने के लिए डीटीसी की बसों की सफाई की और ढाबों पर काम किया।

यह कहानी उत्तर पश्चिमी दिल्ली के समयपुर बादली इलाके की झुग्गी बस्ती में रहने 27 वर्षीय नारायण एथलीट ही है। जिसने संघर्ष और कठिनाइयों से लड़कर अपने लक्ष्य को हासिल किया है।

दिल्ली के एक स्टेडियम में एक पुरस्कार वितरण समारोह में नारायण ने कहा, ‘मैं बिहार में पैदा हुआ। दिल की बीमारी के चलते मेरे पिता को दिल्ली शिफ्ट होना पड़ा। कुछ वर्षों बाद उन्हें ब्रेन ट्यूमर हो गया और इसी बीमारी ने उनकी जान ले ली।’

उसने आगे कहा, ‘मैंने बसें साफ कीं, एक वेटर के तौर पर काम किया।’ ठाकुर को शरीर के बाएं हिस्से पर हेमेपेरसिस हो गया था। इस बीमारी में मरीज को ब्रेन स्ट्रोक के बाद शरीर के बाएं हिस्से में लकवा हो जाता है।

नारायण के पिता प्लास्टिक फैक्टरी में काम करते थे। उनकी मौत के बाद मां के लिए अपने तीन बच्चों का लालन-पालन करना मुश्किल हो गया। ठाकुर ने कहा, ‘इसी समय मुझे दरियागंज के अनाथ आश्रम में भेज दिया गया ताकि मुझे भोजन के साथ पढ़ने का अवसर मिल सके।’

ठाकुर ने कहा कि वह हमेशा से ही खेल के शौकीन थे। क्रिकेट उनका पहला प्यार था। उन्होंने कहा, ‘मैं क्रिकेट खेलना चाहता था लेकिन किसी वजह से ऐसा नहीं हो सका। मैंने अनाथ आश्रम इसलिए छोड़ा ताकि मैं अन्य खेल विकल्पों पर विचार कर सकूं।’

2010 में जब ठाकुर ने अनाथ आश्रम छोड़ा तो परिवार को एक और मुसीबत का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा, ‘यह वह समय था जब समयपुर बादली की जिन झुग्गियों में हम रहते थे, उन्हें ढहा दिया गया था। तब उसके करीब ही शिफ्ट होना पड़ा। आर्थिक हालात ठीक नहीं थे, ऐसे में मेरे पास डीटीसी की बसें साफ करने और सड़क किनारे छोटे ठेलों पर काम करने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं था लेकिन खेल को लेकर मेरा जज्बा तब भी कायम था।’

ठाकुर की जिंदगी में तब बदलाव आया जब किसी ने उन्हें जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में प्रैक्टिस करने की सलाह दी। उस लम्हे को याद करते हुए नारायण कहते हैं, ‘मैं काफी खुश था। समस्या यह थी कि मेरे पास घर से स्टेडियम तक जाने के पैसे नहीं थे। स्टेडियम तक पहुंचने के लिए मुझे तीन बसें बदलनी पड़ती थीं। मैंने अपना बेस पानीपत शिफ्ट करने की भी कोशिश की। ऐसा भी कर नहीं पाया। मैं रोज के 40-50 रुपये किराये में नहीं खर्च कर सकता था। फिर मैंने ट्रेनिंग के लिए अपना बेस त्यागराज स्टेडियम शिफ्ट कर लिया।’

ठाकुर ने कहा कि उन्होंने अपने खेल पर काफी मेहनत की और कुछ अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपने प्रदर्शन से लोगों को प्रभावित भी किया। इसके बाद जकार्ता खेलों में जाने का रास्ता तैयार हुआ। वह बड़े गर्व के साथ कहते हैं, ‘मैं देश के लिए जकार्ता में गोल्ड जीतकर काफी खुश हूं। मैं एशियन पैरा गैम्स या एशियाड में 100 मीटर में गोल्ड जीतने वाला इकलौता भारतीय हूं।’

ठाकुर के पास फिलहाल नौकरी नहीं है। अपनी मां को मदद करने के लिए वह पान/गुटखा की दुकान चलाते हैं। उन्हें हालांकि अब उम्मीद है कि उनका जीवन बदल जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में 40 लाख रुपये का चेक दिया था। मुझे दिल्ली सरकार से भी कुछ आर्थिक मदद की उम्मीद है।’ वह इस पैसे का क्या करेंगे? इस पर उन्होंने कहा, ‘सबसे पहले अपने परिवार के लिए एक घर बनाऊंगा और बाकी अपनी ट्रेनिंग पर खर्च करूंगा।’

WeForNews

Continue Reading

खेल

विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप: बजरंग स्वर्ण से चूके

Published

on

World wrestling championship

बुडापेस्ट के हंगरी में एशिया कप में सोने का तमगा जीतने वाले भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया जारी विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में स्वर्ण हासिल करने से चूक गए। उन्हें फाइनल में हार के साथ ही रजत पदक से संतोष करना पड़ा, लेकिन हार के बाद भी बजरंग ने इतिहास रच दिया है। वह इस टूर्नामेंट में दो पदक जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं।

बजरंग को पुरुषों की फ्री स्टाइल स्पर्धा के 65 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में जापान के ताकुतो ओटुगोरो से 9-16 से हार का सामना करना पड़ा।

बजरंग अगर जापानी खिलाड़ी को मात देकर स्वर्ण जीतने में सफल होते तो वह इस चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाले भारत के दूसरे पहलवान होते। उनसे पहले सुशील कुमार ने मॉस्को में 2010 में इस चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। बजंरग का यह इस चैम्पियनशिप में दूसरा पदक है। इससे पहले वह 2013 में कांस्य पदक जीतने में सफल रहे थे।

फाइनल मैच काफी रोमांचक था। जापानी खिलाड़ी ने बजंरग को बाहर भेज एक अंक लिया और फिर बजरंग को पटकर कर चार अंक और जुटाए। बजरंग ने टेकडाउन से दो अंक लेकर अपना खाता खोला और फिर स्कोर 6-7 कर लिया।

दूसरे पीरियड में बजरंग ने वापसी की कोशिश की लेकिन जापानी खिलाड़ी ने तीन अंक लेकर अपनी बढ़त को 9-6 कर लिया। इस बढ़त को जापानी खिलाड़ी ने बजरंग के बेहद आक्रामक होने के बाद भी बचाए रखा।

–आईएएनएस

Continue Reading

खेल

रोहित-विराट के तूफानी शतकों में उड़ा वेस्टइंडीज

Published

on

guwahati odi
India vs West Indies

गुवाहाटी। कप्तान विराट कोहली (140) और रोहित शर्मा (152) के बीच दूसरे विकेट के लिए हुई 246 रन की रिकॉर्ड साझेदारी की बदौलत भारत ने पहले एकदिवसीय मैच में रविवार को वेस्टइंडीज को आठ विकेट से करारी मात देकर पांच मैचों की वनडे सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली। मेजबान भारतीय टीम ने यहां बर्सपारा क्रिकेट स्टेडियम में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। वेस्टइंडीज ने शिमरोन हेटमेर (106) की शतकीय पारी की मदद से आठ विकेट पर 322 रन का मजबूत स्कोर बनाया जिसे भारत ने 42.1 ओवर में ही महज दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।

वेस्टइंडीज से मिले 323 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम को 10 रन के स्कोर पर शिखर धवन (4) के रूप में पहला झटका लगा।

लेकिन, इसके बाद विराट और रोहित ने दूसरे विकेट के लिए 246 रन की रिकॉर्ड साझेदारी कर भारत को जीत की मंजिल तक ला दिया। वनडे में दूसरे विकेट के लिए भारत की यह सबसे बड़ी साझेदारी है।

देवेंद्र बिशू ने कप्तान कोहली को विकेटकीपर के हाथों स्टंप कराकर इस साझेदारी का अंत किया। कोहली ने अपने वनडे करियर का 36वां शतक पूरा किया। उन्होंने 107 गेंदों की पारी में 21 चौके और दो छक्के लगाए।

कोहली का घर में यह 15वां, रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 22वां और बतौर कप्तान 14वां शतक है। इसके साथ ही कप्तान के रूप में सबसे ज्यादा शतक बनाने में वह रिकी पोंटिंग (22) के बाद दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं।

कोहली के आउट होने के बाद रोहित ने अंबाती रायडु (नाबाद 22) के साथ तीसरे विकेट के लिए 70 रन की अविजित साझेदारी कर भारत को 42.1 ओवर में आठ विकेट से शानदार जीत दिला दी।

रोहित ने अपने वनडे करियर का 20वां शतक पूरा किया। उन्होंने 117 गेंदों की पारी में 15 चौके और आठ छक्के लगाए। रायडु ने 26 गेंदें खेलीं और एक चौका व एक छक्का लगाया।

वेस्टइंडीज के लिए ओशाने थॉमस ने 83 रन देकर एक विकेट हासिल किया। थॉमस वनडे में वेस्टइंडीज के अब तक सबसे मंहगे गेंदबाज साबित हुए। बिशू को 72 रन पर एक विकेट मिला।

इससे पहले, वेस्टइंडीज ने शिमरोन हेटमेर (106) की शतकीय पारी के दम पर आठ विकेट पर 322 रन का मजबूत स्कोर बनाया।

वेस्टइंडीज के लिए हेटमेर ने 78 गेंदों की पारी में छह चौके और इतने ही छक्के लगाए। उन्होंने अपने वनडे करियर का तीसरा शतक बनाया।

उनके अलावा कीरेन पॉवेल ने 39 गेंदों पर छह चौके और दो छक्कों की मदद से 51, शाई होप ने 32, कप्तान जैसन होल्डर ने 38, केमार रोच ने नाबाद 26 और देवेंद्र बिशू ने नाबाद 22 रन बनाए। रोव्मैन पॉवेल ने भी 22 रन का योगदान दिया।

भारत के लिए युजवेंद्र चहल ने 41 रन पर तीन विकेट, मोहम्मद शमी ने 81 रन पर दो विकेट, रवींद्र जडेजा ने 66 रन पर दो विकेट और खलील अहमद ने 64 रन पर एक विकेट हासिल किए।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
minor girl rape
शहर21 mins ago

शर्मनाक! नर्सरी की मासूम छात्रा से कैब ड्राइवर ने किया दुष्कर्म

CBI
राष्ट्रीय22 mins ago

सीबीआई रिश्वत मामले में डीएसपी देवेंद्र कुमार कोर्ट में पेश

Supreme court
राष्ट्रीय42 mins ago

CEC की नियुक्ति वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने पांच जजों की संवैधानिक पीठ को भेजा

sharad pawar
राजनीति44 mins ago

पवार ने मोदी से पूछा- सीबीआई में मची मारामारी पर क्‍यों नहीं बोलते?

CID-
मनोरंजन51 mins ago

अब ‘सीआईडी’ के एसीपी प्रद्युमन क्‍यों नहीं कहेंगे ‘कुछ तो गड़बड़ है’…

ganga
राष्ट्रीय1 hour ago

मोदी सरकार के ‘स्वच्छ गंगा कोष’ को नहीं मिला जनता का सहयोग

खेल1 hour ago

अनाथ आश्रम में पला, ढाबों में काम कर इस दिव्यांग ने ऐसे जीता गोल्ड मेडल

Karan johar-
मनोरंजन2 hours ago

‘कॉफी विद करण’ में आयुष्मान-विक्की कौशल खोलेंगे कई राज

sabarimala temple
राष्ट्रीय2 hours ago

सबरीमाला पुनर्विचार याचिकाओं पर 13 नवंबर को सुनवाई

earthquake
अंतरराष्ट्रीय2 hours ago

जापान में 6.1 तीव्रता के भूकंप के झटके

jeans
लाइफस्टाइल3 days ago

जानिए जीन्स का इतिहास, इसमें छुपे एक-एक राज…

Sonarika Bhadauriya
टेक3 weeks ago

सोशल मीडिया पर कमेंट्स पढ़ना फिजूल : सोनारिका भदौरिया

Kapil Sibal
टेक3 weeks ago

बहुमत के फ़ैसले के बावजूद ग़रीब और सम्पन्न लोगों के ‘आधार’ में हुई चूक!

Matka
ज़रा हटके4 weeks ago

मटकावाला : लंदन से आकर दिल्ली में पिलाते हैं प्यासे को पानी

,Excercise-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

उम्र को 10 साल बढ़ा सकती हैं आपकी ये 5 आदतें…

IAF Chief Dhanoa Rafale Jet
ब्लॉग3 weeks ago

राफ़ेल पर सफ़ाई देकर धनोया ने वायुसेना की गरिमा गिरायी!

Vivek Tiwari
ब्लॉग3 weeks ago

विवेक की हत्या के लिए अफ़सरों और नेताओं पर भी मुक़दमा क्यों नहीं चलना चाहिए?

Ayodhya Verdict Supreme Court
ब्लॉग4 weeks ago

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने सुलझाया कम और उलझाया ज़्यादा!

Rafale deal scam
ओपिनियन3 weeks ago

2019 में भी मोदी जीते तो 36 नहीं बल्कि 72 राफ़ेल मिलेंगे और वो भी बिल्कुल मुफ़्त!

Home-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

घर में संतुलित लाइट का करें इस्तेमाल

राजनीति1 day ago

वीडियो: एनडी तिवारी के अंतिम संस्कार के मौके पर योगी ने लगाए ठहाके

Devendra Fadnavis WIFE
राष्ट्रीय2 days ago

वीडियो: क्रूज से सेल्फी लेने के लिए सीएम फडणवीस की पत्नी ने क्रॉस की सेफ्टी लाइन

Amritsar Train
शहर3 days ago

अमृतसर हादसे पर पंजाब में राजकीय शोक

MEERUT
राष्ट्रीय3 days ago

वीडियो: मेरठ में बीजेपी पार्षद की गुंडागर्दी, दरोगा को जड़े थप्पड़

राजनीति2 weeks ago

छेड़छाड़ पर आईएएस की पत्नी ने चप्पल से बीजेपी नेता को पीटा, देखें वीडियो

airforce
राष्ट्रीय2 weeks ago

Air Force Day: 8000 फीट की ऊंचाई से उतरे पैरा जंपर्स

Assam
शहर2 weeks ago

…अचानक हाथी से गिर पड़े असम के डेप्युटी स्पीकर, देखें वीडियो

Karnataka
ज़रा हटके2 weeks ago

कर्नाटक में लंगूर ने चलाई यात्रियों से भरी बस, देखें वीडियो

Kangana Ranaut-
मनोरंजन3 weeks ago

कंगना की फिल्म ‘मणिकर्णिका’ का टीजर जारी

BIHAR
राजनीति3 weeks ago

नीतीश के मंत्री का मुस्लिम टोपी पहनने से इनकार, देखें वीडियो

Most Popular