Connect with us

टेक

अभी तो परमात्मा भी हमें सोशल मीडिया के प्रकोप से नहीं बचा सकता!

सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं।

Published

on

Social Media Political Communication in India

भारत के करोड़ों संवेदनशील लोग इन दिनों ‘बच्चा चोर’ के नाम पर हो रही लिंचिंग यानी ‘पीट-पीटकर हत्या करने’ वाली महामारी को लेकर बेहद दुःखी और हतप्रभ हैं! मासूम लड़कियों के साथ हो रहे दुष्कर्म और उनकी निर्ममता से हो रही हत्या को लेकर भी करोड़ों लोग क्रोधित और शर्मसार हैं। सोशल मीडिया पर टिड्डी दल की तरह छाये हुए ट्रोल्स ने तो उन लोगों की नाक में भी दम कर रखा है, जो उनके जनक और पालनहार रहे हैं। मोदी युग की इन महामारियों से यदि भारतीय समाज जूझ रहा है तो इसे लेकर सियासत होना भी स्वाभाविक है। सियासत है, इसीलिए तमाम नेताओं के तरह-तरह के बयान भी सुर्खियों में तो रहेंगे ही।

कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की स्थायी भाव वाली चुप्पी को लेकर भी ख़फ़ा हैं! शायद, ऐसे लोगों को लगता है कि मोदी की भर्त्सना से लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग रूक जाएगी। अव्वल तो ये होगा ही नहीं। लेकिन यदि थोड़ी देर के लिए ये कल्पना भी कर ली जाए कि ‘लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग’ के पीछे वही भक्तों वाली मानसिकता है, जो मोदी को युग-पुरुष मानती है, तो क्या मोदी के किसी बयान या ट्वीट या विज्ञापन से हालात बदल जाएँगे? यदि हाँ, तो फिर ‘मौनं सम्मति लक्षणं’ को ही उनका बयान क्यों नहीं मान लिया जाता!

देश को झकझोरने वाले कितने ही ऐसे मुद्दे हैं, जिस पर मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! नोटबन्दी की नीति ने देश को तबाह कर दिया, लेकिन मोदी इसका गुणगान ही करते रहे! नीरव मोदी और मेहुल चौकसी जैसे प्रधानमंत्री के दोस्तों ने ‘मोदी-गेट’ के रूप में दिन-दहाड़े बैंकों को लूट लिया, लेकिन मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! मोदी ख़ामोश रहे तो कौन सा पहाड़ टूट गया देश पर! कौन सी सुनामी आ गयी! उन्मादी भीड़-तंत्र ने कोई पहली बार तो अपना पराक्रम दिखाया नहीं है। ये आख़िरी भी क्यों होगा? हर साल करीब़ 3 लाख लोगों को मौत असमय गले लगा लेती है। मानव-निर्मित या दैवीय-आपदा की चपेट में आकर होने वाली मौतों को हम बेहद उदारता से हादसा मान लेते हैं!

लिहाज़ा, ये सवाल उठना लाज़िमी है कि कौन हैं वो लोग जो या तो सोशल मीडिया के ज़रिये समाज को झकझोरने की कोशिश कर रहे हैं या फिर इसी मंच से अफ़वाहें फैलाकर समाज को ‘जागरूक’ बनाने का दुस्साहस करते हैं? किसे नहीं मालूम कि आप जगा तो सिर्फ़ उसे सकते हैं जो वाकई में सो रहा हो! जो सोने का नाटक कर रहा हो, उसे भला कौन जगा पाया है! तो फिर क्यों हो रहा है ये स्यापा? मोदीजी के बोल देने से, ख़ेद प्रकट करने से, क्या संघियों, भक्तों और मन्दबुद्धि हिन्दुओं का दीन-ईमान बदल जाएगा? यदि हाँ, तो वो ज़रूर बयान देंगे! आज नहीं तो कल। देर है, अन्धेर नहीं होगी…! लेकिन मोदी के बोलने या ट्वीट करने से कुछ नहीं होगा। क्योंकि भारतीय समाज अभी मगरमच्छ की सवारी कर रहा है! इसी मगरमच्छ को आप सोशल मीडिया कह सकते हैं।

अब कल्पना कीजिए यदि देश में सौ प्रधानमंत्री हो जाएँ तो? या, राज्यों में दो-तीन सौ मुख्यमंत्री हो जाएँ तो क्या हर्ज़ है? या, देश में एक के बजाय यदि 40-50 सुप्रीम कोर्ट हो जाएँ तो क्या चटपट और उम्दा न्याय नहीं होने लगेगा? यदि हाँ, तो ज़रा सोचिए कि जिस तरह से सोशल मीडिया ने सबको पत्रकार बना दिया है, कहीं वो समाज में व्यापक स्तर पर मीठा ज़हर तो नहीं परोस रहा? बेशक, हो तो ऐसा ही रहा है! सोशल मीडिया पर कीड़े-मकोड़ों की तरह पत्रकार की भरमार हो गयी है। अब सवाल ये है कि इसमें बुराई क्या है? जवाब है: “कोई बुराई नहीं है। उल्टा, बहुत अच्छी बात है। इससे जनता अधिकार सम्पन्न (Empowered) बनती है!”

अब ज़रा सोचिए कि किसी अस्पताल के सारे कर्मचारी यदि सर्जरी करने लग जाएँ तो क्या होगा? जवाब होगा: “ये तो अनर्थ होगा। सब कैसे सर्जन बन जाएँगे! सर्जन तो उसे ही बनना चाहिए, जो उस विधा में शिक्षित और प्रशिक्षित हो।” बिल्कुल ठीक। सही फ़रमाया। इसी मिसाल से अन्दाज़ा लगाइए कि सोशल मीडिया पर कितने लोग अनाड़ी सर्जन, सर्ज़िकल उपकरणों के साथ घूम रहे हैं? ये जिसको-तिसको पकड़ लेते हैं और जहाँ-तहाँ उसकी सर्ज़री करने लगते हैं। ऐसी सर्जरी के मरीज़ ही हमें समाज में लूले-लंगड़े, अपाहिज, दिव्यांग और बौद्धिक रूप से क्षत-विक्षत नागरिकों के रूप में दिखायी देते हैं। यही सर्ज़न सोशल मीडिया पर बचकानी, हास्यास्पद, अनाड़ी, मूर्खतापूर्ण, घातक और विनाशकारी टिप्पणियाँ करते फिरते हैं ताकि भारतीय समाज में नाहक ज़हर फैलाया जा सके!

मन्द-बुद्धि जनमानस को इनकी अधकचरी पत्रकारिता में भारी गौरव, छद्म राष्ट्रवाद, छिछोरी राजनीति जैसी बातों का मज़ा मिलता है। हिन्दुत्ववादियों को उनकी राजनीतिक विचारधारा को अफ़वाहों के रूप में फैलाने वाला वहशी कॉडर मिल जाता है। तभी तो ये झाँसा सिर चढ़कर बोलने लगता है कि यक़ीन करो कि ‘अच्छे दिन’ आ चुके हैं! यक़ीन करो कि नोटबन्दी ने काला धन ख़त्म कर दिया! यक़ीन करो कि विकास सिर्फ़ भाषणों से हो सकता है! यक़ीन करो कि 70 साल तक देश को सिर्फ़ लूटा गया है! लूटने वालों में एक भी देशवासी शामिल नहीं था! यदि कोई था भी तो, उनमें कोई भगवा नेता, भक्त और समर्थक शामिल नहीं था! हरेक व्यक्ति जो मोदी समर्थक बनकर गौरवान्वित है वो अपना कर्त्तव्य पूर्ण निष्ठा, समर्पण, ईमानदारी और लगन से निभा रहा है!

कल तक जो अध्यापक फ़ोकट की तनख़्वाह लेते थे वो अब विद्यार्थियों का भविष्य सँवारने के लिए तपस्या कर रहे हैं! बीजेपी शासित राज्यों के पुलिस वालों की ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा से तो देवता भी ईष्या करने लगे हैं! उन्हीं राज्यों में डॉक्टरों ने अपने मरीज़ों का शोषण त्यागकर उन्हें अपने आराध्य माता-पिता जैसा सम्मान देना शुरू कर दिया है! बीजेपी शासित राज्यों में जनता ने यातायात के नियमों का आदर अपने धार्मिक ग्रन्थों की तरह करना शुरू कर दिया है! उन्हीं राज्यों की अदालतों में इन्साफ़ की नदियाँ बह रही हैं! वहाँ ग़ैरक़ानूनी व्यवहार तो अपवाद स्वरूप भी दिखायी नहीं देता!

बीजेपी के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का आचरण त्याग, बलिदान और ‘नर-सेवा, नारायण सेवा’ की शानदार मिसाल बन चुका है! हरेक हिन्दूवादी छात्र ने भीष्म प्रतीज्ञा ले ली है कि वो अपने विद्यालय और गुरुजनों का भरपूर आदर करेगा और परीक्षा की सुचिता को माँ-बहनों की इज़्ज़त से कम नहीं समझेगा! यदि वास्तव में ऐसा होने लगा है तो सोशल मीडिया पर हरेक ख़ास-ओ-आम को पत्रकार बनने का हक़ बिल्कुल होना चाहिए! उसकी श्रेष्ठता का अभिनन्दन अवश्य होना चाहिए। लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो ज़रा सोचिए कि वो कौन लोग हैं जो आपमें झूठी और ग़लत जानकारियाँ ठूँसकर आपको बौद्धिक रूप से दिवालिया बना रहे हैं? ऐसा करके वो किसका हित साध रहे हैं? कैसी राष्ट्रभक्ति दिखा रहे हैं?

सोशल मीडिया पर बज रहे ऐसे डमरूओं की आवाज़ें यदि आप सुन और समझ पा रहे हैं तो आपसे ज़्यादा नसीबवाला शायद ही कोई और हो! लेकिन बदक़िस्मती से ऐसा हो नहीं रहा। बल्कि हो ये रहा है कि सोशल मीडिया, ख़ासकर WhatsApp, के ज़रिये अपनी पहचान को ज़ाहिर किये बग़ैर उन लोगों तक विशुद्ध झूठ और अफ़वाह को फैलाया जा रहा है, जो इसे परखने और सच्चाई को जानने-समझने की क्षमता नहीं रखते। इसी तरह विकृत सर्जनों की सर्जरी वाले मरीज़ समाज में बेतहाशा फैलते जा रहे हैं। झूठ और अफ़वाह की बदौलत जो नेता, नीति और माहौल बन रहा है वो सैकड़ों प्रधानमंत्री, हज़ारों मुख्यमंत्री और तमाम सुप्रीम कोर्ट्स को पैदा किये बिना नहीं मानेगा!

सोशल मीडिया ने अभिव्यक्ति की आज़ादी को ‘अभिव्यक्ति की अराजकता’ में बदल दिया है। ये अराजकता आज जिसकी ताजपोशी करती है, कल उसी का तख़्ता पलट भी करेगी! इस अराजकता का जवाब भी अराजकता से ही मिलेगा। जिसकी अराजकता बेहतर होगी, वही सरताज बनेगा। इसीलिए बारूद या परमाणु या रासायनिक हथियारों से भी कहीं ज़्यादा विध्वंसक है सोशल मीडिया! ये मगरमच्छ की सवारी है! जो इसे सफ़लतापूर्वक कर लेगा, उसे भी यही मार डालेगा! ये साक्षात भस्मासुर है! इसकी अनियंत्रित और अघोषित फ़ौज हमेशा सोशल मीडिया पर सक्रिय रहती है। कहीं कुछ अच्छा या सकारात्मक दिखा तो फ़ौरन Likes, Retweet, Share, Trending जैसी बयार बहने लगती है। और, यदि कुछ नकारात्मक है तो तुरन्त यही ‘भाड़े के टट्टू’ राशन-पानी लेकर पिल पड़ते हैं। आपको ये फ़ासिस्ट तरीक़ा लगता है, तो लगा करे। किसे परवाह है!

सोशल मीडिया इतना व्यापक है कि ये किसी क़ानून से क़ाबू में नहीं आएगा। अभी तो इसके प्रकोप से इंसान को परमात्मा भी नहीं बचा सकते। मुमकिन है कि इंसान कभी न कभी इसका इलाज़ ज़रूर ढूँढ़ लेगा। लेकिन जब तक सोशल मीडिया को नियंत्रित करने की तकनीक विकसित नहीं होती, तब तक तो ये इंसानियत का सबसे बड़ा दुश्मन बना रहेगा। समाज को नैतिक मूल्यों से विहीन बनाता रहेगा। इंसान की सनकी प्रवृत्तियों को बढ़ाता रहेगा। अनुशासन और शर्म-ओ-हया लगातार क़िताबी ही बनी रहेगी।

इसीलिए, हमें इसकी ख़ौफ़नाक प्रवृत्तियों से ख़ुद ही बचना होगा। सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं। ‘जनरल हाईजीन’ का सबसे आसान तरीका है कि आप सोशल मीडिया की हर सामग्री को सच और प्रमाणिक मत मानिए। बल्कि जो बातें सनसनीख़ेज़ लगें उसकी सच्चाई को फ़ौरन और पहली नज़र में संदिग्ध तथा दुर्भावनापूर्ण ही मानिए। किसी बात तो तब तक फारवर्ड या शेयर या रिट्वीट मत कीजिए, जब तक कि आप उसकी सच्चाई के प्रति पूरी तरह से आश्वस्त न हो जाएँ। क्योंकि क़ानूनन ‘Forward as arrived…’ लिखने से भी आप IT Act के तहत गुनाहगार ठहराये जा सकते हैं! यदि रखिए कि जब बुरा वक़्त आता है तो ऊँट पर बैठे व्यक्ति को भी कुत्ता काट लेता है!

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

टेक

पोर्टोनिक्स लेकर आए ब्ल्यूटुथ हेडफोन ‘मफ्स जी’, जानें कीमत

Published

on

MUFFS
(PHOTO CREDIT IANS )

पोर्टोनिक्स डिजिटल ने अपने व्यापक ब्ल्यूटुथ हेडफोन सीरीज में ‘मफ्स जी’ को जोड़ने की घोषणा की। इसकी कीमत 1999 रुपये है। ‘मफ्स जी’ एक ब्ल्यूटुथ 4.2 स्टीरियो हेडफोन है। इसमें एक ऑक्स – इन विकल्प है, जो उपयोगकर्ता को साफ और मधुर संगीत का आनंद लेने की आजादी देता है।

‘मफ्स जी’ के माध्यम से ब्ल्यूटुथ या फिर ऑक्स केबल का उपयोग करते हुए संगीत का आनंद लिया जा सकता है। ऑक्स-इन विकल्प काफी हैंडी है क्योंकि यह उपयोगकर्ता को कई तरह की आजादी देता है।

अगर कोई वायुयान में यात्रा कर रहा है, और वायरलेस (ब्ल्यूटुथ) फीचर का उपयोग नहीं करना चाहता है या फिर उसके स्मार्टफोन की बैटरी खत्म होने वाली है तो वो वायर का भी उपयोग कर सकते है। ‘मफ्स जी’ में एक बिल्ट-इन माइक्रोफोन भी लगा है, जिसके माध्यम से आप अपने फोन कॉल्स का उत्तर दे सकते हैं।

पोर्टोनिक्स ने अपने बयान में कहा कि इसका राबस्ट और लाइटवेट डिजाइन इसे उपयोग में आरामदायक बनाता है। इसके इअर-कप्स में खास कुशन है और इसका हेडबैंड आरामदायक है। यह नॉइज कैंसीलेशन फीचर से लैस है।

इसका रग्ड फोल्डेबल डिजाइन इसे लम्बी उम्र देता है। इसमें इनबिल्ट ड्राइवर्स लगे हैं, जिनका अनुपात 40 एमएम है और ये सुनने वाले को अतिरिक्त बास और ट्रेबल का आनंद देते हैं। यह 10 मीटर के रेंज में काम करता है।

‘मफ्स जी’ में हाइली एफीशिएंट नॉइज केंसीलेशन टेक्नोलॉजी का उपयोग हुआ है और यह साफ-सुथरी और तेज आवाज देता है। यह 20 से 20 हजार हट्ज फ्रीक्वेंसी के बीच काम करता है।

पोर्टोनिक्स का यह नया उत्पाद दो घंटे की चाजिर्ंग के बाद बिना रुके 10 घंटे के संगीत का आनंद दे सकता है। इसके सुरक्षित तथा पावरफुल बिल्टइन रीचार्जेबल बैटरी इसे हेडफोन की दुनिया में अलग स्थान देते हैं।

‘मफ्स जी’ का खासियत यह है कि इसके इअर कप्स फोल्डेबल हैं। ये अंदर की तरफ फोल्ड हो सकते हैं। इससे इसे कहीं भी ले जाना आसान है। ‘मफ्स जी’ की कीमत 1999 रुपये है और यह भूरे रंग में उपलब्ध है।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

फेसबुक ने तथ्य परीक्षण से पत्रकारों के निराश होने वाली खबर को किया खारिज

Published

on

फेसबुक ने एक मीडिया रिपोर्ट को खारिज कर दिया है, जिसमें बताया जा रहा था कि सोशल मीडिया दिग्गज के लिए तथ्य परीक्षकों के रूप में काम कर रहे पत्रकार निराश हो चुके हैं और साझेदारी को समाप्त कर रहे हैं क्योंकि कंपनी झूठी खबरों (फेक न्यूज) से मुकाबला करने में उनकी विशेषज्ञता का प्रयोग करने में विफल रही है।

द गार्डियन की गुरुवार की रिपोर्ट के मुताबिक, बाहरी पत्रकारों ने फेसबुक से विश्वास खो दिया है, जो कि उनके कार्य के प्रभावों को लेकर सार्थक डेटा को जारी करने से लगातार इनकार कर रहा है।

रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए फेसबुक के न्यूज इंटीग्रिटी पार्टनरशिप की हेड मेरीडिथ कार्डेन ने कहा कि गार्डियन की स्टोरी में कई अशुद्धियां प्रस्तुत की गई हैं।

कार्डेन ने एक बयान में कहा, “स्टोरी में दावे के विपरीत हमने निश्चित रूप से तथ्य परीक्षकों से हमारे विज्ञापनदाताओं के बारे में कंटेंट का भंडाफोड़ करने को प्राथमिकता नहीं देने को कहा है।”

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट किसी एक तथ्य परीक्षक की दावे पर आधारित है, जो बीते छह महीने से फेसबुक के तथ्य परीक्षण कार्यक्रम में शामिल नहीं है।

फेसबुक ने कहा, “हम वर्षों से झूठी खबरों के मुकाबला करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमारी हमारे तथ्य परीक्षण साझेदारों के साथ मजबूत संबंध हैं। हमारे दुनिया भर के 24 देशों में अब 35 साझेदार हैं।”

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

माइक्रोसाफ्ट कैजाला ने 1000 संगठनों को उत्पादक बनाया

Published

on

Microsoft,

माइक्रोसाफ्ट ने कहा कि सोशल नेटवर्क एप कैजाला 1000 संगठनों को उत्पादकता बढ़ाने में मदद की है। इनमें सरकारी और निजी संगठन शामिल हैं।

कंपनी ने कहा कि पिछले साल भारत में लांच की गई कैजाला की पहुंच बढ़ाई जाएगी। अभी यह 28 देशों एवं 18 भाषाओं में उपलब्ध है। माइक्रोसाफ्ट के प्रेसिडेंट अनंत महेश्वरी ने कहा कि कैजाला संगठनों को अपने कर्मचारियों को और सशक्त एवं उत्पादक बनाने में सहयोग कर रहा है।

माइक्रोसाफ्ट के वाइस प्रेसिडेंट राजीव कुमार ने कहा कि कैजाला चैट आधारित कम्यूनिकेशन है और डाटा प्रबंधन टूल है। उल्लेखनीय है कि कैजाला का उपयोग बैंक, अस्पताल एवं अन्य संगठन अपनी उत्पादकता बढ़ाने के लिए कर रहे हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Rahul Gandhi
राजनीति5 hours ago

राफेल डील पर बोले राहुल- ‘विमान की कीमत पर सवाल बरकरार’

Saina_Kashyap
खेल6 hours ago

साइना नेहवाल ने की शादी

canada
ज़रा हटके6 hours ago

ये हैं दुनिया की सबसे डरावनी जगह…

व्यापार7 hours ago

सेंसेक्स में 33 अंकों की तेजी

MUFFS
टेक7 hours ago

पोर्टोनिक्स लेकर आए ब्ल्यूटुथ हेडफोन ‘मफ्स जी’, जानें कीमत

स्वास्थ्य8 hours ago

सिनेमा, संग्रहालय जाने से बुजुर्गों में अवसाद का जोखिम हो सकता है कम

CONGRESS
चुनाव8 hours ago

अशोक गहलोत के सिर सजा राजस्थान का ताज

राष्ट्रीय8 hours ago

दाभोलकर मर्डर केस में आरोपियों को मिली जमानत

prashant bhushan
राष्ट्रीय8 hours ago

राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पूरी तरह गलत: प्रशांत भूषण

मनोरंजन8 hours ago

वरुण, आलिया बने बच्चों के पसंदीदा कलाकार

jewlary-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में आभूषणों से ऐसे पाएं फैशनेबल लुक…

Congress-reuters
राजनीति3 weeks ago

संघ का सर्वे- ‘कांग्रेस सत्ता की तरफ बढ़ रही’

Phoolwaalon Ki Sair
ब्लॉग4 weeks ago

फूलवालों की सैर : सांप्रदायिक सद्भाव का प्रतीक

Sara Pilot
ओपिनियन2 weeks ago

महिलाओं का आत्मनिर्भर बनना बेहद जरूरी : सारा पायलट

Bindeshwar Pathak
ज़रा हटके3 weeks ago

‘होप’ दिलाएगा मैन्युअल सफाई की समस्या से छुटकारा : बिंदेश्वर पाठक

Tigress Avni
ब्लॉग3 weeks ago

अवनि मामले में महाराष्ट्र सरकार ने हर मानक का उल्लंघन किया : सरिता सुब्रमण्यम

bundelkhand water crisis
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड में प्रधानमंत्री के दावे से तस्वीर उलट

Cervical
लाइफस्टाइल4 weeks ago

ये उपाय सर्वाइकल को कर देगा छूमंतर

Toilets
ब्लॉग3 weeks ago

लड़कियों के नाम, नंबर शौचालयों में क्यों?

demonetisation
ब्लॉग3 weeks ago

नये नोट ने निगले 16,000 करोड़ रुपये

Kapil Sibal
राष्ट्रीय9 hours ago

राफेल पर सिब्‍बल का शाह को जवाब- ‘जेपीसी जांच से ही सामने आएगा सच’

Rajinikanth-
मनोरंजन2 days ago

रजनीकांत के जन्मदिन पर ‘पेट्टा’ का टीजर रिलीज

Jammu And Kashmir
शहर5 days ago

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बर्फबारी

Rajasthan
चुनाव7 days ago

राजस्थान में सड़क पर ईवीएम मिलने से मचा हड़कंप, दो अफसर सस्पेंड

ISRO
राष्ट्रीय1 week ago

भारत का सबसे भारी संचार उपग्रह कक्षा में स्थापित

ShahRukh Khan-
मनोरंजन1 week ago

शाहरुख की फिल्म ‘जीरो’ का दूसरा गाना रिलीज

Simmba-
मनोरंजन2 weeks ago

रणवीर की फिल्म ‘सिम्बा’ का ट्रेलर रिलीज

Sabarimala
राष्ट्रीय2 weeks ago

सबरीमाला विवाद पर केरल विधानसभा में हंगामा, विपक्ष ने दिखाए काले झंडे

Amarinder Singh
राष्ट्रीय3 weeks ago

करतारपुर कॉरिडोर शिलान्‍यास के मौके पर बोले अमरिंदर- ‘बाजवा को यहां घुसने की इजाजत नहीं’

मनोरंजन3 weeks ago

रजनीकांत की फिल्म ‘2.0’ का पहला गाना ‘तू ही रे’ रिलीज

Most Popular