Connect with us

टेक

अभी तो परमात्मा भी हमें सोशल मीडिया के प्रकोप से नहीं बचा सकता!

सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं।

Published

on

Social Media Political Communication in India

भारत के करोड़ों संवेदनशील लोग इन दिनों ‘बच्चा चोर’ के नाम पर हो रही लिंचिंग यानी ‘पीट-पीटकर हत्या करने’ वाली महामारी को लेकर बेहद दुःखी और हतप्रभ हैं! मासूम लड़कियों के साथ हो रहे दुष्कर्म और उनकी निर्ममता से हो रही हत्या को लेकर भी करोड़ों लोग क्रोधित और शर्मसार हैं। सोशल मीडिया पर टिड्डी दल की तरह छाये हुए ट्रोल्स ने तो उन लोगों की नाक में भी दम कर रखा है, जो उनके जनक और पालनहार रहे हैं। मोदी युग की इन महामारियों से यदि भारतीय समाज जूझ रहा है तो इसे लेकर सियासत होना भी स्वाभाविक है। सियासत है, इसीलिए तमाम नेताओं के तरह-तरह के बयान भी सुर्खियों में तो रहेंगे ही।

कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की स्थायी भाव वाली चुप्पी को लेकर भी ख़फ़ा हैं! शायद, ऐसे लोगों को लगता है कि मोदी की भर्त्सना से लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग रूक जाएगी। अव्वल तो ये होगा ही नहीं। लेकिन यदि थोड़ी देर के लिए ये कल्पना भी कर ली जाए कि ‘लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग’ के पीछे वही भक्तों वाली मानसिकता है, जो मोदी को युग-पुरुष मानती है, तो क्या मोदी के किसी बयान या ट्वीट या विज्ञापन से हालात बदल जाएँगे? यदि हाँ, तो फिर ‘मौनं सम्मति लक्षणं’ को ही उनका बयान क्यों नहीं मान लिया जाता!

देश को झकझोरने वाले कितने ही ऐसे मुद्दे हैं, जिस पर मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! नोटबन्दी की नीति ने देश को तबाह कर दिया, लेकिन मोदी इसका गुणगान ही करते रहे! नीरव मोदी और मेहुल चौकसी जैसे प्रधानमंत्री के दोस्तों ने ‘मोदी-गेट’ के रूप में दिन-दहाड़े बैंकों को लूट लिया, लेकिन मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! मोदी ख़ामोश रहे तो कौन सा पहाड़ टूट गया देश पर! कौन सी सुनामी आ गयी! उन्मादी भीड़-तंत्र ने कोई पहली बार तो अपना पराक्रम दिखाया नहीं है। ये आख़िरी भी क्यों होगा? हर साल करीब़ 3 लाख लोगों को मौत असमय गले लगा लेती है। मानव-निर्मित या दैवीय-आपदा की चपेट में आकर होने वाली मौतों को हम बेहद उदारता से हादसा मान लेते हैं!

लिहाज़ा, ये सवाल उठना लाज़िमी है कि कौन हैं वो लोग जो या तो सोशल मीडिया के ज़रिये समाज को झकझोरने की कोशिश कर रहे हैं या फिर इसी मंच से अफ़वाहें फैलाकर समाज को ‘जागरूक’ बनाने का दुस्साहस करते हैं? किसे नहीं मालूम कि आप जगा तो सिर्फ़ उसे सकते हैं जो वाकई में सो रहा हो! जो सोने का नाटक कर रहा हो, उसे भला कौन जगा पाया है! तो फिर क्यों हो रहा है ये स्यापा? मोदीजी के बोल देने से, ख़ेद प्रकट करने से, क्या संघियों, भक्तों और मन्दबुद्धि हिन्दुओं का दीन-ईमान बदल जाएगा? यदि हाँ, तो वो ज़रूर बयान देंगे! आज नहीं तो कल। देर है, अन्धेर नहीं होगी…! लेकिन मोदी के बोलने या ट्वीट करने से कुछ नहीं होगा। क्योंकि भारतीय समाज अभी मगरमच्छ की सवारी कर रहा है! इसी मगरमच्छ को आप सोशल मीडिया कह सकते हैं।

अब कल्पना कीजिए यदि देश में सौ प्रधानमंत्री हो जाएँ तो? या, राज्यों में दो-तीन सौ मुख्यमंत्री हो जाएँ तो क्या हर्ज़ है? या, देश में एक के बजाय यदि 40-50 सुप्रीम कोर्ट हो जाएँ तो क्या चटपट और उम्दा न्याय नहीं होने लगेगा? यदि हाँ, तो ज़रा सोचिए कि जिस तरह से सोशल मीडिया ने सबको पत्रकार बना दिया है, कहीं वो समाज में व्यापक स्तर पर मीठा ज़हर तो नहीं परोस रहा? बेशक, हो तो ऐसा ही रहा है! सोशल मीडिया पर कीड़े-मकोड़ों की तरह पत्रकार की भरमार हो गयी है। अब सवाल ये है कि इसमें बुराई क्या है? जवाब है: “कोई बुराई नहीं है। उल्टा, बहुत अच्छी बात है। इससे जनता अधिकार सम्पन्न (Empowered) बनती है!”

अब ज़रा सोचिए कि किसी अस्पताल के सारे कर्मचारी यदि सर्जरी करने लग जाएँ तो क्या होगा? जवाब होगा: “ये तो अनर्थ होगा। सब कैसे सर्जन बन जाएँगे! सर्जन तो उसे ही बनना चाहिए, जो उस विधा में शिक्षित और प्रशिक्षित हो।” बिल्कुल ठीक। सही फ़रमाया। इसी मिसाल से अन्दाज़ा लगाइए कि सोशल मीडिया पर कितने लोग अनाड़ी सर्जन, सर्ज़िकल उपकरणों के साथ घूम रहे हैं? ये जिसको-तिसको पकड़ लेते हैं और जहाँ-तहाँ उसकी सर्ज़री करने लगते हैं। ऐसी सर्जरी के मरीज़ ही हमें समाज में लूले-लंगड़े, अपाहिज, दिव्यांग और बौद्धिक रूप से क्षत-विक्षत नागरिकों के रूप में दिखायी देते हैं। यही सर्ज़न सोशल मीडिया पर बचकानी, हास्यास्पद, अनाड़ी, मूर्खतापूर्ण, घातक और विनाशकारी टिप्पणियाँ करते फिरते हैं ताकि भारतीय समाज में नाहक ज़हर फैलाया जा सके!

मन्द-बुद्धि जनमानस को इनकी अधकचरी पत्रकारिता में भारी गौरव, छद्म राष्ट्रवाद, छिछोरी राजनीति जैसी बातों का मज़ा मिलता है। हिन्दुत्ववादियों को उनकी राजनीतिक विचारधारा को अफ़वाहों के रूप में फैलाने वाला वहशी कॉडर मिल जाता है। तभी तो ये झाँसा सिर चढ़कर बोलने लगता है कि यक़ीन करो कि ‘अच्छे दिन’ आ चुके हैं! यक़ीन करो कि नोटबन्दी ने काला धन ख़त्म कर दिया! यक़ीन करो कि विकास सिर्फ़ भाषणों से हो सकता है! यक़ीन करो कि 70 साल तक देश को सिर्फ़ लूटा गया है! लूटने वालों में एक भी देशवासी शामिल नहीं था! यदि कोई था भी तो, उनमें कोई भगवा नेता, भक्त और समर्थक शामिल नहीं था! हरेक व्यक्ति जो मोदी समर्थक बनकर गौरवान्वित है वो अपना कर्त्तव्य पूर्ण निष्ठा, समर्पण, ईमानदारी और लगन से निभा रहा है!

कल तक जो अध्यापक फ़ोकट की तनख़्वाह लेते थे वो अब विद्यार्थियों का भविष्य सँवारने के लिए तपस्या कर रहे हैं! बीजेपी शासित राज्यों के पुलिस वालों की ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा से तो देवता भी ईष्या करने लगे हैं! उन्हीं राज्यों में डॉक्टरों ने अपने मरीज़ों का शोषण त्यागकर उन्हें अपने आराध्य माता-पिता जैसा सम्मान देना शुरू कर दिया है! बीजेपी शासित राज्यों में जनता ने यातायात के नियमों का आदर अपने धार्मिक ग्रन्थों की तरह करना शुरू कर दिया है! उन्हीं राज्यों की अदालतों में इन्साफ़ की नदियाँ बह रही हैं! वहाँ ग़ैरक़ानूनी व्यवहार तो अपवाद स्वरूप भी दिखायी नहीं देता!

बीजेपी के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का आचरण त्याग, बलिदान और ‘नर-सेवा, नारायण सेवा’ की शानदार मिसाल बन चुका है! हरेक हिन्दूवादी छात्र ने भीष्म प्रतीज्ञा ले ली है कि वो अपने विद्यालय और गुरुजनों का भरपूर आदर करेगा और परीक्षा की सुचिता को माँ-बहनों की इज़्ज़त से कम नहीं समझेगा! यदि वास्तव में ऐसा होने लगा है तो सोशल मीडिया पर हरेक ख़ास-ओ-आम को पत्रकार बनने का हक़ बिल्कुल होना चाहिए! उसकी श्रेष्ठता का अभिनन्दन अवश्य होना चाहिए। लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो ज़रा सोचिए कि वो कौन लोग हैं जो आपमें झूठी और ग़लत जानकारियाँ ठूँसकर आपको बौद्धिक रूप से दिवालिया बना रहे हैं? ऐसा करके वो किसका हित साध रहे हैं? कैसी राष्ट्रभक्ति दिखा रहे हैं?

सोशल मीडिया पर बज रहे ऐसे डमरूओं की आवाज़ें यदि आप सुन और समझ पा रहे हैं तो आपसे ज़्यादा नसीबवाला शायद ही कोई और हो! लेकिन बदक़िस्मती से ऐसा हो नहीं रहा। बल्कि हो ये रहा है कि सोशल मीडिया, ख़ासकर WhatsApp, के ज़रिये अपनी पहचान को ज़ाहिर किये बग़ैर उन लोगों तक विशुद्ध झूठ और अफ़वाह को फैलाया जा रहा है, जो इसे परखने और सच्चाई को जानने-समझने की क्षमता नहीं रखते। इसी तरह विकृत सर्जनों की सर्जरी वाले मरीज़ समाज में बेतहाशा फैलते जा रहे हैं। झूठ और अफ़वाह की बदौलत जो नेता, नीति और माहौल बन रहा है वो सैकड़ों प्रधानमंत्री, हज़ारों मुख्यमंत्री और तमाम सुप्रीम कोर्ट्स को पैदा किये बिना नहीं मानेगा!

सोशल मीडिया ने अभिव्यक्ति की आज़ादी को ‘अभिव्यक्ति की अराजकता’ में बदल दिया है। ये अराजकता आज जिसकी ताजपोशी करती है, कल उसी का तख़्ता पलट भी करेगी! इस अराजकता का जवाब भी अराजकता से ही मिलेगा। जिसकी अराजकता बेहतर होगी, वही सरताज बनेगा। इसीलिए बारूद या परमाणु या रासायनिक हथियारों से भी कहीं ज़्यादा विध्वंसक है सोशल मीडिया! ये मगरमच्छ की सवारी है! जो इसे सफ़लतापूर्वक कर लेगा, उसे भी यही मार डालेगा! ये साक्षात भस्मासुर है! इसकी अनियंत्रित और अघोषित फ़ौज हमेशा सोशल मीडिया पर सक्रिय रहती है। कहीं कुछ अच्छा या सकारात्मक दिखा तो फ़ौरन Likes, Retweet, Share, Trending जैसी बयार बहने लगती है। और, यदि कुछ नकारात्मक है तो तुरन्त यही ‘भाड़े के टट्टू’ राशन-पानी लेकर पिल पड़ते हैं। आपको ये फ़ासिस्ट तरीक़ा लगता है, तो लगा करे। किसे परवाह है!

सोशल मीडिया इतना व्यापक है कि ये किसी क़ानून से क़ाबू में नहीं आएगा। अभी तो इसके प्रकोप से इंसान को परमात्मा भी नहीं बचा सकते। मुमकिन है कि इंसान कभी न कभी इसका इलाज़ ज़रूर ढूँढ़ लेगा। लेकिन जब तक सोशल मीडिया को नियंत्रित करने की तकनीक विकसित नहीं होती, तब तक तो ये इंसानियत का सबसे बड़ा दुश्मन बना रहेगा। समाज को नैतिक मूल्यों से विहीन बनाता रहेगा। इंसान की सनकी प्रवृत्तियों को बढ़ाता रहेगा। अनुशासन और शर्म-ओ-हया लगातार क़िताबी ही बनी रहेगी।

इसीलिए, हमें इसकी ख़ौफ़नाक प्रवृत्तियों से ख़ुद ही बचना होगा। सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं। ‘जनरल हाईजीन’ का सबसे आसान तरीका है कि आप सोशल मीडिया की हर सामग्री को सच और प्रमाणिक मत मानिए। बल्कि जो बातें सनसनीख़ेज़ लगें उसकी सच्चाई को फ़ौरन और पहली नज़र में संदिग्ध तथा दुर्भावनापूर्ण ही मानिए। किसी बात तो तब तक फारवर्ड या शेयर या रिट्वीट मत कीजिए, जब तक कि आप उसकी सच्चाई के प्रति पूरी तरह से आश्वस्त न हो जाएँ। क्योंकि क़ानूनन ‘Forward as arrived…’ लिखने से भी आप IT Act के तहत गुनाहगार ठहराये जा सकते हैं! यदि रखिए कि जब बुरा वक़्त आता है तो ऊँट पर बैठे व्यक्ति को भी कुत्ता काट लेता है!

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

टेक

Whatsapp के डिलीट मैसेज फीचर में हुआ ये बड़ा बदलाव

Published

on

Whatsapp-
File Photo

पॉपुलर इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप के मौजूदा फीचर में एक बड़ा बदलाव किया गया है। कंपनी ने डिलीट फॉर एवरीवन फीचर का टाइम लिमिट बढ़ा दिया है।

आपको पता होगा कि इस फीचर के तहत यूजर्स भेजे गए मैसेज को वापस ले सकते हैं। WABeta इनफो की एक रिपोर्ट के मुताबिक अब यूजर्स को भेज गए मैसेज वापस लेने के लिए 13 घंटे 8 मिनट और 16 सेकंड का समय दिया जाएगा। यानी भेजे गए मैसेज 13 घंटे अंदर तक वापस ले सकते हैं।

बताया जा रहा है कि यह कदम वॉट्सऐप ने पुराने रैंड मैसेज को डिलीट करने के रिक्वेस्ट की वजह से उठाया है। इससे पहले वॉट्सऐप मे डिलीट रिक्वेस्ट 1 घंटे 8 मिनट तक की थी। शुरुआत में इसकी लिमिट 7 मिनट ही रखी गई थी, लेकिन बाद में इसे बढ़ा दिया गया।

WAbetainfo ने ट्वीट में बताया है डिलीट फॉर एवरीवन फीचर तब काम करेगा, जब कनवर्सेशन में शामिल सभी यूजर्स को मैसेज डिलिवर हुआ है। यानी किसी का फोन ऑफ है ऐसी स्थिति में सेंडर डिलीट फॉर एवरीवन का फीचर यूज करके भी उसे डिलीट नहीं कर सकता, जबकि फोन ऑन न हो और मैसेज डिलिवर न हो।

एक दूसरी ताजा रिपोर्ट की बात करें तो फेसबुक मैसेंजर में भी मैसेज अनसेंड का फीचर आ रहा है। इसकी टेस्टिंग शुरू की जा चुकी है। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि ये फीचर यूजर्स को कब दिया जाएगा। लेकिन अप्रैल में ही फेसबुक ने यह कहा था कि मैसेंजर में अनसेंड फीचर सभी को दिया जाएगा।

WeForNews

Continue Reading

टेक

नोकिया 3.1 Plus और 8110 भारत में लॉन्च, जानें कीमत

Published

on

Nokia-
फोटो-ट्विटर

त्योहारी सीजन से पहले नोकिया स्मार्टफोन बनाने वाली फिनलैंड की कंपनी एचएमडी ग्लोबल ने 11,499 रुपये की कीमत वाला नोकिया 3.1 प्लस लॉन्च किया, जो भारत में 19 अक्टूबर से उपलब्ध होगा।

एस्पेक्ट रेशियो के साथ छह इंच एचडी प्लस डिस्पले वाले इस स्मार्टफोन में 13प्लस5 मेगापिक्सल का डुअल रियर कैमरा और आठ मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है। एचएमडी ग्लोबल के उपाध्यक्ष एवं कंट्री हेड इंडिया अजय मेहता ने बताया, यह एक अच्छा फोन है, मुझे वास्तव में आशा है कि यह फोन बाजाप में अच्छा कारोबार करेगा।

डिवाइस में मीडियाटेक हीलियो पी22 ऑक्टा-कोर प्रोसेसर दिया गया है, साथ ही इसमें 3500 एमएएच की बैटरी है। कंपनी का दावा है कि इसकी बैटरी दो दिनों तक चल सकती है। नेहता ने यहां संवाददाताओं को बताया, नोकिया 3.1 प्लस भारत के लिए डिजाइन किया है और यह सबसे पहले भारत में आ रहा है।

इस नए स्मार्टफोन की घोषणा करने के लिए त्योहारी सीजन से अच्छा वक्त क्या हो सकता है। नोकिया 3.1 प्लस पर एयरटेल सब्सक्राइबर 199 या इससे ज्यादा के प्लान पर एक टेराबाइट का 4जी डेटा पा सकते हैं। कंपनी ने नोकिया 8110 को फिर से भारत में लॉन्च करने की भी घोषणा की।

इसमें दो सिम लगेंगे और दोनों 4जी को स्पोर्ट करेंगे। इस फोन को हॉटस्पॉट के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। 5,999 रुपये की कीमत वाला यह फोन दो रंगो-पीले और काले में उतारा गया है और यह 24 अक्टूबर से उपलब्ध होगा।

WeForNews

Continue Reading

टेक

गूगल ने लॉन्च किया स्मार्ट डिस्प्ले Google Home Hub

Published

on

google-home
फोटो-ट्विटर

मेड बाय गूगल इवेंट में कंपनी ने गूगल होम हब लॉन्च किया है। यह स्मार्ट डिस्प्ले है, जिसकी स्क्रीन 7 इंच दी गई है।

इसके अलावा कंपनी ने एक टैबलेट भी लॉन्च किया है, जिसे Pixel Slate का नाम दिया गया है। गूगल होम हब में गूगल असिस्टेंट दिया गया है जो कस्टमाइज्ड है। खासियत ये है कि यह घर अलग-अलग लोगों की आवाज पहचानेगा और उनके कमांड्स का रिप्लाई करेगा।

गूगल ने होम हब के लिए सर्च, फोटोज और गूगल मैप्स को रीडिजाइन भी किया है। इस स्मार्ट स्पीकर में कैमरा नहीं है और कंपनी के मुताबिक ऐसा प्राइवेसी को ध्यान में रखकर किया गया है। इस स्मार्ट डिस्प्ले में स्पीकर भी दिया गया है।

Image result for Google Home Hub

कंपनी के मुताबिक इसमें एंबिएंट लाइट सेंसर दिया गया है जो कमरे की रौशनी के हिसाब से ब्राइटनेस खुद से एडजस्ट कर लेगा ताकि आंखों पर जोर न पड़े। पर्सनलाइज्ड कॉन्टेंट के लिए गूगल होम हब घर के अलग अलग लोगों की पहचान भी रखेगा।

Image result for Google Home Hub

खास फीचर की बात करें तो कंपनी ने इसमें होम व्यू दिया है जो घर के सभी स्मार्ट डिवाइस को मैनेज कर सकता है। मतलब ये कि आपको घर के दूसरे स्मार्ट डिवाइस के लिए अलग अलग ऐप का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। इस डैशबोर्ड से ही सीधे आप स्मार्ट डिवाइस को मैनेज कर सकते हैं।

गूगल होम हब को आप फोटो फ्रेम के तौर पर भी यूज कर सकेंगे। स्टैंडबाइ पर गूगल फोटोज में आपकी बेहतरीन तस्वीरों का स्लाइड शो चलेगा और इसके लिए लाइव एल्बम फीचर भी दिया गया है। कंपनी ने इसमें कस्टमाइज यूट्यूब ऐप और असिस्टें दिया है यानी आप असिस्टेंट को बोल कर यूट्यूब से गाने सुन सकते हैं।

इसके साथ छह महीने की यूट्यूब म्यूजिक की सब्सक्रिप्शन फ्री दी गई है। यह डिवाइस चार कलर वेरिएंट्स – ग्रीन, डार्क ग्रे, पिंक और वॉइट में उपलब्ध होगा। इसकी बिक्री 22 अक्टूबर से अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में होगा। कीमत 149 डॉलर है और कंपनी ने अभी तक इसकी भारतीय उपलब्धता के बारे में नहीं बताया है।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
katju
राजनीति8 hours ago

काटजू ने योगी को सुझाया- ‘फैजाबाद का नाम नरेंद्र मोदी नगर रख दो’

Sensex
व्यापार10 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स में 132 अंक ऊपर

rahul gandhi
राजनीति10 hours ago

मोदी युवाओं को रोजगार देने में फेल: राहुल गांधी

mj akbar
राष्ट्रीय10 hours ago

MeToo : एमजे अकबर ने महिला पत्रकार पर किया मानहानि का मुकदमा

Sona Mohapatra-
मनोरंजन11 hours ago

‘मी टू’ में महिलाओं का साथ दें प्रधानमंत्री : सोना महापात्रा

Police
शहर11 hours ago

वर्दी पहने यूपी पुलिस के सिपाही पर आरोपी ने फेंका जूता

rahul g
राजनीति11 hours ago

छत्तीसगढ़: 22 अक्टूबर को किसानों को संबोधित करेंगे राहुल

Vinta Nanda
मनोरंजन11 hours ago

मानहानि के मामले से विनता डरने वाली नहीं : वकील

Jargam henna
राष्ट्रीय11 hours ago

यूपी के अंबेडकरनगर में बीएसपी नेता और ड्राइवर की गोली मारकर हत्या

Whatsapp-
टेक12 hours ago

Whatsapp के डिलीट मैसेज फीचर में हुआ ये बड़ा बदलाव

RAJU-min
राष्ट्रीय4 weeks ago

रक्षा मंत्री के दावे को पूर्व एचएएल चीफ ने नकारा, कहा- भारत में ही बना सकते थे राफेल

Shashi-Tharoor
ओपिनियन3 weeks ago

संशय भरे आधुनिक युग में हिंदू आदर्श धर्म : थरूर

man-min (1)
ज़रा हटके4 weeks ago

इस हॉस्पिटल में भूत-प्रेत करते हैं मरीजों का इलाज

mohan bhagwat world hindu congress, Bharatiya Janata Party, BJP, Chicago, Hindu Community, Hinduism, Hindus, Hindutva, Illinois, Mohan Bhagwat, Narendra Modi, Rashtriya Swayamsevak Sangh, RSS, TheySaidIt, WHC, World Hindu Congress
ब्लॉग4 weeks ago

मोहन भागवत झूठ पर झूठ परोसते रहे और भक्त झूम-झूमकर कीर्तिन करते रहे!

Kapil Sibal
टेक2 weeks ago

बहुमत के फ़ैसले के बावजूद ग़रीब और सम्पन्न लोगों के ‘आधार’ में हुई चूक!

Sonarika Bhadauriya
टेक2 weeks ago

सोशल मीडिया पर कमेंट्स पढ़ना फिजूल : सोनारिका भदौरिया

Matka
ज़रा हटके3 weeks ago

मटकावाला : लंदन से आकर दिल्ली में पिलाते हैं प्यासे को पानी

,Excercise-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

उम्र को 10 साल बढ़ा सकती हैं आपकी ये 5 आदतें…

Vivek Tiwari
ब्लॉग2 weeks ago

विवेक की हत्या के लिए अफ़सरों और नेताओं पर भी मुक़दमा क्यों नहीं चलना चाहिए?

Ayodhya Verdict Supreme Court
ब्लॉग3 weeks ago

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने सुलझाया कम और उलझाया ज़्यादा!

राजनीति1 week ago

छेड़छाड़ पर आईएएस की पत्नी ने चप्पल से बीजेपी नेता को पीटा, देखें वीडियो

airforce
राष्ट्रीय1 week ago

Air Force Day: 8000 फीट की ऊंचाई से उतरे पैरा जंपर्स

Assam
शहर1 week ago

…अचानक हाथी से गिर पड़े असम के डेप्युटी स्पीकर, देखें वीडियो

Karnataka
ज़रा हटके1 week ago

कर्नाटक में लंगूर ने चलाई यात्रियों से भरी बस, देखें वीडियो

Kangana Ranaut-
मनोरंजन2 weeks ago

कंगना की फिल्म ‘मणिकर्णिका’ का टीजर जारी

BIHAR
राजनीति2 weeks ago

नीतीश के मंत्री का मुस्लिम टोपी पहनने से इनकार, देखें वीडियो

Hyderabad Murder on Road
शहर2 weeks ago

हैदराबाद: दिनदहाड़े पुलिस के सामने कुल्हाड़ी से युवक की हत्या

Thugs of Hindostan-
मनोरंजन3 weeks ago

धोखे और भरोसे के बीच आमिर-अमिताभ की जंग, ट्रेलर जारी

kapil sibal
राष्ट्रीय3 weeks ago

‘आधार’ पर मोदी सरकार का कदम असंवैधानिक ही नहीं अलोकतांत्रिक भी था: सिब्‍बल

rahul gandhi
राजनीति3 weeks ago

राहुल ने मोदी से पूछा- अब तो बताओ, ओलांद सच कह रहे हैं या झूठ

Most Popular