Connect with us

टेक

अभी तो परमात्मा भी हमें सोशल मीडिया के प्रकोप से नहीं बचा सकता!

सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं।

Published

on

Social Media Political Communication in India

भारत के करोड़ों संवेदनशील लोग इन दिनों ‘बच्चा चोर’ के नाम पर हो रही लिंचिंग यानी ‘पीट-पीटकर हत्या करने’ वाली महामारी को लेकर बेहद दुःखी और हतप्रभ हैं! मासूम लड़कियों के साथ हो रहे दुष्कर्म और उनकी निर्ममता से हो रही हत्या को लेकर भी करोड़ों लोग क्रोधित और शर्मसार हैं। सोशल मीडिया पर टिड्डी दल की तरह छाये हुए ट्रोल्स ने तो उन लोगों की नाक में भी दम कर रखा है, जो उनके जनक और पालनहार रहे हैं। मोदी युग की इन महामारियों से यदि भारतीय समाज जूझ रहा है तो इसे लेकर सियासत होना भी स्वाभाविक है। सियासत है, इसीलिए तमाम नेताओं के तरह-तरह के बयान भी सुर्खियों में तो रहेंगे ही।

कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की स्थायी भाव वाली चुप्पी को लेकर भी ख़फ़ा हैं! शायद, ऐसे लोगों को लगता है कि मोदी की भर्त्सना से लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग रूक जाएगी। अव्वल तो ये होगा ही नहीं। लेकिन यदि थोड़ी देर के लिए ये कल्पना भी कर ली जाए कि ‘लिंचिंग, दुष्कर्म और ट्रोलिंग’ के पीछे वही भक्तों वाली मानसिकता है, जो मोदी को युग-पुरुष मानती है, तो क्या मोदी के किसी बयान या ट्वीट या विज्ञापन से हालात बदल जाएँगे? यदि हाँ, तो फिर ‘मौनं सम्मति लक्षणं’ को ही उनका बयान क्यों नहीं मान लिया जाता!

देश को झकझोरने वाले कितने ही ऐसे मुद्दे हैं, जिस पर मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! नोटबन्दी की नीति ने देश को तबाह कर दिया, लेकिन मोदी इसका गुणगान ही करते रहे! नीरव मोदी और मेहुल चौकसी जैसे प्रधानमंत्री के दोस्तों ने ‘मोदी-गेट’ के रूप में दिन-दहाड़े बैंकों को लूट लिया, लेकिन मोदी ने कभी चूँ तक नहीं की! मोदी ख़ामोश रहे तो कौन सा पहाड़ टूट गया देश पर! कौन सी सुनामी आ गयी! उन्मादी भीड़-तंत्र ने कोई पहली बार तो अपना पराक्रम दिखाया नहीं है। ये आख़िरी भी क्यों होगा? हर साल करीब़ 3 लाख लोगों को मौत असमय गले लगा लेती है। मानव-निर्मित या दैवीय-आपदा की चपेट में आकर होने वाली मौतों को हम बेहद उदारता से हादसा मान लेते हैं!

लिहाज़ा, ये सवाल उठना लाज़िमी है कि कौन हैं वो लोग जो या तो सोशल मीडिया के ज़रिये समाज को झकझोरने की कोशिश कर रहे हैं या फिर इसी मंच से अफ़वाहें फैलाकर समाज को ‘जागरूक’ बनाने का दुस्साहस करते हैं? किसे नहीं मालूम कि आप जगा तो सिर्फ़ उसे सकते हैं जो वाकई में सो रहा हो! जो सोने का नाटक कर रहा हो, उसे भला कौन जगा पाया है! तो फिर क्यों हो रहा है ये स्यापा? मोदीजी के बोल देने से, ख़ेद प्रकट करने से, क्या संघियों, भक्तों और मन्दबुद्धि हिन्दुओं का दीन-ईमान बदल जाएगा? यदि हाँ, तो वो ज़रूर बयान देंगे! आज नहीं तो कल। देर है, अन्धेर नहीं होगी…! लेकिन मोदी के बोलने या ट्वीट करने से कुछ नहीं होगा। क्योंकि भारतीय समाज अभी मगरमच्छ की सवारी कर रहा है! इसी मगरमच्छ को आप सोशल मीडिया कह सकते हैं।

अब कल्पना कीजिए यदि देश में सौ प्रधानमंत्री हो जाएँ तो? या, राज्यों में दो-तीन सौ मुख्यमंत्री हो जाएँ तो क्या हर्ज़ है? या, देश में एक के बजाय यदि 40-50 सुप्रीम कोर्ट हो जाएँ तो क्या चटपट और उम्दा न्याय नहीं होने लगेगा? यदि हाँ, तो ज़रा सोचिए कि जिस तरह से सोशल मीडिया ने सबको पत्रकार बना दिया है, कहीं वो समाज में व्यापक स्तर पर मीठा ज़हर तो नहीं परोस रहा? बेशक, हो तो ऐसा ही रहा है! सोशल मीडिया पर कीड़े-मकोड़ों की तरह पत्रकार की भरमार हो गयी है। अब सवाल ये है कि इसमें बुराई क्या है? जवाब है: “कोई बुराई नहीं है। उल्टा, बहुत अच्छी बात है। इससे जनता अधिकार सम्पन्न (Empowered) बनती है!”

अब ज़रा सोचिए कि किसी अस्पताल के सारे कर्मचारी यदि सर्जरी करने लग जाएँ तो क्या होगा? जवाब होगा: “ये तो अनर्थ होगा। सब कैसे सर्जन बन जाएँगे! सर्जन तो उसे ही बनना चाहिए, जो उस विधा में शिक्षित और प्रशिक्षित हो।” बिल्कुल ठीक। सही फ़रमाया। इसी मिसाल से अन्दाज़ा लगाइए कि सोशल मीडिया पर कितने लोग अनाड़ी सर्जन, सर्ज़िकल उपकरणों के साथ घूम रहे हैं? ये जिसको-तिसको पकड़ लेते हैं और जहाँ-तहाँ उसकी सर्ज़री करने लगते हैं। ऐसी सर्जरी के मरीज़ ही हमें समाज में लूले-लंगड़े, अपाहिज, दिव्यांग और बौद्धिक रूप से क्षत-विक्षत नागरिकों के रूप में दिखायी देते हैं। यही सर्ज़न सोशल मीडिया पर बचकानी, हास्यास्पद, अनाड़ी, मूर्खतापूर्ण, घातक और विनाशकारी टिप्पणियाँ करते फिरते हैं ताकि भारतीय समाज में नाहक ज़हर फैलाया जा सके!

मन्द-बुद्धि जनमानस को इनकी अधकचरी पत्रकारिता में भारी गौरव, छद्म राष्ट्रवाद, छिछोरी राजनीति जैसी बातों का मज़ा मिलता है। हिन्दुत्ववादियों को उनकी राजनीतिक विचारधारा को अफ़वाहों के रूप में फैलाने वाला वहशी कॉडर मिल जाता है। तभी तो ये झाँसा सिर चढ़कर बोलने लगता है कि यक़ीन करो कि ‘अच्छे दिन’ आ चुके हैं! यक़ीन करो कि नोटबन्दी ने काला धन ख़त्म कर दिया! यक़ीन करो कि विकास सिर्फ़ भाषणों से हो सकता है! यक़ीन करो कि 70 साल तक देश को सिर्फ़ लूटा गया है! लूटने वालों में एक भी देशवासी शामिल नहीं था! यदि कोई था भी तो, उनमें कोई भगवा नेता, भक्त और समर्थक शामिल नहीं था! हरेक व्यक्ति जो मोदी समर्थक बनकर गौरवान्वित है वो अपना कर्त्तव्य पूर्ण निष्ठा, समर्पण, ईमानदारी और लगन से निभा रहा है!

कल तक जो अध्यापक फ़ोकट की तनख़्वाह लेते थे वो अब विद्यार्थियों का भविष्य सँवारने के लिए तपस्या कर रहे हैं! बीजेपी शासित राज्यों के पुलिस वालों की ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा से तो देवता भी ईष्या करने लगे हैं! उन्हीं राज्यों में डॉक्टरों ने अपने मरीज़ों का शोषण त्यागकर उन्हें अपने आराध्य माता-पिता जैसा सम्मान देना शुरू कर दिया है! बीजेपी शासित राज्यों में जनता ने यातायात के नियमों का आदर अपने धार्मिक ग्रन्थों की तरह करना शुरू कर दिया है! उन्हीं राज्यों की अदालतों में इन्साफ़ की नदियाँ बह रही हैं! वहाँ ग़ैरक़ानूनी व्यवहार तो अपवाद स्वरूप भी दिखायी नहीं देता!

बीजेपी के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का आचरण त्याग, बलिदान और ‘नर-सेवा, नारायण सेवा’ की शानदार मिसाल बन चुका है! हरेक हिन्दूवादी छात्र ने भीष्म प्रतीज्ञा ले ली है कि वो अपने विद्यालय और गुरुजनों का भरपूर आदर करेगा और परीक्षा की सुचिता को माँ-बहनों की इज़्ज़त से कम नहीं समझेगा! यदि वास्तव में ऐसा होने लगा है तो सोशल मीडिया पर हरेक ख़ास-ओ-आम को पत्रकार बनने का हक़ बिल्कुल होना चाहिए! उसकी श्रेष्ठता का अभिनन्दन अवश्य होना चाहिए। लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो ज़रा सोचिए कि वो कौन लोग हैं जो आपमें झूठी और ग़लत जानकारियाँ ठूँसकर आपको बौद्धिक रूप से दिवालिया बना रहे हैं? ऐसा करके वो किसका हित साध रहे हैं? कैसी राष्ट्रभक्ति दिखा रहे हैं?

सोशल मीडिया पर बज रहे ऐसे डमरूओं की आवाज़ें यदि आप सुन और समझ पा रहे हैं तो आपसे ज़्यादा नसीबवाला शायद ही कोई और हो! लेकिन बदक़िस्मती से ऐसा हो नहीं रहा। बल्कि हो ये रहा है कि सोशल मीडिया, ख़ासकर WhatsApp, के ज़रिये अपनी पहचान को ज़ाहिर किये बग़ैर उन लोगों तक विशुद्ध झूठ और अफ़वाह को फैलाया जा रहा है, जो इसे परखने और सच्चाई को जानने-समझने की क्षमता नहीं रखते। इसी तरह विकृत सर्जनों की सर्जरी वाले मरीज़ समाज में बेतहाशा फैलते जा रहे हैं। झूठ और अफ़वाह की बदौलत जो नेता, नीति और माहौल बन रहा है वो सैकड़ों प्रधानमंत्री, हज़ारों मुख्यमंत्री और तमाम सुप्रीम कोर्ट्स को पैदा किये बिना नहीं मानेगा!

सोशल मीडिया ने अभिव्यक्ति की आज़ादी को ‘अभिव्यक्ति की अराजकता’ में बदल दिया है। ये अराजकता आज जिसकी ताजपोशी करती है, कल उसी का तख़्ता पलट भी करेगी! इस अराजकता का जवाब भी अराजकता से ही मिलेगा। जिसकी अराजकता बेहतर होगी, वही सरताज बनेगा। इसीलिए बारूद या परमाणु या रासायनिक हथियारों से भी कहीं ज़्यादा विध्वंसक है सोशल मीडिया! ये मगरमच्छ की सवारी है! जो इसे सफ़लतापूर्वक कर लेगा, उसे भी यही मार डालेगा! ये साक्षात भस्मासुर है! इसकी अनियंत्रित और अघोषित फ़ौज हमेशा सोशल मीडिया पर सक्रिय रहती है। कहीं कुछ अच्छा या सकारात्मक दिखा तो फ़ौरन Likes, Retweet, Share, Trending जैसी बयार बहने लगती है। और, यदि कुछ नकारात्मक है तो तुरन्त यही ‘भाड़े के टट्टू’ राशन-पानी लेकर पिल पड़ते हैं। आपको ये फ़ासिस्ट तरीक़ा लगता है, तो लगा करे। किसे परवाह है!

सोशल मीडिया इतना व्यापक है कि ये किसी क़ानून से क़ाबू में नहीं आएगा। अभी तो इसके प्रकोप से इंसान को परमात्मा भी नहीं बचा सकते। मुमकिन है कि इंसान कभी न कभी इसका इलाज़ ज़रूर ढूँढ़ लेगा। लेकिन जब तक सोशल मीडिया को नियंत्रित करने की तकनीक विकसित नहीं होती, तब तक तो ये इंसानियत का सबसे बड़ा दुश्मन बना रहेगा। समाज को नैतिक मूल्यों से विहीन बनाता रहेगा। इंसान की सनकी प्रवृत्तियों को बढ़ाता रहेगा। अनुशासन और शर्म-ओ-हया लगातार क़िताबी ही बनी रहेगी।

इसीलिए, हमें इसकी ख़ौफ़नाक प्रवृत्तियों से ख़ुद ही बचना होगा। सोशल मीडिया के प्रकोप से रोकथाम के लिए हमें ‘जनरल हाईजीन’ के तौर-तरीकों को सीखना होगा। ये कमोबेश वैसे ही होगा, जैसे हम साबुन से हाथ धोकर साफ़-सफ़ाई रखते हैं और ख़ुद को बीमारियों से बचाते हैं। ‘जनरल हाईजीन’ का सबसे आसान तरीका है कि आप सोशल मीडिया की हर सामग्री को सच और प्रमाणिक मत मानिए। बल्कि जो बातें सनसनीख़ेज़ लगें उसकी सच्चाई को फ़ौरन और पहली नज़र में संदिग्ध तथा दुर्भावनापूर्ण ही मानिए। किसी बात तो तब तक फारवर्ड या शेयर या रिट्वीट मत कीजिए, जब तक कि आप उसकी सच्चाई के प्रति पूरी तरह से आश्वस्त न हो जाएँ। क्योंकि क़ानूनन ‘Forward as arrived…’ लिखने से भी आप IT Act के तहत गुनाहगार ठहराये जा सकते हैं! यदि रखिए कि जब बुरा वक़्त आता है तो ऊँट पर बैठे व्यक्ति को भी कुत्ता काट लेता है!

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

टेक

देश में डेटा एक्सचेंज बनाने की जरूरत : आईटी मंत्रालय

Published

on

it-
File Photo

अर्थव्यवस्था को समृद्ध करने में बिग डेटा और विश्लेषण की विशाल संभावना को पहचानते हुए इलेक्ट्रॉनिकी व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय देश में डेटा एक्सचेंजों की स्थापना पर और इसके नफे-नुकसान पर विचार कर रहा है।

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के संयुक्त सचिव गोपालकृष्णन एस. ने यहां उद्योग चेंबर फिक्की द्वारा आयोजित ‘बिग डाटा एंड एनालिटिक्स कॉन्क्लेव’ में कहा, “डेटा एक्सचेंज स्थापित करने की जरूरत है और आईटी मंत्रालय इस पर विचार कर रहा है।

गोपालकृष्णन ने कहा कि यूजर्स को अलग-अलग एप्स के साथ अपना डेटा साझा करने वक्त सावधानी बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि धोखाधड़ी का पता लगाने से लेकर सड़कों पर ट्रैफिक प्रबंधन, किसानों को फसलों के उत्पादन का अनुमान बताने से लेकर डॉक्टरों को बीमारी की सटीक पहचान करने में मदद करने ले लेकर बिग डेटा और एनालिटिक्स जीवन की कई समस्याओं को सुलझा सकता है।

उन्होंने कहा, यूजर्स स्मार्टफोन और अन्य डिवाइस का प्रयोग कर डेटा को अस्तित्व में लाते हैं। लेकिन, डेटा संचालित अर्थव्यवस्था में नागरिकों की निजता की रक्षा करने के लिए एक कानून बनाने की जरूरत है।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

‘डूडल 4 गूगल’ से पा सकते हैं 5 लाख की छात्रवृत्ति

Published

on

Google-Duo-
File Photo

गूगल ने ‘2018 डूडल 4 गूगल’ प्रतियोगिता की घोषणा की। इस प्रतियोगिता में पूरे भारत से रचनात्मक, कला प्रेमी विद्यार्थियों को सर्च इंजन के लिए लोगो बनाने के लिए उनकी कल्पनाशीलता के साथ आमंत्रित किया गया है।

इस साल डूडल का विषय है : ‘आप को क्या प्रेरित करता है।’ डूडल में शामिल अक्षरों (जी-ओ-ओ-एल-ई) को मोम, मिट्टी, वाटर कलर्स व ग्राफिक डिजाइन से बनाया जा सकता है।कंपनी ने एक बयान में कहा कि इसके विजेता को अपनी कलाकृति के माध्यम से अपनी प्रेरणा साझा करने के अवसर के साथ पांच लाख रुपये की कॉलेज छात्रवृत्ति मिलेगी।

जीतने वाले डूडल को गूगल के होमपेज पर बाल दिवस के अवसर पर प्रदर्शित किया जाएगा। इस प्रतियोगिता में कक्षा एक से दस तक के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं और रचना को जमा करने की अंतिम तिथि 6 अक्टूबर है।

अतिथि निर्णायकों की समिति के साथ गूगल में डूडल टीम के नेतृत्वकर्ता रेयान जर्मिक इस साल प्रविष्टियों की समीक्षा करेंगे। ‘डूडल 4 गूगल इंडिया’ का प्रथम संस्करण का आयोजन 2009 में हुआ था जिसका विषय ‘मेरा भारत’ था।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

सावधान : ब्लू व्हेल के बाद वायरल हुआ मोमो चैलेंज, ले सकता है जान

Published

on

Momo Challnge
फोटो-ट्विटर

पिछले साल इंटरनेट पर ब्लू व्हेल गेम ने कई बच्चों की जान लेकर इंटरनेट पर डर का माहौल बना दिया था। अब फेसबुक और वाट्सअप पर आए एक नए गेम ‘मोमो चैलेंज’ ने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है। अगर आप सोशल मीडिया के फेसबुक और वाट्सएप पर बहुत समय बिताते हैं तो सावधान हो जाएं। ब्लू व्हेल चैलेंज की तरह मोमो वॉट्सएप गेम  भी लोगों की जान पर खतरा बन मंडरा रहा है।

momo whatsapp Suicide game

ब्लू व्हेल चैलेंज की तर्ज पर बना इस चैलेंज ने लैटिन अमेरिकी देशों में लोगों की नींद उड़ा दी है। एक अंग्रेजी वेबसाइट के मुताबिक, वॉट्सऐप, फेसबुक और यूट्यूब पर Momo नाम से एक अकाउंट बनाया गया है, जिसमें एक डरावनी महिला जैसे आर्टवर्क की डिस्प्ले पिक्चर का इस्तेमाल किया गया है।

Blue Whale Challenge

ब्लूव्हेल की तरह ही मोमो चैलेंज भी खेलने वाले बच्चों को अनजान मोबाइल नंबर से कुछ टास्क करने के लिए कहता है। अगर प्लेयर्स किसी टास्क को करने से मना कर देते हैं, तो वह उनकी व्यक्तिगत जानकारी या सीक्रेट फोटो इंटरनेट पर वायरल करने की धमकी देता है। साथ ही वह कई आपत्तिजनक फोटो के सहारे उन्हें डराता है।

dangerous momo whatsapp Suicide game came

मोमो गेम का ये कॉटेक्ट नंबर जापान एरिया कोड का बताया जा रहा है। ये सबसे पहले फेसबुक पर देखा गया जिसके बाद कई लोगों ने दिए गए नंबर पर कॉल करने की कोशिश की। खबरों की मानें तो मोमो वॉट्सएप पर दिखने वाला डरावना चेहरा जापान के एक संग्रहालय में रखी मूर्ति से मिलता जुलता है।

momo whatsapp Suicide game came

इसके अलावा कई लोगों का कहना ये भी है कि मोमो एक कॉन्सिपरेसी थ्योरी है जिसका मकसद लोगों का डराना है। DFNDR लैब का कहना है कि इन नंबरों को ट्रैक करने की कोशिश की गई है लेकिन इसको शुरु करने वाला का पता नहीं लग सका है।

after blue whale momo whatsapp Suicide game is in

वहीं लैब के डायरेक्ट का कहना है कि सोशल मीडिया साइट्स पर ये कॉन्टेक्ट नंबर वायरल होने के बाद कई लोगों ने ठीक ऐसी ही प्रोफाइल बना ली है। लैब के सिक्यूरिटी एक्सपर्ट्स ने मोमो नंबर सेव करके बात करने की कोशिश की, लेकिन कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। अभी तक ये पता नहीं लगाया जा सका है कि ये कॉन्सेप्ट कहां और क्यों फैलाया जा रहा है।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
BJP
चुनाव5 mins ago

भाजपा ने एकसाथ चुनाव की रपट खारिज की

Ashok Gehlot
चुनाव17 mins ago

एकसाथ चुनाव के लिए लोकसभा भंग करें मोदी : कांग्रेस

Surjewala
राजनीति1 hour ago

रुपये का भाव गिरा, बयान दें प्रधानमंत्री : कांग्रेस

ram nath kovind
राष्ट्रीय3 hours ago

गांधीजी हमारे नैतिक पथ-प्रदर्शक : कोविंद

trade deficit widens
व्यापार3 hours ago

निर्यात 14 फीसदी बढ़ा, व्यापार घाटा बढ़कर 18 अरब डॉलर

Afghanistan Airbase
अंतरराष्ट्रीय5 hours ago

तालिबान का अफगान सैन्यअड्डे पर कब्जा, 17 सैनिक मारे गए

Kapil Sibal
राजनीति9 hours ago

रुपये ने रचा गिरने का नया इतिहास, काँग्रेस का मोदी सरकार पर तीख़ा हमला

rahul gandhi
राजनीति13 hours ago

18 अगस्त को प्रोफेसरों को संबोधित करेंगे राहुल

V.S. Naipaul
राष्ट्रीय13 hours ago

नायपॉल का काम हमेशा याद रखा जाएगा : साहित्य अकादमी

Congress-reuters
चुनाव13 hours ago

मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस को बहुमत: ओपिनियन पोल

TEMPLE-min
ज़रा हटके4 weeks ago

भारत के इन मंदिरों में मिलता है अनोखा प्रसाद

chili-
स्वास्थ्य3 weeks ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

School Compound
ओपिनियन3 weeks ago

स्कूली छात्रों में क्यों पनप रही हिंसक प्रवृत्ति?

pimple
लाइफस्टाइल3 weeks ago

मुँहासों को दूर करने के लिए अपनाएंं ये 6 टिप्स…

Mob Lynching
ब्लॉग3 weeks ago

जो लिंचिंग के पीछे हैं, वही उसे कैसे रोकेंगे!

Kapil Sibal
ब्लॉग3 weeks ago

लिंचिंग के ख़िलाफ़ राजनीतिक एकजुटता ज़रूरी

Gopaldas Neeraj
ज़रा हटके4 weeks ago

अब कौन कहेगा, ‘ऐ भाई! जरा देख के चलो’

Indresh Kumar
ओपिनियन3 weeks ago

संघ का अद्भुत शोध: बीफ़ का सेवन जारी रहने तक होती रहेगी लिंचिंग!

Bundelkhand Farmer
ब्लॉग3 weeks ago

शिवराज से ‘अनशनकारी किसान की मौत’ का जवाब मांगेगा बुंदेलखंड

No-trust motion Parliament
ब्लॉग4 weeks ago

बस, एक-एक बार ही जीते विश्वास और अविश्वास

sui-dhaga--
मनोरंजन1 day ago

वरुण धवन की फिल्म ‘सुई धागा’ का ट्रेलर रिलीज

pm modi
ब्लॉग4 days ago

70 साल में पहली बार किसी प्रधानमंत्री के शब्द संसद की कार्रवाई से हटाये गये

flower-min
शहर6 days ago

योगी सरकार कांवड़ियों पर मेहरबान, हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा

Loveratri-
मनोरंजन1 week ago

आयुष शर्मा की फिल्म ‘लवरात्र‍ि’ का ट्रेलर रिलीज

-fanney khan-
मनोरंजन2 weeks ago

मोहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर रिलीज हुआ ‘बदन पे सितारे’ का रीमेक

tej pratap-min
राजनीति2 weeks ago

तेज प्रताप का शिव अवतार…देखें वीडियो

nawal kishor yadav-min
राजनीति2 weeks ago

शर्मनाक: बीजेपी विधायक ने गवर्नर को मारने की दी धमकी

Dr Kafeel Khan
शहर3 weeks ago

आर्थिक तंगी से जूझ रहे गोरखपुर के त्रासदी के हीरो डॉक्टर कफील

sonakshi-
मनोरंजन3 weeks ago

डायना पेंटी की फिल्म ‘हैप्पी फिर भाग जाएगी’ का ट्रेलर रिलीज

Lag Ja Gale-
मनोरंजन3 weeks ago

‘साहेब, बीवी और गैंगस्टर 3’ का गाना रिलीज

Most Popular