Connect with us

शहर

बिहार की शाही लीची दुनियाभर में अब जीआई टैग के साथ बिकेगी

Published

on

Lychee-
File Photo

बिहार के मुजफ्फरपुर की प्रसिद्ध शाही लीची को नई पहचान मिल गई है। अब देश-दुनिया में शाही लीची की बिक्री जीआई टैग के साथ होगी। बौद्धिक सम्पदा कानून की तहत शाही लीची को जीआई टैग मिला है।

ढाई सालों की जांच-पड़ताल में संतुष्ट होने के बाद शाही लीची को भौगोलिक उपदर्शन रजिस्ट्री ने टैग दिया है। बिहार लीची उत्पादक संघ ने जून 2016 को जीआई रजिस्ट्री कार्यालय में शाही लीची के जीआई टैग के लिए आवेदन किया था। मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के निदेशक विशालनाथ ने गुरुवार को बताया कि जीआई टैग मिलने से शाही लीची की बिक्री में नकल या गड़बड़ी की आशंकाएं काफी कम हो जाएंगी।

जीआई टैग मिलने से खुश विशालनाथ ने कहा कि मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, वैशाली व पूर्वी चंपारण के किसान ही अब शाही लीची के उत्पादन का दावा कर सकेंगे। ग्राहक भी ठगे जाने से बच सकेंगे। बिहार लीची उत्पादक संघ के अध्यक्ष बच्चा प्रसाद सिंह ने बताया कि काफी परिश्रम के बाद बिहार की शाही लीची को जीआई टैग मिल गया है।

उन्होंने बताया कि जीआई टैग देने वाले निकाय ने शाही लीची का सौ साल का इतिहास मांगा था। उन्होंने बताया कि कई साक्ष्य प्रस्तुत करने पर पांच अक्टूबर को शाही लीची पर जीआई टैग लग गया। जियोग्राफिकल आइडेंटिफि केशन किसी उत्पाद को दिया जाने वाला एक विशेष टैग है।

जीआई टैग उसी उत्पाद को दिया जाता है, जो किसी विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्र में उत्पन्न होता है। लीची की प्रजातियों में ऐसे तो चायना, लौगिया, कसैलिया, कलकतिया सहित कई प्रजातियां है परंतु शाही लीची को श्रेष्ठ माना जाता है। यह काफी रसीली होती है। गोलाकार होने के साथ इसमें बीज छोटा होता है।

स्वाद में काफी मीठी होती है। इसमें खास सुगंध होता है।बिहार के मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, वैशाली व पूर्वी चंपारण शाही लीची के प्रमुख उत्पादक क्षेत्र हैं। देश में कुल लीची उत्पादन का आधा से अधिक लीची का उत्पादन बिहार में होता है। आंकड़ों के मुताबिक बिहार में 32,000 हेक्टेयर में लीची की खेती की जाती है।

WeForNews

शहर

दिल्ली में धुंध भरी रही सुबह, वायु गुणवत्ता ‘खराब’

Published

on

Air quality
फोटो--आईएएनएस

राष्ट्रीय राजधानी में धुंध छाई रही। यहां का न्यूनतम तापमान मौसम के औसत तापमान से तीन डिग्री ऊपर 16.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग ने कहा कि दिन में आसमान साफ रहेगा। वायु गुणवत्ता व मौसम पूर्वानुमान व अनुसंधान प्रणाली (सफर) के अनुसार, बीती रात हुई बूंदा-बादी से प्रदूषण स्तर में गिरावट आई है और वायु गुणवत्ता की श्रेणी ‘खराब’ दर्ज की गई।

भारत मौसम विभाग (आईएमडी) अधिकारी ने कहा, दिन में आसमान के साफ रहने की उम्मीद है। राजधानी में बीते 24 घंटे में 1.4 मीमी बारिश दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है।

राजधानी में गुरुवार की सुबह 8.30 बजे आद्र्रता 88 फीसदी रही। राष्ट्रीय राजधानी का बुधवार को अधिकतम तापमान 28.5 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान, मौसम के औसत से चार डिग्री ऊपर 17.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

मनाली में मौसम की पहली बर्फबारी, देखें तस्वीरे

Published

on

हिमाचल प्रदेश के मनाली और नारकंडा में बीती रात बर्फबारी हुई। दोनों जगहों पर यह मौसम की पहली बर्फबारी है।

मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि पर्यटन रिसॉर्ट मनाली में न्यूनतम तापमान शून्य से 1.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया है। इसके आसपास के पहाड़ी इलाकों में मध्यम बर्फबारी हुई।

उन्होंने कहा कि दर्शनीय स्थल कल्पा में सात सेमी बर्फबारी हुई। उन्होंने कहा, “लाहौल स्पीति के ऊंचाई वाले इलाकों, चंबा, कुल्लू व किन्नौर जिलों में गुरुवार सुबह से बर्फबारी हो रही है।”


लाहौल व स्पीति जिले का केलोंग सबसे ठंडा रहा यहां तापमान शून्य से 3.3 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा जबकि कल्पा में तापमान शून्य से 0.8 डिग्री नीचे धर्मशाला में 8.8 डिग्री व शिमला में 3.3 डिग्री सेल्सियस रहा।

बर्फबारी की खबर आने के बाद से पर्यटक मनाली व आसपास के पहाड़ी इलाकों में पहुंचना शुरू हो गए हैं। धर्मशाला व पालमपुर में भी बर्फबारी हुई है। अन्य पहाड़ी गंतव्यों शिमला, कुफरी, धर्मशाला, नाहन, चंबा व मंडी में बारिश हुई है।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

तमिलनाडु पहुंचा तूफान गाजा

Published

on

Tamil Nadu
PHOTO CREDIT ANI

चक्रवाती तूफान ‘गाजा’ तमिलनाडु के तटों तक पहुंच गया है। गाजा आज दोपहर कुड्डलूर और पबंन के बीच पहुंचने की संभावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक, हवा की रफ्तार लगभग 80 से 90 किलोमीटर प्रतिघंटा रहेगी।

तूफान ‘गाजा’ के पश्चिम की ओर बढ़ने की चेतावनी के बाद तमिलनाडु सरकार ने रामेश्वरम में गुरुवार को सभी स्कूल-कॉलेज बंद रखने का आदेश जारी किया है। पुड्डुचेरी में भी स्कूलों में छुट्टियां कर दी गई हैं।

भारतीय नौसेना को दक्षिण तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों की ओर बढ़ रहे गाजा चक्रवाती तूफान को देखते हुये बुधवार को हाई अलर्ट कर दिया गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

नौसेना अधिकारियों ने बताया कि पूर्वी नौसेना कमान (ईएनसी) ने आवश्यक मानवीय सहायता मुहैया कराने के लिए उच्च स्तरीय तैयारी की है। तूफान बृहस्पतिवार शाम में दोनों राज्यों के तटीय क्षेत्रों को पार कर सकता है।

नौसेना के एक अधिकारी ने बताया, ‘दो भारतीय नौसैनिक जहाज रणवीर और खंजर मानवीय सहायता और संकट राहत के लिए सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में आगे बढ़ने के लिए खड़े हैं।’ उन्होंने बताया कि इन जहाजों में अतिरिक्त गोताखोर, डॉक्टर, हवा वाली रबड़ की नाव, हेलीकॉप्टर और राहत सामग्री तैयार है।

एआईएडीएमके सरकार के मुताबिक, दूरसंचार कंपनियों ने आश्वासन दिया है कि उनके पास तूफान प्रभावित क्षेत्रों में सिर्फ पांच दिनों तक और उनके मुख्यालयों में 15 दिनों तक का ही तेल का भंडारण हैं।

मोबाइल टेलीफोन कंपनियों ने भी सरकार को आश्वासन दिया है कि वे अपने मोबाइल टेलीकॉम टावर्स को पहियों पर रखकर नागापट्टिनम से कड्डालूर ले जाएंगे।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular