Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

रूस ने ईरान परमाणु समझौते की समीक्षा का जोरदार विरोध किया

Published

on

Russia
फाइल फोटो

रूस के अधिकारियों ने कहा है कि ईरान के परमाणु समझौते की समीक्षा के बारे में अमेरिका के नवीनतम बयान को लेकर मॉस्को का दृष्टिकोण अस्वीकृति वाला है और वह इस समझौते को रद्द करने के किसी भी प्रयास को रोकने के लिए हर संभव उपाय करेगा।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने संवाददाताओं से कहा कि रूस, ईरान परमाणु समझौते में बदलाव के लिए अपने यूरोपीय सहयोगियों के साथ वार्ता के आयोजन की अमेरिकी घोषणा से चिंतित है।

उन्होंने कहा, “इन वार्ताओं से परमाणु समझौते और इस पूरे परिस्थिति के प्रति हमारे दृष्टिकोण पर कोई असर नहीं पड़ेगा। हम इसका गंभीरतापूर्वक विश्लेषण करेंगे और इन घटनाओं पर निर्णय लेना जारी रखेंगे।”

उन्होंने कहा कि 2015 में ईरान और रूस, फ्रांस, चीन, ब्रिटेन, अमेरिका और जर्मनी द्वारा हस्ताक्षित इस समझौते को संशोधित नहीं किया जा सकता है और मास्को ऐसे किसी भी प्रयास का विरोध करेगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि वह आखिरी बार ईरान के लिए परमाणु समझौते के तहत प्रतिबंधों में राहत देंगे। उन्होंने धमकी देते हुए कहा कि अगर अमेरिकी कांग्रेस और उसके यूरोपीय सहयोगियों ने समझौते की कथित ‘विनाशकारी खामियों’ को ठीक नहीं किया तो अमेरिका इस समझौते से बाहर हो जाएगा।

–आईएएनएस

अंतरराष्ट्रीय

ट्रंप ने सीमा पर परिजनों से बच्चों को अलग करने की नीति का समर्थन किया

Published

on

donald trump
File Photo

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मेक्सिको सीमा पर बच्चों को उनके माता-पिता से अलग करने की नीति का जोरदार तरीके से बचाव किया है और उन्होंने प्रवासियों की वजह से देश को नुकसान पहुंचने का आरोप लगाया।

सीएनएन के मुताबिक, ट्रंप ने मंगलवार को ट्वीट कर प्रवासी संकट के लिए डेमोक्रेट नेताओं को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने लिखा, “डेमोक्रेट ही समस्या हैं। उन्होंने कहा, “उन्हें अपराध की परवाह नहीं है और वे अवैध प्रवासियों को चाहते हैं, भले ही वे कितने बुरे हो जाएं और देशभर में फैलकर संकट उत्पन्न करें.. वे अपनी भयानक नीतियों पर जीत नहीं सकते हैं, इसलिए वे उन्हें संभावित मतदाताओं के रूप में देखते हैं।

ट्रंप ने बाद में मंगलवार को एक छोटे से व्यावसायिक कार्यक्रम में घोषणा की कि उनके पास सीमा पर बच्चों को अपने माता-पिता से अलग करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। राष्ट्रपति ने कहा, “हम एक महान देश चाहते हैं। लेकिन जब लोग आते हैं, तो उन्हें पता होना चाहिए कि वे अंदर नहीं आ सकते हैं, अन्यथा यह कभी नहीं रुकने वाला।”

उन्होंने यह भी घोषित किया कि अमेरिका को सुरक्षित होने की जरूरत है, चाहे वह राजनीतिक रूप से अच्छा हो या ना हो। ट्रंप सरकार की इस नीति की वजह से इस साल 2,000 बच्चों को उनके माता-पिता से अलग कर दिया गया।

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

नेपाल-चीन ने किए 2.24 अरब डॉलर के 8 समझौते

Published

on

kp oli-min

 नेपाल और चीन ने बुधवार को 2.4 अरब डॉलर के आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी शर्मा ओली के चीन दौरे के दूसरे दिन यह समझौते हुए।

ये समझौते दोनों सरकारों और निजी क्षेत्रों के बीच हुए, जहां चीनी निवेशक पनबिजली परियोजनाओं, जल संसाधनों, सीमेंट कारखानों और फलों की खेती और कृषि में निवेश करेंगे। यह समझौते यहां नेपाल के दूतावास में हुए।

ओली और चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग के बीच प्रतिनिधमंडल स्तर की वार्ता के बाद अतिरिक्त समझौता ज्ञापन (एमयू) पर हस्ताक्षर होंगे।

ओली का फरवरी में सत्तासीन होने के बाद चीन का उनका पहला आधिकारिक दौरा है।

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से बाहर हुआ अमेरिका

Published

on

nikki-min

अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से अपना नाम वापिस लिया है।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और संयुक्त राष्ट्र के लिए अमेरिका की दूत निकी हेली ने एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की घोषणा की है। हेली ने परिषद पर इजरायल के साथ राजनीतिक पक्षपात करने का आरोप भी लगाया है।

हेली ने कहा कि परिषद उन देशों का बचाव करती है जो मानवाधिकारों का उल्लंघन करते हैं। हेली ने वेनेजुएला, चीन, क्यूबा और ईरान का उदाहरण देते हुए कहा इस परिषद में कई ऐसे सदस्य मौजूद हैं जो मानवाधिकारों की इज्जत नहीं करते।

उन्होंने कहा कि परिषद दुनिया के उन्हीं देशों को बलि का बकरा बनाता है जिनका रिकॉर्ड मानवाधिकारों के मामले में बेहतर है। ऐसा परिषद इसलिए करता है ताकि अधिकारों को तोड़ने वाले देशों से दुनिया का ध्यान हटाया जा सके।

निकी हेली ने रूस, चीन, क्यूबा और मिस्त्र जैसे देशों पर आरोप लगाते हुए कहा अमेरिका ने परिषद में बहुत से सुधार करने की कोशिश की लेकिन ये देश इसमें अड़चनें लाते रहे और कोई सुधार नहीं होने दिया।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular