Connect with us

मनोरंजन

‘कागज की कश्ती’ 2 नवंबर को होगी रिलीज

Published

on

jagjit singh-
File Photo

दिग्गज गजल गायक व संगीतकार जगजीत सिंह के जीवन पर आधारित फिल्म ‘कागज की कश्ती’ 2 नवंबर को रिलीज होगी।

एक बयान के मुताबिक, ‘कागज की कश्ती’ विशेष रूप से पीवीआर सिनेमाघरों में पीवीआर लाइव के तहत रिलीज होगी। राजस्थान में जन्मे जगजीत सिंह पंजाबी सिख परिवार से थे। जगजीत सिंह ने गजलों के खजाने के साथ संगीत की दुनिया में अविश्वसनीय छाप छोड़ी जिनमें से कई उन्होंने पत्नी चित्रा सिंह के साथ गाईं थीं।

दोनों ने ‘अर्थ’, ‘साथ साथ’, ‘सजदा’ और ‘प्रेम गीत’ समेत कई बॉलीवुड फिल्मों के लिए संगीत भी दिया।अपने संगीत करियर के दौरान वर्ष 1961 से 2011 के बीच जगजीत सिंह ने लगभग 80 गजल अल्बम जारी की, जो आज भी लोकप्रिय हैं। उनका निधन 10 अक्टूबर, 2011 को हुआ था।

–आईएएनएस

मनोरंजन

‘टोटल धमाल’ की टीम ने पुलवामा में शहीदों के परिवार के लिए दिए 50 लाख

Published

on

Total Dhamaal-
File Photo

पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीद हुए 40 जवान के लिए पूरे देश के लोग शौक में है। सैनिकों के परिवारवालों की मदद और मदद करने के लिए पूरे देश के कोने-कोने से हाथ आगे बढ़ाया है।

इसी बीच बॉलीवुड के कई स्टार्स ने भी अपना योगदान दिया है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अजय देवगन, माधुरी दीक्षित व अनिल कपूर स्टारर ‘टोटल धमाल’ की पूरी टीम ने भी सैनिक परिवारों की मदद के लिए 50 लाख रुपये की मदद दी है।

ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने अपने ट्विटर पोस्ट पर इस बात की जानकारी देते हुए पोस्ट किया कि ‘टोटल धमाल’ की पूरी टीम क्रू मेंबर, कास्ट व मेकर्स ने शहीदों की फैमिली को 50 लाख रुपये की मदद करने का फैसला किया है।

बता दें कि शहीदों के परिवारों के लिए बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन, सलमान खान व फिल्म ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ की टीम ने भी सैनिक परिवारों की मदद करने का बीड़ा उठाया है । वहीं महानायक अमिताभ बच्चन ने शनिवार को शहीद हुए जवानों को 5-5 लाख रुपये की सहायता देने की बात की है ।

WeForNews

Continue Reading

मनोरंजन

पाक कलाकारों संग काम करने वालों पर प्रतिबंध लगाएगा FWICE : अशोक पंडित

Published

on

Ashoke Pandit-
File Photo


फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्प्लॉईज (एफडब्ल्यूआईसीई) के मुख्य सलाहकार अशोक पंडित ने कहा कि एफडब्ल्यूआईसीई ने जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले के बाद

पाकिस्तान के कलाकारों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का आवाह्न करने का निर्णय लिया है। पंडित ने कहा, “एफडब्ल्यूआईसीई पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम करने की जिद करने वाले फिल्म निर्माताओं पर प्रतिबंध लगाएगा। हम इसकी आधिकारिक घोषणा कर रहे हैं।

सीमापार से हमारे देश पर बार-बार हमले होने के बावजूद पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम करने की जिद करने वाली संगीत कंपनियों को शर्म आनी चाहिए। चूंकि उन्हें कोई शर्म नहीं है तो हमें उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर करना होगा।”

पाकिस्तान के आतंकवादियों द्वारा भारत पर हमला करने के बाद हर बार बॉलीवुड ने पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम नहीं करने की कसम खाई है। लेकिन फिल्म उद्योग के लोग अपने शब्दों पर बहुत ज्यादा समय तक नहीं टिक पाते।

14 फरवरी को हुए हमले के बाद पंडित जम्मू में थे। वहां का दृश्य देखकर वह व्यथित हो गए।उन्होंने कहा, “जम्मू एवं कश्मीर के बाहर से हम जितने नुकसान का अंदाजा लगा सकते हैं, नुकसान उससे कई गुना ज्यादा है।

इसकी भरपाई में सालों लगेंगे। एक व्यक्ति इतना ज्यादा आरडीएक्स लेकर जम्मू एवं कश्मीर में छिपकर कैसे आ सकता है? ऐसे समय में जब आतंकवादी हमले इतने ज्यादा हो गए हैं तब यह सोचना मुश्किल है कि हमारे मनोरंजन उद्योग में कुछ लोग कलाकारों के लिए पाकिस्तान की तरफ देख रहे हैं।

उन्होंने कहा, “किस तरह की असुरक्षा उन्हें इस स्वार्थ के लिए प्रेरित करेगी? जो भी हो, अब इसे रुकना होगा।”

एफडब्ल्यूआईसीई और फिल्म तथा टीवी उद्योग के उसके 24 संघों ने शहीदों और उनके परिजनों के सम्मान में रविवार को अपराह्न दो बजे से चार बजे तक यहां फिल्म सिटी दरवाजे से एकजुटता मार्ग निकाला।

–आईएएनएस

Continue Reading

मनोरंजन

‘बार्ड ऑफ ब्लड’ के आखिरी पड़ाव के लिए राजस्थान में इमरान

Published

on

emraan-hashmi--

अभिनेता इमरान हाशमी राजस्थान में अपने पहले डिजिटल शो ‘बार्ड ऑफ ब्लड’ का आखिरी शेड्यूल शूट करेंगे।

राजस्थान के लिए उड़ान भरने से पहले खींची एक तस्वीर को इंस्टाग्राम पर साझा करते हुए हाशमी ने लिखा, “राजस्थान जा रहा हूं। रविवार सुबह की उड़ान ऐसी है, जैसे वाई ओह वाई। ‘बार्ड ऑफ ब्लड’ के आखिरी शेड्यूल की तैयारी में।”

हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि राजस्थान में शूटिंग कहां होगी।

नेटफ्लिक्स का शो ‘बार्ड ऑफ ब्लड’ के लेखक बिलाल सिद्दीकी के ‘द बार्ड ऑफ ब्लड’ का रूपांतरण है।

भारतीय उपमहाद्वीप की पृष्ठभूमि पर यह बहुभाषी वेब सीरीज एक निष्कासित जासूस कबीर आनंद की कहानी के बारे में है, जिसे पंचगनी में शेक्सपियर प्रोफेसर के रूप में नया जीवन शुरू करने के बाद अपने देश और खोए प्यार को बचाने के लिए वापस बुलाया जाता है। 

वेब जगत में अपने सफर की शुरुआत करने पर हाशमी ने एक साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया, “यह अलग है। एक वेब शो के माध्यम से हम न केवल भारतीय दर्शकों के सामने, बल्कि 180 विभिन्न देशों के दर्शकों के सामने यह कंटेंट पेश कर रहे हैं। वेब शो केवल भारतीय संस्करण नहीं हो सकते..प्रस्तुति और कंटेंट के लिहाज से उचित संतुलन बनाया जाना चाहिए।”

शो ‘मजेदार’ रहेगा, क्या वह इसको लेकर आश्वस्त हैं? इमरान ने कहा, “मुझे भरोसा है कि हमारे दर्शक इसे पसंद करेंगे और मुझे आशा है कि अंतर्राष्ट्रीय दर्शक भी इसे पसंद करेंगे।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular