Connect with us

व्यापार

आरबीआई ने ब्याज दरें यथावत रखी

Published

on

urjit-patel-
आईएएनएस

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को वित्त वर्ष 2017-18 की अपनी पांचवी द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में बढ़ती महंगाई का हवाला देते हुए प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है।

केंद्रीय बैंक ने पुनर्खरीद दर या वाणिज्यिक बैंकों के लिए अल्पकालिक ऋण दर (रेपो रेट) छह फीसदी पर बनाए रखा है। इसी हिसाब से, रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी पर बरकरार रखा गया है। आरबीआई ने कहा कि “जीवन स्तर की लागत और महंगाई को निर्धारित करनेवाले दो प्रमुख कारक -खाद्य और ईंधन महंगाई- में नवंबर में वृद्धि दर्ज की गई है।”

आरबीआई ने चौथे द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य में कहा, “यही कारण है कि एमपीसी (मौद्रिक नीति समिति) ने रेपो रेट को वर्तमान दर पर ही रखने का फैसला किया है।”
बयान में कहा गया है, “एमपीसी का निर्णय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति में चार फीसदी की वृद्धि दर बनाए रखने के लिए मध्यम अवधि के लक्ष्य को हासिल करने के उद्देश्य के अनुरूप है।

यह निर्णय आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल के नेतृत्व में छह सदस्यीय एमपीसी में लिया गया। समिति के पांच सदस्यों ने प्रमुख ऋण दर को बनाए रखने के पक्ष में मतदान किया। अपनी पिछली मौद्रिक नीति समीक्षा में भी केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट छह फीसदी पर बरकरार रखा था।

–आईएएनएस

व्यापार

बनारसी साड़ी व कालीन उद्योग पर जीएसटी का कहर

केंद्र सरकार ने जीएसटी तो लागू कर दिया, लेकिन इसकी समुचित व्यवस्था नहीं की, जिस कारण निर्यातकों को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है।

Published

on

Banarasi saree

उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी और उसके आसपास के क्षेत्र में कारोबार का हाल बुरा है। आलम यह है कि केंद्र सरकार के माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण कालीन से लेकर बनारसी साड़ी और हस्तशिल्प से जुड़े कारोबार पूरी तरह डूबने के कगार पर हैं।

निर्यातकों का कहना है कि जीएसटी के पोर्टल में कई खामियों की वजह से उनके लगभग 300 करोड़ रुपये के क्लेम अटके पड़े हैं। इससे कारोबारियों को काफी पेरशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

पूर्वाचल के निर्यातकों की मानें तो लगभग 300 करोड़ रुपये से ज्यादा की वर्किं ग कैपिटल (पूंजी) जीएसटी के चक्कर में फंसी हुई है। कालीन नगरी भदोही में करीब चार हजार करोड़ रुपये का कालीन निर्यात होता है। बनारस की साड़ी और हस्तशिल्प का कारोबर करीब 300 करोड़ रुपये का है।

कारोबारियों के मुताबिक, जीएसटी के जुलाई में लागू होने से अब तक पांच महीनों में कालीन निर्यातकों का 12 फीसदी और अन्य उद्योगों से जुड़े लोगों ने पांच प्रतिशत की दर से जीसएटी का भुगतान किया है। सभी को उम्मीद थी कि जमा करने के दो-तीन महीने के बाद जीएसटी का रिफंड मिल जाने से कुछ आराम मिलेगा, लेकिन कारोबारियों को निराशा हाथ लगी है।

ऑल इंडिया कार्पेट मैन्युफैक्चरिंग एसोसिएशन के रवि पटौदिया की मानें तो सरकार के पोर्टल की गड़बड़ी के चलते जीएसटी रिफंड न हाने से भदोही के एक हजार निर्यातकों के ही करीब 200 करोड़ रुपये फंसे हुए हैं। यह राशि निर्यातकों का वर्किं ग कैपिटल होने से कच्चे माल की खरीद से लेकर कालीन की बुनाई और कारीगरों की मजदूरी पर इसका सीधा असर दिखाई देने लगा है।

बकौल पटौदिया, “अगर दो-तीन महीने में रिफंड न मिला तो निर्यातकों की कमर टूटना निश्चित है।”

इधर, पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स के संयोजक अशोक गुप्ता ने भी कहा कि केंद्र सरकार ने जीएसटी तो लागू कर दिया, लेकिन इसकी समुचित व्यवस्था नहीं की, जिस कारण निर्यातकों को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है।

निर्यातकों को हो रही परेशानियों को लेकर कालीन निर्यातक सुधीर अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया कि रिफंड फॉर्म पोर्टल पर न होने और शिपिंग बिल का जीएसटी पोर्टल से लिंक न होना भी बड़ी समस्या है। लिंक न होने से निर्यातकों के पास विदेशों में माल भेजने का प्रमाण ही नहीं है। इसके चलते निर्यातक रिफंड क्लेम नहीं कर पा रहे हैं।

IANS

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्स में 134 अंकों की तेजी

Published

on

sensex_
File Photo

देश के शेयर बाजारों में सोमवार को तेजी दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 138.71 अंकों की तेजी के साथ 33,601.68 पर और निफ्टी 55.50 अंकों की तेजी के साथ 10,388.75 पर बंद हुए।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 98.45 अंकों की गिरावट के साथ 33,364.52 पर खुला और 138.71 अंकों या 0.41 फीसदी की तेजी के साथ 33,601.68 पर बंद हुआ।

दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 33,801.90 के ऊपरी और 32,595.63 के निचले स्तर को छुआ। बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 129.68 अंकों की तेजी के साथ 17,104.40 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 82.03 अंकों की गिरावट के साथ 18,252.68 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 70.15 अंकों की गिरावट के साथ 10,263.10 पर खुला और 55.50 अंकों या 0.54 फीसदी की तेजी के साथ 10,388.75 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,443.55 के ऊपरी और 10,074.80 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 सेक्टरों में से 17 में तेजी रही, जिनमें धातु (1.83 फीसदी), वाहन (1.21 फीसदी), उपभोक्ता गैर-अनिवार्य वस्तु व सेवाएं (1.17 फीसदी), उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.94 फीसदी) और दूरसंचार (0.91 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही। बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में रियल्टी (0.29 फीसदी) और ऊर्जा (0.11 फीसदी) शामिल रहे।

 

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

लाल निशान में खुले शेयर बाजार

Published

on

SENSEX
File Photo

गुजरात और हिमाचल प्रदेश चुनावों की मतगणना के बीच सोमवार को देश के शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में गिरावट का रुख है।

प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 9.48 बजे 157.65 अंकों की गिरावट के साथ 33,305.32 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 39.75 अंकों की कमजोरी के साथ 10,293.50 पर कारोबार करते देखे गए।

बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 98.45 अंकों की गिरावट के साथ 33,364.52 पर, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 70.15 अंकों की कमजोरी के साथ 10,263.10 पर खुला।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Election Himachal
चुनाव1 hour ago

हिमाचल चुनाव : कई सीटों पर कांटे की टक्कर के बाद जीते नेता

satti dhumal
चुनाव2 hours ago

हिमाचल चुनाव : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व मुख्यमंत्री उम्मीदवार हारे

Himachal Pradesh Assembly Election
चुनाव2 hours ago

हिमाचल चुनाव : 2 निर्दलियों ने भाजपा उम्मीदवारों को हराया

Mamata Banerjee
राजनीति2 hours ago

गुजरात की जीत भाजपा की ‘नैतिक हार’ : ममता

Banarasi saree
व्यापार3 hours ago

बनारसी साड़ी व कालीन उद्योग पर जीएसटी का कहर

PM Modi
राजनीति3 hours ago

गुजरात चुनाव में जीत के बाद मोदी ने दिया नारा, ‘जीतेगा भाई जीतेगा विकास ही जीतेगा’

arun-yadav
चुनाव3 hours ago

जनादेश स्वीकार्य, मगर मोदी का तिलिस्म टूटा : कांग्रेस

gujrat election
राजनीति3 hours ago

मोदी के गृहनगर में बीजेपी को मिली हार

sanjay raut
राजनीति4 hours ago

गुजरात चुनाव में बीजेपी की जीत पर शिवसेना ने कसा तंज, कहा पार्टी की अपेक्षा के मुकाबले जीत नहीं

rahul-gandhi
राजनीति4 hours ago

कांग्रेस की सबसे बड़ी ताकत उसकी शालीनता और साहस है: राहुल गांधी

श्रीनगर
अंतरराष्ट्रीय2 weeks ago

श्रीनगर में अमेरिका के विरोध में प्रदर्शनों के मद्देनजर आंशिक प्रतिबंध

redlipstick
लाइफस्टाइल3 days ago

चाहिए स्‍मार्ट लुक तो ट्राई करें ये लिपशेड…

pr
लाइफस्टाइल3 days ago

इस अंडरग्राउंड शहर में उठाएं जिंदगी का लुत्फ

makeup
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में यूं करें मेकअप

लाइफस्टाइल4 weeks ago

पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

Kapil Sibal
ओपिनियन3 weeks ago

दमनकारी विचारधारा के ज़रिये आस्था के नाम पर भय फैलाना बेहद ख़तरनाक है

modi-narendra-gujarat
ब्लॉग3 weeks ago

गुजरात में दिख रहे संघियों के दोमुँही बातों का इतिहास भी बेहद शर्मनाक रहा है!

Narendra Modi
ब्लॉग2 weeks ago

ज़िम्मेदारी लेने के नाम पर भी देश को बेवकूफ़ ही बना रहे हैं नरेन्द्र मोदी…!

india vs srilanka1
खेल2 weeks ago

दिल्‍ली टेस्‍ट ड्रा, भारत ने जीती 1-0 से सीरीज

Narendra Modi
ओपिनियन2 weeks ago

साफ़ दिख रहा है कि गुजरात की बयार देख बदहवास हो गये हैं मोदी…!

मनोरंजन3 days ago

अक्षय की फिल्म पैडमैन का ट्रेलर रिलीज

jammu and kashmir snowfall
राष्ट्रीय7 days ago

बारिश और बर्फबारी के बाद जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग बंद

saif-ali-khan
मनोरंजन2 weeks ago

सैफ की फिल्म ‘कालाकांडी’ का ट्रेलर रिलीज

bharuch rally
चुनाव2 weeks ago

पीएम की रैली में खाली पड़ी रहीं कुर्सियां!

kirron kher
शहर3 weeks ago

चंडीगढ़ रेप केस पर सांसद किरण खेर का बेतुका बयान, देखें वीडियो

sibal3
राजनीति3 weeks ago

असली हिन्‍दू नहीं हैं पीएम मोदी, उन्‍होंने सिर्फ हिन्‍दुत्‍व को अपनाया: कपिल सिब्‍बल

West Bengal
शहर3 weeks ago

कोलकाता के कारखाने में आग, कोई हताहत नहीं

NASA Super sonic parachute
टेक4 weeks ago

देखें मंगल 2020 मिशन के लिए नासा का पहला सफल पैराशूट परीक्षण

fukry
मनोरंजन4 weeks ago

‘फुकरे रिटर्न्स’ का दूसरा गाना रिलीज

Jammu Kashmir
शहर1 month ago

जम्मू कश्मीर: पीर पंजाल में भारी बर्फबारी, कई रास्ते बाधित

Most Popular