Connect with us

राजनीति

प्रियंका के मेगा शो से पहले पोस्टरों और नारों से ढका लखनऊ शहर

Published

on

congress_office-min
लखनऊ कांग्रेस मुख्यालय

उत्तर प्रदेश की राजधानी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के रोड शो से पहले लखनऊ की सड़कें पोस्टरों से पट गयी हैं। लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का मास्टरस्ट्रोक कही जाने वाली प्रियंका गांधी वाड्रा का लखनऊ में रोड शो है। प्रियंका के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद रहेंगे।

कांग्रेस उत्तर प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने जा रही है। प्रियंका गांधी के लखनऊ दौरे से पहले पूरा शहर पोस्टरों और नारों से ढक गया है। उनके स्वागत में लगे पोस्टर में उन्हें ‘कांग्रेस की आंधी’ और ‘मां दुर्गा’ जैसे विश्लेषणों से संबोधित किया गया है। प्रियंका के स्वागत के लिए लखनऊ स्थित कांग्रेस मुख्यालय को विशेष तौर पर सजाया गया है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने बताया कि यह कांग्रेस के राजनीतिक इतिहास का स्वर्णिम दिन है। लखनऊ पहुंचने से पहले प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं के लिए एक संदेश जारी किया। इस संदेश में उन्होंने कहा कि आप और हम सभी मिलकर नए दौर की नई राजनीति का आगाज करेंगे।

WeForNews

राजनीति

महाराष्ट्र में किसानों का फिर से शुरू हुआ ‘लॉन्ग मार्च’

Published

on

Farmers
Photo: IANS)

महाराष्ट्र के विभिन्न स्थानों पर रात भर रुकने के बाद किसानों ने नासिक से मुंबई तक का अपना 200 किलोमीटर लंबा ‘किसान लॉन्ग मार्च -2’ फिर से शुरू कर दिया।

किसानों का कहना है कि वे राज्य व केंद्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार के किसानों के साथ किए गए ‘विश्वासघात’ का विरोध कर रहे हैं।

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की किसान शाखा अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) द्वारा आयोजित मार्च में महिलाओं सहित राज्य भर के किसान अपनी भागीदारी दिखी रहे हैं। आठ दिवसीय मार्च 27 फरवरी को मुंबई में विधानसभा के बजट सत्र के साथ समाप्त होगा।

20 फरवरी को साम्यवादी विचारक व लेखक गोविंद पनसारे की चौथी पुण्यतिथि थी और 27 फरवरी को क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद की शहादत का 88वां वर्ष है।

इस घटनाक्रम से सतर्क भाजपा -शिवसेना सरकार के जल संसाधन मंत्री गिरिश महाजन बुधवार दोपहर बाद किसानों को शांत कराने के लिए नासिक पहुंचे और उनसे मार्च समाप्त करने का आग्रह किया।

एआईकेएस प्रवक्ता पी.एस. प्रसाद ने कहा, “मंत्री और किसान नेता के बीच देर रात डेढ़ बजे तक एक मैराथन बैठक चली लेकिन सरकार की ओर से कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला। इसलिए, मार्च आज सुबह फिर से शुरू हो गया है।”

एआईकेएस अध्यक्ष अशोक धावले ने गुरुवार को संकल्प लिया कि मार्च तब तक जारी रहेगा, जब तक सरकार उन्हें उनकी मांगों पर लिखित आश्वासन नहीं देती और इस बार किसानों की संख्या पिछले साल के मुकाबले करीब 50 हजार ज्यादा है।

उन्होंने दावा किया कि राज्य सरकार मार्च में बाधा डाल रही है और शांतिपूर्ण जुलूस के खिलाफ पुलिस के माध्यम से दबाव बना रही है।

प्रसाद ने कहा कि कई कस्बों व जिलों में पुलिस ने बिना किसी कारण के मार्च कर रहे किसानों को रोका या उन्हें हिरासत में लिया। इसके अलावा एआईकेएस पदाधिकारियों के खिलाफ मामले भी दर्ज किए गए हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

साजिश के तहत कश्मीरियों को बनाया जा रहा निशाना: उमर अब्दुल्ला

Published

on

Omar Abdullah

पुलवामा हमले के बाद देश के कुछ हिस्सों में कश्मीरी छात्रों और लोगों के खिलाफ हो रही हिंसा पर नैशनल कान्फ्रेंस के लीडर उमर अब्दुल्ला ने कहा कि एक सोची समझी साजिश के तहत एक पूरे कौम को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

उन्होंने कहा कि कश्मीरियों को निशाना बनया जा रहा है, हमारे जो बच्चे बच्चियां बाहर के यूनिवर्सिटी में तालीम हासिल करने गए, उन्हें निशाना बनाया गया।

उमर अब्दुल्ला ने कहा कि यदि देश भर में ऐसा है तो क्या फिर किसी टूरिस्ट को कश्मीर नहीं आना चाहिए? अमरनाथ की यात्रा नहीं करनी चाहिए? उमर ने कश्मीरियों के खिलाफ प्रॉपेगेंडा को लेकर कहा कि हमें इस मसले को लेकर उम्मीद थी कि पीएम नरेंद्र मोदी ऐसे लोगों की निंदा करेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि जिस तरह से देश भर में कश्मीरियों के साथ घटनाएं हुईं और उन्हें बदनाम किया जा रहा है, उससे अलगाववाद बढ़ेगा। हालांकि इस दौरान वह पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद को पालने-पोसने पर कुछ नहीं बोले।

उमर ने कहा कि हम उम्मीद कर रहे थे कि इस चीज की मजम्मत होगी, लेकिन ऐसा किसी भी स्तर से नहीं हुआ, हमने जिस पीएम को लालकिले से सुना था कि कश्मीरियों को गले लगाकर पास लाना चाहिए, लेकिन पीएम ने यह नहीं कहा कि गवर्नर साहब ने जो कहा है, वह गलत कहा है। हो सकता है कि वह बिजी रहे हों, लेकिन कम से कम होम मिनिस्टर ही कुछ कहते। यह कहते कि जिन कॉलेजों ने कश्मीरियों को दाखिले से इनकार किया है, वह गलत है।

उमर अब्दुल्ला ने कहा कि एक गवर्नर ने हमारे इकनॉमिक बायकॉट की बात कही, जबकि एक गवर्नर ने कहा कि धारा 370 हटाई जानी चाहिए, इस तरह आप कुछ लोगों को मजबूर कर रहे हैं, छत्तीसगढ़ में जब कश्मीर से ज्यादा सीआरपीएफ के जवान मारे जाते हैं, तब किसी ने छत्तीसगढ़ के बायकॉट की बात नहीं की।

उमर ने कश्मीरी मुस्लिम समुदाय के उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कहा कि हमारा कसूर क्या है। क्या यह गलती है कि जम्मू-कश्मीर वह राज्य है, जहां मुसलमानों की आबादी अधिक है। क्या इसीलिए हम पर शक किया जाएगा। हमें बीजेपी से नहीं, लेकिन पीएम मोदी से उम्मीद थी। हमें लगा कि शायद सियासत को किनारे रखकर वह कुछ कहें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि देश की जो सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है, वह कुछ कहेगी, लेकिन वह भी शांत रहे, आज उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, आरडीएक्स से लेकर सब बातें की, लेकिन कश्मीरियों को लेकर कुछ नहीं कहा। कांग्रेस जिन ताकतों को हराने की बात करती है, उनके खिलाफ कांग्रेस ने कुछ नहीं कहा, कल इलेक्शन होंगे, कांग्रेस इन्हीं कश्मीरियों के वोट मांगेगी, लेकिन उन्होंने हमारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

उमर ने कहा कि मैं एक बार फिर पीएम से गुजारिश करना चाहता हूं कि चुनाव आते रहेंगे, लेकिन अगर आप इलेक्शन जीतने के लिए एक कौम को बर्बाद करना चाहते हैं तो यह बहुत गलत होगा। हमें आज एक स्टेट्समैन की जरूरत है, राजनेता नजर आ रहे हैं, लेकिन कोई स्टेट्समैन नहीं दिख रहा है।

उमर ने कहा कि हम कभी हिंसा और आतंकवाद के पक्ष में नहीं रहे। हैरानी की बात यह है कि जब हम बातचीत की बात करते हैं तो ऐंटी-नैशनल कहा जाता है। लेकिन सऊदी अरब के साथ जॉइंट स्टेटमेंट में बातचीत की बात कही जाती है। हम जब कहते हैं कि बंदूकों से निजात दिलाई जाए तो पाकिस्तानी और ऐंटी-नैशनल कहा जाता है।

उन्होंने कहा कि यह बार-बार कहा जा रहा है कि कश्मीर के लोगों पर भरोसा नहीं किया जाता। इसी के चलते हमारे न जाने कितने ही बच्चों का भविष्य खतरे में हैं। मैं गुजारिश करता हूं गवर्नर साहब से कि पढ़ाई छोड़कर घर लौटने वाले बच्चों का ख्याल रखा जाना चाहिए। गवर्नर साहब जिस जल्दी में सबकी सुरक्षा वापस ले रहे हैं, उसी कलम का इस्तेमाल कर यदि इन बच्चों के लिए व्यवस्था करें तो यह बेहतर होगा। पढ़ाई छोड़कर आने वालों ने यदि पत्थर उठाए तो इसके कसूरवार वे बच्चे नहीं होंगे बल्कि हुकूमत ही होगी।

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

हार्दिक ने की अखिलेश यादव से मुलाकात

Published

on

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की।

हार्दिक पटेल ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन बहुत मजबूत है और उत्तर प्रदेश में बीजेपी को हरा सकता है। दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से संवाददाताओं को संबोधित किया। 

हार्दिक ने कहा कि पुलवामा में जो जवान शहीद हुए, उनमें 13 उप्र से थे। उन्होंने अर्धसैनिक बल कर्मी को पूर्ण सैनिक का दर्जा देने की मांग की।

हार्दिक ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के रास्ते को 50 बार चेक किया जाता है, जवानों के रास्ते को अलर्ट के बाद भी क्यों नही चेक किया गया।’

उन्होंने कहा कि ‘गुजरात मॉडल ऐसा नहीं था जैसा प्रधानमंत्री ने दिखाया। आज भी गुजरात का किसान आत्महत्या कर रहा है। जो प्रधानमंत्री के खिलाफ बात करता है, वो विपक्ष या देशद्रोही हो जाता है।’

हार्दिक ने कहा कि ‘हम उन सभी लोगों के साथ हैं जो संविधान को बचाने की लड़ाई में शामिल हैं। देश मोदी सरकार से नहीं, संविधान से चलता है।’

उन्होंने कहा, “आज देश का युवा-किसान मुश्किलों से गुजर रहा है। प्रतापगढ़-मिजार्पुर गया था, योगी आदित्यनाथ को कोई योगी कहने को तैयार नही है। सब लोग अजय बिष्ट ही बोल रहे हैं। यहां कानून व्यवस्था खत्म हो चुकी है।”

हार्दिक पटेल ने कहा कि यूपी की राजनीति को समझ लेंगे तो देश की राजनीति समझ जाएंगे अभी तो बहुत कुछ सीखना है हमें। मोदी जी इससे पहले यूपी बिहार को कोसने का ही काम करते थे। आज तक उन्होंने कोई काम नहीं किया है। न दाऊद इब्राहिम देश लाया गया न 15 लाख रुपए मिले ना ही स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू हुई।

उन्होंने कहा कि ‘राष्ट्रभक्ति और देशद्रोह क्या है, ये समझाने की जरूरत नहीं है। संविधान पर काम करने वाला सच्चा देशभक्त है। अखिलेश जी पर भरोसा है ये समस्याओं का समाधान करके लोगों का काम करेंगे।’

वहीं, अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर हमला करते हुए कहा कि पुलवामा हमले के बाद जहां पूरा देश दुख में था, वहीं भाजपा के नेता उद्घाटन व शिलान्यास कर रहे थे।

उन्होंने कहा, “मैं टीवी बहुत कम देख रहा हूं। अगर देखने लगा तो सोचना ही बन्द हो जाएगा। चुनाव समय पर होंगे, जनता इंतजार कर रही है तारीख का। संविधान और देश का कानून सभी को बराबर से देखता है। भाजपा हर जगह राजनीति करती है।”

अखिलेश ने कहा कि चुनाव की तारीख आ जाए फिर पता चलेगा कौन कहां से चुनाव लड़ेगा। 

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
hafiz saeed pakistan
अंतरराष्ट्रीय10 hours ago

पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जेयूडी पर फिर से पाबंदी लगायी

raveena-tandon-min
मनोरंजन14 hours ago

रवीना टंडन शहीदों के बच्चों की शिक्षा के लिए मदद करेंगी

sensex-min
व्यापार14 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 142 अंक ऊपर

राष्ट्रीय14 hours ago

मोदी ने दक्षिण कोरियाई विश्वविद्यालय में गांधीजी की प्रतिमा का किया अनावरण

Archana Puran
मनोरंजन14 hours ago

सिद्धू की जगह लेने की संभावना है : अर्चना

शहर14 hours ago

दिल्ली में अक्षरधाम के पास फायरिंग

व्यापार15 hours ago

ईपीएफओ की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी

Farmers
राजनीति15 hours ago

महाराष्ट्र में किसानों का फिर से शुरू हुआ ‘लॉन्ग मार्च’

Samsung
टेक15 hours ago

Samsung ने पहला 5G स्मार्टफोन किया लॉन्च

Supreme_Court_of_India
राष्ट्रीय15 hours ago

पूर्व न्यायाधीश जैन बीसीसीआई के लोकपाल नियुक्त किया

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

vailtine day
लाइफस्टाइल1 week ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

chili-
स्वास्थ्य22 hours ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

face recognition india
टेक2 weeks ago

क्या चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम है भारत?

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

vijay mallya-min
ब्लॉग2 weeks ago

ईडी की जांच में हुआ खुलासा, माल्या ने कर्ज लेकर रकम देश से बाहर भेजी, लौटाने का इरादा नहीं था

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन4 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन4 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

Most Popular