Connect with us

लाइफस्टाइल

चेहरे पर मुंहासे और बाल से महिलाओं में तनाव का खतरा

Published

on

महिलाओं के चेहरे पर मुंहासे और बाल वर्तमान में एक आम समस्या बन गए हैं इससे उनमें समाज में शर्म की स्थिति झेलने के साथ-साथ भावनात्मक तनाव और अवसाद की चपेट में आने का खतरा रहता है।

इस समस्या को पॉलीसिस्टिक ओवरियन सिन्ड्रोम (पीसीओएस) कहा जाता है, जिसका जल्दी ही उचित उपचार मिलने से भावनात्मक तनाव कम हो सकता है। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिन्ड्रोम वास्तव में एक मेटाबोलिक, हार्मोनल और साइकोसोशल बीमारी है, जिसका प्रबंधन किया जा सकता है, लेकिन ध्यान नहीं दिये जाने से रोगी के जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। एक अध्यनन के मुताबिक, भारत में पांच में से एक वयस्क महिला और पांच में से दो किशोरी पीसीओएस से पीड़ित है। मुंहासे और हिरसुटिज्म पीसीओएस के सबसे बुरे लक्षण हैं।

पीसीओएस का प्रमुख लक्षण है हाइपरएंड्रोजेनिज्म, जिसका मतलब है महिला शरीर में एंड्रोजन्स (पुरुष सेक्स हॉर्मोन, जैसे टेस्टोस्टेरोन) की उच्च मात्रा। इस स्थिति में महिला के चेहरे पर बाल आ जाते हैं।

दिल्ली में ऑब्स्टेट्रिक्स एवं गायनेकोलॉजी की निदेशक व दिल्ली गायनेकोलॉजिस्ट फोरम (दक्षिण) की अध्यक्ष डॉ. मीनाक्षी आहूजा ने कहा, “त्वचा की स्थितियों, जैसे मुंहासे और चेहरे पर बाल को आम तौर पर कॉस्मेटिक समस्या समझा जाता है। महिलाओं को पता होना चाहिए कि यह पीसीओएस के लक्षण है और हॉर्मोनल असंतुलन तथा इंसुलिन प्रतिरोधकता जैसे कारणों के उपचार हेतु चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए।”

मुंहासे और हिरसुटिज्म के उपचार के बारे में डॉ. मीनाक्षी आहूजा ने कहा, “पीसीओएस एक चुनौतीपूर्ण सिन्ड्रोम है, लेकिन जोखिमों का प्रबंधन करने के पर्याप्त अवसर हैं। पीसीओएस के बारे में बेहतर जागरूकता की आवश्यकता है, ताकि महिलाएं लक्षणों को पहचानें और सही समय पर सही मेडिकल सहायता लें।” 

उन्होंने कहा, “स्वस्थ जीवनशैली, पोषक आहार, पर्याप्त व्यायाम और उपयुक्त उपचार अपनाने से पीसीओएस के लक्षण नियंत्रित हो सकते हैं। पीसीओएस के कारण होने वाला हॉर्मोनल असंतुलन उपचार योग्य होता है, ताकि मुंहासे और हिरसुटिज्म को रोका जा सके। गायनेकोलॉजिस्ट से उपयुक्त मेडिकल मार्गदर्शन प्रभावी उपचार के लिए महत्वपूर्ण है।” 

देश में पांच से आठ प्रतिशत महिलाएं हिरसुटिज्म से पीड़ित हैं। हार्मोन के असंतुलन के कारण मुंहासे भी होते हैं और यह पीसीओएस का लक्षण है। यह दोनों लक्षण महिला की शारीरिक दिखावट को प्रभावित करते हैं और इनका उपचार न होने से महिला का आत्मविश्वास टूट जाता है और उनका अपने प्रति आदर कम होता है। मुंहासे से पीड़ित 18 प्रतिशत रोगियों में गंभीर डिप्रेशन और 44 प्रतिशत में एन्ग्जाइटी देखी गई है।

डॉ. आहूजा ने कहा, “पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं की भलाई सुनिश्चित करने के लिए समाज और परिवारों को साइकोलॉजिकल तनाव को समझने और साथ ही पूरे आत्मविश्वास के साथ दुनिया का सामना करने के लिए उन्हें सहयोग देने के लिए प्रयास करने की जरूरत है।”

उन्होंने कहा, “अधिकांश महिलाओं को इन स्थितियों का बोध नहीं है और वे चिकित्सकीय मार्गदर्शन के बिना सामयिक उपचार लेती हैं, जिससे त्वचा खराब हो सकती है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि अगर आप लक्षणों का उपचार नहीं करेंगे, तो मुंहासे और चेहरे पर बाल दोबारा आ जाएंगे।” 

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

इस शरबत को पीने से एसिडिटी से मिलेगा छुटकारा…

Published

on

pudina-
फाइल फोटो

आजकल ज्यादातर लोग गैस की समस्या से जूझ रहे हैं। क्योंकि लोग ताला भुना खाना खाते है जिसे उन्हें एसिडिटी की समस्या हो जाती हैं। लेकिन ये मत सोचिए की आप इस समस्या से छुटकारा नही पा सकतें।

कुछ आसान से उपाय से आप इस बड़ी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। आज आपको एक ऐसा सरबत के बारे में बताएंगे जिसे आपकी ये परेशनी जल्द से जल्द खत्म हो जाएगी।

इस शरबत को बनाने के लिए कुछ ख़ास चीजो की जरुरत पड़ेंगी। और ये चीज़े आपके घर में ही मौजूद रहती है। आप इन चीजों का इस्तेमाल कर अपनी सेहत से जुडी समस्यों को ठीक कर सकते हैं। आइए जानते है इसकी सामग्री और विधि।

जरुरी सामग्री
पुदीना. थोड़ी सी पत्तियां
काला नमक= आधा चमच
नींबू. आधा
पानी . एक गिलास

विधि

इस शरबत को बनाने के लिए सबसे पहले पुदीने को पीसकर उसका पेस्ट बनाये। उसके बाद एक गिलास में पुदीने के पेस्ट के साथ नामक और नींबू का रस मिलाए। शर्बत आपके पिने के लिए तैयार है। इस घरेलू नुस्खे के साथ अपनी गैस और बदहजमी की समस्या को दूर कर सकते है।

ये बीमारी ज्यादातर लोगो को रहती है और ये आपकी सेहत के लिए हानिकारक भी हैं। आप अपने घर में मौजूद इन घरेलू सामान से इस शरबत को बनाकर मरीज को पिलाए या खुद इस समस्या के शिकार है तो खुद भी पिए।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

भारतीयों को व्यस्त रख रहा है एक्स्ट्रा मैरिटल डेटिंग प्लेटफॉर्म

Published

on

extra-marital-AFFAIR-CHEAT-min
प्रतीकात्मक तस्वीर

अब टिंडर या बंबल जैसे डेटिंग एप से आगे बढ़ने का समय आ गया है क्योंकि फ्रांस का ‘ग्लीडेन’ नाम के एक ऑनलाइन डेटिंग कम्युनिटी प्लेटफॉर्म भारत में बहुत लोकप्रिय हो रहा है।

यह शादीशुदा लोगों के लिए विवाहेत्तर संबंधों पर आधारित दुनिया की पहली डेटिंग वेबसाइट है। शुरुआत में महिलाओं- विशेषकर जो पहले से रिलेशनशिप में हैं- के लिए आया यह प्लेटफॉर्म फ्रांस में 2009 में लांच हुआ था और भारत में यह 2017 में आया।

आज दुनियाभर में इसके 49 लाख रजिस्टर्ड यूजर्स हैं जिनमें ज्यादातर यूजर्स यूरोपीय संघ से हैं। भारत में लांच होने के बाद दो साल से कम समय में ही इसके तीन लाख सब्सक्राइबर हो गए हैं।

ग्लीडेन डॉट कॉम महिलाओं का एक दल चला रहा है और महिला यूजर्स के लिए पूरी तरह निशुल्क है। प्लेटफॉर्म ने कहा, “हालांकि महिलाओं ने पुरुषों के लिए इसकी कीमत तय की है और उन्हें इस प्लेटफॉर्म पर आने के लिए 750 रुपये से 9,500 रुपये देने होंगे।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्लेटफॉर्म पर आने वालों का आयु वर्ग 34 से 49 वर्ष तक का है। भारत में अधिवक्ता, डॉक्टर्स और वरिष्ठ कार्यकारी जैसे विभिन्न पेशेवर लोग इस प्लेटफॉर्म से जुड़ गए हैं।18 वर्ष से शादीशुदा 38 वर्षीय सेनोरीटा ने ग्लीडेन डॉट कॉम पर लिखा, “मैं कई सुंदर पुरुषों से मिल चुकी हूं जिन्होंने मेरे साथ अच्छा व्यवहार किया है।

मैं उनमें से एक के साथ लगभग एक साल के लिए रिलेशनशिप में रही। हमने कई अच्छे पल साथ में बिताए। ‘इंटीमेसी’ महत्वपूर्ण है, लेकिन हमारे बीच यह सबसे महत्वपूर्ण नहीं थी।”

15 वर्षो से शादीशुदा 44 वर्षीय एक पुरुष का कहना है कि उसने दो साल पहले ग्लीडेन को सब्सक्राइब किया था। प्लेटफॉर्म का कहना है कि यह आपकी पहचान छिपाने की पूरी गारंटी देता है।

इस प्लेटफॉर्म पर आने के लिए बच्चों की संख्या, वैवाहिक स्थिति, व्यवसाय, आय, अपना फिगर, बालों का रंग और लंबाई, आंखों का रंग और आदतें सहित कई अन्य जानकारियां देनी पड़ती हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

मोमोज खाने से आपकी सेहत को होते है ये नुकसान

Published

on

Momo

मोमोज का नाम सुनते ही कई सारे लोगो के मुंह में पानी आ जाता है। हर किसी को मोमोज खाना पसंद होता है। मार्किट में कई तरह के मोमोज मिलते है जैसे-वेज, नॉन वेज मोमोज, फ्राइड,तंदूरी, आदि।

अगर आप भी मोमोज खाने के शौकीन है तो आपको ये बात जानना ज़रूरी है कि इसे खाने से सेहत को क्या नुकसान होता है। आप अपनी भूख मिटाने के लिए बाहर सड़क में लगी ठेली से मोमोज खा तो लेते है मगर आपको ये नहीं मालूम होगा की उसके खाने के बाद इसका आपकी सेहत पर क्या असर पढ़ता है।

बता दें कही जीभ का स्वाद आपकी जान के लिए बड़ा खतरा न बन जाए। मोमोज खाने में चटपटे और स्वादिष्ट तो ज़रूर होते है लेकिन ये आपकी सेहत के लिए उतने ही हानिकारक होते है।

momo

आइए जानते है की मोमोज खाने से क्या नुकसान होते है।

बहुत कम लोगो को पता होगा की इससे हमारे शरीर की हड्डियाँ कमजोर होती है। दरअसल मैदे में कम मात्रा में प्रोटीन होता है और इसे भाप देते समय यह भी निकल जाता है जिससे हड्डियों में कमजोरी आ जाती है। इसीलिए इसका सेवन तत्काल प्रभाव से छोड़ दे।

मोमोज मैदे से बनता है और मैदे में बहुत अधिक ग्लाईसेमिक इंडेक्स पाया जाता है जो की शरीर में सुगर की मात्रा को दबा देता है। इसीलिए अगर आप सुगर जैसे बयानक बीमारी से बचना चाहते है तो मोमोज खाना बंद कर दें।

बता दें मोमोज को सॉफ्ट बनने वाले मैदे में बिलीचिंग का इस्तेमाल करते है। जिससे बॉडी खरब होने के साथ हमरा इन्सुलिन लेवल खरब हो जाता है। मैदे में फाइबर नही होता इसे सफ़ेद और चमकदार बनाने के लिए बेंजोयल पराक्साइड से बिलिच किया जाता है।

जो आपके शरीर को बेहद नुकसान देता है। आपको नही पता होगा मैदा खाने से आपको डायजेशन की समस्या हो जाती है।

बता दें मोमोज में बहुत अधिक मात्रा में ग्लूकोज भी पाया जाता है जिसके स्टोर होने से हमारे ह्रदय को खतरा होता है और ह्रदय संबंधित बीमारियाँ होने लगती है। अगर ह्रदय की कोई बीमारी आपको एक बार पकड़ लेती है तो यह हमेशा के लिए रहती है इसीलिए आपको मोमोज के सेवन से बचना चाहिए।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
hafiz saeed pakistan
अंतरराष्ट्रीय10 hours ago

पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जेयूडी पर फिर से पाबंदी लगायी

raveena-tandon-min
मनोरंजन14 hours ago

रवीना टंडन शहीदों के बच्चों की शिक्षा के लिए मदद करेंगी

sensex-min
व्यापार14 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 142 अंक ऊपर

राष्ट्रीय14 hours ago

मोदी ने दक्षिण कोरियाई विश्वविद्यालय में गांधीजी की प्रतिमा का किया अनावरण

Archana Puran
मनोरंजन14 hours ago

सिद्धू की जगह लेने की संभावना है : अर्चना

शहर14 hours ago

दिल्ली में अक्षरधाम के पास फायरिंग

व्यापार15 hours ago

ईपीएफओ की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी

Farmers
राजनीति15 hours ago

महाराष्ट्र में किसानों का फिर से शुरू हुआ ‘लॉन्ग मार्च’

Samsung
टेक15 hours ago

Samsung ने पहला 5G स्मार्टफोन किया लॉन्च

Supreme_Court_of_India
राष्ट्रीय15 hours ago

पूर्व न्यायाधीश जैन बीसीसीआई के लोकपाल नियुक्त किया

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

vailtine day
लाइफस्टाइल1 week ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

chili-
स्वास्थ्य22 hours ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

face recognition india
टेक2 weeks ago

क्या चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम है भारत?

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

vijay mallya-min
ब्लॉग2 weeks ago

ईडी की जांच में हुआ खुलासा, माल्या ने कर्ज लेकर रकम देश से बाहर भेजी, लौटाने का इरादा नहीं था

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन4 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन4 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

Most Popular