Connect with us

व्यापार

एड्रेस प्रूफ के लिए पासपोर्ट नहीं कर सकेंगे इस्तेमाल, आएगा नया फॉर्मेट

Published

on

Passport
फाइल फोटो

जल्द ही आप एड्रेस प्रूफ के तौर पर अपने पासपोर्ट से काम नहीं चला सकेंगे। विदेश मंत्रालय की घोषण के मुताबिक, अब पासपोर्ट का आखिरी पन्ना प्रिंट नहीं किया जाएगा। भारतीय पासपोर्ट के आखिरी पन्‍ने पर नाम, पिता या कानूनी अभिभावक का नाम, माता का नाम, पत्‍नी का नाम और पता छपा होता है।

य‍ह निर्णय विदेश मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से गठित तीन सदस्‍यीय समिति की रिपोर्ट के बाद लिया गया है। समिति ने उन बातों की समीक्षा की जिनमें कहा गया था कि क्‍या पासपोर्ट में से पिता का नाम हटाया जा सकता है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा कि समिति की रिपोर्ट को स्‍वीकार कर लिया गया है। नए वर्जन में पासपोर्ट का आखिरी पन्‍ना खाली रखा जाएगा। हालांकि सारी जानकारी अब भी विदेश मंत्रालय के सिस्‍टम में जमा रहेगी इसलिए इससे सरकारी स्‍तर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

प्रवक्‍ता ने कहा कि अब जबकि पासपोर्ट का आखिरी पन्‍ना अब प्रिंट नहीं होगा, इसीआर (इमिग्रेशन चेक रिक्‍वायर्ड) स्‍टेटस वाले पासपोर्ट धारकों के लिए नारंगी रंग के पासपोर्ट जैकेट वाले पासपोर्ट जारी किए जाएंगे और नॉन इसीआर स्‍टेटस वालों के लिए नियमित नीले पासपोर्ट ही जारी होंगे। बता दें कि इन बदलावों के साथ जारी होने वाले पासपोर्ट के बावजूद पुराने पासपोर्ट वैध रहेंगे।

WeForNews

व्यापार

शेयर बाजार : मानसून, घरेलू व विदेशी संकेतों से तय होगी चाल

Published

on

sensex
File Photo

भारतीय शेयर बाजार में अगले सप्ताह तेजी का रुझान देखने को मिल सकता है, लेकिन जून में समाप्त होने वाले फ्यूचर्स और ऑप्शंस (एफएंडओ) सौदों, मानसून की प्रगति, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी व मंदी और वैश्विक बाजार से मिलने वाले संकेतों से बाजार की दिशा तय होगी।

अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक मसलों को लेकर रही तनातनी के चलते पिछले हफ्ते कमजोर वैश्विक संकेतों से घरेलू शेयर बाजार में नकारात्मक रुझान बना रहा लेकिन कारोबारी सप्ताह के आखिर में बैंक, वित्तीय क्षेत्र और फार्मा कंपनियों की तेजी के दम पर संवेदी सूचकांक में उछाल आया।

इस सप्ताह भी वैश्विक व्यापार को लेकर तनाव की स्थिति बनी रह सकती है। मगर ओपेक और उसके सहयोगी देशों द्वारा कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाकर 10 लाख बैरल रोजाना करने के फैसले के बाद तेल के दाम में गिरावट आ सकती है।

पिछले सप्ताह मानसून की चाल कमजोर पड़ गई थी मगर इस हफ्ते मानसून में प्रगति की संभावना है जिससे बाजार को सकारात्मक रुझान मिल सकता है। इसके साथ-साथ जून महीने में समाप्त होने वाले फ्यूचर्स और ऑप्शंस सौदों का भी बाजार पर असर होगा।

वहीं, विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली और घरेलू निवेशकों की लिवाली भी बाजार को प्रभावित करेगी। शेयर सूचकांकों में उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी रह सकता है। मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, इस महीने 21 जून तक देशभर में बारिश औसत से सात फीसदी कम रही है।

मगर मौसम विभाग ने 24 जून से मानसून में प्रगति की संभावना जताई है। इस सप्ताह जापान में कंज्यूमर कांफिडेंस इंडेक्स की रिपोर्ट आने वाली है। इसके अलावा अमेरिका में मई महीने के लिए ड्यूरेबल गुड्स की मांग के आंकड़े भी जारी होंगे। साथ ही 28 जून को पहली तिमाही की जीडीपी विकास दर की भी घोषणा होने वाली है।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

सोनी इंडिया मार्केटिंग पर 500 करोड़ खर्च करेगी: सुनील नैयर

Published

on

Sony India

नई दिल्ली, 23 जून | सोनी इंडिया चालू वित्त विर्ष में प्रीमियम उत्पाद पर अपना फोकस जारी रखेगी और वर्ष 2018-19 में मार्केटिंग रणनीति पर 500 करोड़ रुपये खर्च करेगी। सोनी आने वाले समय में 65, 75 और 85 इंच की टीवी जल्द ही पेश करेगी। इसके साथ ही कंपनी स्पीकर वाली टीवी भी जल्द पेश करने की तैयारी कर रही है।

सोनी इंडिया के प्रबंध निदेशक सुनील नैयर ने आईएएनएस से कहा, “टीवी के क्षेत्र में सोनी अव्वल है। भारत में लोगों का रुझान तेजी से बड़ी स्क्रीन में बढ़ रहा है। ग्रामीण इलाकों में भी बड़ी स्क्रीन की मांग बढ़ी है। भारत युवाओं का देश है और लोग अब बड़े स्क्रीन पर खेल, सिनेमा और अपने पसंदीदा कार्यक्रमों को देखने को तरजीह दे रहे हैं। इसी के मद्देनजर हम 65 इंच, 75 इंच और 85 इंच के टेलीविजन ला रहे हैं।”

Image result for sony india marketing sunil nayyar

Sunil Nayyar, Managing Director, Sony Indiaनिवेश के मुद्दे पर नैयर ने यहां चुनिंदा संवाददाताओं से कहा, “हम मार्केटिंग रणनीति पर अगले एक साल में 500 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बना रहे हैं। जिससे सोनी के आधुनिक उत्पाद का संदेश लोगों तक बेहतर तरीके से पहुंच सके।”

नैयर 20 वर्षो से भी अधिक समय से सोनी से जुड़े हैं और कई देशों में अपनी सेवा दे चुके हैं। सोनी के प्रीमियम उत्पाद पर फोकस की बात पर उन्होंने कहा, “सोनी अपने प्रीमियम उत्पादों पर फोकस जारी रखेगी। भारत में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो क्वालिटी के उत्पाद को पसंद करते हैं। सोनी क्वालिटी से कभी समझौता नहीं करती। ऐसे में हमें पूरा भरोसा है कि लोगों को आने वाले समय में सोनी के आधुनिक उत्पाद पसंद आएंगे।”

अप्रैल में सोनी इंडिया के प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभालने वाले नैयर ने आईएएनएस से कहा, “टीवी, ऑडियो व कैमरा खंड में अनेक नए उत्पाद लाने की योजना है और इसमें आधुनिकता का समावेश होगा यानी ये उत्पाद आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से लैस होंगे। अब स्मार्ट टीवी का दौर है, टीवी आपसे बातें करेगा कि आपको कौन सी फिल्म पसंद है या आपको कौन सा कार्यक्रम देखना है। कंपनी इन उत्पादों में इंटरनेट आफ थिंग्स (आईओटी) सहित आधुनिकतम प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल करेगी। एंड्रॉयड से लैस टीवी ने बाजार में अपनी जगह बनानी शुरू कर दी है।”

मेक इन इंडिया पहल पर नैयर ने कहा, “कंपनी अपना स्मार्टफोन आर-1 प्लस व आर-1 भारत में ही बना रही है। सोनी इंडिया अपने उत्पादों को मेक इन इंडिया के तहत निर्माण पर जोर दे रही है समय के साथ इसे और बढ़ाएगी। कंपनी का फिलहाल अपनी फैक्टरी लगाने की योजना नहीं है।”

टीवी के क्षेत्र में सोनी अव्वल है। हमारा फोकस सिर्फ प्रीमियम वर्ग पर है। भारत में लोगों का रुझान तेजी से बड़ी स्क्रीन में बढ़ रहा है। यहाँ तक की ग्रामीण इलाकों में भी बड़ी स्क्रीन की माँग बढी है। एंड्रॉयड से लैस टीवी ने बाजार में अपनी जगह बनानी शुरू कर दी है।

नैयर ने कहा, “कैमरों के बाजार में सोनी अव्वल है और अब हमारी कंपनी का मुख्य फोकस फुल फ्रेम पर होगा। यह उद्योग 10 से 11 फीसदी की दर से बढ़ रहा है, लेकिन उन्नत प्रौद्योगिकियों से लैस अपने उत्पादों के दम पर हमारा लक्ष्य 30 से 35 फीसदी से दर से बढ़ने का है। हमने इस श्रेणी में हाल ही में अल्फा 7 मार्क्‍स 3 और अल्फा 7आर मार्क्‍स लांच किया है।”

उन्होंने कहा, “हेडफोन, वायरलेस स्पीकर्स और ऑडियो सिस्टम में भी सोनी की अपनी पहचान है। साउंड बार में कंपनी की बाजार हिस्सेदारी 70 से 80 फीसदी है। वायरलेस हेडफोन एसपी700एन का नॉयज कैंसिलेशन फीचर सबको पसंद है। इस श्रेणी में जल्द ही नये उत्पाद लांच किए जाएंगे।”

सोनी इंडिया जापान की प्रमुख सोनी कॉरपोरेशन की पूर्ण स्वामित्व वाली भारतीय अनुषंगी कंपनी है।

— आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

ओपेक बैठक के बाद तेल की कीमतें बढ़ी

Published

on

Petrol
फाइल फोटो

पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) की बैठक के बाद तेल की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, न्यूयॉर्क मर्के टाइल एक्सचेंज पर शुक्रवार को तेल की कीमतें 3.04 डॉलर बढ़कर 68.58 डॉलर प्रति बैरल रही जबकि लंदन आईसीई फ्यूचर्स एक्सचेंज पर ब्रेंट क्रूड की कीमत 2.50 डॉलर बढ़कर 75.55 डॉलर प्रति बैरल रही।

ओपेक ने तेल का उत्पादन बढ़ाने के लिए शुक्रवार को एक समझौता किया।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular