Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

पाकिस्‍तान : दुष्कर्म के बाद बच्ची की हत्या, फिल्‍मी सितारों ने की कड़ी निंदा

Published

on

mahira khan
File Photo

पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा खान और अभिनेता अली जफर ने आठ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या की कड़ी निंदा की है। फिल्मी सितारों ने कहा कि यौन उत्पीड़न के बारे में खुलकर बोलने की जरूरत है।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के कसूर शहर में मासूम का शव कचरे से बरामद किया गया था। उसका कई बार यौन उत्पीड़न किया गया था। महिरा ने गुरुवार सुबह ट्वीट कर कहा, हमें यौन उत्पीड़न के बारे में खुलकर बोलने की जरूरत है। हमें इसे अपने स्कूली पाठ्यक्रमों में शामिल करने की जरूरत है। जागरूकता ही समाधान है।

यौन उत्पीड़न और दुष्कर्म को शर्म के साथ जोड़ दिए जाने की वजह से कई मामले अनसुने रह जाते हैं। इस शर्म को रोकें। कसूर में बुधवार को नाबालिग का शव बरामद होने के बाद हिंसा भड़क गई। लोगों ने पुलिस पर बच्ची को बचाने के लिए कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया।

‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची को आखिरी बार चार जनवरी को अपने घर के समीप रोडकोट इलाके स्थित ट्यूशन की क्साल लेते वक्त देखा गया था, जिसके बाद से वह लापता हो गई थी। मृतका के लिए इंसाफ की मांग करते हुए माहिरा ने कहा, जब भी हमें इस तरह के जघन्य अपराधों का गवाह बनना पड़ता है, हम एक राष्ट्र के रूप में हर बार विफल हुए हैं। हम तब और विफल साबित होंगे जब इस घटना के बूचड़ों को फांसी के तख्ते तक नहीं ला सकेंगे।

और, हम तब और असफल होंगे जब हम घटना के खिलाफ सड़क पर उतरने के बजाए अपने घरों में बैठे रहेंगे। माहिरा ने जघन्य घटना के खिलाफ आयोजन के लिए लोगों से कराची प्रेस क्लब पहुंचने का आह्वान किया।

अली जफर ने कहा कि इस जघन्य अपराध के बारे में सुनकर गहरी निराशा उभरी हैं और वह नाबालिग लड़की के लिए इंसाफ चाहते हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “अपनी जिंदगी में इतना आशाहीन और गुस्सा कभी नहीं हुआ। उसके परिजन उमरा (सऊदी अरब के मक्का में धार्मिक कृत्य) करने गए हुए थे, तब यह हुआ।

उनके दिमागी हालत की कल्पना कीजिए। न्याय मिलना चाहिए। मासूम की नृशंस हत्या ने लोगों के बीच गुस्सा भड़का दिया है। शहर में पिछले साल से दो किलोमीटर के दायरे में इस तरह की 12 घटनाएं हो चुकी हैं। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, इस्लामाबाद से 400 किलोमीटर दूर कसूर 2015 में तब अंतर्राष्ट्रीय सुर्खियों में आया था, जब बच्चों के साथ यौन अपराध में शामिल समूह को दबोचा गया था।

यह समूह कथित रूप से बच्चों को अगवा कर उनका यौन शोषण करता था और इस समूह ने इलाके के कम से कम 280 बच्चों को अपना शिकार बनाया था। यह समूह 2009 से पीड़ितों के परिवार वालों को ब्लैकमेल किया कर रहा था और बच्चों के यौन शोषण के वीडियो और तस्वीरों को बेचा करता था।

पाकिस्तान के चर्चित बैंड जुनून के गिटारिस्ट और गीतकार सलमान अहमद ने कहा, “इन शैतानी ताकतों के बढ़ते प्रभाव के लिए पाकिस्तान में कोई कानून या न्याय नहीं रह गया है? देश के अन्य हिस्सों के साथ-साथ कसूर में पैर पसार रहे यौन व्यापार में मिलीभगत पर या फिर आंखे मूंदना पुलिस और पंजाब सरकार के लिए शर्मनाक है।

–आईएएनएस

अंतरराष्ट्रीय

गुटेरेस का नरसंहार रोकने संबंधी समझौते की सार्वभौमिकता का आह्वान

Published

on

Antonio Guterres
फाइल फोटो

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने नरसंहार की रोकथाम और इसके दोषियों को दंडित किए जाने के समझौते की सार्वभौमिकता का आह्वान किया।

गुटेरेस ने इस सम्मेलन की 70वीं वर्षगांठ के मौके पर कहा कि होलोकास्ट और द्वितीय विश्वयुद्द के बाद दुनिया एकजुट हुई और नरसंहार की रोकथाम और इसके दोषियों को दंडित किए जाने को लेकर एक समझौते को स्वीकार किया था।

उन्होंने कहा, “70 साल बाद नरसंहार को रोकना अभी भी हमारे समय का महत्वपूर्ण काम बना हुआ है। इसलिए मैं हर देश से नरसंहार समझौते को समर्थन देने की अपील करता हूं। मैं बाकी बचे 45 देशों से भी बिना देरी किए ऐसा करने का आग्रह करता हूं।” उन्होंने सभी देशों से मानव पीड़ा को कम करने और जवाबदेही बढ़ाने के लिए इस समझौते के शब्दों पर अमल करने का भी आह्वान किया।

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ट्रंप 750 अरब डॉलर के रक्षा बजट पर सहमत

Published

on

donald trump
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रक्षा मंत्री जेम्स मैट्टिस के आगामी वर्ष 750 अरब डॉलर के रक्षा बजट के प्रस्ताव को मंजूरी देने के आग्रह को स्वीकार कर लिया है। एक अधिकारी ने रविवार को सीएनएन को बताया कि पिछले सप्ताह ट्रंप ने ट्वीट कर रक्षा विभाग के 716 अरब डॉलर के बजट को पागलपन बताया था। इसके अगले दिन मैट्टिस और रिपब्लिकन सीनेटर्स ने सैन्य फंडिग को लेकर राष्ट्रपति से लंच पर मुलाकात की।

गौरतलब है कि 750 अरब डॉलर बजट के प्रस्ताव पर सहमति चार दिसंबर को हुई इसी बैठक के बाद बनी, जिसमें ट्रंप, मैट्टिस और हाउस और सीनेट आर्म्ड सर्विसेज कमिटी के चैयरमैन ने हिस्सा लिया था।

अधिकारी ने कहा, “राष्ट्रपति राष्ट्रीय रक्षा रणनीति का पूर्ण समर्थन करते हैं और सेना के सतत पुनर्निर्माण के हिमायती हैं। ट्रंप 750 अरब डॉलर के रक्षा बजट पर रजामंद हो गए हैं।”

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

खशोगी के आखिरी शब्द थे, ‘मैं सांस नहीं ले पा रहा’

Published

on

फाइल फोटो

सीएनएन की एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्यिक दूतावास में वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या से पहले उनके आखिरी शब्द थे, “मैं सांस नहीं ले पा रहा।”

दूतावास में खशोगी की हत्या से पहले रिकॉर्ड ऑडियो रिकॉर्डिग को सुनने वाले एक सूत्र ने रविवार को सीएनएन को बताया कि दो अक्टूबर को हुई हत्या कोई दुर्घटना नहीं बल्कि एक सोची समझी साजिश थी। यह ऑडियो रिकॉर्डिग दो अक्टूबर को खशोगी के सऊदी वाणिज्यिक दूतावास में घुसने के साथ ही शुरू होती है।

खशोगी को लगा कि वह अपनी मंगेतर से शादी करने के लिए कुछ जरूरी दस्तावेज लेने दूतावास गए हैं लेकिन उन्हें जल्द ही पता चला कि कुछ तो गलत है क्योंकि उन्होंने वहां मिलने वाले एक शख्स को पहचान लिया था।

सीएनएन के सूत्र के मुताबिक, इस ऑडियो में मेहर अब्दुल्लाजीज मुतरेब की आवाज को पहचान लिया गया है, जो सऊदी अरब के पूर्व राजनयिक और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के खुफिया अधिकारी हैं।

मुतरेब ने खशोगी से बातचीत की।

उस शख्स (मुतरेब) ने कहा, “आप वापस आ रहे हैं।”

इस पर खशोगी ने जवाब दिया, “आप ऐसा नहीं कर सकते। लोग बाहर इंतजार कर रहे हैं।”

सूत्र के मुताबिक, ऑडियो सुनकर ऐसा लगा कि आगे बिना किसी बातचीत के कई लोग उन पर टूट पड़े।

इसके बाद कुछ आवाजें सुनाई दी और जल्द ही खशोगी सांस लेने के लिए तड़पने लगे।

खशोगी कहते हैं, “मैं सांस नहीं ले पा रहा। मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं।”

इसके बाद ऑडियो में खशोगी के शव को किसी तेजधार हथियार से काटाने की आवाजें सुनाई पड़ीं। इस बीच कथित साजिशकर्ताओं को इन आवाजों को दबाने के लिए संगीत सुनने की सलाह दी गई।

हालांकि, खशोगी की मौत के सटीक समय का पता नहीं चल पाया है।

सूत्र के मुताबिक, ऑडियो में सुनाई दे रहा है कि मुतरेब तीन बार किसी को फोन करते हैं।

तुर्की अधिकारियों के मुताबिक, ये कॉल सऊदी अरब में किसी उच्च अधिकारी को किए गए।

इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए सऊदी अरब के एक अधिकारी ने सीएनएन को बताया, “सऊदी अरब के संबद्ध सुरक्षा अधिकारियों ने इस ऑडियो की समीक्षा की है और इसमें कहीं भी यह उल्लेख नहीं है कि कॉल की गई।”

अगर तुर्की प्रशासन के पास अतिरिक्त सूचना है, जिससे हम वाकिफ नहीं हैं तो हम चाहेंगे कि आप हमें आधिकारिक रूप से उसे सौंपे, हम इसकी समीक्षा करेंगे।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular