Connect with us

शहर

ओला-उबर की हड़ताल, दिल्ली-एनसीआर को छोड़कर इन शहरों में दिखा असर

Published

on

Ola_Uber
फाइल फोटो

ऐप द्वारा टैक्सी सेवा देने वाली कंपनियां ओला और उबर के ड्राइवर्स की देर रात से हड़ताल शुरू हो गई है। हालांकि दिल्ली-एनसीआर को छोड़कर देश के बाकी शहरों में इसका असर देखने को मिल रहा है। दिल्ली-एनसीआर में केवल कंपनी की कैब चल रही हैं, जिससे स्थिति कुछ हद तक नियंत्रण में है।

इन शहरों में पड़ा असर

इस हड़ताल का असर इन शहरों पर पड़ा है उनमें कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद सहित अन्य शहर शामिल हैं। इन शहरों में ज्यादातर लोग ऑफिस आने-जाने के लिए इन कंपनियों की कैब का प्रयोग करते हैं।

ओला और उबर चालकों के हड़ताल पर रहने से इन दोनों कंपनियों की सभी सेवाओं पर असर पड़ने की संभावना है। इसके चलते आम लोगों को ऑफिस, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और अन्य जरूरी कामों के लिए आना-जाना मुश्किल हो रहा है। कैब चालकों ने अपने कैब बुकिंग करने वाले डिवाइस को देर रात से बंद कर दी।

ड्राइवर्स का कहना है कि उनकी आमदनी में लगातार कमी हो रही है। इन कंपनियों की ड्राइवर्स यूनियन की प्रमुख मांग है कि पहले की तरह उनको कम से कम 1.25 लाख रुपये का व्यापार मिले। दूसरा, कंपनी अपने द्वारा चलाई जा रहीं कैब को बंद करें।

तीसरा, उन ड्राइवर्स को दुबारा से रखा जाए जिनको कस्टमर्स ने कम रेटिंग दी है। चौथा, गाड़ी की कॉस्ट के मुताबिक, किराये का निर्धारण किया जाए और पांचवा, कम किराये पर बुकिंग को बंद किया जाए।

बता दें कि ओला जहां देश के 110 शहरों में अपनी सर्विस देती है, वहीं उबर 25 शहरों में मौजूद है। ओला से रोजाना करीब 20 लाख लोग सफर करते हैं। 10 लाख लोग उबर की टैक्सी से अपना रोजाना का सफर पूरा करते हैं।

WeForNews

शहर

मध्य प्रदेश में ‘एक्सीडेंट रिस्पॉन्स सिस्टम’ लागू

Published

on

madhyapradesh-wefornews
File Photo

मध्य प्रदेश में महामारी और बड़ी दुर्घटना में लोगों की जान बचाने के उद्देश्य से ‘एक्सीडेंट रिस्पांस सिस्टम’ लागू किया गया है।

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा शुरू इस प्रणाली के तहत आपातकालीन 108 सेवा को अधिक प्रभावी और बेहतर बनाया जाएगा। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रुस्तम सिंह ने बुधवार को यहां बताया कि इस प्रणाली में प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षक को 108 कॉल सेंटर से जोड़ा जाएगा।

इसके जरिए उन्हें एसएमएस द्वारा स्थानीय एवं जिला-स्तर पर महामारी और बड़ी दुर्घटना होते ही सूचित किया जाएगा ताकि समय पर सूचना मिलने से स्थानीय स्तर पर आवश्यक उपचार की व्यवस्था और समय पर उपचार मिलने से जीवन क्षति को रोकने में मदद मिल सके।

सिंह ने बताया कि 108 कॉल सेंटर में प्राप्त होने वाले कॉल्स के आधार पर 60 प्रकार की दुर्घटनाओं का वर्गीकरण किया गया है। इसके आधार पर दुर्घटना की गंभीरता और आवश्यक समयसीमा को ध्यान में रखते हुए स्थानीय प्रशासन के समन्वय से महामारी और बड़ी दुर्घटना से निपटने के त्वरित प्रयास किए जाएंगे।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

दिल्ली हाई कोर्ट का निर्देश, कन्हैया के खिलाफ जेएनयू दो दिनों तक नहीं करे कार्रवाई

Published

on

kanhaiya-kumar
File Photo

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को निर्देश दिया कि वह छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ शुक्रवार (20 जुलाई) तक कोई सख्त कदम न उठाए। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष पर 2016 की घटना के संबंध में विश्वविद्यालय के एक पैनल द्वारा जुर्माना लगाया गया था, जिसमें उन पर एक समारोह में भारत विरोधी नारे लगाने का आरोप था।

न्यायमूर्ति रेखा पल्ली ने यह आदेश कन्हैया की याचिका पर सुनाया है, जिसमें उन्होंने जुर्माने के विश्वविद्यालय के आदेश को चुनौती दी थी। न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल की पीठ छुट्टी पर है, इसलिए न्यायमूर्ति रेखा पल्ली ने शुक्रवार तक इस मामले की सुनवाई स्थगित कर दी है।

एक उच्चस्तरीय जांच में छात्र-कार्यकर्ता उमर खालिद, कन्हैया कुमार और अनिर्बान भट्टाचार्य फरवरी 2016 में एक मामले में दोषी पाए गए थे, जिसमें छात्रों के एक समूह ने कथित रूप से देश विरोधी नारे लगाए थे।

 WeForNews

Continue Reading

शहर

केरल में भारी बारिश से अबतक 13 की मौत

Published

on

photo credit (ANI)

इस समय देश के कई शहरों में भारी बारिश ने काफी तबाही मचाई है लेकिन बीते दो दिनों से केरल में बारिश ने काफी उत्पात मचाया है। बारिश के कारण केरल में जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है।

बारिश की वजह से अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है और 3500 से ज्यादा लोग बेघर हो गए हैं। मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी है। मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले 24 घंटे अभी भी राज्य पर भारी है।

बारिश से प्रभावित इलाके हैं एर्नाकुलम, कोझिकोड, अलापुझा, कन्नूर और कोट्टायम हैं, जहां जगह-जगह पानी भर गया है और लोगों को अपनी दैनिक जरुरतें पूरी करने में भी खासी दिक्कत हो रही है। बारिश के कारण बिगड़े हालात को देखते हुए प्रशासन ने आज 12वीं तक के सभी सरकारी-निजी स्कूलों और कॉलेज को बंद करने का आदेश दिया है।

दूसरी तरफ, कोट्टायम-इट्टूमानूर सेक्शन पर चलने वाली 10 ट्रेनों को पूरी तरह कैंसिल कर दिया गया है। वहीं एर्नाकुलम-पुनालूर सेक्शन पर चलने वाली 2 ट्रेनों को आंशिक रूप से कैंसिल किया गया है।  राहत कार्यों के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 45 सदस्यीय एक टीम तैनात की गई है।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular