Connect with us

ज़रा हटके

मुंगेर के निसार हैं ‘लावारिस शवों के मसीहा’

Published

on

मुंगेर, 5 अगस्त | आज एक ओर जहां कई क्षेत्रों में धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबर देखने और सुनने को मिलती है, मगर बिहार के मुंगेर में एक ऐसे व्यक्ति भी हैं जो जिंदा व्यक्तियों की बात तो छोड़ दीजिए, शवों में भी धर्म और मजहब का अंतर नहीं देखते।

मुंगेर शहर के निमतल्ला मुहल्ले के रहने वाले निसार अहमद बासी एक ऐसे जिंदादिल इंसान हैं जो अपने और अपने परिवारों के गुजर-बसर के लिए घर के पास ही पकौड़े की दुकान चलाते हैं, मगर वे लावारिश शवों की इज्जत के साथ अंत्येष्टि करने में कोई कोताही नहीं बरतते। 82 वर्षीय बासी अब तक 2092 शवों का अंतिम संस्कार कर चुके हैं।

निसार अहमद बासी, Nisar Ahmad Basi,

निसार ने आईएएनएस को बताया कि लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने की प्रेरणा उन्हें अपने पिता मोहम्मद हाफिज अब्दुल माजिद से मिली। उन्होंने बताया कि प्रारंभ में वे ऐसे ही लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कर दिया करते थे, परंतु वर्ष 1958 में अंजुमन मोफीदुल इस्लाम संस्था की स्थापना कर यह काम उसी के माध्यम से करने लगा। इसका संस्था का उद्घाटन उस समय के विधानसभा अध्यक्ष गुलाम सरवर ने किया था।

निसार कहते हैं कि वे शवों को उनके मजहब और रीति-रिवाज के साथ ही अंतिम संस्कार करने की कोशिश करते हैं। उनका कहना है कि मुस्लिम के शवों को दफनाते हैं जबकि पहचान में आने वाले हिंदुओं के शवों को श्मसान में ले जाकर अंतिम संस्कार करते हैं। सबसे गौरतलब बात है कि वे शवों के अंतिम संस्कार के पूर्व उसकी तस्वीर लेना नहीं भूलते।

निसार आज औरंगजेब द्वारा बनवाई गई जामा मस्जिद के एक कोने में बैठकखाना बना रखा है, जहां किसी और की नहीं, बल्कि इन लावारिस शवों की ही तस्वीरें लगी हैं।

शवों के अंतिम संस्कार में आने वाले खर्च के विषय में पूछे जाने पर बेबाक निसार आईएएनएस को बताते हैं, “एक शव के अंतिम संस्कार में दो से तीन हजार रुपये खर्च पड़ते हैं। इस राशि का इंतजाम कुछ चंदा और आसपास के लोगों द्वारा पूरी कर ली जाती है परंतु नहीं पूरे होने की स्थिति में खुद को मिलने वाली वृद्धावस्था पेंशन की राशि से करते हैं।”

पढ़ने और लिखने के प्रति दिलचस्पी रखने वाले निसार उर्दू अखबारों में अक्सर लिखते भी रहते हैं। इसी दिलचस्पी के कारण लोगों के सहयोग से वर्ष 1972 में पूरबसराय में नेशनल उर्दू गर्ल्स कलेज की स्थापना की।

वे याद करते हुए कहते हैं कि उस समय इस काम में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गुलाम सरवर, पूर्व मंत्री रामदेव सिंह यादव एवं उपेंद्र प्रसाद वर्मा जैसे कई लोगों ने इस कार्य में मदद भी किया था।

किसी की मौत पर आंसू बहाने और उसकी अंतरात्मा की शांति के लिए प्रार्थना करने वाले निसार कहते हैं, “हमारे इंतकाल के बाद मेरे बच्चे इस काम को करेंगे या नहीं यह तो अल्लाह जाने, मगर उन बच्चों को इस बात का दुख जरूर होगा कि उनके पिता ने उनके लिए सिर्फ इन शवों की ही तस्वीरें छोड गए हैं।”

‘लावारिस शवों के मसीहा’ के नाम से प्रसिद्ध निसार कहते हैं कि उन्हें इस काम से सुकून मिलता है। वे कहते हैं कि जीवन के अंतिम सांस तक लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करते रहेंगे। निसार गर्व से कहते हैं कि स्थानीय थाना में लावारिस शवों को यहां भेज देते हैं, जिससे उन शवों का ठीक ढंग से अंतिम संस्कार किया जा सके।

दुकान में उननकी मदद कर रहे उनके पुत्र नौशाद अहमद को भी अपने अब्बा के कामों पर गर्व है। नौशाद फा से कहते हैं, “अल्लाह मुझ में भी ऐसी शक्ति दे कि मैं भी इस काम को आगे बढ़ा सकूं।”

–आईएएनएस

ज़रा हटके

ये हैं दुनिया की सबसे डरावनी जगह…

Published

on

canada

छुट्टियां मनाने के लिए खूबसूरत जगहों पर जाना तो एक आम बात है, लेकिन अगर आप कुछ अलग या हटकर करने की सोच रहे हैं और ऐसी जगहों पर घूमने जाना चाहते हैं जो रहस्यों से भरी हुई हो तो हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी कुछ जगह जहां जाके आप खौफ खा जाएंगे।

द बांफ स्प्रिंग होटल (कनाडा)

कनाडा के बांफ स्प्रिंग होटल को भूतिया किस्सों और रहस्यमय घटनाओं का एक बड़ा घर माना जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि, इस होटल के 873 कमरे में एक पुरे परिवार की हत्या की गई थी। कुछ लोग तो ये भी कहते हैं की आज भी वहां एक आदमी लोगों के कमरे की घंटी बजाता है और फिर गायब हो जाता है। ये भूतिया होटल देखने में काफी खूबसूरत है।

भानगढ़ फोर्ट (भारत)

भानगढ़ राजस्थान के अलवर जिले में है, बड़ी तादाद में लोग यहां घूमने आते हैं, लेकिन रात होने से पहले ही वापस चले जाते हैं। आस पास के लोग कहते हैं कि रात के वक्त यहां पर पायल की आवाजें सुनाई देती हैं और घुंघरुओं की गूंज भी।

Image result for कनाडा के बांफ स्प्रिंग होटल

दी स्कीरिड माउंटेन इन (वेल्स)

खूबसूरत ब्रेकन बीकन नेशनल पार्क के पूर्वी किनारे पत्थरों वाले गांवों के बीच बसे, द स्कीर्रिड माउंटेन इन गेलिक राष्ट्र के अतीत की कहानियों से भरा हुआ है। लोग दावा करते हैं कि यहां एक न्यायालय के तथाकथित हैंगिंग न्यायाधीश जॉर्ज जेफरीस के आदेश के बाद अपराधियों को न केवल मौत की सजा सुनाई गयी बल्कि उन्हें फांसी पर लटका दिया गया था।

ski

WeForNews 

 

Continue Reading

ज़रा हटके

ये महिला हॉस्पिटल के कचरे से कमा रही है लाखों…

Published

on

GARBAGE

इस महिला के आमदनी बढ़ाने के तरीके से आप हैरान हो जाएंगे। अक्सर महिलाओं की डिलीवरी के बाद कचरा समझकर फेंक दी जाने वाली गर्भनाल (प्लेसेंटा) के जरिए ये महिला लाखों की कमाई कर रही है।

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में रहने वाली 23 साल की कियारा नोबल प्रोफेशनल दाई हैं। ये पिछले दो साल से गर्भनाल के प्रोडक्ट का बिजनेस कर रही है। वो इस बिजनेस के लिए सर्टिफाइड स्पेशलिस्ट भी हैं।

ये महिला गर्भनाल का इस्तेमाल करके कई उत्पाद जैसे एनर्जी कैप्सूल्स, फेस क्रीम और गिफ्ट आइटम्स जैसे कई तरह के दूसरे अन्य सामान भी बनाती है और उन्हें बेचकर पैसा कमाती है। जनवरी 2017 में इसका बिजनेस शुरू करने के बाद महिला को काफी अच्छी इनकम हो रही है और इसके जरिए वो सालाना 8500 पाउंड (करीब 7.5 लाख रुपए) भी कमा रही है।

GARBAGE

कियारा ने जब नई-नई मां बनी महिलाओं को गर्भनाल कैप्सूल्स देकर इससे उन्हें होने वाले फायदों पर रिसर्च की तो उसे जबरदस्त रिजल्ट्स मिले। कियारा नोबल का कहना है कि यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट की पढ़ाई के दौरान उन्हें गर्भनाल की टेबलेट्स के फायदों के बारे में पता चला था। कियारा डिलीवरी के 12 घंटों के अंदर हॉस्पिटल या प्रेग्नेंट महिला के घर जाकर प्लेसेंटा ले आती हैं।

कियारा की सबसे पॉपुलर सर्विस ‘प्लेसेंटा इन्कैप्सूलेशन’ है। जिसमें वो गर्भनाल को सुखाकर उसके पाउडर की मदद से एनर्जी कैप्सूल्स बनाती हैं। उनका दावा है कि इन कैप्सूल्स को खाने से एनर्जी लेवल बढ़ता है साथ ही हार्मोनल असंतुलन और डिलीवरी के बाद होने वाली ब्लिडिंग भी कम होती है साथ ही स्तनों में दूध भी बढ़ जाता है।

WeForNews 

Continue Reading

ज़रा हटके

पहाड़ों में लटके इस मंदिर को देख चौक जाएंगे आप…

Published

on

temple

पहाड़ियों पर बसे मंदिर आपने देखे होंगे, लेकिन क्या कभी पहाड़ों पर लटके मंदिर के बारे में आपने सुना है। जी हां, विश्व के अद्भुत अजूबों में एक लटका हुआ मंदिर भी है। चीन के शांझी में हेंग माउंटेन पर एक ऐसा मंदिर है जो अजीबो-गरीब तरीके से पहाड़ों पर लटका है। इस मंदिर को हैंगिंग मॉनैस्ट्री के नाम से भी जाना जाता है।

Image result for पहाड़ों पर लटके मंदिर

कहा जाता है कि 1500 साल पुराने मंदिर को यहां इसलिए बनाया गया था कि मंदिर बाढ़ से प्रभावित ना हो और बारिश और तूफान से बचा रहे। मंदिर के सबसे पास दटोंग शहर है, जो उत्तर-पश्चिम में 64.23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Image result for पहाड़ों पर लटके मंदिर

युन्गंग ग्रोत्टेस के साथ-साथ हैंगिंग मंदिर भी दटोंग शहर की एतिहासिक जगहों में से एक है। यह मंदिर केवल अपने स्थान ही नही बल्कि तीन चीनी पारंपरिक धर्म बुद्ध, ताओ और कंफुशिवाद के मिलाप के लिए भी जाना जाता है। मंदिर की संरचना को ओक क्रॉसबीम्स में फिट किया गया है।

Related image

मंदिर की मुख्य सहायक संरचना आधार स्तम्भ के भीतर छुपी हुई है। यह मठ छोटे कैनियन बेसिन में बना हुआ है और इमारत के शरीर प्रमुख शिखर सम्मेलन के तहत चट्टान के बीच से लटका हुआ है। मंदिर के निर्माण कार्य की शुरुवात उत्तरी वेई साम्राज्य के अंत में लिओं रैन नाम के इंसान द्वारा की गई।

Related image

चाइनीज आर्किटेक्चर का अध्ययन करने वाले लोगों के लिए ये एक प्रमुख जगह है। मंदिर के करीब 40 अलग-अलग हॉल हैं और वे एक दूसरे से कनेक्टेड हैं। मंदिर में कई प्राचीन स्टैच्यू भी रखे गए हैं। चीन के डैटोंग क्षेत्र में यह मंदिर टूरिस्टों के आकर्षण का केंद्र है।

यहां पहुंचने का रास्ता लकड़ी और लोहे की सीढ़ियों से बना है। मंदिर को देखने के लिए एशिया के कई देशों के अलावा यूरोप से भी पर्यटक पहुंचते हैं।यहां पहुंचने का रास्ता लकड़ी और लोहे की सीढ़ियों से बना है।

WeForNews 

Continue Reading
Advertisement
Rahul Gandhi
राजनीति4 hours ago

राफेल डील पर बोले राहुल- ‘विमान की कीमत पर सवाल बरकरार’

Saina_Kashyap
खेल5 hours ago

साइना नेहवाल ने की शादी

canada
ज़रा हटके5 hours ago

ये हैं दुनिया की सबसे डरावनी जगह…

व्यापार6 hours ago

सेंसेक्स में 33 अंकों की तेजी

MUFFS
टेक7 hours ago

पोर्टोनिक्स लेकर आए ब्ल्यूटुथ हेडफोन ‘मफ्स जी’, जानें कीमत

स्वास्थ्य7 hours ago

सिनेमा, संग्रहालय जाने से बुजुर्गों में अवसाद का जोखिम हो सकता है कम

CONGRESS
चुनाव7 hours ago

अशोक गहलोत के सिर सजा राजस्थान का ताज

राष्ट्रीय7 hours ago

दाभोलकर मर्डर केस में आरोपियों को मिली जमानत

prashant bhushan
राष्ट्रीय8 hours ago

राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पूरी तरह गलत: प्रशांत भूषण

मनोरंजन8 hours ago

वरुण, आलिया बने बच्चों के पसंदीदा कलाकार

jewlary-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में आभूषणों से ऐसे पाएं फैशनेबल लुक…

Congress-reuters
राजनीति3 weeks ago

संघ का सर्वे- ‘कांग्रेस सत्ता की तरफ बढ़ रही’

Phoolwaalon Ki Sair
ब्लॉग4 weeks ago

फूलवालों की सैर : सांप्रदायिक सद्भाव का प्रतीक

Sara Pilot
ओपिनियन2 weeks ago

महिलाओं का आत्मनिर्भर बनना बेहद जरूरी : सारा पायलट

Bindeshwar Pathak
ज़रा हटके3 weeks ago

‘होप’ दिलाएगा मैन्युअल सफाई की समस्या से छुटकारा : बिंदेश्वर पाठक

Tigress Avni
ब्लॉग3 weeks ago

अवनि मामले में महाराष्ट्र सरकार ने हर मानक का उल्लंघन किया : सरिता सुब्रमण्यम

bundelkhand water crisis
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड में प्रधानमंत्री के दावे से तस्वीर उलट

Cervical
लाइफस्टाइल4 weeks ago

ये उपाय सर्वाइकल को कर देगा छूमंतर

Toilets
ब्लॉग3 weeks ago

लड़कियों के नाम, नंबर शौचालयों में क्यों?

demonetisation
ब्लॉग3 weeks ago

नये नोट ने निगले 16,000 करोड़ रुपये

Kapil Sibal
राष्ट्रीय9 hours ago

राफेल पर सिब्‍बल का शाह को जवाब- ‘जेपीसी जांच से ही सामने आएगा सच’

Rajinikanth-
मनोरंजन2 days ago

रजनीकांत के जन्मदिन पर ‘पेट्टा’ का टीजर रिलीज

Jammu And Kashmir
शहर5 days ago

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बर्फबारी

Rajasthan
चुनाव6 days ago

राजस्थान में सड़क पर ईवीएम मिलने से मचा हड़कंप, दो अफसर सस्पेंड

ISRO
राष्ट्रीय1 week ago

भारत का सबसे भारी संचार उपग्रह कक्षा में स्थापित

ShahRukh Khan-
मनोरंजन1 week ago

शाहरुख की फिल्म ‘जीरो’ का दूसरा गाना रिलीज

Simmba-
मनोरंजन2 weeks ago

रणवीर की फिल्म ‘सिम्बा’ का ट्रेलर रिलीज

Sabarimala
राष्ट्रीय2 weeks ago

सबरीमाला विवाद पर केरल विधानसभा में हंगामा, विपक्ष ने दिखाए काले झंडे

Amarinder Singh
राष्ट्रीय3 weeks ago

करतारपुर कॉरिडोर शिलान्‍यास के मौके पर बोले अमरिंदर- ‘बाजवा को यहां घुसने की इजाजत नहीं’

मनोरंजन3 weeks ago

रजनीकांत की फिल्म ‘2.0’ का पहला गाना ‘तू ही रे’ रिलीज

Most Popular