पेट दर्द या अपच को कभी न करें अनदेखा... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

स्वास्थ्य

पेट दर्द या अपच को कभी न करें अनदेखा…

Published

on

Stomach-
File Photo

पेट दर्द को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर (पेट की आंतों या पेट के कैंसर) भारत में चौथा सबसे ज्यादा संख्या में लोगों को होने वाला कैंसर बन गया है। पिछले साल जीआई कैंसर के 57,394 मामले सामने आए।

यह महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा प्रभावित करता है।चिकित्सक बताते हैं कि जीआइ कैंसर के ज्यादातर मरीजों को शुरुआत में गैर-विशिष्ट लक्षण होते हैं, जैसे पेट दर्द और असहजता होना, लगातार अपच बने रहना, मलोत्सर्ग की आदत में गड़बड़ी होना।

यह साइलेंट किलर के रूप में धीरे-धीरे बढ़ता जाता है और शरीर के आंतरिक अंगों जैसे बड़ी आंत, मलाशय, भोजन की नली, पेट, गुर्दे, पित्ताशय की थैली, पैनक्रियाज या पाचक ग्रंथि, छोटी आंत, अपेंडिक्स और गुदा को प्रभावित करता है।

मेदांता-द मेडिसिटी में इंस्टिट्यूट ऑफ डाइजेस्टिव एंड हेपोटोबिलरी साइंसेज में गैस्ट्रोइंट्रोलॉजी के निदेशक डॉ. राजेश पुरी का कहना है, “हमें जीआई कैंसर की प्रकृति के संबंध में जागरूकता और इसका जल्दी से जल्दी पता लगाने के लिए जांच कार्यक्रमों की उपलब्धता की काफी आवश्यकता है। अपर जीआई की स्क्रीनिंग, कोलोनोस्कोपी और एनबीआई एंडोस्कोपी की मदद से जीआई कैंसर का जल्द से जल्द पता लगाने में मदद मिलती है।

प्रतिरोधी पीलिया और पित्ताशय की थैली में कैंसर की पुष्टि सीटी स्कैन, एमआरआई और ईआरसीपी से नहीं होती। मेडिकल दखल जैसे कोलनगियोस्कोपी की मदद से कैंसर को देखने और उनके ऊतकों का परीक्षण करने में मदद मिलती है। इससे पित्ताशय की थैली के कैंसर का जल्द पता लगाया जा सकता है, जिसका किसी परंपरागत उपकरण या रूटीन जांच से इस कैंसर का पता नहीं लगाया जा सकता।”

आईजीआईएमएस में गैस्ट्रो इंटेस्ट्रोलॉजी के हेड डॉ. वी. एम. दयाल का कहना है, “चूंकि जीआई कैंसर रोग की स्थिति और लक्षणों के आधार अलग-अलग हो सकते हैं। इनमें अंतर करने के लिए और कैंसर के खास प्रकार का पता लगाने के लिए मरीजों की जल्द से जल्द जांच करना बेहद आवश्यक है। कोलनगियोस्कोपी की मदद से डॉक्टर पित्ताशय की थैली को देख सकते हैं और इससे उन्हें खास तरह के कैंसर का पता लगाने में मदद मिलती है।

इससे वह शरीर में मौजूक ऊतकों और तरल पदार्थ के अध्ययन से किसी खास तरह के कैंसर की जड़ तक पहुंच सकते हैं और उसका उचित इलाज शुरू कर सकते हैं। इस प्रक्रिया में 1 एमएम के चौड़े वीडियो कैमरा के साथ पतली और लचीली ट्यूब का इस्तेमाल कर डॉक्टर पित्ताशय की थैली की अंदरूनी परत की सावधानीपूर्वक निगरानी कर सकते हैं।

अगर कोई संदिग्ध क्षेत्र पाया जाता है तो डॉक्टर ऊतक का छोटा टुकड़ा लेकर प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए भेज सकते हैं।” गट क्लिनिक इलाहाबाद के डॉ. रोहित गुप्ता के अनुसार, किसी भी कैंसर का इलाज करने के लिए बहुत जरूरी है कि सही समय पर हम उसके इलाज को शुरू करें, परंतु समस्या यही है कि बहुत से लोगों को इसका पता तभी चलता है जब कैंसर दूसरे या तीसरे स्टेज पर पहुंच जाता है।

बढ़ती टेक्नोलॉजी के साथ जब से नए एंडोस्कोपस और हाई डेफिनेशन एंडोस्कोपी एंड कोलोनोस्कोपी की सुविधा उपलब्ध हुई है, डॉक्टर्स के लिए यह बहुत हो गया है जिससे वह समय रहते इसकी जांच और इलाज कर पा रहे है, क्योंकि जितनी जल्दी जांच होगी उतनी ही जल्दी हम उसका इलाज कर पाएंगे।

आईएएनएस

लाइफस्टाइल

ठंडा पानी पीने से आपके शरीर को होते हैं ये नुकसान…

Published

on

File Photo

गर्मी के इस मौसम में पारा 45 के पार हो रहा है। बढ़ती गर्मी कई शहरों में लोगों के लिए जानलेवा बन रही है।

ऐसे में पीने के लिए ठंडा पानी अमृत से कम नहीं। इससे न सिर्फ कुछ वक्त के लिए गर्मी छूमंतर हो जाती है बल्कि गर्मी और लू से भी राहत मिल जाती है। लेकिन क्या आपको पता है कि ठंडा पानी आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है? जी हां, पानी आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक है।

Image result for ठंडा पानी

आइए हम आपको बताते है की ठंडा पानी कैसे आपकी सेहत को नुकासन पहुंचता है…

1. पेट खराब

ठंडा पानी आपके पेट को नुकसान पहुंचाता है। इसे पीने से खाना पचाने में दिक्कत होती है। जिसकी वजह से पेट में दर्द, जी मचलना और पेट से अजीब आवाज़े आने की समस्या हो सकती है।

Image result for ठंडा पानी से  पेट में दर्द

इसकी वजह है ठंडे पानी का बाहर के टेम्परेचर के अलग होना, जिससे यह शरीर में पहुंच कर पेट में मौजूद खाने को पचाने में दिक्कत देता है। इसकी वजह से पेट में दर्द की शिकायत हो सकती है।

2. सिर दर्द

आपने ‘ब्रेन फ्रीज़’ के बारे में सुना होगा। यह बर्फ वाले पानी या फिर आइस क्रीम के ज्यादा सेवन से होता है। इसमें ठंडा पानी स्पाइन की सेंसेटिव नसों को ठंडा कर कर देता है, जिससे यह दिमाग पर असर डालती हैं। इसी वजह से सिर में दर्द होता है।

Image result for सिर दर्द

3. दिल की धड़कनें धीमा पड़ना

हमारे शरीर में वेगस (vagus nerve) नाम की नर्व होती है। इसे बॉडी की सबसे लंबी कार्निवल नर्व भी कहा जाता है, जो कि गर्दन से होते हुए हार्ट, लंग्स और डाइजेस्टिव सिस्टम को कंट्रोल करती है। जब भी आप ज्यादा ठंडा पानी पीते हैं तो ये नर्व ठंडी होकर हार्ट रेट को धीमा करती है, जब तक यह पानी आपके शरीर के अनुकूल ना हो जाए।

Image result for दिल की धड़कनें धीमा पड़ना

4. कब्ज़

रूम टेम्परेचर के हिसाब से पानी पीने पर कब्ज़ की परेशानी बहुत कम होती हैं, वहीं, ज्यादा ठंडा पानी खाना पचाने में दिक्कत लाता है। इसी वजह से सॉलिड फूड डाइजेस्ट होने में वक्त लेता है और कब्ज़ की परेशानी होती है।

Image result for कब्ज़

5. मोटापा बढ़ाए

ठंडा पानी आपके शरीर में जमे फैट को और सख्त बनाता है। इस वजह से फैट बर्न होने में दिक्कत होती है। अगर आप वज़न कम करने की सोच रहे हैं तो ठंडा पानी अवॉइड करें। क्योंकि यह वज़न घटाने की प्रक्रिया को आसान बल्कि और मुश्किल बनाएगा।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

मुंबई में मिले कोरोना वायरस के दो संदिग्ध, हवाई अड्डों पर निगरानी तेज

Published

on

Corona Virus
कोरोना वायरस (फाइल फोटो)

चीन में लोगों की जान पर आफत बनकर टूटने वाला कोरोना वायरस ने भारत में दस्तक दे दी है। मुंबई में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मामले सामने आए हैं। दोनों संदिग्धों को कस्तूरबा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल, उनका परीक्षण कराया जा रहा है। देश के हवाई अड्डों पर निगरानी बढ़ा दी गई है।

बता दें कि कोरोना वायरस से चीन में 26 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 830 लोग संक्रमित हैं। इस वायरस की दहशत इतनी है कि वुहान समेत 9 शहरों को बंद कर दिया गया है। वुहान में 700 से अधिक भारतीय स्टूडेंट पढ़ाई करते हैं।

चीन के अलावा जापान और थाईलैंड में भी इस वायरस के फैलने की खबरें सामने आने के बाद सरकार ने यात्रियों के लिए एक ट्रैवल एडवाइजरी भी जारी कर दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने एक उच्चस्तरीय बैठक में कोरोना वायरस की वजह से उपजी परिस्थिति की समीक्षा की।

कोरोना वायरस के लक्षण भी निमोनिया जैसे ही हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि यह वायरस बेहद संक्रामक है। मिसाल के तौर पर अगर विमान में एक यात्री भी इसकी चपेट में है तो कुछ मिनटों में ही सैकड़ों यात्री इसकी चपेट में आ सकते हैं।

WeForNews

Continue Reading

स्वास्थ्य

नींबू पानी पीने से मिलेगा इन 5 समस्याओं से छुटकारा

Published

on

Nimbu-

गर्मी के मौसम में हम अक्सर नींबू पानी पीते हैं लेकिन इसके पीने के क्या-क्या फायदे हैं ये हम को मालूम नहीं।

क्या आपको पता है नींबू कई तरह की शारीरिक समस्याओं का इलाज के काम में आता है। इसका फायदा आपको तभी मिलेगा जब आपको नींबू पानी पीने के सही तरीके के बारे में पता होगा।

Image result for नींबू पानी

आइए हम आपको बताते है नींबू पीने के कई फायदे

नींबू में सिट्रिक एसिड पाया जाता है जो कि किडनी में पथरी होने से रोकता है। अगर आप रोजाना नींबू पानी का सेवन करते हैं तो आपको पथरी की समस्या नहीं होगी।आपने अक्सर सोकर उठने के बाद लोगों को गुनगुने पानी में नींबू की बूंदे मिलाकर पीते हुए देखा होगा। दरअसल इसका एक वैज्ञानिक कारण भी है।

Image result for नींबू पानी

इससे व्यक्ति का पाचन तंत्र दुरुस्त होता है। खाना जल्दी पचता और व्यक्ति फिट रहता है। नींबू में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। रोजाना नींबू पानी पीने वालों को जुकाम-बुखार की भी बहुत कम शिकायत होती है।

Image result for नींबू पानी

अगर आपके मुंह से दुर्गंध आ रही है तो आप एक गिलास नींबू पानी पी लीजिए। इससे आपके मुंह से बदबू आनी भी बंद हो जाएगी और मुंह सूखा भी नहीं रहेगा। नींबू आपके मेटाबॉलिज्म को ठीक रखता है। इसके अलावा इसमें फाइबर भी पाया जाता है। नींबू पानी आपको वजन घटाने में भी मदद करता है।

Image result for नींबू पानी

बस आप इतना ध्यान होना चाहिए की आप हमेशा ताजे नींबू का ही प्रयोग करें। नींबू पानी गुनगुने और ठंडे दोनो रूप में पी सकते हैं। इसके अलावा अगर आप नींबू पानी के साथ संतरे या खीरे का सेवन करें तो और भी अच्छा है।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular