Connect with us

राष्ट्रीय

2019 में दो बार नहीं होगी NEET की परीक्षा!

Published

on

NEET
File Photo

राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट)- पूर्व स्नातक (नीट यूजी) 2019 में शायद दो बार नहीं होगा। इस मुद्दे को लेकर मानव संसाधन मंत्रालय में स्वास्थ्य मांत्रालय की सिफारिशों पर विचार चल रहा है।

लेकिन एक महीने पहले मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ऐलान किया था की नीट की परिक्षा दो बार होगी।जावड़ेकर ने अपने ब्यान में ये भी कहा था की इस बार सीबीएसई नहीं बल्कि टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) 2019 से नीट और इनजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा को दो बार कराएगी।

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था प्रवेश परीक्षा सुधार की ओर ये बड़ा कदम है। मानव संसाधन मंत्री ने ये भी घोषणा की थी कि कंप्यूटर आधारित परीक्षाएं लीक प्रूफ, ज्यादा पारदर्शी और छात्र हितैषी होंगी।

उन्होने परीक्षा के वक्त घोषणा की थी जिसके मुताबिक फरवरी 2019 में पहली और फिर मई 2019 में छात्र दोबारा परीक्षा दे सकेंगे। लेकिन सरकार ने अपने फैसले से यू टर्न लेते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय की सलाह को लागू करने पर विचार करना शुरु कर दिया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने ये भी सलाह दी है कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए),सीबीएसई की सहायता भी ले क्योंकि उसके पास सालों पीएमटी परीक्षा आयोजित करने का अनुभव है। सूत्रों की माने तो एचआरडी मंत्रालय पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दबाव दिया कि अगले साल यानि 2019 में नीट परीक्षा दो बार की जगह एक बार और कागज-कलम मोड से ही लिये जायें।

मंत्रालय के अधिकारी ने बताया है कि स्वास्थ्य मंत्रालय की सिफारिश पर विचार किया जा रहा है और अगले हफ्ते तक इस पर फैसला ले लिया जायेगा। बता दे कि नीट परीक्षा को देश भर के छात्रों के लिए पारदर्शी और बेहतर बनाने के लिए उच्चतम न्यायालय ने कई दिशा निर्देश सुनाये थे। मानव संसाधन मंत्रालय भी इस पर लगातार नीति बना रही है लेकिन इसका लागू हो पाना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है।

WeForNews

राष्ट्रीय

लालू से रिम्स में मिले तेज प्रताप

Published

on

Tej Pratap Singh Yadav
फाइल फोटो

बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेज प्रताप यादव ने एक अस्पताल में अपने बीमार पिता और पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद से मुलाकात की।

लालू का न्यायिक हिरासत अवधि में इलाज चल रहा है। सामान्य तौर पर, राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में मिलने का दिन शनिवार है, इसलिए तेज प्रताप को अपने पिता से मिलने के लिए अस्पताल के अधिकारियों की विशेष अनुमति प्राप्त करनी पड़ी। लालू यादव का इलाज रिम्स के पेइंग वार्ड में किया जा रहा है।

माना जा रहा है कि तेज प्रताप ने अपने पिता के साथ पत्नी से तलाक और बिहार की राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की। उन्होंने डॉक्टरों से लालू यादव के स्वास्थ्य के बारे में भी पूछताछ की।

तेज प्रताप ने पिछली बार नवंबर में अपने पिता से ऐश्वर्या राय के साथ अपनी शादी तोड़ने के लिए तलाक याचिका दायर करने के बाद मुलाकात की थी। वहां से वह वृंदावन चले गए थे।

माना जाता है कि लालू प्रसाद अपने बेटे की तलाक याचिका की खबर मिलने के बाद तनावग्रस्त हो गए हैं। उनका रक्तचाप और शुगर का स्तर दोनों बढ़ गया था। पिछले हफ्ते उनकी हालत में सुधार हुआ है और उन्होंने चिकित्सा आधार पर जमानत के लिए अर्जी दी है।

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

जेलों में भी रहता है भेदभाव कायम

Published

on

Jail
प्रतीकात्मक तस्वीर

भारतीय बैंकों से हजारों करोड़ रुपये लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के लिए मुंबई के आर्थर रोड जेल को पूरी तरह से तैयार किया गया है।

आर्थर रोड जेल में उच्च सुरक्षा वाली बैरक तैयार की गई है। लेकिन जब भारतीय जेलों की वास्तविकता की बात आती है तो सच्चाई किसी से छिपी नहीं है। विजय माल्या के लिए तो जेल में खास इंतजाम कर दिए गए। इन इंतजामों में आर्थर रोड के जेल परिसर के अंदर दो-मंजिला इमारत में स्थित एक उच्च सुरक्षा वाली बैरक तैयार की गई है, जिसमें प्रत्यर्पण के बाद माल्या को रखा जाएगा।

जेलों की स्थिति को लेकर सर्वोच्च न्यायालय केंद्र व राज्यों की सरकारों को भी फटकार लगा चुका है। हाल ही में, न्यायमूर्ति मदन बी. लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कारागारों और बाल सुधार गृहों में जाकर वहां की दशा देखने का निर्देश दिया था।

अपनी टिप्पणी में न्यायाधीशों ने कहा था कि अधिकारियों को अपने दफ्तरों से निकलकर जेलों की दशा देखने को कहिए। पानी के नल की टोंटियां काम नहीं करती हैं। शौचालय उपयोग में नहीं हैं। सब बंद हो चुके हैं और बदहाल हैं। उनको देखने को कहिए, जिससे वे समझेंगे कि कैदी किस तरह की दयनीय दशा में रहते हैं।

जेलों की दशा व वहां उपलब्ध इंतजामों व दूसरे कानूनी पहलुओं पर बिहार की 30 से भी ज्यादा जेलों का दौरा कर चुकीं व जेलों की कुव्यवस्था को अपनी किताब ‘न्यायपालिका कसौटी पर’ में उजागर करने वाली सर्वोच्च न्यायालय की अधिवक्ता कमलेश जैन से आईएएनएस ने जेलों के हालात पर विशेष बातचीत की।

यह पूछे जाने पर क्या जेलों में मानवाधिकार जिंदा रहता है, या अधिकारों का हनन हो जाता है? इस संदर्भ में भारतीय जेलों को कैसे देखती हैं? सर्वोच्च न्यायालय की अधिवक्ता कमलेश जैन कहती हैं कि जेलों में मानवाधिकार रहने चाहिए, लेकिन इनका नितांत अभाव है।

मैं इसे जमीदारी प्रथा की तरह मनमाना आदेश देने की श्रेणी में रखती हूं। जिस तरह समाज में ऊंच-नीच, अमीर-गरीब, शिक्षित-अशिक्षित का भेद-भाव चलता है, उसी तरह से जेलों में अनपढ़ व कमजोर वर्ग का व्यक्ति चक्की में घुन की तरह पिसता है, वह वर्षो तक जेल में रहता है।

खाने से लेकर, शौच जाने, नहाने-कपड़े धोने से लेकर हर काम में उसे भेदभाव का शिकार होना पड़ता है। न्याय उसे मिलता नहीं या काफी देर से मिलता है। ऐसे में हमारी जेलें भेदभाव रहित नहीं हैं। विजय माल्या के लिए विशेष जेल की व्यवस्था की गई है। वह मुंबई आर्थर रोड जेल में रहेंगे? इसे किस लिहाज से देखती है? कमलेश जैन कहती हैं कि आर्थर रोड जेल एक सुरक्षित जेल समझी जाती है। वहां बड़े खूंखार अपराधियों को रखा जाता है।

सुरक्षा के लिहाज से विजय माल्या को वहां रखा जा रहा है। उस जेल में माल्या के लिए विशेष इंतजामात किए गए हैं। लेकिन सभी जेलों की व्यवस्थाएं बदलनी चाहिए, सिर्फ विशेष लोगों के लिए जेलों में विशेष इंतजाम क्यों?

यह पूछे जाने पर जेलों में भेदभाव खूब होता है, असमानता के इस स्तर को कैसे देखती हैं? न्यायपालिका कसौटी पर की लेखिका कमलेश जैन कहती हैं, “जेलों में असमानता अत्यंत बर्बर है। गरीब, अनपढ़ मनुष्य एक दास की तरह रहता है। सबकी गुलामी करता है, जेल स्टाफ की भी। ऐसे में व्यवस्थाओं को पारदर्शी बनाने की जरूरत है। मैंने बिहार की जेलों का बाकायदा दौरा किया है, जहां स्थितियां बद से बदतर रही हैं। जेलों में भी व्यापक भेदभाव कायम है।”

हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय ने कारागृहों और बाल सुधार गृहों की दशा सुधारने के प्रति सरकारी मशीनरी की बेरुखी और संवदेनहीन व्यवहार पर नाराजगी जाहिर की है। इस पर आप क्या कहेंगी? इस सवाल पर कमलेश जैन कहती हैं कि सर्वोच्च न्यायालय की कारागारों व बाल सुधार गृहों पर की गई टिप्पणी एकदम उचित है।

व्यवस्थाएं बदल नहीं रही हैं। बस चंद नाम हैं, जिसे हम गिनाने के लिए रखते हैं, आदर्श जेल की सूची में नाम बहुत कम हैं। कारागारों की दशा सुधारने के मुद्दे को लेकर केंद्र और राज्य सरकारों दोनों को फटकार लगाए जाने को आप किस नजरिए से देखती हैं? जवाब में अधिवक्ता कहती हैं कि कारागारों की दशा सुधारने के लिए 1983 से ही सर्वोच्च न्यायालय फटकार लगा रहा है, पर भारत की जेलों में सुधार नहीं हो रहा है।

आपराधिक प्रक्रिया संहिता में प्रावधान है कि उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, सेशन जज, जिले के न्यायाधीश समय-समय पर जेलों का निरीक्षण करे और वहां कि व्यवस्था सुधारने को लेकर कार्यवाही करे। लेकिन ऐसा नहीं किया जाता।यह पूछे जाने पर कि सर्वोच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि दुनियाभर में जेलों में कर्मचारियों की कमी का औसत 16 फीसदी है, लेकिनि भारत में 62 फीसदी है।

आप इसे किस तरह से देखती हैं? कमलेश जैन कहती हैं, “हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली भी लचर है, 35 वर्षो से जेल में रूदल साहा व 37 बोका ठाकुर अडंर 1982-183 में मैंने पीआईएल फाइल किया। आज भी हालत जस की तस है। छोटे अपराधी जेल में सालों रहते हैं, अपनी सजा पूरी करने पर भी निकल नहीं पाते और बड़े अपराधियों को आसानी जमानत मिल जाती है।”

कर्मचारियों की कमी तो है ही, दो हजार कैदियों की जगह में चार हजार लोग रहते हैं, जेलों के आकार व नंबर दोनों को बढ़ाने की जरूरत है। सुविधाएं भी नहीं है, उन्हें भी बढ़ाना जरूरी है। गरीबों के लिए जेल नरक है।

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

पाकिस्तान की जेल से रिहा होने के बाद हामिद अंसारी पहुंचे दिल्ली

Published

on

Hamid Ansari
हामिद अंसारी photo credit (ANI)

पाकिस्तान की जेल से रिहा होने के बाद भारतीय नागरिक हामिद अंसारी दिल्ली पहुंच गए हैं। हामिद अंसारी ने कहा कि मैं पाकिस्तान से वापस आकर काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं। 6 साल बाद पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय कैदी हामिद निहाल मंगलवार को भारत लौट थे।

पाकिस्तान में रावी नदी से पार कराने के बाद उन्हें एक जेल वैन के जरिए वाघा-अटारी सीमा पर लाया गया था। इस दौरान वाघा-अटारी सीमा परिवार के सदस्य बेसब्री से उनका इंतजार कर रहे थे। उनकी वतन वापसी में अहम भूमिका निभाने वाले पत्रकार देसाई के अलावा मां, पिता और भाई भी उनकी अगवानी के लिए इस दौरान मौजूद रहे।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
Congress-reuters
राजनीति4 weeks ago

संघ का सर्वे- ‘कांग्रेस सत्ता की तरफ बढ़ रही’

Sara Pilot
ओपिनियन3 weeks ago

महिलाओं का आत्मनिर्भर बनना बेहद जरूरी : सारा पायलट

Phoolwaalon Ki Sair
ब्लॉग4 weeks ago

फूलवालों की सैर : सांप्रदायिक सद्भाव का प्रतीक

Bindeshwar Pathak
ज़रा हटके4 weeks ago

‘होप’ दिलाएगा मैन्युअल सफाई की समस्या से छुटकारा : बिंदेश्वर पाठक

Toilets
ब्लॉग3 weeks ago

लड़कियों के नाम, नंबर शौचालयों में क्यों?

bundelkhand water crisis
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड में प्रधानमंत्री के दावे से तस्वीर उलट

Ranveer singh-
मनोरंजन2 weeks ago

दीपिका-रणवीर के रिसेप्शन में पहुंचे बॉलीवुड के ये सितारे, देखें तस्वीरें

Tigress Avni
ब्लॉग4 weeks ago

अवनि मामले में महाराष्ट्र सरकार ने हर मानक का उल्लंघन किया : सरिता सुब्रमण्यम

ATM
ब्लॉग3 weeks ago

देश के आधे एटीएम बंद हुए तो होंगे नोटबंदी जैसे हालात!

PM Modi Rajnath Jaitley
ब्लॉग3 weeks ago

लोकतांत्रिक संस्थाओं को उन शासकों की परवाह क्यों है जो क़ानून को ही ठेंगा दिखाते हैं?

Kangana Runout
मनोरंजन18 hours ago

फिल्म “मणिकर्ण‍िका” का ट्रेलर लॉन्च

RAHUL
राजनीति22 hours ago

कर्ज माफी पर बोले राहुल- ‘जो वादा किया, निभाया’

bjp
राजनीति1 day ago

बीजेपी विधायक की महिला एसडीएम को धमकी

Jammu-Kashmir
शहर2 days ago

कश्मीर में शीतलहर का प्रकोप जारी

delhi-bus--
मनोरंजन3 days ago

निर्भया पर बनी फिल्म ‘दिल्ली बस’, इस दिन होगी र‍िलीज

Kapil Sibal
राष्ट्रीय5 days ago

राफेल पर सिब्‍बल का शाह को जवाब- ‘जेपीसी जांच से ही सामने आएगा सच’

Rajinikanth-
मनोरंजन7 days ago

रजनीकांत के जन्मदिन पर ‘पेट्टा’ का टीजर रिलीज

Jammu And Kashmir
शहर1 week ago

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बर्फबारी

Rajasthan
चुनाव2 weeks ago

राजस्थान में सड़क पर ईवीएम मिलने से मचा हड़कंप, दो अफसर सस्पेंड

ISRO
राष्ट्रीय2 weeks ago

भारत का सबसे भारी संचार उपग्रह कक्षा में स्थापित

Most Popular