Connect with us

राजनीति

मोदी राज का सबसे ‘काला दिन’ था नोटबंदी : ममता

Published

on

mamata
File Photo

नोटबंदी के दो साल पूरे होने के मौके पर विपक्ष पूरी तरह से हमलावर दिख रहा है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर नोटबंदी ‘घोटाले’ के जरिए राष्ट्र के साथ धोखा करने को लेकर निशाना साधा।

ममता बनर्जी ने काफी कड़े शब्दों में नोटबंदी की आलोचना करते हुए कहा- मोदी राज का सबसे काला दिन है नोटबंदी। उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘काला दिन. सरकार ने नोटबंदी जैसा बड़ा घोटाला कर देश के लोगों को धोखा दिया है। इसने अर्थव्यवस्था और लाखों लोगों की जिंदगी तबाह कर दी।

जिन लोगों ने नोटबंदी की, लोग उन्हें जरूर सजा देंगे। केंद्र ने 8 नवंबर, 2016 को रात आठ बजे अचानक 500 और 1000 रुपये के नोट पर प्रतिबंध की घोषणा की थी, जिसे सभी लोग हैरान रह गए थे। बनर्जी ने कहा, “नोटबंदी आपदा की आज ‘डार्कडे’ दूसरी वर्षगांठ है। जिस क्षण इसकी घोषणा हुई तब भी मैंने ऐसा ही कहा था। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री, आम लोग और विशेषज्ञ अब सभी सहमत हैं।”

WeForNews

राजनीति

मोदी के ‘बदमाशों को टिकट’ देने वाले बयान के खिलाफ चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस

Published

on

pm modi1
तस्‍वीर को प्रतीकात्‍मक तौर पर इस्‍तेमाल किया गया है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई है। छिंदवाड़ा में मोदी ने एक रैली में कहा था कि कांग्रेस नेता गुंडों और बदमाशों को टिकट देने की बात कर रहे हैं। कांग्रेस ने इसकी शिकायत अब चुनाव आयोग से की है।

mp congress

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखकर पीएम मोदी के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत की है। चिट्ठी में कहा गया है कि छिंदवाड़ा की रैली में पीएम ने झूठ कहा कि कमलनाथ ने एक बैठक में गुंडों-बदमाशों को टिकट देने की बात कही थी।

गौरतलब है कि इसी तरह का फेक वीडियो पिछले महीने वायरल हुआ था, जिसमें कलमनाथ गुंडों को भी टिकट देने की बात कह रहे हैं बशर्ते वह चुनाव जीतने की क्षमता रखता हो। इसे लेकर तब भी कांग्रेस ने शिकायत दर्ज कराई थी। ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था।

बता दें कि पीएम मोदी ने छिंदवाड़ा की रैली में इसे लेकर कमलनाथ को घेरा और जनता से पूछा कि क्या वह ऐसे नेता को वोट देना चाहेगी जो गुंडों-बदमाशों को भी टिकट देने की वकालत करता हो। अब इसी भाषण को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग का रुख किया है।

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

भाजपा को वोट करे छत्तीसगढ़ : मोदी

Published

on

MODI
(PHOTO CREDIT ANI)

छत्तीसगढ़ के महासमुंद के रायपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा को संबोधित किया। कांग्रेस पर छत्तीसगढ़ के विकास में बाधा उत्पन्न करने और भारत के साथ धोखा करने का आरोप लगाते हुए मोदी ने लोगों से बीजेपी को वोट देकर राज्य में लगातार चौथी बार सत्ता की कमान सौंपने का आग्रह किया।

विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए प्रचार के अंतिम दिन यहां चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कांग्रेस पर 50 वर्षो तक देश से झूठ बोलने, गुमराह करने और धोखा देने के लिए हमला बोला और अपने कुशासन के जरिए लोगों की चार पीढ़ियों को तबाह करने का आरोप लगाया।

अपने 45 मिनट के भाषण में मोदी ने अधिकतर समय कांग्रेस और नेहरू-गांधी परिवार पर हमला बोला और बताया कि कैसे उनकी सरकार 2014 के बाद से देश भर में चौमुखी विकास कर रही है।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह नीत पिछली संप्रग सरकार को ‘रिमोट कंट्रोल सरकार’ करार देते हुए मोदी ने कहा कि 2003 से राज्य में सत्तारूढ़ रमन सिंह की भाजपा सरकार 2014 में केंद्र में भाजपा के सत्ता पर काबिज होने के बाद ही असली काम कर सकी।

उन्होंने कहा, “रमन सिंह सरकार के पहले 10 साल नकरात्मक ताकतों से लड़ते हुए बीत गए। दिल्ली की रिमोट कंट्रोल सरकार ने रमन सिंह को उनके राज्य में काम करने नहीं दिया। यह केवल 2014 के बाद हुआ कि वह राज्य के विकास लिए काम कर सके।”

छत्तीसगढ़ की तुलना 18 साल के व्यस्क से करते हुए मोदी ने कहा कि विधानसभा चुनाव कोई साधारण चुनाव नहीं है। उन्होंने कहा, “क्या आप ऐसे लोगों को अवसर देना चाहते हैं, जिन्होंने राज्य की पूर्व पीढ़ियों की जिंदगियों को तबाह कर दिया?” मोदी ने कांग्रेस के लिए वोट करने के खिलाफ लोगों को आगाह किया और कहा कि छत्तीसगढ़ की प्रगति के लिए भाजपा ही विकल्प है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के राज्य की सत्ता में आने पर उनकी पार्टी द्वारा किसानों के ऋण माफ करने के संकल्प के संदर्भ में मोदी ने कहा कि वोट पाने के लिए लोगों से झूठ बोलने और उन्हें गुमराह करने के कांग्रेस के दिन लद चुके हैं।

मोदी ने कहा, “कर्नाटक की सत्ता में आपकी पार्टी को आए करीब एक साल हो चुका है लेकिन किसानों के ऋण माफ करने के आपके वादे का क्या हुआ?” प्रधानमंत्री ने उनकी सरकार द्वारा मुठ्ठीभर उद्योगपतियों के साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये के कार्पोरेट ऋण को माफ करने की बात को खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा, “यह वही थे, जिन्होंने अंधाधुंध ऋण दिए और बैंकों को लूटने की इजाजत दी। 2006 से 2014 के बीच उन्होंने आजादी के बाद से 2006 तक दिए गए ऋणों बराबर ऋण दिए। यह हमारी सरकार ही थी, जिसने कानूनों को सख्त बनाया और देश से भाग गए धोखेबाजों की अरबों रुपये की संपत्ति जब्त की।”

मोदी ने कांग्रेस को नेहरू-गांधी परिवार से ताल्लुक नहीं रखने वाले किसी को पार्टी अध्यक्ष चुनने का चुनौती दी। 19 जिलों की 72 सीटों पर दूसरे और अंतिम चरण का चुनाव मंगलवार को होना है। पहले चरण में 18 सीटों पर 12 नवंबर को चुनाव हुआ था।

उन्होंने कहा कि बीजेपी को छत्तीसगढ़ में तीन बार विकास के मुद्दे पर सेवा करने का मौका दिया, लेकिन सही मायने में डॉ. रमन सिंह की सरकार को काम करने मौका केवल पिछले साढ़े चार साल से ही मिला, क्योंकि इसके पहले दिल्ली में रिमोट कंट्रोल से चलने वाली सरकार थी।

ऐसे परिवार के हाथ में रिमोट था, जो भाजपा का नाम सुनकर बिफर जाते थे। मोदी ने महासमुंद में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था तो मुझे भी राज्य की भलाई के लिए दिल्ली से लड़ना पड़ता था, जैसे डॉ. रमन सरकार ने छत्तीसगढ़ की भलाई के लिए लड़ाई लड़ी। डॉ. रमन संप्रग सरकार से नक्सलवाद से लड़ने के लिए मदद मांगते थे, लेकिन संप्रग सरकार को लगता था छत्तीसगढ़ हिंदुस्तान के नक्शे में नहीं है।’’

मोदी ने आगे कहा, ‘‘इसके बावजूद डॉ. रमन सरकार ने छत्तीसगढ़ को विकास के रास्ते में खड़ा कर दिया। 10-15 साल और मिल जाए तो छत्तीसगढ़ हिंदुस्तान के शीर्ष दो-तीन राज्यों की श्रेणी में आ जाएगा।’’

मोदी ने कहा, ‘‘18 साल की उम्र का छत्तीसगढ़ तेज गति से दौड़ना चाहेगा। मैं जनता से आग्रह करूंगा कि संकल्प पूरा करने के इरादे से काम करें। आप ही छत्तीसगढ़ के रखवाले हैं, मां-बाप हैं। छत्तीसगढ़ का भविष्य आपके हाथ में है। जैसे घर में बच्चों की परवरिश 18-23 साल की उम्र मेंं की जाती है, वैसे ही आपको 18 से 23 साल की उम्र में परवरिश छत्तीसगढ़ की करनी है। इस चुनाव को सामान्य चुनाव नहीं माने।’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘जो नौजवान पहली बार वोट करने वाले हैं, उनसे मेरा आग्रह है कि आपके दादा-दादी, माता-पिता को जैसी जिंदगी जीनी पड़ी, क्या आप चाहते हैं कि आपकी जिंदगी भी वैसी ही गुजरे? 50 साल का अनुभव है आपके सामने।’’

मोदी ने कहा, ‘‘दिल्ली में तो चार पीढ़ी ने राज किया। चार-चार पीढ़ियों को देश संभालने का मौका मिला, लेकिन उनका तो भला हुआ, देश का भला नहीं हुआ। किसी ने कहा था नेहरू जी की मेहरबानी है कि चाय वाला प्रधानमंत्री बन गया। मैंने कहा कि पांच साल के लिए इस परिवार के बाहर के एक व्यक्ति को कांग्रेस अध्यक्ष बना कर देखें। उनके राज दरबारी ने खाता खोल दिया कि ये बने हैं, ये बने हैं, लेकिन मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया।’’

मोदी ने कहा, ‘‘कांग्रेस के लोगों से पूछना चाहता हूं कि छत्तीसगढ़ के भोले-भाले लोगों को गुमराह क्यों कर रहे हैं। कर्नाटक में उन्होंने वादा किया था कि आते ही किसानों का कर्जा माफ कर देंगे। वहां के किसानों के खिलाफ वारंट निकाले गए।’’

मोदी ने कहा, ‘‘सरकार आते ही हमने उपज के लागत मूल्य का डेढ़ गुना देने का फैसला किया। आज किसानों को उनका हक दे रहे हैं। कांग्रेस यूरिया घोटाले में लगी रही। पहले यूरिया किसान के नाम पर निकलता था और फैक्ट्रियों में जाता था। हमने इस चोरी को बंद किया। 2800000 किसानों को सोलर पंप देने की योजना लाई। आज किसान अन्नदाता है, कल ऊर्जा दाता भी बनेगा।’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हमने देश में 16 करोड़ किसानों को मृदा हेल्प कार्ड दिया। हमने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना दी। सवा करोड़ के हाथों में घर की चाबियां सौंपी। 2022 में आजादी के 75 साल होंगे। हिंदुस्तान के अंदर सभी परिवार के पास घर होगा।’’

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

एनडीए में रार, रालोसपा ने बीजेपी के खिलाफ खोला मोर्चा

Published

on

upendra kushwaha
रालोसपा के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो)

पटना। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सहयोगी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) ने कहा कि अब वो ज्यादा अपमान बर्दाश्त नहीं करेगी।

रालोसपा के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बिहार में सीट बंटवारे को लेकर मचे घमासान पर उन्होंने कहा कि अब वह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से नहीं मिलेंगे। उन्होंने कहा कि सीट बंटवारे पर वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास अब 30 नवंबर तक का समय है। इसके बाद वह अपना फैसला लेंगे।

यही नहीं उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर सीट बंटवारे को लेकर बात नहीं बनती है तो 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। साथ ही उन्होंने नीतीश के नीच वाले बयान पर भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अब उनकी पार्टी ऊंच-नीच विरोध दिवस भी मनाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य में नानून व्यवस्था की स्थिति खराब है और सरकार हाथ पर हाथ रख कर बैठी है। उन्होंने कहा कि नीतीश को राज्य में हो रही अपराध की घटनाओं पर लगाम लगानी चाहिए।

उन्होंने नीतीश कुमार पर आरोप लगाया कि उनकी पार्टी को तोड़ने की कोशिश हो रही है। कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री खुद नेताओं को प्रलोभन दे रहे हैं। जो कि गलत है उन्हें ऐसी हरकतों से बाज आना चाहिए।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular