राष्ट्रीय

गौमूत्र के फायदों के बारे में रिसर्च करेगी मोदी सरकार

cow urine
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

मोदी सरकार ने 19 सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। ये कमेटी गौमूत्र एवं गाय से जुड़ं अन्य पदार्थों से होने वाले फायदे पर रिसर्च करेगी।

इस कमेटी का काम उन फायदों को वैज्ञानिक रुप से मान्यता प्राप्त कराना है। इस कमेटी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के तीन सदस्यों को भी शामिल किया गया है।

एक अंतरविभागीय सर्कुलर और समिति के सदस्यों ने यह जानकारी दी। सर्कुलर के मुताबिक, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन की अध्यक्षता वाली समिति ऐसी परियोजनाओं को चुनेगी जो पोषण, स्वास्थ्य और कृषि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में गाय का गोबर, मूत्र, दूध, दही और घी के लाभों को वैज्ञानिक रूप से विधिमान्य बताने में मदद करे।

राष्ट्रीय संचालन समिति नाम की समिति में नवीन एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय, बायोटेक्नोलाजी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विभागों के सचिव और दिल्ली के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक शामिल हैं।

इसमें आरएसएस और विहिप से जुड़े संगठनों विज्ञान भारती और गौ विज्ञान अनुसंधान केन्द्र के तीन सदस्य भी शामिल हैं। सरकार के सर्कुलर में कहा गया है कि हल्दी और बासमती चावल पर अमेरिका के पेटेंट के खिलाफ अभियान चलाने के लिए प्रसिद्ध पूर्व सीएसआईआर निदेशक आर ए माशेलकर भी इस समिति के सदस्य हैं। समिति में आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रोफेसर वी रामगोपाल राव और आईआईटी के ग्रामीण विकास एवं प्रौद्योगिकी केन्द्र के प्रोफेसर वीके विजय भी शामिल हैं।

wefornews bureau 

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top