Connect with us

शहर

एमएनएस कार्यकर्ताओं ने पीडब्लूडी ऑफिस में की तोड़फोड़

Published

on

mumbai
photo credit (ANI)

मुंबई में भारी बारिश में गड्ढों की चपेट में आकर मौत के कई मामले सामने आए हैं। इन घटनाओं से नाराज राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं ने पीडब्लूडी ऑफिस (लोक निर्माण विभाग) में जमकर तोड़फोड़ की। इस दौरान कार्यर्ताओं ने कुर्सियों से लेकर कंप्यूटर तक सब कुछ तहस-नहस कर दिया।

एमएनएस कार्यकर्ता स्थानीय पीडब्लूडी दफ्तर में घुसे और वहां रखी चीजों को उठा-उठाकर फेंकना शुरू किया। विडियो में नजर आ रहा है कि एमएनएस वर्कर्स ने सबसे पहले कुर्सी को उठाकर फेंक दिया।

इसके बाद उन्होंने कंप्यूटर का की-बोर्ड और प्रिंटर तोड़ डाला। कार्यकर्ताओं ने कंप्यूटर के अलावा ऑफिस में लगे एलईडी टेलिविजन को भी उठाकर फेंक दिया। ऑफिस में जमकर तोड़फोड़ करने के बाद एमएनएस कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए वहां से चले गए।

WeForNews

शहर

हिमाचल में बारिश से अब तक 16 मौतें

Published

on

फाइल फोटो

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश का कहर जारी है। पिछले 24 घंटों में हुई बारिश में 16 लोगों की जान जा चुकी है। मौसम विभाग के मुताबिक, 17 अगस्त तक बारिश का कहर जारी रहेगी।

6 नैशनल हाईवे बुरी तरह से प्रभावित

प्रदेश में 6 नैशनल हाईवे बुरी तरह बाधित हैं। इनके अलावा हिमाचल के भीतरी कस्बों और गांवों को जोडऩे वाली कुल 923 सड़कों पर यातयात बाधित हुआ है।

मुख्यमंत्री ने कहा… 

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्राकृतिक आपदा में मारे गए लोगों के प्रति शोक जाहिर करते हुए कहा कि उनके पास मृतकों का औपचारिक आंकड़ा 16 है। इसके अलावा प्रदेश में भारी स्तर पर आर्थिक नुक्सान की खबर है। मुख्यमंत्री ने जानकारी दी है कि अभी तक बारिश में तकरीबन 775 करोड़ रुपए का कुल नुक्सान हुआ है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में हुई जानमाल की क्षति के बाद युद्धस्तर पर बचाव कार्य जारी है। साथ ही साथ प्रदेश की तमाम बाधित सड़कों को भी फौरी तर पर खोलने का काम चल रहा है।

मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे अपने घरों से निकलने से बचें, साथ ही जिन रास्तों में दिक्कत है, उन रास्तों पर यात्रियों को सचेत करें। उन्होंने कहा कि इस आपात घड़ी में लोग सूझबूझ से काम लें। जितना हो सके यात्रा करने से बचें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सबसे ज्यादा क्षति मार्गों को पहुंची है। लिहाजा उन्हें ठीक करने का काम चल रहा है।

मुख्यमंत्री ने जारी की 96 करोड़ रुपए की राशि

प्रदेश में जो जानमाल की क्षति पहुंची है। उसमें फौरी राहत के तौर पर मुख्यमंत्री ने 96 करोड़ रुपए की राशि जारी कर दी है। उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा नुक्सान सड़कों को पहुंचा है। लिहाजा उन्हें ठीक करने काम चल रहा है। प्रदेश में तकरीबन सभी एन.एच. पर यातायात बाधित है। शिमला-कालका और पठानकोट मंडी पर भी यातायात ठीक ढंग से चालू नहीं हो पाया है।

WeForNews

Continue Reading

शहर

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर भूस्खलन के बाद यातायात बाधित

Published

on

Jammu-and-Kashmir-wefornews
File Photo

रामबन और उधमपुर जिलों में भारी बारिश के बाद हुए भूस्खलनों की वजह से जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात बंद कर दिया गया।

यातायात अधिकारी ने बताया कि उधमपुर में भूस्खलन और रामबन जिले में कई स्थानों पर पत्थर ढहने की घटना की वजह से राजमार्ग को बंद कर दिया गया। उन्होंने कहा, ‘राजमार्ग के कई क्षेत्रों में अभी भी भारी बारिश हो रही है।

सड़कों को साफ करने का अभियान बारिश बंद होने के बाद तत्काल शुरू किया जाएगा। राजमार्ग को सोमवार को नौ घंटों की भारी बारिश के बाद यातायात के लिए खोला गया था।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

नक्सलियों ने 3 युवकों को जलाया जिंदा

Published

on

fire-min
प्रतीकात्मक फोटो

सिरसागंज के कठफोरी के ट्रक मालिक को गाजियाबाद से रायपुर जाने का भाड़ा मिला तो उसने अपने भाई सहित एक अन्य चालक और हेल्पर को ट्रक के साथ माल ले जाने के लिये भेज दिया, लेकिन सोमवार को खबर आयी कि रायपुर से कुछ पहले तीन शव मिले हैं। यह तीनों शव यहां से ट्रक लेकर गए युवकों के बताए जा रहे हैं। ये तीनों नक्सली हमले का शिकार हुए हैं।

कठफोरी निवासी अंजू पुत्र हरिदत्त अपना ट्रक भाड़े पर चलाते हैं। चार अगस्त को उन्हे गाजियाबाद से रायपुर छत्तीसगढ मैटी ले जाने का भाड़ा मिला तो उन्होंने अपने भाई संजू बघेल (28) , दिनेश (32) पुत्र गंगादास निवासी कठफोरी और राजकिशोर (30) पुत्र रामचंद्र निवासी सिरसागंज को ट्रक लेकर कठफोरी से गाजियाबाद भेज दिया।

तीनों लोग गाजियाबाद से माल लाद कर रायपुर के लिये रवाना हो गये। सात अगस्त को जब अंजू ने अपने भाई संजू बघेल से बात की तो संजू ने बताया कि वह रायपुर से बीस किलो मीटर दूर रह गया है और एक दो घंटे में गोदाम तक पहुंच जाऐगा। लेकिन उसके बाद से ही तीनों के मोबाइल काम करना बंद हो गये। सात अगस्त की शाम से किसी से कोई संपर्क नहीं हो सका तो अंजू के साथ अन्य लडकों के परिवारीजन भी रायपुर के लिये रवाना हो गये।

अंजू ने बताया कि वहां पर पुलिस हमारे मामले की घटना की रिपोर्ट लिखने को तैयार ही नहीं थी। किसी तरह से अंजू ने अपनी रिपोर्ट रविवार की रात में दर्ज करायी लेकिन सोमवार की सुबह दस बजे पुलिस को रायपुर से बीस किलोमीटर पहले ही एक नाले के नीचे तीन जले हुऐ शव मिलने की सूचना मिली। मौके पर पहुंचे अंजू ने तीनों शवों की पहचान कर ली है। जबकि माल से लदा ट्रक गायब है।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular