Connect with us

व्यापार

शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में मिला-जुला रुख

Published

on

Sensex
फाइल फोटो

देश के शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में सोमवार को मिला-जुला रुख है। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 9.50 बजे 21.68 अंकों की कमजोरी के साथ 34,393.90 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 6.40 अंकों की मजबूती के साथ 10,570.45 पर कारोबार करते देखे गए।

बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 78.11 अंकों की मजबूती के साथ 34493.69 पर, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 28.75 अंकों की बढ़त के साथ 10,592.80 पर खुला।

–आईएएनएस

व्यापार

भारतीय निकायों के जहाज किराये पर लेने में लाइसेंस की जरूरत खत्म: गडकरी

Published

on

Nitin Gadkari

नयी दिल्ली , 24 मई : सरकार ने तटीय व्यापार एवं उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए जहाज किराया लेने पर भारतीय नागरिकों और कंपनियों के लिए लाइसेंस लेने की आवश्यकता को खत्म कर दिया है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आज यह जानकारी दी।

गडकरी ने पीटीआई भाषा से कहा कि आयात – निर्यात कंटनेरों की ढुलाई के लिए देश में पंजीकृत सहकारी संस्था , कंपनी या देश को नागरिक को किराये पर जहाज लेने में लाइसेंस लेने की जरूरत को खत्म कर दिया गया है।

उन्होंने कहा , ‘‘ इस कदम से न सिर्फ भारतीय कंटेनरों को विदेशी बंदरगाहों की तरफ रुख करने से रोका जा सकेगा बल्कि यह जहाज ढुलाई परिचालन क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। इससे सेना व नौसेना के पूर्व जवानों समेत छोटे जहाजों को किराया पर लेने से अवगत नागरिकों को तेजी से उभरते क्षेत्र का हिस्सा बनने का भी अवसर मिलेगा। ’’

गडकरी ने कहा कि इससे न केवल कारोबार सुगम होगा बल्कि रोजगार के भारी अवसर भी सृजित होंगे।

उन्होंने कहा , ‘‘ भारतीय कार्गो की विदेशी बंदरगाहों से ढुलाई से वहां परिवहन भी बढ़ता है और रोजगार सृजित होता है। इसके साथ ही इससे राजस्व और विदेशी मुद्रा की हानि होती है क्योंकि विदेशी बंदरगाहों द्वारा भारतीय निर्यातकों – आयातकों से शुल्क वसूला जाता है। ’’

नौवहन सचिव गोपाल कृष्णा ने कहा कि यह इस क्षेत्र में 1958 के बाद उठाया गया सबसे बड़ा कदम है।

Continue Reading

व्यापार

DMRC अपना खर्च कम करने के लिए मेट्रो कोच किराये पर

Published

on

Patel Chowk DMRC

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) अपना खर्च कम करने के लिए मेट्रो कोच खरीदने की बजाए किराये पर लेने की तैयारी कर रही है। मेट्रो के इस प्रस्ताव पर 11 कंपनियों ने रुचि दिखाईहै।

सब कुछ ठीक रहा तो इसकी शुरुआत ग्रीन लाइन इंद्रलोक-कीर्ति नगर, मुंडका-बहादुरगढ़ लाइन से होगी। डीएमआरसी 35 साल के लिए मेट्रो को लीज पर लेगी। एक मेट्रो कोच का जीवन काल भी इतना ही होता है। किराये पर मेट्रो चलाने की योजना के लिए डीएमआरसी ने बीते साल अक्तूबर में एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट (ईओआई) निकाला था, जिसमें इच्छुक कंपनियों को आगे आने को कहा गया था। यह ईओआई ग्रीन लाइन पर कुल 150 कोच यानि छह कोच वाली 25 मेट्रो ट्रेन सेट के लिए निकाला गया था।

भारतीय कंपनी बीईएमएल समेत बाहर की रोटम, बांम्बेडियर, मित्सुई जैसी 11 कंपनियों ने रुचि दिखाई है। इसमें कई ऐसी हैं, जिनसे डीएमआरसी मेट्रो फेज-1 से लेकर फेज-3 तक मेट्रो कोच खरीदती रही हैं।

ट्रेन की उपलब्धता पर प्रति घंटे के हिसाब से भुगतान

ऐसी व्यवस्था में कंपनी को ट्रेन की उपलब्धता पर प्रति घंटे के हिसाब से मेट्रो भुगतान करेगी। कंपनी को ट्रेन के लिए डिपो खुद मेट्रो की ओर से उपलब्ध कराया जाएगा। मगर, परिचालन छोड़कर डिपो के प्रबंधन, वहां के सिगनिलिंग सिस्टम व ट्रेन के रखरखाव की सब जिम्मेदारी उसी कंपनी की होगी। मुंडका मेट्रो डिपो और बहादुरगढ़ में बन रहे नए डिपो को किराये की ट्रेन के लिए कंपनी को उपलब्ध कराया जाएगा।

ग्रीन लाइन से शुरुआत किए जाने को लेकर मंथन

अभी मेट्रो की ग्रीन लाइन (17.09 किलोमीटर) पर इंद्रलोक/कीर्ति नगर से मुंडका तक परिचालन हो रहा है। इसका विस्तार मुंडका से बहादुरगढ़ तक किया गया है। इस लाइन पर 30 मई को मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त का दौरा है। पूरी लाइन खुलने के बाद यह 28.27 किलोमीटर हो जाएगी। वर्तमान में इंद्रलोक से मुंडका के बीच इस लाइन पर कुल 23 मेट्रो ट्रेन सेट चल रही हैं। इसमें 22 मेट्रो ट्रेन चार वाली हैं, जबकि एक ट्रेन सेट छह कोच का है। किराये पर मेट्रो कोच लाने के बाद इन ट्रेनों को यहां से हटा लिया जाएगा। वर्तमान में पूरे मेट्रो नेटवर्क के लिए डीएमआरसी के पास कुल 266 मेट्रो ट्रेन चल रही हैं। इसमें चार, छह व आठ कोच वाली ट्रेन हैं। यह मेट्रो ट्रेन रोजाना 3200 के करीब फेरे लगाती हैं।

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्स में 318 अंकों की तेजी

Published

on

sensex
File Photo

देश के शेयर बाजारों में गुरुवार को तेजी दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 318.20 अंकों की तेजी के साथ 34,663.11 पर और निफ्टी 83.50 अंकों की तेजी के साथ 10,513.85 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 59.23 अंकों की तेजी के साथ 34,404.14 पर खुला और 318.20 अंकों या 0.93 फीसदी की तेजी के साथ 34,663.11 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 34,741.46 के ऊपरी और 34,367.83 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में गिरावट रही। मिडकैप सूचकांक 38.21 अंकों की गिरावट के साथ 15,661.54 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 23.05 अंकों की गिरावट के साथ 16,953.83 पर बंद हुए।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 34.5 अंकों की तेजी के साथ 10,464.85 पर खुला और 83.50 अंकों या 0.80 फीसदी की तेजी के साथ 10,513.85 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,535.15 के ऊपरी और 10,419.80 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 9 सेक्टरों में तेजी रही। सूचना प्रौद्योगिकी (2.45 फीसदी), प्रौद्योगिकी (2.37 फीसदी), दूरसंचार (2.23 फीसदी), बैंकिंग (1.41 फीसदी) और धातु (1.00 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में प्रमुख रहे – तेल और गैस (1.72 फीसदी), वाहन (1.56 फीसदी), उपभोक्ता सेवाएं (1.03 फीसदी), रियल्टी (0.49 फीसदी) और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.32 फीसदी)।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular