इन 5 फेस मास्क से चेहरे के दाग-धब्बे करें दूर... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

इन 5 फेस मास्क से चेहरे के दाग-धब्बे करें दूर…

Published

on

fece markes-
File Photo

काम के साथ-साथ अपनी स्किन की देखभाल करना कोई आसान काम नहीं है। लेकिन अगर आप अपने चेहरे की केयर नहीं करेगें तो ग्लो खोकर डल और बेजान हो जाएगी।

कई लड़कियां महीने या दो महीने से पार्लर जाकर चेहरे की क्लिंज़िग करवा लेती हैं, लेकिन स्किन को हाइड्रेट रखने के लिए हर हफ्ते इसकी देखभाल की जानी चाहिए। आइए हम आपको ऐसे 5 फेस पैक्स के बारे में बताते है जिन्हें आप हर हफ्ते चेहरे का ग्लोई बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं।

दही और बेसन से बना फेस मास्क

गर्मी हो या सर्दी, अगर आप हर मौसम में टैन से परेशान हो तो बेसन और दही से बने इस फेस पैक को लगाएं। इस पैक को बनाने के लिए 1 चम्मच बेसन में 2 चम्मच दही मिलाएं और अच्छे से मिक्स कर लें। इस पेस्ट को चेहरे, हाथों और पैरों पर लगाएं। पेस्ट के सूखने पर हल्के गुनगुने पानी से धो लें।

Image result for दही और बेसन से बना फेस मास्क

शहद और बनाना फेस मास्क

अगर आप चेहरे पर बार-बार ऑयल आने से परेशान हैं तो केले से बने इस फेस मास्क को लगाएं। इसे बनाने के लिए आधा केला लें और इसमें 1 चम्मच शहद डालें। केले को अच्छे से मसलकर पेस्ट बनाएं और स्किन पर 10 से 15 मिनट तक लगाएं। बाद में इसे हल्के गुनगुने पानी से धो लें।

Related image

टमाटर और चीनी

टमाटर को छोटा-छोटा काटकर उसे मसलकर गाढ़ा पेस्ट बनाएं और इस पेस्ट में एक चम्मच चीनी के दानें मिलाएं। दोनों को अच्छे से मिक्स कर लें। इसे चेहरे और गर्दन पर लगाएं। 15 मिनट तक चेहरे पर इसे लगाकर रखें और फिर हल्के हाथों से चेहरे की मसाज करें।

Image result for टमाटर और चीनी का फेस पैक

2 मिनट मसाज करने के बाद ठंडे पानी से चेहरे को धोएं। इस फेस पैक को हफ्ते में 2 से 3 बार लगाएं, लेकिन 2 मिनट से ज्यादा मसाज ना करें। इस फेस पैक से स्किन से टैन हटकर ग्लोई बनेगी, क्योंकि टमाटर स्किन के pH लेवल को बैलेंस करेगा और चीनी स्किन को एक्सफोलिएट करेगी।

नींबू और शहद

स्किन से एक्स्ट्रा ऑयल निकालने के लिए सबसे बढ़िया है नींबू और शहद मास्क। इस पैक से चेहरे से फालतू ऑयल निकलकर स्किन जवां दिखती है। इसे बनाने के लिए बराबर मात्रा में नींबू का जूस और शहद मिलाएं। स्किन को पानी से साफ कर फिर इस पैक को चेहरे पर लगाएं। 15 से 20 मिनट बाद पानी से धो लें।

Related image

खीरा और एलोवेरा

डल और बेजान त्वचा को रिफ्रेश करना हो तो खीरे और एलोवेरा से बने इस फेस पैक को लगाएं। इसे बनाने के लिए 1 चौथाई खीरे के गाढ़े गूदे में 1 चम्मच एलोवेरा जूस मिलाएं। अच्छे से मिलाने के बाद इस पेस्ट को 15 से 20 मिनट तक चेहरे पर लगाए रहने के बाद धो लें।

Image result for खीरा और एलोवेरा फेस पैक

WeForNews

लाइफस्टाइल

पर्यटन : सर्दियों से पहले यात्रा उद्योग में सुधार की उम्मीद नहीं

Published

on

नई दिल्ली: विश्व के अधिकतर देश कोरोनावायरस महामारी से जूझ रहे हैं। इसका अन्य क्षेत्रों के साथ ही पर्यटन पर भी गहरा असर पड़ा है।

संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा निलंबित है और आने वाले दिनों में यहां बाहरी पर्यटकों के आने की संभावना नगण्य है।

एस. पी. जैन ग्लोबल की ओर से आयोजित वैश्विक लक्जरी बिजनेस पैनल के अनुसार, आतिथ्य एवं विमानन क्षेत्र (हॉस्पिटैलिटी एवं एविएशन सेक्टर) कोविड-19 के कारण सबसे अधिक प्रभावित हैं। भारतीय आतिथ्य उद्योग को 4.5 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।

हालांकि उद्योग के चौथी तिमाही में वापसी करने का अनुमान भी है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों पर देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के कारण इनबाउंड और आउटबाउंड पर्यटन ठंडा रहने की ही उम्मीद है। घरेलू कॉर्पोरेट यात्रा में भी देश में व्यवसायों की स्थिति के आधार पर असर देखने को मिल सकता है। हालांकि घरेलू अवकाश यात्रा में फिर से उछाल आ सकता है और यह उद्योग को महामारी के बाद उबरने में मदद करने का एक प्रमुख कारक होगा।

आईजे ड्रीम वकेशन के निदेशक देबाशीष मैत्रा ने आईएएनएस को बताया, शुरुआत में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फंसे लोग भारत की यात्रा करेंगे। कुल मिलाकर इनबाउंड टूरिज्म में धीमी वृद्धि देखी जा सकती है। हालांकि भारत हमेशा से ही अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी एक पसंदीदा और किफायती स्थान रहा है। इसलिए हम 2021 तक सामान्य स्थिति की उम्मीद कर सकते हैं।

स्टर्लिग हॉलिडे रिसॉर्ट्स के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक रमेश रामनाथन के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय यात्रा कम से कम इस वर्ष के लिए धीमी रहने की उम्मीद है। उन्होंने ईमेल के जरिए कहा, गंतव्य को शॉर्ट लिस्ट करते समय सुरक्षा, स्वच्छता, सामाजिक दूरी जैसे पहलुओं पर ध्यान दिया जाएगा। भारत में हिल स्टेशनों, समुद्र तटों, जंगलों, सांस्कृतिक स्थलों और अन्य प्रतिष्ठित एवं शानदार स्थानों की भरमार है और भारतीय यात्रियों की ओर से अपने करीबी लोगों के साथ तनाव मुक्त, पॉकेट-फ्रेंडली घरेलू छुट्टी की योजना बनाने की सबसे अधिक संभावना है।

रामनाथन ने कहा कि कई लोग कोविड-19 के तनाव को दूर करने के लिए जुलाई से बुकिंग कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि स्थिति सही होने में तीन से छह महीने और लगेंगे।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

लॉकडाउन प्रभाव : ग्रूमिंग उत्पादों की बिक्री में ‘5 गुनी वृद्धि’ हुई

Published

on

grooming

नई दिल्ली, सेल्फ-ग्रूमिंग इस समय रफ्तार पकड़ रहा है, हर कोई इसे खुशी से कर रहा है। अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने अपने पति को स्टाइलिश हेयरकट दिया, आलिया भट्ट ने भी अपना हेयर कट कराया।

यहां तक कि डचेस ऑफ कैम्ब्रिज, केट मिडलटन ने भी लॉकडाउन के दौरान अपने छोटे बच्चों की हेयरस्टाइलिंग की।

लोग अपने घरों में सुरक्षित रहते हुए अपनी सुंदरता के लिए उपाय कर रहे हैं, उससे ग्रूमिंग प्रोडक्ट्स का बिजनेस बढ़ गया है।

हेयर ड्रायर, हेयर स्टाइलर, हेयर कर्लर, हेयर स्ट्रेटनर, बॉडी ग्रूमिंग किट, और सबसे महत्वपूर्ण बात, ट्रिमर और पुरुषों के शेवर जैसे उत्पादों की मांग बढ़ी है। जिससे इन ब्रांड की बिक्री के आंकड़ों में बड़े पैमाने पर उछाल आया है।

पैनासोनिक इंडिया के लाइफस्टाइल बिजनेस ग्रुप के बिजनेस हेड शरथ नायर ने आईएएनएस को बताया, पुरुषों और महिलाओं दोनों श्रेणियों में ट्रिमर, हेयर स्टाइलिंग टूल जैसे उत्पादों की मांग बढ़ी है। हमारे ट्रिमर और हेयर ड्रायर हमारे लिए सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद बने हुए हैं। वास्तव में, हमने अपनी मूल बिक्री में 5 गुना की वृद्धि दर्ज की है।

उन्होंने आगे कहा, मैं देख रहा हूं कि लॉकडाउन ने उपभोक्ताओं में एक व्यवहारिक परिवर्तन किया है। हम निश्चित रूप से कम समय के लिए सकारात्मक प्रभाव देख रहे हैं, इसके दीर्घकालिक प्रभाव हमें आगे का समय बताएगा।

बता दें कि अपने घरों में रह रहे लोग इलेक्ट्रॉनिक चीजों की मदद से अपने दैनिक काम निपटा रहे हैं। लॉकडाउन के कारण पहले जो काम पास के सलून और नाई की दुकानों पर जाकर होता था, वो अब खुद घर पर कर रहे हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

कोरोना और सामान्य फ्लू के लक्षण में ऐसे करें फर्क

Published

on

Coronavirus

लखनऊ: कोरोना के इस काल में खांसी और बुखार आते ही लोग दहशत में आ जा रहे हैं। इसकी वजह कोरोनायरस और सामान्य फ्लू के लक्षणों का आपस में मिलना है। प्रदेश सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर रोजाना आ रही सैकड़ों काल इसकी तस्दीक करती हैं।

सवाल यह है कि दोनों में फर्क कैसे किया जाए। क्या खांसी और बुखार आते ही आपको कोरोना की जांच करानी चाहिए? माइक्रोबायोलाजिस्ट डॉ. टी.एन.ढोल के मुताबिक दोनों में काफी बारीक फर्क है। शुरूआती लक्षण काफी-कुछ मिलते-जुलते हैं, लेकिन पहचान करना संभव है। डॉ. ढोल एसजीपीजीआई में सीनियर माइक्रोबायोलाजिस्ट रहे हैं। इस वक्त हिन्द इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस में माइक्रोबायोलाजी विभाग के हेड हैं।

डॉ. ढोल के मुताबिक बुखार के साथ अगर सांस लेने में तकलीफ और सूखी खांसी है तो सावधान हो जाना चाहिए। इसके अलावा अगर खांसी के साथ गले में खराश हो रही है तो व्यक्ति फौरन डॉक्टर से संपर्क करे। डाक्टर कोरोना टेस्ट कराएगा और जरूरी दवाएं देगा जिससे पकड़ में आ जाएगा कि मरीज कोरोना से संक्रमित तो नहीं।

डॉ. ढोल ने कहा कि कोरोना में खून में आक्सीजन की कमी (40 से 50 प्रतिशत) हो जाती है। यह भी एक लक्षण है कोरोनावायरस को पहचाने का। उन्होंने कहा कि इसकी जांच पल्स आक्सीमीटर नाम की मशीन से किया जा सकता है। इस मशीन को हाथ की किसी उंगली में लगाने पर आक्सीजन लेवल पता चल जाता है जिससे झट कोरोना के बारे में पता चल सकता है।

कोरोना के लक्षण :

सांस लेने में तकलीफ, गले में खराश होने के साथ सूखी खांसी, मांसपेशियों में दर्द, बुखार

सामान्य फ्लू के लक्षण

जुकाम (नाक बहना), बुखार- खांसी, सिरदर्द, आंखों का लाल होना या आंखों में पानी आना आदि हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular