Connect with us
madrassas madrassas

अन्य

बनी-बनाई धारणाओं को चुनौती दे रहे हैं आधुनिक हो रहे मदरसे

Published

on

आजमगढ़, 27 सितम्बर | उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में स्थित सबसे पुराने मदरसों में से एक मदरसतुल इस्लाह के पूर्व छात्र रहे अबु ओसामा का मानना था कि मदरसे से स्नातक की पढ़ाई करने के बाद वह आधुनिक दुनिया में प्रतिस्पर्धा नहीं कर पाएंगे। लेकिन, उन्हें बाद में पता चला कि उनका ऐसा सोचना गलत था।

दिल्ली स्कूल ऑफ सोशल वर्क से परास्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद हैदराबाद के मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय के सामाजिक कार्य विभाग में बतौर सहायक प्रोफेसर कार्यरत ओसामा ने बताया, “मैंने महसूस किया कि वहां, मदरसे के पाठ्यक्रम और कार्यक्रम से इस्लामिक मूल्यों और नैतिकता के अलावा मैंने बहुत कुछ सीखा था।”

मदरसे खबरों में गलत वजह से रहे हैं, खासकर आजमगढ़ के मदरसे। पूर्वी उत्तर प्रदेश का आजमगढ़ जिला कभी हिंदू-मुसलमान भाईचारे के लिए जाना जाता था और जहां से कई बड़े विद्वान सामने आए थे। लेकिन, बीते कुछ सालों में मीडिया की खबरों ने इसे गलत तरीके से ‘आतंकगढ़’ के रूप में परिभाषित कर दिया क्योंकि यहां से कुछ मुस्लिम चरमपंथी गिरफ्तार हुए थे।

उत्तर प्रदेश में करीब 19,000 मदरसे हैं जिनके देश प्रेम पर सवाल उठाते हुए योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली राज्य की भाजपा सरकार ने स्वतंत्रता दिवस पर मदरसों में होने वाले राष्ट्रगान की वीडियो रिकॉर्डिग की मांग की थी।

लेकिन, इनमें से कई मदरसे, जिनमें आजमगढ़ के मदरसे शामिल हैं, बनी बनाई धारणाओं को तोड़ते हुए एक नई सकारात्मक इबारत लिख रहे हैं। वक्त के साथ कदम मिलाते हुए इन्होंने अपने पाठ्यक्रम को आधुनिक व प्रगतिशील बनाया है, साथ ही विद्यार्थियों को कंप्यूटर व अन्य आधुनिक प्रौद्योगीकीय यंत्र मुहैया कराए हैं।

इन मदरसों में अब कुरान, अरबी भाषा व धर्मशास्त्र के साथ-साथ अंग्रेजी, हिंदी, विज्ञान, गणित, राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र, कंप्यूटर साइंस आदि विषयों की पढ़ाई हो रही है। कुछ ने पॉलिटेक्निक और लघु आईटीआई भी शुरू किए हैं।

आजमगढ़ और इसके पड़ोसी जिलों में करीब 50 बड़े मदरसे हैं जहां तकरीबन 50,000 छात्र दाखिला लेते हैं। यह विद्यार्थी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, असम, जम्मू एवं कश्मीर, हरियाणा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और नेपाल तक से आते हैं।

विद्यार्थियों के बीच संदेश के आदान-प्रदान के लिए व्हाट्सएप लोकप्रिय साधन है और अधिकांश के पास ईमेल और फेसबुक अकाउंट है।

मदरसतुल इस्लाह, जिसे 1908 में स्थापित किया गया था, इस क्षेत्र के सबसे पुराने मदरसों में से एक है, जहां करीब 1500 विद्यार्थी पढ़ते हैं। इस मदरसे में प्रवेश करते ही जिस पर सबसे पहले निगाह पड़ती है वह है इसका पॉलिटेक्निक भवन।

इस्लाह से करीब 50 किलोमीटर दूर एक और मदरसा है, जामियातुल फलाह। इसकी स्थापना 1962 में हुई। यहां करीब 4300 विद्यार्थी पढ़ते हैं जिनमें से करीब आधी लड़कियां हैं।

जामियातुल फलाह के निदेशक मौलाना मोहम्मद ताहिर मदनी ने कहा कि इस्लामी मदरसों के लिए आधुनिक विषयों की शुरुआत करना जरूरी है।

मदनी ने आईएएनएस से कहा, “जामियातुल फलाह की स्थापना इस आधार पर हुई थी कि हम इस्लामी और आधुनिक, दोनों शिक्षाओं को शामिल करेंगे। हम जामिया की नींव रखने के बाद से ही ऐसा कर रहे हैं।”

मुस्लिमों की स्थिति पर सच्चर समिति की रिपोर्ट के मुताबिक, मुस्लिम समुदाय के केवल 4 फीसदी बच्चे ही मदरसों में दाखिला लेते हैं।

समुदाय के कुछ रूढ़िवादियों ने तर्क दिया कि इन चार फीसदी बच्चों को इस्लामी शिक्षाओं में विशेषज्ञ होना चाहिए और उन्हें आधुनिक विषयों को सीखने की जरूरत नहीं है, लेकिन मदरसा इस्लाह में अंग्रेजी के शिक्षक मोहम्मद आसिम का मानना है कि इन आधुनिक विषयों को सीखना इस्लाम को समझने और प्रचार करने के लिए भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि गणित का ज्ञान विरासत पर इस्लामी कानून और व्यापार में काम आएगा जबकि विज्ञान की जानकारी कुरान की आयतों को समझने में मददगार होगी।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के शोध छात्र मोहम्मद सऊद आजमी ने कहा, “यह एक अच्छा संकेत है कि मदरसे अपने छात्रों में आधुनिक समझ को बढ़ा रहे हैं। लेकिन, उन्हें अपने पढ़ाने की शैली को बेहतर करना होगा और उन्हें पर्यावरण विज्ञान और आधुनिक अर्थशास्त्र जैसे विषयों को भी जोड़ना होगी।”

–आईएएनएस

(यह खबर आईएएनएस और फ्रैंक इस्लाम फाउंडेशन के सहयोग से शुरू की गई एक विशेष श्रृंखला का हिस्सा है)

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य

दुनिया की ऐसी जगह जहां से नीचे धरती को देखना है खौफनाक

Published

on

sky

बुर्ज खलीफा, दुबई

दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग में शुमार बुर्ज खलीफा इसकी उचाई 2700 फीट है। यहां से खड़े हो कर पूरे दुबई को देखा जा सकता है। एडवेंचर्स पसंद लोगों को यह खूब भाता है।

Image result for बुर्ज खलीफा, दुबई

द विलिस टॉवर, शिकागो

द विलिस टॉवर में 1 हजार 300 फीट की ऊंचाई पर ग्लास की बालकनी बनी हुई है। यहां से खड़े होकर लोग शिकागो की खूबसूरती को देख सकते हैं। ये ग्लास 4535.92 तक का वजन झेल सकता है।

Related image

ग्रांड कैन्योन स्काईवॉक

इस स्काईवॉक से 700 फीट की ऊंचाई से नीचे देखना एक शानदार अनुभव होता है।

Image result for ग्रांड कैन्योन स्काईवॉक

मोंट ब्लांक, फ्रेंच आल्प्स

मोंट ब्लांक यूरोप की सबसे ऊंची चोटी है इसको फ्रेंच आल्प्स के नाम से जाना जाता है। यहां 12,600 फीट की ऊंचाई पर ग्लास फ्लोर बना है, जिसे ‘स्टेप इन टू द वॉयड’ का नाम दिया है। यहां से मोंट ब्लांक के इर्द-गिर्द स्थित बर्फीले चोटी का अद्भुत नज़ारा देखना रोमांच और खोफ से भर देता है। इन्ही सब वजहों से हर साल लाखों सैलानी यहां घूमने आते हैं।

Related image

सीएन टॉवर, टोरंटो

1800 फीट की ऊंचाई पर बना है ये टॉवर और यहां से शहर का अमेजिंग व्यू दिखाई देता है।

Image result for सीएन टॉवर, टोरंटो

लैंगकावी स्काईब्रिज, मलेशिया

मलेशिया का लैंगकावी स्काईब्रिज 2300 फीट की ऊंचाई पर बना है और 410 मीटर लंबा ये स्काईब्रिज केबल ( तार ) के सहारे बना हुआ है।

Image result for लैंगकावी स्काईब्रिज, मलेशिया

वॉक ऑफ फेथ, चीन

चीन के झांगजियाजी में 4700 फीट की ऊंचाई पर बना है वॉक ऑफ फेथ ग्लास वॉकवे। यहां आप केबल कार के द्वारा ही जा सकते हैं।

Related image

Continue Reading

अन्य

ठंड का कहर: मगरमच्छ बन गया बर्फ…देखें वीडियो

Published

on

iligaters

कड़ाके की ठंड से जूझ रहे अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में एक मगरमच्छ नजर आ रहा है जो कि ठंड की वजह से नदी में जमा हुआ है।

बता दें कि पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका में इस समय काफी ठंड पड़ रही है। ठंड का आलम ये है कि नदियां जम गई हैं जिसकी वजह से नदी में मगरमच्छ भी अंदर ही जम गया है, केवल उसका मुंह बाहर नजर आ रहा है।

शेलोट रिवर स्वैम्प पार्क ने अपने फेसबुक पेज पर इसका वीडियो शेयर किया है जिसमें चारों तरफ सिर्फ बर्फ ही नजर आ रही है और बीच में मगरमच्छ फंसा हुआ है। इस वीडियो में एक शख्‍स पीछे से वहां का हाल बयां करता नजर आ रहा है।

Update: Alligators in Ice!

UPDATE on our SUPER Reptiles! #oib #oibswamppark #natgeo #northcarolina #visitnc #visitmyrtlebeach #alligators #swamp #wect #wral #wway #bombcyclone #winter #survival

Posted by Shallotte River Swamp Park on Sunday, 7 January 2018

 

wefornews 

Continue Reading

अन्य

जानिए 2018 में किन राशियों पर रहेगा शनि का प्रकोप…

Published

on

शनि को हमेशा से ही ऐसे ग्रह के तौर पर माना जाता है जिसकी चाल किसी के लिए खुशियां तो किसी के लिए गम लेकर आ सकती हैं।

शनि को हमेशा से ही क्रोधी प्रवृत्ति का माना जाता है। जब भी शनि की बात हो तो वह कौन से भाव में तथा किस धातु के पाद में है यह जानना अति आवश्यक हो जाता है क्योंकि इससे जीवन में शुभ-अशुभ, हानि-लाभ, घटना-दुर्घटना, उत्थान-पतन आदि के बारे में संकेत मिलते हैं। आइए जानिए कि साल 2018 में आपकी राशि में शनि किस भाव में रहेगा।

मेष- नवें भाव में रजत के पाये पर शनि के होने से लाभ, शुभ, सफलता और आर्थिक वृद्धि होगी।

वृषभ- आठवें भाव में लौह के पाये पर शनि के भ्रमण से कष्ट, दुख, परिवार आदि में कलह, अड़चनों का संकेत, शनि की ढैय्या से प्रभावित होंगे।

मिथुन- सातवें भाव में तांबे के पाये पर शनि के होने पर धन-सम्पदा, लाभ देवी लक्ष्मी की कृपा के योग बन रहे हैं। वैवाहिक जीवन का प्रारंभ होगा तथा पत्नी सुख, शांति, आरोग्य काया और उन्नति मिलेगी।

कर्क- छठें भाव में सुवर्ण पाद पर शनि का भ्रमण सुख-दुख, लाभ-हानि, श्रम-संघर्ष की समान स्थिति रहेगी। पारिवारिक सुख में बाधा उत्पन्न होगी। धोखे का भय सताएगा। लगातार कई उतार चढ़ाव से परेशान रहेंगे।

सिंह- पांचवें में रजत के पाये पर शनि के भ्रमण से लाभ, सुख, आर्थिक, सामाजिक, पारिवारिक स्थिति सुखमय रहेगी।

कन्या- चतुर्थ भाव में लौह पाद पर शनि से अशांति, कलह और अड़चनें रहेंगी। व्यवसाय में लाभ कम, हानि अधिक होगी। सिर दर्द और छोटी-मोटी बीमारियों से परेशान रहेंगे।

तुला- तीसरे भाव में ताम्र के पाये में शनि भ्रमण से देवी लक्ष्मी की कृपा, उद्योग, व्यापार में उन्नति होगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। इस राशि के जातकों को शनि की कृपा से सभी श्रेष्ठमय, सुखमय स्थिति प्राप्त होगी।

वृश्चिक- द्वितीय भाव में रजत पाद पर शनि तथा पैरों की ओर से उतरती शनि की साढ़ेसाती शुभ, मंगल, लाभकारी, अर्थोपार्जन में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। मकान, वाहन, जमीन, प्रॉपर्टी में विस्तार, व्यापार में लाभ होगा।

धनु- प्रथम भाव में सुवर्ण पाद पर शनि रहेंगे। ह्रदय के मध्य भाग पर शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव सुखद नहीं है। आय से अधिक व्यय होगा। व्यापार में हानि के योग बनेंगे। श्रम तथा संघर्ष अधिक होगा। स्वास्थ्य की चिंता सताएगी। कहीं बाधा, कहीं असंतोष रहेगा। परिवार में अशांति होगी।

मकर- बारहवें भाव में लौह पाद पर शनि का भ्रमण, सिर पर शनि की साढ़ेसाती का दुखद प्रभाव रहेगा। कलह, कष्ट, विघ्न-बाधा के साथ-साथ परिवार के किसी सदस्य का विछोह संभव है। उद्योग व्यापार में अनिश्चितता रहेगी।

कुंभ- ग्याहरवें भाग में सुवर्ण पाद पर शनि रहेंगे। संघर्ष के बावजूद सफलता अनिश्चित रहेगी। मानसिक उद्विग्नता, उदासी, अशांति लेकिन व्यवसाय उद्योग में उन्नति के योग बन रहे हैं।

मीन- दसवें भाव में ताम्र पाद पर शनि भ्रमण करेंगे। धनाभाव से मुक्ति मिलेगी और देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करेंगे। स्त्री सुख, परिवार में शांति बनी रहेगी। स्वास्थ्य लाभ, सहयोगी, मित्रों से प्रसन्नता के संबंध बने रहेंगे।

wefornews 

Continue Reading
Advertisement
sangh-min
शहर45 mins ago

ताजगंज में नहीं लगने दी शाखा तो डीएम-एसपी पर गिरी गाज

sensex down
व्यापार1 hour ago

शेयर बाजारों में गिरावट,सेंसेक्स 219 अंक नीचे

parrikar-min (2)
राजनीति1 hour ago

प्लास्टिक जिम्मेदारी के साथ इस्तेमाल करें: पर्रिकर

madhya-pradesh
शहर1 hour ago

मध्य प्रदेश : हज यात्रियों को प्रशिक्षण 26 जून से शुरू

air pollution
शहर2 hours ago

जहरीली हवा पेड़ों में कुपोषण पैदा कर रही

crime-scene
शहर2 hours ago

बिहार में सर्जिकल स्प्रिट पीने से 4 युवकों की मौत

iifa-
मनोरंजन2 hours ago

IIFA Awards 2018 : देखें Winners की पूरी List

surjewala
राजनीति2 hours ago

देश को लूटना और लुटवाना मोदी सरकार का तकिया कलाम: कांग्रेस

shiv sena
राजनीति2 hours ago

शिवसेना का मोदी से सवाल: किसानों की खुदकुशी क्या अच्छे दिन हैं?

राष्ट्रीय3 hours ago

‘शैलजा से शादी करना चाहता था मेजर निखिल’

beadroom-min
ज़रा हटके2 weeks ago

ये हैं दुनिया के अजीबोगरीब बेडरूम

beer spa
ज़रा हटके2 weeks ago

यहां पीने के साथ नहाने का भी उठा सकते हैं लुफ्त

amit-shah-yogi-adityanath
ब्लॉग3 weeks ago

इस्तीफ़े की हठ ठाने योगी को अमित शाह का दिलासा

congress
चुनाव2 weeks ago

भाजपा को लगा झटका, कांग्रेस ने जीती जयनगर सीट

burger-min
ज़रा हटके2 weeks ago

इस मंदिर में प्रसाद में बंटता है बर्गर और ब्राउनीज

Climate change
Viral सच3 weeks ago

बदलता जलवायु, गर्माती धरती और पिघलते ग्लेशियर

bhadash cafe-min
ज़रा हटके2 weeks ago

भड़ास निकालनी हो तो इस कैफे में जाइए…

Lack of Toilets
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड : ‘लड़कियों वाले गांव’ में शौचालय नहीं

राष्ट्रीय3 weeks ago

किसान आंदोलन के पांचवे दिन मंडियों में सब्जियों की कमी से बढ़े दाम

bundelkhand water crisis
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड में पानी के लिए जान दे रहे जानवर और इंसान

SANJU-
मनोरंजन5 days ago

‘संजू’ में रहमान का गाना ‘रूबी रूबी’ रिलीज

Loveratri Teaser
मनोरंजन2 weeks ago

सलमान के बैनर की लवरात्रि का टीजर रिलीज

Salman khan and sahrukh khan
मनोरंजन2 weeks ago

‘जीरो’ का नया टीजर दर्शकों को ईदी देने को तैयार

soorma
मनोरंजन2 weeks ago

‘सूरमा’ का ट्रेलर रिलीज

Dhadak
मनोरंजन2 weeks ago

जाह्नवी की फिल्म ‘धड़क’ का ट्रेलर रिलीज

मनोरंजन3 weeks ago

सपना के बाद अब इस डांसर का हरियाणा में बज रहा है डंका

sanju-
मनोरंजन3 weeks ago

फिल्म ‘संजू’ का रिलीज हुआ पहला गाना, ‘मैं बढ़िया, तू भी बढ़िया’

race 3
मनोरंजन3 weeks ago

‘रेस 3’ का तीसरा गाना ‘अल्‍लाह दुहाई है’ रिलीज

salman khan
मनोरंजन4 weeks ago

सलमान खान की फिल्म रेस-3 का ‘सेल्फिश’ गाना हुआ रिलीज

राष्ट्रीय1 month ago

दिल्ली से विशाखापट्टनम जा रही आंध्र प्रदेश एक्‍सप्रेस के 4 कोच में लगी आग

Most Popular