Connect with us

शहर

मध्य प्रदेश : सड़क दुर्घटना में 12 की मौत, 8 घायल

Published

on

aacident-
फोटो-ANI

मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में गुरुवार सुबह जीप और ट्रैक्टर के बीच भंयकर टक्कर हो गई । इस हादसे में 12 लोगों के मरने की खबर है।

जबकि इस हादसे में 8 घायल हो गए। घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, गुरुवार सुबह अम्बाह रोड पर जीप की रेत से भरे ट्रैक्टर से टक्कर हो गई।

कार में सवार लोग एक ही परिवार के थे, जो रिश्तेदार की शव यात्रा में शामिल होने जा रहे थे। पुलिस के मुताबिक, इस हादसे में 12 लोगों की मौत हुई है, जिसमें सात महिलाएं हैं। वहीं आठ लोग घायल हुए है, जिनमें दो की हालत गंभीर है।

WeForNews

शहर

कम बारिश से बिहार में खेत सूखे, किसान हताश

आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में अब तक जितनी बारिश होनी चाहिए थी, उससे 42 फीसदी कम बारिश हुई है।

Published

on

farmers in Bihar

पटना, 19 जुलाई। बिहार के सभी 38 ज़िलों से मॉनसून अभी तक रूठा हुआ ही है। इससे किसान बेहद मायूस हैं। उन्हें सूखे की आशंका सताने लगी है। कम बारिश की वजह से बमुश्किल 15 फीसदी धान की रोपाई हो पाई है। कई ज़िलों में तो धान की बीज (बिचड़े) डालने लायक बारिश भी नहीं हुई।

बिहार राज्य कृषि विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि बिहार में 1 जून से 16 जुलाई के बीच सामान्य से 42 प्रतिशत बारिश कम हुई है। इस दौरान होने वाली 353 मिलीमीटर के मुकाबले अभी तक करीब 200 मिलीमीटर ही बारिश ही हुई है। माना जा रहा है कि कम बारिश का असर धान और मक्का की खेती पर पड़ेगा।

माना जाता है कि आद्रा नक्षत्र में झमाझम बारिश होने से धान की उपज अच्छी होती है। लेकिन बिहार में आद्रा नक्षत्र में कहीं भी झमाझम बारिश नहीं हुई। भोजपुर, रोहतास, कैमूर, भागलपुर ऐसे जिले हैं, जहाँ धान की अच्छी उपज होती है। लेकिन वहाँ भी बारिश कम ही रही। इससे किसानों में मायूसी पसर गयी है।

पूसा स्थित राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक डॉ़ मृत्युंजय कुमार कहते हैं कि लंबी अवधि वाले धान की खेती के लिए मई से 10 जुलाई तक बिचड़ा डालना होता है। मध्यम अवधि वाले धान का बिचड़ा डालने का समय 25 जून तक होता है। इसीलिए अब किसानों के सिंचाई के साधनों का इस्तेमाल करके बिचड़ा डाल देना चाहिए। वर्ना, आने वाले महीनों में बारिश की दशा सुधरने के बावजूद उन्हें अच्छी उपज नहीं मिल सकेगी। अच्छी उपज के लिए धान की रोपाई अब तक ख़त्म हो जानी चाहिए।

भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ़ राजेश का कहना है कि धान की फसल के लिए कई आधुनिक तकनीक वाले बीज आ चुके हैं। इन्हें कम पानी और बाढ़ वाले इलाकों में भी लगाकर अच्छी फसल पाया जा सकता है। हालांकि, डॉ़ राजेश ये भी मानते हैं कि ऐसे बीज अब भी छोटे और मध्यम दर्जे के किसानों की पहुंच से हैं।

कृषि विभाग के अनुसार, चालू खरीफ मौसम में 34 लाख हेक्टेयर में धान और 4.75 लाख हेक्टेयर में मक्के की खेती का लक्ष्य हैं। 16 जुलाई तक करीब पांच लाख हेक्टेयर में ही धान की रोपाई हो पायी है जबकि 2.64 लाख हेक्टेयर में मक्के बोया जा चुका है।

बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और अधिकारियों ने सूखे की आशंका की समीक्षा की है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के साथ है तथा किसी भी आपदा से निपटने को तैयार है। उन्होंने बताया कि किसानों की मदद के लिए आकस्मिक फसल की योजना भी बनायी जा रही है।

–आईएएनएस

Continue Reading

शहर

बिहार: दरभंगा में 8 साल की बच्ची के साथ रेप

Published

on

gangrape
फाइल फोटो

देश में लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न रुकने का नाम नहीं ले रहा है। बिहार के दरभंगा में 65 साल के एक मौलवी पर 8 साल की बच्ची को हवस का शिकार बनाने का आरोप लगा है। जानकारी के मुताबिक, मौलवी बच्ची को पढ़ाने उसके घर आता था। इसी दौरान उसने बच्ची के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया जा रहा है।

पुलिस के मुताबिक, हायाघाट थाना के एक गांव का रहने वाला हाफिज मोजिबुररहमान गांव में ही ट्यूशन पढ़ाने का काम करता था। मंगलवार देर शाम में वह अपने घर के पास के ही एक घर में एक आठ वर्षीय बच्ची को रोज की तरह ट्यूशन पढ़ाने गया था।

इसी दौरान घर की बिजली चली गई और उसने चाकलेट का लालच देकर बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। अत्यधिक रक्तस्राव होने के बाद बच्ची ने शोर माचाया, तब उसकी मां पहुंची। पीड़िता की मां के आने तक मौलवी वहां से फरार हो गया।

पीड़ित बच्ची के परिवारवालों ने थाने में जाकर मौलवी के खिलाफ केस दर्ज कराया। पुलिस के मुताबिक आरोपी मौलवी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पीड़िता को दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

WeForNews

Continue Reading

शहर

बेवफाई के शक में पत्नी के प्राइवेट पार्ट में डाला बिजली का तार

Published

on

wife
प्रतीकात्मक फोटो

छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स के एक जवान ने बेवफाई के शक में कथित रूप से अपनी पत्नी के प्राइवेट पार्ट में बिजली का तार डाल दिया जिससे उसकी मौत हो गई है। इस कपल के दो बच्चे हैं। घटना राज्य के बलोदबाजार-भाटपारा जिले की है। पुलिस ने आरोपी जवान को हिरासत में लिया है।

सरगांव पुलिस चौकी के सहायक सब इंस्पेक्टर पारस राम जगत ने बताया कि आरोपी की पहचान सुरेश मिरी के रूप में की गई है। वह दंतेवाड़ा में छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स में कुक का काम करता है।

उन्होंने कहा कि जब उसकी पत्नी लक्ष्मी बाथरूम में कपड़े धो रही थी, उस समय सुरेश पहुंचा और उसे पीटना शुरू कर दिया। लक्ष्मी जब बेहोश हो गई तो मिरी ने उसके प्राइवेट पार्ट में बिजली का तार डाल दिया। करंट लगने से लक्ष्मी की मौके पर ही मौत हो गई।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular