Connect with us

ज़रा हटके

सरकार समर्थित होती हैं ‘लिंचिंग’ की घटनाएं : कानून विशेषज्ञ

“लिंचिंग की घटनाएं स्थानीय सरकारों द्वारा समर्थित होती हैं और आरोपियों को एक तरह से संरक्षण मिला होता है, इसलिए इनकी कुव्वत की बात नहीं है वह इस पर अलग से कानून बनाएं। इसके लिए अलग तरह की इच्छाशक्ति चाहिए और उसमें आपकी निष्पक्षता झलकनी चाहिए। बिना संरक्षण के लिंचिंग की घटनाएं नहीं हो सकतीं।”

Published

on

व्हॉट्सएप के जरिये अफवाह फैलाना, आठ-दस लोगों को जुटाकर किसी को निशाने पर लेना और पीट-पीट कर उसकी हत्या कर देना। मामला तूल पकड़ने पर सरकार की ओर से यह बयान आना कि ‘किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती’ और इसके बाद गंभीर चुप्पी। देश ने चार साल में इस अमानवीय चलन को प्रचलन बनते देखा है और सोच रहा है, आखिर किस ओर जा रहे हैं हम?

असम, त्रिपुरा, महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु समेत अन्य राज्यों में बीते दो महीनों में लिंचिंग (भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या) की दो दर्जन से ज्यादा घटनाओं के बाद देश इस पर अंकुश लगाने के लिए अलग से सख्त कानून की जरूरत महसूस करने लगा है। कानून विशेषज्ञों का हालांकि मानना है कि ऐसी घटनाएं प्रादेशिक सरकार की सहमति से होती हैं, इसलिए आरोपियों के संरक्षकों से सख्त कानून बनाने की अपेक्षा रखना बेमानी है।

कानून विशेषज्ञ और सर्वोच्च न्यायालय के वकील सुशील टेकरीवाल ने लिंचिंग की घटनाओं पर आईएएनएस से कहा, “लिंचिंग की घटनाएं स्थानीय सरकारों द्वारा समर्थित होती हैं और आरोपियों को एक तरह से संरक्षण मिला होता है, इसलिए इनकी कुव्वत की बात नहीं है वह इस पर अलग से कानून बनाएं। इसके लिए अलग तरह की इच्छाशक्ति चाहिए और उसमें आपकी निष्पक्षता झलकनी चाहिए। बिना संरक्षण के लिंचिंग की घटनाएं नहीं हो सकतीं।”

mob lynching

As mob lynchings fueled by WhatsApp messages sweep India, authorities struggle to combat fake news – Photo : The Washington Post

उन्होंने कहा, “लिंचिंग की घटनाएं कानूनी समस्या से ज्यादा सामाजिक समरसता व निरपेक्षता से संबंध रखती हैं, अगर अतिरेकवादी ताकतें इस तरह की घटनाओं को जंगलीपन और वहशीपन तरीके से अंजाम देंगी तो हमारा संविधान और कानून व्यवस्था ध्वस्त हो जाएगी। वर्तमान समय में जिस तरह से लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं, उस पर स्थापित कानून पर्याप्त नहीं है। इस पर कठोर से कठोर कानून बनाया जाना चाहिए। फासीवादी ताकतों को भीड़ की शक्ल में कोरे अफवाह पर बिना किसी सबूत के किसी की हत्या कर देने की छूट कोई कानून नहीं देता।”

एडवोकेट टेकरीवाल ने कहा, “लिंचिंग को लेकर हिंदुस्तान में कोई कानून नहीं है, हम लिंचिंग को आम हत्या के कानून से जोड़ते हैं। कानून के तहत धारा 148, 149 दंगे की बात करती है, धारा 302 हत्या की बात करती है, 323, 325 चोटों की बात करती है और 307 हत्या के प्रयास की बात करती है, इन्हीं धाराओं का प्रयोग को लिंचिंग के मामलों में किया जाता है।”

वहीं दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत कर रहे एडवोकेट कवीश शर्मा ने आईएएनएस को बताया, “सर्वोच्च न्यायालय ने हाल ही में लिंचिंग पर अलग कानून बनाने का आदेश देने से इनकार कर दिया, लेकिन अदालत ने केंद्र और राज्य सरकारों को इसपर योजना बनाने का दिशानिर्देश जारी किया है। शीर्ष अदालत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि लिंचिंग का कारण कुछ भी हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन यह एक अपराध है और इसका निपटारा कानून के तहत ही किया जाना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “हां, देश में लिंचिंग पर मजबूत कानून की अनुपस्थिति है। पुलिस अभी भी आईपीसी के तहत आरोपी पर कार्रवाई करती है जो प्रकृति में सामान्य है। दहेज रोकथाम अधिनियम, पॉस्को की तरह लिंचिंग मामलों के लिए भी अलग कानून होना चाहिए।”

एडवोकेट कवीश ने कहा, “वर्तमान में लिंचिंग कानून व्यवस्था की समस्या के रूप में माना जाता है, यह राज्य के क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आता है। पुलिस आईपीसी की धारा 115,116,117 के तहत आरोपी के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। यह मामले के ऊपर निर्भर करता है कि उसकी प्रवृत्ति क्या है।”

अदालत में वीडियोग्राफी को सबूत माना जाए या नहीं, इस पर दोनों कानून विशेषज्ञों ने कहा कि वीडियोग्राफी का सबूत अदालत में उस स्थिति में मान्य है, जिसमें सबूतों, गवाहों, दस्तावेजों और मौलिक सबूतों में आपस में मेल-मिलाप हो, अन्यथा वह मान्य नहीं होगा। आपस में कड़ियों का मिलना जरूरी है, तभी सबूत मान्य होगा।

लिंचिंग पर सख्त कानून की वकालत करते हुए दोनों विशेषज्ञों ने कहा, “पहले तो आम हत्या की घटना और लिंचिंग की घटना को अलग-अलग करना होगा। लिंचिंग की पहचान करनी होगी और फिर उसके बाद उसपर कानून बनाना पड़ेगा।”

सुशील टेकरीवाल ने कहा, “लिंचिंग को दुर्लभतम मामले की श्रेणी से अलग करना होगा, क्योंकि अदालत कहती है कि दुर्लभतम मामले में ही फांसी की सजा दी सकती है।”

उन्होंने कहा कि पॉस्को, टाडा, मकोका जैसे कानून इसलिए बने, क्योंकि स्थापित कानून न्याय करने में विफल रहे। इसलिए लिंचिंग भी विशेष श्रेणी का अपराध है और इसके लिए कानून बनाना चाहिए।

वहीं पुलिस प्रशासन की विफलता पर टेकरीवाल ने कहा, “पुलिस का काम करने का तरीका सरकार के अधीन है, उसकी स्वायत्तता नहीं है। भारतीय दंड संहिता में पर्याप्त कानून हैं, फिर भी अलग कानून और एजेंसियां बनी हैं। अक्सर देखा गया है कि पुलिस लिंचिंग की घटनाओं पर पर्दा डालने का काम करती है। वह इसे आम अपराध के रूप में लेती है और ज्यादातर लिंचिंग की घटनाओं में स्थानीय नेता शामिल होते हैं, इसलिए उन्हें भी इस परिधि में लाना चाहिए।”

भारतीय समाज में लिंचिंग पर सवाल उठाते हुए समाजसेवी डॉ. बीरबल झा ने कहा, “लिंचिंग की घटना किसी भी सभ्य समाज को शोभा नहीं देती। भारतीय कानून किसी को भी आवेश में आकर किसी की हत्या करने का अधिकार नहीं देता है। समाज में इस तरह की घटनाएं निंदनीय हैं और समाज को यह सोचने के लिए मजबूर करती हैं कि क्या हम पढ़े-लिखे समाज का निर्माण कर रहे हैं या फिर अनपढ़ों की तरह आचरण कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “सरकार को इस मुद्दे पर आगे आना चाहिए और इस पर लिंचिंग विरोधी कानून बनाना चाहिए। इस तरह की घटनाओं में कोई भी व्यक्ति भीड़ को इकठ्ठा कर अपनी निजी दुश्मनी निकालने का फायदा ले सकता है। इस तरह की घटनाओं से समाज अव्यवस्थित हो जाएगा। ऐसी घटनाओं के जरिये कुछ लोग अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। अगर इस तरह की घटनाएं होंगी, तो न्यायिक व्यवस्था का कोई मतलब ही नहीं रह जाएगा।”

जितेंद्र गुप्ता

–आईएएनएस

अन्य

बांधवगढ़ ले जाए जाएंगे उत्पाती हाथी

Published

on

Elephant

भोपाल, 19 सितंबर | छत्तीसगढ़ में उत्पात मचाने वाले हाथी काफी समय से मध्य प्रदेश के सीधी जिले में घुसकर उत्पात मचा रहे हैं। इस दौरान दो लोगों की मौत होने के अलावा संपत्ति का भारी नुकसान हो चुका है। वन अमले ने इन हाथियों को कब्जे में ले लिया है और इन्हें बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान भेजने की तैयारी हो रही है। वन विभाग की ओर से बुधवार को दी गई आधिकारिक जानकारी में बताया गया कि छत्तीसगढ़ के हाथी मवई नदी को पार कर सीधी जिले में घुस गए और यहां जमकर उत्पात मचाया। इन हाथियों ने कुंदौर गांव के कच्चे घरों को तोड़कर उनमें रखा अनाज खा लिया और खेतों की फसलों को तबाह कर दिया।

हाथियों के बढ़ते आतंक को देखते हुए टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने तत्काल सोलर लाइट गांव की सीमा पर लगा कर हाथियों को गांव में घुसने से रोका। इसके बाद हाथी अन्य गांवों में भी इसी तरह उत्पात मचाते हुए सीधी मुख्यालय की 15 किलोमीटर की परिधि में पहुंच गए। हाथियों को भगाने के लिए पश्चिम बंगाल से विशेषज्ञ भी बुलाए गए। अगस्त से सितंबर के बीच इन उत्पाती हाथियों ने दो ग्रामीणों की जान भी ले ली।

उत्पाती हाथियों पर काबू पाने के लिए बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के संचालक मृदुल पाठक के नेतृत्व में अधिकारियों और कर्मचारियों के दल ने अभियान चलाया और कुल पांच हाथियों को कब्जे में ले लिया है। इन हाथियों को बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान ले जाया जाएगा।

–आईएएनएस

Continue Reading

ज़रा हटके

राहुल गांधी ने चाय पीते आंख मारी

Published

on

Rahul Gandhi Bhopal

भोपाल, 17 सितंबर | अभी लोग फिल्म अभिनेत्री प्रिया प्रकाश की तरह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा संसद के भीतर आंख मारने का किस्सा नहीं भूले होंगे कि मध्यप्रदेश की राजधानी में सोमवार को चाय पीते हुए ऐसी ही तस्वीर एक बार फिर सामने आई है। यह तस्वीर सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो रहा है। भोपाल में राहुल गांधी का लाल घाटी से रोड शो शुरू हुआ। राहुल का काफिला जब पुराने भोपाल से गुजर रहा था, तभी वह बस से उतरे और राजू टी स्टॉल पर खड़े होकर उन्होंने समोसा खाया, उसके बाद चाय भी पी।

राहुल गांधी इस दौरान लगभग चार मिनट तक वहां रुके। यहां जमा युवाओं ने राहुल के साथ सेल्फी ली। कांग्रेस अध्यक्ष ने दुकानदार से समोसा के बारे में कुछ पूछा भी।

राहुल चाय पी रहे थे और कार्यकर्ताओं का अभिवादन भी स्वीकार कर रहे थे। उन्होंने चाय की चुस्की ली और इसी दौरान उनकी आंख भी चल गई। चाय पीने और आंख मारने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

–आईएएनएस

Continue Reading

ज़रा हटके

जानिए, शादी में दूल्हे-दुल्हन को क्यों मिला तोहफे में 5 लीटर पेट्रोल

Published

on

marriage-min

देश मे लगातार बढ़ रही पेट्रोल-डीजल की कीमत ने आम लोगों को काफी परेशान किया है। लोग शादियों में अब तो पेट्रोल भी देने लगे हैं।

तमिलनाडु में इस सप्ताह हुई एक शादी में दूल्हे को उसके दोस्तों ने गिफ्ट में पेट्रोल से भरी हुई बोतले गिफ्ट में दी। तमिल टीवी चैनल के मुताबिक शादी में दूल्हा और दुल्हन मेहमानों की बधाई स्वीकार कर रहे थे। उसी दौरान दूल्हे के दोस्त आए और उसे पांच लीटर पेट्रोल का कैन थमाया।

तमिल टीवी चैनल ‘पुथिया तलाईमुरई’ के अनुसार कुड्डलूर में एक विवाह समारोह के दौरान जब नवदंपती प्रभु और दिव्या मेहमानों का अभिवादन कर रहे थे तभी दूल्हे के दोस्त पांच लीटर पेट्रोल की केन लेकर वहां पहुंचे। उनके गिफ्ट को देखकर चारों तरफ लोग हंसने लगे। इसके बाद दूल्हे ने दोस्तों के इस उपहार को स्वीकार किया। प्रभु एक ऑटोरिक्शा चालक है। दोस्तों ने सोचा कि दूल्हा एक ऑटो ड्राइवर है। इसलिए दूल्हे को इस तरह का गिफ्ट देना चाहिए।

जब लोगों ने दूल्हे के दोस्तों से इस अनोखे गिफ्ट के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि इतना महंगा पेट्रोल उपहार के रूप में जरूरत की वस्तु बन गया है। इस उपयोगिता को देखते हुए लोगों ने पेट्रोल दूल्हे को उपहार में देने का फैसला किया। बता दें, तमिलनाडु में पेट्रोल के दाम इस वक्त 85.15 रुपये प्रति लीटर हैं।

WeForNews 

Continue Reading
Advertisement
Bihar professor assaulted
ज़रा हटके4 weeks ago

कहीं आपको भी अटल जी की महानता पर शक़ तो नहीं!

Kalidas
ज़रा हटके3 weeks ago

जहां दुनिया का महामूर्ख पैदा हुआ

MODI-SHAH
ब्लॉग4 weeks ago

‘एक देश एक चुनाव’ यानी जनता को उल्लू बनाने के लिए नयी बोतल में पुरानी शराब

rakhsa
लाइफस्टाइल4 weeks ago

इस राखी बहनें दें भाई को उपहार!

pm modi
ब्लॉग3 weeks ago

सत्ता के लालची न होते तो नोटबन्दी के फ़ेल होने पर मोदी पिछले साल ही इस्तीफ़ा दे देते!

Homosexuality
ब्लॉग2 weeks ago

समलैंगिकों को अब चाहिए शादी का हक

rahul gandhi
चुनाव2 weeks ago

कर्नाटक निकाय चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनी कांग्रेस

Maharashtra Police
ब्लॉग2 weeks ago

जब सिंहासन डोलने लगता है तब विपक्ष, ‘ख़ून का प्यासा’ ही दिखता है!

Jaiphal-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

जायफल के ये फायदे जो कर देंगे आपको हैरान…

kerala flood
राष्ट्रीय4 weeks ago

केरल में थमी बारिश, राहत कार्यों में तेजी

Banda doctor
शहर59 mins ago

उप्र : चिकित्सक पिटता रहा, एसपी-डीएम ने नहीं उठाया फोन!

rahul gandhi
राजनीति9 hours ago

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज को राहुल ने बताया बीजेपी की तानाशाही

babul
राष्ट्रीय10 hours ago

दिव्यांगों के कार्यक्रम में बाबुल सुप्रियो ने दी ‘टांग तोड़ डालने’ की धमकी

nheru-min
राजनीति5 days ago

दीनदयाल की मूर्ति के लिए हटाई गई नेहरू की प्रतिमा

arjun kapoor
मनोरंजन1 week ago

अर्जुन कपूर की फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ का गाना ‘तेरे लिए’ रिलीज

mehul-choksi
राष्ट्रीय1 week ago

मेहुल चोकसी का सरेंडर से इनकार, कहा- ईडी ने गलत फंसाया

Mahesh bhatt
मनोरंजन1 week ago

महेश भट्ट की फिल्म ‘द डार्क साइड’ का ट्रेलर लॉन्च

Jalebi -
मनोरंजन1 week ago

रोमांस से भरपूर है महेश भट्ट की ‘जलेबी’, देखें ट्रेलर

Air-India-Flight
राष्ट्रीय2 weeks ago

मालदीव: एयर इंडिया के पायलट ने निर्माणाधीन रनवे पर लैंड कराया प्लेन

शहर2 weeks ago

कानपुर: पार्क में बैठे प्रेमी जोड़े को बनाया मुर्गा, वीडियो वायरल

Most Popular