Connect with us

ज़रा हटके

सरकार समर्थित होती हैं ‘लिंचिंग’ की घटनाएं : कानून विशेषज्ञ

“लिंचिंग की घटनाएं स्थानीय सरकारों द्वारा समर्थित होती हैं और आरोपियों को एक तरह से संरक्षण मिला होता है, इसलिए इनकी कुव्वत की बात नहीं है वह इस पर अलग से कानून बनाएं। इसके लिए अलग तरह की इच्छाशक्ति चाहिए और उसमें आपकी निष्पक्षता झलकनी चाहिए। बिना संरक्षण के लिंचिंग की घटनाएं नहीं हो सकतीं।”

Published

on

व्हॉट्सएप के जरिये अफवाह फैलाना, आठ-दस लोगों को जुटाकर किसी को निशाने पर लेना और पीट-पीट कर उसकी हत्या कर देना। मामला तूल पकड़ने पर सरकार की ओर से यह बयान आना कि ‘किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती’ और इसके बाद गंभीर चुप्पी। देश ने चार साल में इस अमानवीय चलन को प्रचलन बनते देखा है और सोच रहा है, आखिर किस ओर जा रहे हैं हम?

असम, त्रिपुरा, महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु समेत अन्य राज्यों में बीते दो महीनों में लिंचिंग (भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या) की दो दर्जन से ज्यादा घटनाओं के बाद देश इस पर अंकुश लगाने के लिए अलग से सख्त कानून की जरूरत महसूस करने लगा है। कानून विशेषज्ञों का हालांकि मानना है कि ऐसी घटनाएं प्रादेशिक सरकार की सहमति से होती हैं, इसलिए आरोपियों के संरक्षकों से सख्त कानून बनाने की अपेक्षा रखना बेमानी है।

कानून विशेषज्ञ और सर्वोच्च न्यायालय के वकील सुशील टेकरीवाल ने लिंचिंग की घटनाओं पर आईएएनएस से कहा, “लिंचिंग की घटनाएं स्थानीय सरकारों द्वारा समर्थित होती हैं और आरोपियों को एक तरह से संरक्षण मिला होता है, इसलिए इनकी कुव्वत की बात नहीं है वह इस पर अलग से कानून बनाएं। इसके लिए अलग तरह की इच्छाशक्ति चाहिए और उसमें आपकी निष्पक्षता झलकनी चाहिए। बिना संरक्षण के लिंचिंग की घटनाएं नहीं हो सकतीं।”

mob lynching

As mob lynchings fueled by WhatsApp messages sweep India, authorities struggle to combat fake news – Photo : The Washington Post

उन्होंने कहा, “लिंचिंग की घटनाएं कानूनी समस्या से ज्यादा सामाजिक समरसता व निरपेक्षता से संबंध रखती हैं, अगर अतिरेकवादी ताकतें इस तरह की घटनाओं को जंगलीपन और वहशीपन तरीके से अंजाम देंगी तो हमारा संविधान और कानून व्यवस्था ध्वस्त हो जाएगी। वर्तमान समय में जिस तरह से लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं, उस पर स्थापित कानून पर्याप्त नहीं है। इस पर कठोर से कठोर कानून बनाया जाना चाहिए। फासीवादी ताकतों को भीड़ की शक्ल में कोरे अफवाह पर बिना किसी सबूत के किसी की हत्या कर देने की छूट कोई कानून नहीं देता।”

एडवोकेट टेकरीवाल ने कहा, “लिंचिंग को लेकर हिंदुस्तान में कोई कानून नहीं है, हम लिंचिंग को आम हत्या के कानून से जोड़ते हैं। कानून के तहत धारा 148, 149 दंगे की बात करती है, धारा 302 हत्या की बात करती है, 323, 325 चोटों की बात करती है और 307 हत्या के प्रयास की बात करती है, इन्हीं धाराओं का प्रयोग को लिंचिंग के मामलों में किया जाता है।”

वहीं दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत कर रहे एडवोकेट कवीश शर्मा ने आईएएनएस को बताया, “सर्वोच्च न्यायालय ने हाल ही में लिंचिंग पर अलग कानून बनाने का आदेश देने से इनकार कर दिया, लेकिन अदालत ने केंद्र और राज्य सरकारों को इसपर योजना बनाने का दिशानिर्देश जारी किया है। शीर्ष अदालत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि लिंचिंग का कारण कुछ भी हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन यह एक अपराध है और इसका निपटारा कानून के तहत ही किया जाना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “हां, देश में लिंचिंग पर मजबूत कानून की अनुपस्थिति है। पुलिस अभी भी आईपीसी के तहत आरोपी पर कार्रवाई करती है जो प्रकृति में सामान्य है। दहेज रोकथाम अधिनियम, पॉस्को की तरह लिंचिंग मामलों के लिए भी अलग कानून होना चाहिए।”

एडवोकेट कवीश ने कहा, “वर्तमान में लिंचिंग कानून व्यवस्था की समस्या के रूप में माना जाता है, यह राज्य के क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आता है। पुलिस आईपीसी की धारा 115,116,117 के तहत आरोपी के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। यह मामले के ऊपर निर्भर करता है कि उसकी प्रवृत्ति क्या है।”

अदालत में वीडियोग्राफी को सबूत माना जाए या नहीं, इस पर दोनों कानून विशेषज्ञों ने कहा कि वीडियोग्राफी का सबूत अदालत में उस स्थिति में मान्य है, जिसमें सबूतों, गवाहों, दस्तावेजों और मौलिक सबूतों में आपस में मेल-मिलाप हो, अन्यथा वह मान्य नहीं होगा। आपस में कड़ियों का मिलना जरूरी है, तभी सबूत मान्य होगा।

लिंचिंग पर सख्त कानून की वकालत करते हुए दोनों विशेषज्ञों ने कहा, “पहले तो आम हत्या की घटना और लिंचिंग की घटना को अलग-अलग करना होगा। लिंचिंग की पहचान करनी होगी और फिर उसके बाद उसपर कानून बनाना पड़ेगा।”

सुशील टेकरीवाल ने कहा, “लिंचिंग को दुर्लभतम मामले की श्रेणी से अलग करना होगा, क्योंकि अदालत कहती है कि दुर्लभतम मामले में ही फांसी की सजा दी सकती है।”

उन्होंने कहा कि पॉस्को, टाडा, मकोका जैसे कानून इसलिए बने, क्योंकि स्थापित कानून न्याय करने में विफल रहे। इसलिए लिंचिंग भी विशेष श्रेणी का अपराध है और इसके लिए कानून बनाना चाहिए।

वहीं पुलिस प्रशासन की विफलता पर टेकरीवाल ने कहा, “पुलिस का काम करने का तरीका सरकार के अधीन है, उसकी स्वायत्तता नहीं है। भारतीय दंड संहिता में पर्याप्त कानून हैं, फिर भी अलग कानून और एजेंसियां बनी हैं। अक्सर देखा गया है कि पुलिस लिंचिंग की घटनाओं पर पर्दा डालने का काम करती है। वह इसे आम अपराध के रूप में लेती है और ज्यादातर लिंचिंग की घटनाओं में स्थानीय नेता शामिल होते हैं, इसलिए उन्हें भी इस परिधि में लाना चाहिए।”

भारतीय समाज में लिंचिंग पर सवाल उठाते हुए समाजसेवी डॉ. बीरबल झा ने कहा, “लिंचिंग की घटना किसी भी सभ्य समाज को शोभा नहीं देती। भारतीय कानून किसी को भी आवेश में आकर किसी की हत्या करने का अधिकार नहीं देता है। समाज में इस तरह की घटनाएं निंदनीय हैं और समाज को यह सोचने के लिए मजबूर करती हैं कि क्या हम पढ़े-लिखे समाज का निर्माण कर रहे हैं या फिर अनपढ़ों की तरह आचरण कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “सरकार को इस मुद्दे पर आगे आना चाहिए और इस पर लिंचिंग विरोधी कानून बनाना चाहिए। इस तरह की घटनाओं में कोई भी व्यक्ति भीड़ को इकठ्ठा कर अपनी निजी दुश्मनी निकालने का फायदा ले सकता है। इस तरह की घटनाओं से समाज अव्यवस्थित हो जाएगा। ऐसी घटनाओं के जरिये कुछ लोग अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। अगर इस तरह की घटनाएं होंगी, तो न्यायिक व्यवस्था का कोई मतलब ही नहीं रह जाएगा।”

जितेंद्र गुप्ता

–आईएएनएस

ज़रा हटके

ऐसी महिला पुलिस जिसके पास अपराधी खुद आते है गिरफ्तार होने…

Published

on

Samantha Sepulveda
फोटो-इंस्टाग्राम

अभी तक आपने पुलिस को ही अपराधियों के पीछे भागते सुना होगा। लेकिन किया अपने ये सुना है कि पुलिस के पास अपराधी खुद चलकर गिरफ्तार होने आता हो।

आप भी ये बात सुनकर हैरान हो गए होंगे। आज हम आपको एक ऐसी पुलिसवाली के बारे में बताने जा रहे हे जिसके पास अपराधी खुद चलकर गिरफ्तार होने आते हैं।

ये पुलिसवाली अमेरिका के न्यूयॉर्क की रहने वाली है। इस महिला का नाम सामंथा सेपुल्वेडा है। जिसकी चर्चा सोशल मिडिया पर जोरो से हो रही हैं। ये महिला पुलिस एक कंपनी के लिए मॉडलिंग भी करती है।

35 साल की सामंथा इतनी खूबसूरत है कि अपराधी खुद इनके पास गिरफ्तार होने आते हैं। इतना ही नही सामंथा अपने हॉट फिगर और खूबसूरती को लेकर इतनी चर्चा में है कि अपराधी गिरफ्तार होने के लिए बहाना ढूंढ़ते है।

साल 2010 में पुलिस में भर्ती सामंथा को अब तक कई अपराधी डेट के लिए ऑफर कर चुके हैं। महिला पुलिस होने के साथ ही एक फिल पुलिस अधिकारी भी है। वो लोगो को फिट रहने की सलाह देती रहती है। इतना ही नही सामंथा पिछले 4 सालों से अडंरगारमेंट कंपनी के साथ काम कर रही है। वो अब तक इस कंपनी से 1 करोड़ रूपये काम चुकी है।

सामंथा का कहना है कि जब वो अपनी ड्यूटी पर होती है तो वो बहुत ही प्रोफेशनल तरीके से काम करती है। उन्होंने इस बारे में भी बताया की कुछ लोगो को उनके मॉडलिंग करने से परेशनी होती है। लेकिन वो ये सब नही सोचती। उन्हें फर्क नहीं पढता की कोई उनके बारे में किया सोचता है।

WeForNews

Continue Reading

ज़रा हटके

इंदौर में युवक ने किन्नर से रचाया ब्याह

Published

on

By

Junaid Khan Marry transgender

इंदौर, 15 फरवरी | वैलेंटाइन डे पर यहां एक युवक ने किन्नर से विवाह रचाया, जिसकी जानकारी शुक्रवार को सामने आई है। सामने आए वीडियो से खुलासा हुआ है कि इंदौर में जुनैद खान ने टांसजेंडर जयासिंह परमार के साथ विवाह रचा लिया है। जो वीडियो सामने आए हैं, उससे पता चलता है कि विवाह पूरी तरह हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक हुआ है।

सूत्रों के अनुसार, जयासिंह और जुनैद की प्रेम कहानी की जानकारी किन्नर समाज के बीच काम करने वाली एक संस्था को हुई। जया भी इसी संस्था के लिए काम करती थी। संस्था के प्रतिनिधियों ने दोनों को विवाह कराने में मदद का भरोसा दिलाया, मगर जयासिंह डरी हुई थी। बाद में तय हुआ कि वैलेंटाइन डे को विवाह होगा, मगर सूचना किसी को नहीं दी जाएगी।

विवाह कराने में मददगार रहे लोगों के अनुसार, गुरुवार को एक मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज के साथ विवाह संपन्न हो गया। अब इस विवाह का पंजीयन कराया जाएगा, ताकि इसे कानूनी मान्यता मिल सके।

Continue Reading

ज़रा हटके

मध्य प्रदेश : बापू की याद में कांग्रेस विधायक ने छोड़ी तंबाकू!

“बापू नशे के सख्त विरोधी थे, इसलिए मैं भी संकल्प लेता हूं कि आज के बाद गुटखा नहीं खाऊंगा।”

Published

on

By

Tobaco Give up

श्योपुर, 12 फरवरी | मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में तीन नदियों के संगम पर महात्मा गांधी की स्मृति में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में कांग्रेस विधायक बाबू सिंह जंडेल ने तंबाकू सेवन न करने का संकल्प लिया।

महात्मा गांधी सेवा आश्रम श्योपुर के प्रबंधक जय सिंह जादौन ने आईएएनएस को बताया, “बीते 71 सालों से तीन नदियों -चंबल, बनास और सीप- के संगम स्थल पर स्मृति दिवस का आयोजन किया जा रहा है। मंगलवार को 72वें आयोजन समारोह में विधायक जंडेल ने जहां महात्मा गांधी स्मृति द्वार बनाने के लिए विधायक निधि से पांच लाख रुपये देने का ऐलान किया, वहीं उन्होंने तंबाकू त्यागने का संकल्प भी लिया।”

बकौल जादौन, जंडेल ने कहा, “बापू नशे के सख्त विरोधी थे, इसलिए मैं भी संकल्प लेता हूं कि आज के बाद गुटखा नहीं खाऊंगा।” उन्होंने वहां मौजूद लोगों से भी नशा त्यागने का आह्वान किया।

जादौन के मुताबिक, महात्मा गांधी की हत्या के बाद 12 फरवरी, 1948 को श्योपुर में अस्थियों का विसर्जन किया गया था। उसके बाद से ही यहां हर साल 12 फरवरी को महात्मा गांधी स्मृति दिवस समारोह आयोजित किया जाता है। इस मौके पर विधायक जंडेल सहित बड़ी संख्या में गांधीवादी मौजूद रहे।

Continue Reading
Advertisement
hafiz saeed pakistan
अंतरराष्ट्रीय9 hours ago

पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जेयूडी पर फिर से पाबंदी लगायी

raveena-tandon-min
मनोरंजन13 hours ago

रवीना टंडन शहीदों के बच्चों की शिक्षा के लिए मदद करेंगी

sensex-min
व्यापार13 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 142 अंक ऊपर

राष्ट्रीय13 hours ago

मोदी ने दक्षिण कोरियाई विश्वविद्यालय में गांधीजी की प्रतिमा का किया अनावरण

Archana Puran
मनोरंजन13 hours ago

सिद्धू की जगह लेने की संभावना है : अर्चना

शहर13 hours ago

दिल्ली में अक्षरधाम के पास फायरिंग

व्यापार14 hours ago

ईपीएफओ की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी

Farmers
राजनीति14 hours ago

महाराष्ट्र में किसानों का फिर से शुरू हुआ ‘लॉन्ग मार्च’

Samsung
टेक14 hours ago

Samsung ने पहला 5G स्मार्टफोन किया लॉन्च

Supreme_Court_of_India
राष्ट्रीय14 hours ago

पूर्व न्यायाधीश जैन बीसीसीआई के लोकपाल नियुक्त किया

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

vailtine day
लाइफस्टाइल1 week ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

chili-
स्वास्थ्य21 hours ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

face recognition india
टेक2 weeks ago

क्या चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम है भारत?

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

vijay mallya-min
ब्लॉग2 weeks ago

ईडी की जांच में हुआ खुलासा, माल्या ने कर्ज लेकर रकम देश से बाहर भेजी, लौटाने का इरादा नहीं था

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन4 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन4 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

Most Popular