अर्थव्यवस्था पर बोले कुमार मंगलम बिड़ला- हम रसातल के करीब पहुंच गए | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

व्यापार

अर्थव्यवस्था पर बोले कुमार मंगलम बिड़ला- हम रसातल के करीब पहुंच गए

Published

on

फाइल फोटो

आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा कि सरकार को अर्थव्यवस्था के लिये कंपनी कर में कटौती से भी आगे बढ़कर काम करने और अर्थव्यवस्था के लिये ठोस राजकोषीय प्रोत्साहन उपलब्ध कराने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि व्यापार में राजकोषीय सूझ-बूझ होनी चाहिए लेकिन मौजूदा समय में एक ऐसी राजकोषीय नीति की भी जरूरत है जिससे नरमी से निपटने में मदद मिले।

बिड़ला ने मीडिया के एक कार्यक्रम में कहा, ‘मैं पहले ही कह रहा हूं कि अर्थशास्त्री नहीं हूं लेकिन मुझे लगता है कि हम रसातल के करीब पहुंच गये हैं… अभी अर्थव्यवस्था के लिये सरकार की तरफ से बड़े स्तर पर रोजकोषीय प्रोत्साहन देने की जरूरत है, वैसे भी राजकोषीय जवाबदेही और बजट प्रबंधन कानून (एफआरबीएम) राजकोषीय घाटे के लक्ष्य में आधे प्रतिशत तक की ढील की छूट देता है।’ उन्होंने कहा कि सरकार को कंपनी कर में कटौती के अलावा और बहुत कुछ करने की जरूरत है।

बिड़ला ने कहा, ‘कर कटौती का हमेशा स्वागत है, अगर सरकार हमें और कर छूट देने का निर्णय करती है, वह स्वागत योग्य होगा, इससे हमारा नकद प्रवाह बढ़ेगा, सरकार ने काफी कुछ किया है, मैं इससे इनकार नहीं करता, लेकिन वह बड़े स्तर पर राजकोषीय प्रोत्साहन भी दे सकती है।’

रिजर्व बैंक ने गुरुवार को कमजोर घरेलू और विदेशी मांग को देखते हुए चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 6.1 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी कर दिया।

दरअसल, सरकार ने छूट का दावा नहीं करने वाली कंपनियों के लिए मूल कंपनी कर 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया। वहीं, विनिर्माण क्षेत्र की नई कंपनियों लिए कर की दर 25 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी कर दिया गया है।

इसके अलावा, सरकार ने कारोबार सुगम बनाने तथा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश बढ़ाने को लेकर भी कदम उठाये हैं। साथ ही बैंको को मजबूत बनाने के लिए 10 बैंकों का चार बैंकों में विलय किया गया।

WeForNews

व्यापार

होटल, हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र में 75 फीसदी कर्मचारियों की नौकरियों पर लटकी तलवार

Published

on

Job Cut

कोरोना काल में बुरी तरह प्रभावित होटल व हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में करीब 75 फीसदी कर्मचारियों की नौकरियों पर तलवार लटकी हुई है। ये होटलों के स्थाई कर्मचारी हैं, जबकि अस्थाई व ठेके पर काम करने वालों की छुट्टी तो पहले ही हो चुकी है। उद्योग सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, छंटनी की प्रक्रिया लगातार जारी है और जिनकी नौकरियां बची हुई हैं, उनको 20 से 50 फीसदी तक वेतन कटौती का सामना करना पड़ रहा है।

होटल कारोबार के जानकार बताते हैं कि होटल व हॉस्पिटैलिटी सेक्टर के हालात काफी खराब हैं और इसमें अगले दो महीनों में सुधार नहीं आया तो 60 से 75 फीसदी तक कर्मचारियों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ सकती है।

होटल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के वाइस प्रेसीडेंट के.बी. कचरू से इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि स्थिति वास्तव में बेहद गंभीर है और इस सेक्टर में काम करने वाले करीब पांच करोड़ लोगों के सामने रोजगार का बड़ा संकट खड़ा हो गया है। उन्होंने स्वीकार किया कि अगले महीने-दो महीने में हालात में सुधार नहीं आया तो 60 फीसदी तक लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।

कचरू ने बताया कि चाहे फाइव स्टार होटल हों, बजट होटल, सभी की वित्तीय स्थिति खराब है, इसलिए होटल कर्मचारियों के लिए रोजगार का संकट बना हुआ है।

जानकार सूत्र बताते हैं कि 30-40 फीसदी तक छंटनी हो चुकी है। कारोबारी बताते हैं कि छंटनी में कुछ ऐसे भी कर्मचारी हैं, जिनको लीव विदाउट पे पर चले जाने को कहा गया है। वहीं, कारोबार की रिस्ट्रक्च रिंग की की गई है। जहां तक वेतन कटौती का सवाल है तो सीनियर मैनेजमेंट लेवल के अधिकारी 50 फीसदी तक अपना वेतन कटाने लगे हैं।

ट्रैवल, टूरिज्म व हॉस्पिैलिटी सेक्टर के विशेषज्ञ रोहित कौल कहते हैं कि यह एक ऐसा सेक्टर है जिस पर एक दिन का भी असर काफी मायने रखता है, क्योंकि एक दिन किसी वजह से काम नहीं होने या बंद होने से अप्रत्यक्ष रूप से इस सेक्टर में रोजी-रोटी कमाने वालों की आमदनी रुक जाती है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में अप्रत्यक्ष रूप से इस सेक्टर से जुड़े लोग तो बहुत पहले ही बेरोजगार हो चुके हैं और अब जो प्रत्यक्ष रूप से जुड़े हैं, यानी स्थाई कर्मचारी हैं, उनकी भी छंटनी शुरू हो चुकी है।

आईटीसी के पूर्व सीईओ और उद्योग संगठन सीआईआई के टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी नेशनल कमेटी के सलाहकार दीपक हक्सर ने आईएएनएस से कहा कि इस सेक्टर में काम करने वाले 2.5 करोड़ लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।

उन्होंने दिल्ली में होटल नहीं खुलने पर हैरानी जताते हुए कहा कि जब कोई सेक्टर बदहाली के दौर से गुजर रहा हो तो उसे पटरी पर लाने की कोशिशें की जानी चाहिए और इस समय होटल व हॉस्पिटैलिटी सेक्टर को बचाने के लिए सबसे पहले उसे खोलने की जरूरत है, क्योंकि होटल खुलेंगे तभी वहां लोग आएंगे और वहां काम करने वालों की नौकरियां बची रहेंगी।

हक्सर ने कहा कि इस संबंध में उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 31 जुलाई को लिखे पत्र में उन्होंने होटल को हॉस्पिटल से डिलिंक करने के लिए आभार जताते हुए कहा है कि देश की राजधानी होने के कारण पर्यटन के संवर्धन में इसकी विशेष भूमिका है।

यहां बिजनेस के सिलसिले में आने वाले यात्रियों के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल और ग्लोबल लीडर्स आते हैं। उन्होंने पत्र में उद्योग की विभिन्न मांगों के साथ-साथ मुख्यंत्री से होटल को खोलने की भी मांग की।

— आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

मंद पड़ी मानसून की चाल, दलहन, तिलहन फसलों को बारिश की दरकार

Published

on

daal-min
प्रतीकात्मक तस्वीर

मानसून इस साल सही वक्त पर आया और तेज रफ्तार के साथ पूरे देश को कवर कर सीजन की शुरुआत में खूब मेहरबानी दिखाई लेकिन जुलाई से इसकी चाल सुस्त पड़ गई है, जिससे देश के कई इलाकों में खरीफ फसल प्रभावित होने की आशंका बनी हुई है। खासतौर से राजस्थान, गुजरात और मध्यप्रदेश में दलहन और तिलहन की फसलों को बारिश की दरकार है।

जानकार बताते हैं कि अगले एक सप्ताह से 10 दिनों तक बारिश नहीं हुई तो कपास, सोयाबीन, उड़द, मूंग व अन्य दलहन फसलों को नुकसान हो सकता है।

भारत मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार, चालू मानसून सीजन में एक जून से लेकर तीन अगस्त के दौरान औसत से दो फीसदी कम बारिश हुई है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और गुजरात समेत देश के 36 मानसून सबडिवीजन में से छह में सूखा रहा है। मतलब औसत से 20 फीसदी या उससे ज्यादा बारिश का अभाव रहा है। मध्यप्रदेश, राजस्थान, ओडिशा समेत देश के अधिकांश हिस्सों में कम बारिश हुई है।

आईएमडी के अनुसार, जून में देशभर में औसत से 17 फीसदी ज्यादा बारिश हुई जबकि जुलाई में 10 फीसदी कम बारिश हुई है।

ताजा आंकड़ों के अनुसार, पूरे सीजन में अब तक दो फीसदी कम बारिश हुई है। हालांकि एक जून से तीन अगस्त तक देश के पूर्वी और पूर्वोत्तर में औसत से 10 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है जबकि उत्तर पश्चिम भारत में 20 फीसदी और मध्य भारत में सात फीसदी कम। वहीं, दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में इस दौरान 14 फीसदी अधिक बारिश हुई है।

ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में बारिश कम होने से दलहन फसलों की वृद्धि रुकने की आशंका है, जिससे पैदावार पर असर पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि किसानों से जो रिपोर्ट मिल रही है उसके अनुसार, अगले एक चार दिन से एक सप्ताह के भीतर अगर बारिश नहीं होगी तो दलहनों की फसल की पैदावार पर असर पड़ सकती है।

कुछ इसी प्रकार की रिपोर्ट खाद्य तेल उद्योग संगठन साल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के पास है। एसईए के कार्यकारी निदेश डॉ. बी.वी मेहता ने आईएएनएस को बताया कि सोयाबीन, कपास समेत तमाम तिलहन और दलहन फसलों के लिए इस समय बारिश बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि अगर 10 दिनों के भीतर बारिश नहीं होगी तो फसल खराब हो सकती है, जिससे पैदावार पर असर होगा।

कृषि वैज्ञानिक बताते हैं कि देश में दलहनों और तिलहनों की खेती मुख्य रूप से असिंचित भूमि क्षेत्र में होती है जहां मानसून की अच्छी बारिश का काफी महत्व होता है। लेकिन अभी तक मानसून कमजोर रहने का अनुमान नहीं है, इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है। अगस्त में अच्छी बारिश होने का अनुमान है, इसलिए इस समय फसल को नुकसान का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है।

आईएमडी ने मानूसन सीजन के आखिरी दो महीनों में 104 फीसदी बारिश का पूवार्नुमान जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार, अगस्त में 97 फीसदी बारिश हो सकती है।

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

जुलाई में बजाज ऑटो की बिक्री में 33 प्रतिशत की गिरावट

Published

on

कोविड-19 से हुए आर्थिक नुकसान के कारण दोपहिया निर्माता बजाज आटो की बिक्री 33 प्रतिशत घटी है। बजाज ने सोमवार को बताया कि जुलाई महीने में उसके वाहनों की कुल बिक्री पिछले साल के इसी माह की तुलना में 33 प्रतिशत घटकर 2,55,832 इकाई रही। कंपनी ने एक साल पहले जुलाई माह में कुल 3,81,530 वाहन बेचे थे।

जुलाई 2020 में घरेलू बाजार में बजाज के 1,58,976 वाहन बिके, जबकि एक साल पहले उसने घरेलू बाजार में 2,05,470 वाहन बेचे थे। इस प्रकार इसमें 23 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

जुलाई माह में कंपनी के वाहनों का निर्यात 45 प्रतिशत घटकर 96,856 इकाई रहा। पिछले साल जुलाई में बजाज ने 1,76,060 वाहनों का निर्यात किया था।

कंपनी की दोपहिया वाहनों की कुल बिक्री 2,38,558 इकाई रही। पिछले साल के मुकाबले इसमें 26 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। पिछले साल जुलाई में कंपनी ने 3,22,210 दो पहिया वाहन बेचे थे।

कंपनी ने कहा कि समीक्षाधीन माह के दौरान उसके वाणिज्यिक वाहनों की कुल बिक्री 17,276 इकाई रही, जबकि पिछले साल जुलाई में उसने 59,320 वाणिज्यिक वाहन बेचे थे। यह गिरावट 71 प्रतिशत की रही।

आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय3 mins ago

महाराष्ट्र में कोरोना के नए 8968 मामले, 266 की मौत

Coronavirus
राष्ट्रीय9 mins ago

बिहार में कोरोना के 2,297 नए मरीज

Rahul Gandhi
राजनीति15 mins ago

सबसे ज्यादा कोरोना केस होने पर राहुल का PM पर तंज- ‘दूसरे देशों से भारत बेहतर’

Job Cut
व्यापार26 mins ago

होटल, हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र में 75 फीसदी कर्मचारियों की नौकरियों पर लटकी तलवार

अंतरराष्ट्रीय54 mins ago

नासा के 2 अंतरिक्ष यात्रियों के साथ स्पेसएक्स क्रू ड्रैगन धरती पर लौटा

Coronavirus
राष्ट्रीय1 hour ago

केरल में कोरोना के 962 नए मामले

Enforcement-Directorate
मनोरंजन1 hour ago

सुशांत मामले में सीए संदीप श्रीधर से पूछताछ कर रही ईडी

राष्ट्रीय1 hour ago

दिल्ली में कोरोना के 805 नए केस, 17 की मौत

राष्ट्रीय2 hours ago

पत्थरबाजी के बाद असम के सिलचर में कर्फ्यू

राष्ट्रीय2 hours ago

तमिलनाडु में कोरोना के 5609 नए केस

Corona outbreak PPE Kits
चुनाव3 weeks ago

एलजेपी ने कोरोना के कारण बिहार चुनाव टालने की जताई इच्छा

मनोरंजन3 weeks ago

सुशांत के निधन के बाद अंकिता की सोशल मीडिया पर पहली पोस्ट

Donald Trump
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

ट्रंप ने हांगकांग स्वायत्तता अधिनियम पर किए हस्ताक्षर

sensex-min
व्यापार3 weeks ago

मजबूत विदेशी संकेतों घरेलू शेयर बाजार की तेज शुरूआत, सेंसेक्स 400 अंक उछला

Election Commission
चुनाव3 weeks ago

बिहार में 65 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों को पोस्टल बैलट सुविधा का विस्तार नहीं: EC

SBI
व्यापार3 weeks ago

एसबीआई कार्ड के सीईओ हरदयाल प्रसाद का इस्तीफा

Coronavirus
लाइफस्टाइल3 weeks ago

वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना से जुड़ी गंभीर बीमारियों से बच्चों के बचे रहने का राज

Blood Pressure machine
लाइफस्टाइल3 weeks ago

हाई ब्लड शुगर से कोरोना संक्रमितों की मौत का खतरा अधिक

Coronavirus
लाइफस्टाइल3 weeks ago

कोरोना वायरस कब सामने आया?

लाइफस्टाइल4 weeks ago

बाईपास सर्जरी करा चुके लोगों के लिए रात की अच्छी नींद के लिए मॉर्निग वाक जरूरी

राष्ट्रीय1 week ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति2 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय3 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर4 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य4 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति4 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

मनोरंजन4 months ago

रफ्तार का नया गाना ‘मिस्टर नैर’ लॅान्च

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय4 months ago

चीन ने महामारी के फैलाव को कारगर रूप से नियंत्रित किया : डब्ल्यूएचओ

मनोरंजन4 months ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन5 months ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Most Popular