Connect with us

राष्ट्रीय

जानिए, तीन मूर्ति चौक क्यों हुआ ‘हाइफा चौक’

Published

on

Teen Murti Chowk
तीन मूर्ति चौक क्यों हो रहा है 'हाइफा चौक'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके इसराइली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने तीन मूर्ति चौक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी और इसका नाम बदलकर तीन मूर्ति हाइफा चौक कर दिया गया।

बता दें कि दिल्ली के तीन मूर्ति चौक का इजराइल के साथ ऐतिहासिक संबंध है। तांबे की बनी ये मूर्तियां इजरायल में बच्चों को भारत का शौर्य समझाती है। तीन मूर्ति पर कांस्य की तीन मूर्तियां हैदराबाद, जोधपुर और मैसूर लैंसर का प्रतिनिधित्व करती हैं जो 15 इंपीरियल सर्विस कैवलरी ब्रिगेड का हिस्सा थे। ब्रिगेड ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 23 सितंबर 1918 में हाइफा शहर पर हमला किया था और उसे जीत लिया था।

Image result for तीन मूर्ति चौक

इजराइल के हाइफा शहर में 23 सितंबर 1918 को एर जंग लड़ा गया। इस लड़ाई में राजपूत सेना का नेतृत्व जोधपुर रियासत के सेनापति दलपत सिंह ने किया था। इस ऐतिहासिक लड़ाई में जोधपुर की सेना के करीब 900 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए जिससे राठौड़ों को विजय मिली और उन्होंने हाइफा पर कब्जा कर लिया। जिससे खुश होकर भारत में ब्रिटिश सेना के कमांडर-इन-चीफ ने फ्लैग-स्टाफ हाउस के नाम से अपने लिए एक रिहायसी भवन का निर्माण करवाया।

Image result for तीन मूर्ति चौक

1. एक ऐतिहासिक युद्ध के लिए तीन मूर्ति चौक अब इजरायल के शहर हाइफा के नाम पर तीन मूर्ति हाइफा चौक कहलाएगा।

 

2. तीन मूर्ति चौक का इजराइल के साथ ऐतिहासिक संबंध है। तीन मूर्ति स्मारक की तीनों मूर्तियां तांबे की बनी हैं, जो हैदराबाद, जोधपुर और मैसूर लेंसर्स को रि-प्रेजेंट करती हैं।

3. ये तीनों 15 इम्पिरियल सर्विस कैवलरी ब्रिगेड का भी हिस्सा रह चुके हैं। इजरायल के हाइफा शहर में 23 सितंबर 1918 को जंग लड़ी गई थी।

जानें: तीन मूर्ति चौक क्यों पहुंचे इजरायल के पीएम नेतन्याहू

4. हाइफा युद्ध में राजपूताने की सेना का नेतृत्व जोधपुर रियासत के सेनापति दलपत सिंह ने किया था।

5. इस लड़ाई में जोधपुर की सेना के करीब 900 सैनिक शहीद हुए थे। राठौड़ों की इस बहादुरी से प्रभावित होकर भारत में ब्रिटिश सेना के कमांडर-इन-चीफ ने फ्लैग-स्टाफ हाउस के नाम से अपने लिए एक रिहायसी भवन का निर्माण करवाया।

जानें: तीन मूर्ति चौक क्यों पहुंचे इजरायल के पीएम नेतन्याहू

6. इस चौराहे के बीच में गोल चक्कर के बीचों बीच एक स्तंभ के किनारे तीन दिशाओं में मुंह किए हुए तीन सैनिकों की मूर्तियां लगी हुई हैं। जो रणबांका राठौड़ों की बहादुरी को यादगार बनाने के लिए बनाई गई थी।

7. हर साल 23 सितंबर को भारतीय योद्धाओं को सम्मान देने के लिए हाइफा के मेयर, इजरायल की जनता और भारतीय दूतावास के लोग एकत्र होकर ‘हाइफा दिवस’ मनाते हैं। भारतीय सेना भी 23 सितंबर को ‘हाइफा दिवस’ मनाती है।

जानें: तीन मूर्ति चौक क्यों पहुंचे इजरायल के पीएम नेतन्याहू

8. उत्तरी दिल्ली नगर निगम (NDMC) पहले ही इन तीन मूर्ति चौक का नाम बदलने की परमिशन दे चुकी है।

9. बता दें कि इजरायल की सरकार आज तक हाइफा, यरुशलम, रमल्लाह और ख्यात के समुद्री तटों पर बनी 900 भारतीय सैनिकों की समाधियों की अच्छी तरह देखरेख करती है।

WeForNews

राष्ट्रीय

यूपी बोर्ड परीक्षा 2019 के 10वीं-12वीं का टाइमटेबल जारी

Published

on

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

उत्‍तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा 2019 के लिए 10वींं और 12वीं कक्षा का टाइमटेबल जारी हो गया। इसके लिए यूपी सेकेंड्री एजुकेशन बोर्ड (यूपीएसईबी) ने जानकारी मुहैया कराई है। परीक्षा 7 फरवरी, 2019 से शुरू होकर 2 मार्च, 2019 तक चलेंगे, जबकि हाईस्कूल की परीक्षा 28 फरवरी को खत्म होंगे।

up time table

सुबह की पाली की परीक्षाएं 7:30 बजे की जगह 8 बजे शुरू होंगी और 11:15 बजे तक चलेंगी, दूसरी पाली की परीक्षाओं का समय दोपहर बाद 2 से 5:15 बजे तक रहेगा।

up time table

यूपी उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने परीक्षाओं की डेटशीट जारी करते हुए कहा कि 2019 की हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के परीक्षा केंद्रों का चुनाव ऑनलाइन कराया जाएगा। इसके साथ ही पारदर्शी परीक्षा और मूल्यांकन व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश के सभी जिलों में क्रमांक की उत्‍तर पुस्तिका उपलब्ध करायी जाएंगी। परीक्षाओं के नतीजे 30 अप्रैल को घोषित हो जाएंगे।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह दुष्कर्म मामले में पटना हाई कोर्ट के आदेश पर रोक

Published

on

muzaffarpur-min
फाइल फोटो

सुप्रीम कोर्ट ने पटना हाई कोर्ट के उस आदेश पर रोक लगा दी, जिसमें उच्च न्यायालय ने मुजफ्फरपुर आश्रय गृह दुष्कर्म मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को नई जांच टीम गठित करने के आदेश दिए थे।

इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने कहा कि अब मौजूदा जांच टीम में बदलाव करना ‘अहितकर’ होगा। न्यायमूर्ति मदन बी. लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा, “जांच कर रही टीम के विरुद्ध कोई आरोप नहीं है। हम इसमें कोई कारण नहीं देख रहे हैं कि क्यों मुजफ्फरपुर आश्रयगृह की जांच कर रहे टीम को इस समय बदला जाना चाहिए।”

पीठ ने कहा, “हम इसमें कोई कारण नहीं देखते कि क्यों नई टीम का गठन करना चाहिए..हम पटना उच्च न्यायालय के 29 अगस्त के आदेश पर रोक लगाते हैं।” सीबीआई की तरफ से पेश महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल इस मामले को शीर्ष अदालत के समक्ष पेश किया।

मौजूदा जांच टीम को 30 जुलाई को गठित किया गया था। पीठ ने सीबीआई से जांच के दो स्टेटस रिपोर्ट भी पेश करने के लिए कहे, जो कि उच्च न्यायालय के समक्ष पहले दाखिल किए गए थे। अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 20 सितंबर को मुकर्रर कर दी।

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

बिहार में संदिग्ध चोर की पीट-पीटकर हत्या

Published

on

bihar
प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार के हिसुआ थाना क्षेत्र में ग्रामीणों ने एक युवक की चोर के शक में पीट-पीटकर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक, लवरपुरा गांव के रहने वाले संजय राजवंशी के घर चार लोग सोमवार की रात को चोरी करने की नीयत से घुसे थे, उनकी आहट पाकर घर की महिलाएं जाग गईं और शोर मचाने लगीं।

शोर सुनकर घर और गांव के लोग इकट्ठा हो गए। भीड़ को देखकर सभी चोर भागने लगे, मगर भाग रहा एक व्यक्ति गांव वालों के हाथ लग गया। ग्रामीणों ने उसकी जमकर पिटाई कर दी।

हिसुआ के थाना प्रभारी राजदेव ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही पुलिस गांव में पहुंची और घायल व्यक्ति को ग्रामीणों के चंगुल से छुड़ाकर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी मौत हो गई।

थाना प्रभारी ने बताया कि मृतक की पहचान नरहट थाना के चातर गांव निवासी रूपन मांझी के रूप में की गई है। मृतक के परिजनों को इसकी सूचना दे दी गई है तथा पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular