Connect with us

राष्ट्रीय

जानें गोवर्धऩ पूजा की कथा और शुभ मुहूर्त का समय

Published

on

Govardhan Pooja
गोवर्धन पूजा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गोवर्धन पूजा बहुत ही महत्वपूर्ण पर्व है। प्रायः दीपावली पूजन के अगले दिन गोवर्धन पूजन का उत्सव बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह पूजा कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को मनायी जाती है। गोवर्धन को ‘अन्नकूट पूजा’ भी कहा जाता है। इस उत्सव का भारतीय लोकजीवन में बड़ा अहम महत्व है। दरअसल इस पर्व में प्रकृति के साथ मानव का सीधा सम्बन्ध दिखाई देता है। दिलचस्प बात यह है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अपनी कनिष्ठा अंगुली से गोवर्धन पर्वत को उठाया था। इंद्र के प्रकोप और उनका अहंकार तोड़ने के लिए ही भगवान ने अपनी कनिष्ठा अंगुली का प्रयोग किया था।

जानकारी के मुताबिक, गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त श्रेष्ठ समय- प्रदोष काल है और वहीं पूजा का शुभ मुहूर्त- रात 9 बजकर 7 मिनट तक है। बता दें इस पावन दिवस पर घरों में गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाया जाता है यही नहीं इसे अन्नकूट पूजा के नाम से भी संबोधित किया जाता हैं। इस दिन भिन्न-भिन्न प्रकार के अनाज का इस्तेमाल करके स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं। भगवान श्री कृष्ण को भोग लगाने के बाद सब लोग इस महा प्रसाद को ग्रहण करते हैं। इसे बलि प्रतिपदा भी कहते हैं। इस दिन भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए लोग प्रेम भाव से भजन कीर्तन भी करते हैं।

गौरतलब है कृष्ण ने देखा कि सभी बृजवासी इंद्र की पूजा कर रहे थे। जब उन्होंने अपनी मां को भी इंद्र की पूजा करते हुए देखा तो सवाल किया कि लोग इन्द्र की पूजा क्यों करते हैं? उन्हें बताया गया कि वह वर्षा करते हैं जिससे अन्न की पैदावार होती और हमारी गायों को चारा मिलता है। तब श्री कृष्ण ने कहा ऐसा है तो सबको गोर्वधन पर्वत की पूजा करनी चाहिए क्योंकि हमारी गायें तो वहीं चरती हैं।

उनकी बात मान कर सभी ब्रजवासी इंद्र की जगह गोवर्धन पर्वत की पूजा करने लगे। देवराज इन्द्र ने इसे अपना अपमान समझा और प्रलय के समान मूसलाधार वर्षा शुरू कर दी। तब भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठा कर ब्रजवासियों की भारी बारिश से रक्षा की थी। इसके बाद इंद्र को पता लगा कि श्री कृष्ण वास्तव में विष्णु के अवतार हैं और अपनी भूल का एहसास हुआ। बाद में इंद्र देवता को भी भगवान कृष्ण से क्षमा याचना करनी पड़ी। इन्द्रदेव की याचना पर भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को नीचे रखा और सभी ब्रजवासियों से कहा कि अब वे हर साल गोवर्धन की पूजा कर अन्नकूट पर्व मनाए। तब से ही यह पर्व गोवर्धन के रूप में मनाया जाता है।

WeForNews

राष्ट्रीय

पुलवामा मुठभेड़ में मेजर समेत 3 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर

Published

on

Kashmir

दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले के पिंगलिन इलाके में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में एक मेजर समेत 3 जवान शहीद हो गए, जबकि 2 आतंकियों को मार गिराया। इस दौरान एक नागरिक की भी मौत हुई है। 

मुठभेड़ जिस जगह हुई वह कुछ दिनों पहले केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के स्थान से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर ही है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “पिंगलेना गांव में रविवार रात हुई गोलीबारी में पांच लोगों की मौत हुई है जिसमें एक सैन्य अधिकारी और नागरिक शामिल हैं जिसकी पहचान मुश्ताक अहमद के रूप में हुई है।”

पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ रविवार देर रात शुरू हुई जब सुरक्षा बलों, राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), राज्य पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) के आतंकवादियों की यहां छिपे होने की खुफिया सूचना मिलने के बाद पिंगलेना गांव को घेर लिया। 

पुलिस सूत्रों ने कहा, “घेराबंदी जैसे ही कड़ी हुई छिपे हुए आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी।” इलाके में खोज अभियान चलाया जा रहा है। शहीद हुए जवानों में एक अधिकारी भी शामिल हैं।

यह मुठभेड़ पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के एक सप्ताह से भी कम समय में हुई है। इस हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। 

  WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

पुलवामा हमला: पाकिस्तान ने भारत से अपने उच्चायुक्त को वापस बुलाया

Published

on

Pakistan

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती हमले के बाद पाकिस्तान ने भारत से अपने उच्चायुक्त को वापस बुला लिया है।

उच्चायुक्त नई दिल्ली से पाकिस्तान के लिए निकल गए हैं। इसकी जानकारी पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने ट्वीट कर दी।

मोहम्मद ने कहा, “हमने बातचीत के लिए भारत में अपने उच्चायुक्त को वापस बुला लिया है। उन्होंने आज सुबह में वो नई दिल्ली से निकल चुके हैं।”

बता दें कि पाकिस्तान में बैठे जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में आतंकी हमले को अंजाम दिया है, जिसमें CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे। पुलवामा हमले से उत्पन्न स्थित को लेकर पिछले दिनों भारत ने पाकिस्तान में स्थित अपने उच्चायुक्त को दिल्ली बुला लिया था।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

रायपुर रेलवे स्टेशन पर 100 फीट ऊंचा तिरंगा झंडा लगाया गया

Published

on

Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के रायपुर रेलवे स्टेशन पर 100 फीट ऊंचा तिरंगा झंडा लगाया गया। स्टेशन के मेन गेट व वीआईपी गेट के आसपास सौ फीट के लंबे पोल पर तिरंगा झंडा लगा।

रेलवे सुरक्षा बल की सलामी और राष्ट्रगान के साथ स्टेशन में ध्वजारोहण के साथ रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर सांसद रमेश बैस, विधायक कुलदीप जुनेजा, महापौर प्रमोद दुबे, डीआरएम कौशल किशोर के साथ ही रेलवे के तमाम बड़े अफसर व कर्मचारी यहां उपस्थित रहे।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular