Connect with us

लाइफस्टाइल

नारियल तेल, लिप बाम से होंठ की कोमलता रखें बरकरार

Published

on

Lip_Bal
File Photo

स्वस्थ व कोमल होंठ आपके व्यक्तित्व की खूबसरती उभारते हैं। कोमल होंठ पाने के लिए ब्लूबेरी, चकोतरा जैसे फलों के सत्वों से युक्त लिप बाम लगाए। फटे होंठ पर नारियल तेल या जोजोबा ऑयल या ब्राउन शुगर लगाएं।

‘स्किनेला’ की संस्थापक डॉली कुमार और ‘ऑर्गेनिक हार्वेस्ट’ की सौंदर्य विशेषज्ञ बिंदिया गुप्ता ने इस संबंध में ये सुझाव दिए हैं :

* सुपरफूड जैसे ब्लूबेरी युक्त लिप बाम इस्तेमाल करें। ब्लूबेरी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है, जो समय पूर्व उम्रदराज दिखने से सुरक्षित रखता है।

Image result for सुपरफूड जैसे ब्लूबेरी

* चकोतरा और संतरा विटामिन ए, सी, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। चकोतरा में मौजूद पोटेशियम हानिकारक पराबैंगनी किरणों से सुरक्षा प्रदान करता है। इसलिए चकोतरा और संतरा युक्त लिप बाम लगाएं, जिससे होंठों प्राकृतिक गुलाबी रंगत बरकरार रहेगी।

Image result for चकोतरा और संतरा विटामिन ए, सी,

* क्रैनबेरी या करौंदा विटामिन बी3, विटामिन बी5 और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो पर्यावरणीय कारकों के कारण होने वाले किसी भी नुकसान से बचाता है।

Image result for क्रैनबेरी या करौंदा

* होंठों से मृत त्वचा हटाने के लिए मल्टीपरपज ऑर्गेनिक बाम का एक पतला सा लेयर होंठ पर लगाएं और फिर मुलायम टूथब्रश से हल्के हाथों से स्क्रब करें, इसके लिए नए टूथब्रश का इस्तेमाल करें।

Image result for मल्टीपरपज ऑर्गेनिक बाम

* फटे होंठ की मृत त्वचा हटाने के लिए नारियल तेल और शुगर का इस्तेमाल आसान उपाय है। थोड़े से ऑर्गेनिक नारियल तेल में जरा सा पिसा चीनी मिला लें और फिर इस मिश्रण को हल्के हाथों से होंठ पर मलें। स्क्रब के बाद पानी से धोकर होंठ पर लिप बाम लगा लें।

Image result for नारियल तेल और शुगर का

* गुलाब जल और ग्लिसरीन दोनों लाभकारी होते हैं। जहां गुलाब जल का इस्तेमाल आपके होंठों को हल्का गुलाबी रंगत देता है, वहीं ग्लिसरीन मृत त्वचा हटाकर होंठ को कोमल बनाता है। होंठ के कालेपन व रुखेपन से छुटकारा पाने के लिए दोनों को मिलाकर होंठ पर लगाएं।

Image result for गुलाब जल और ग्लिसरीन

* जोजोबा ऑयल होंठ की त्वचा को पोषण प्रदान करता है और मुलायम बनाता है। इसमें ब्राउन शुगर मिलाकर होंठ पर हल्के हाथों से मलें। कम से कम तीन-चार मिनट मलें।

Image result for जोजोबा ऑयल होंठ

* ग्रीन टी ऑयल एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, जो होंठों को चमकदार बनाता है। फटे होंठों के लिए यह एक प्रभावी उपचार है।

Image result for ग्रीन टी ऑयल

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

अब गर्मियों में भी शान से पहनिए बनारसी साड़ियां

Published

on

Sari

कई महिलाओं को लगता है कि गर्मियों में बनारसी साड़ी पहनने से ज्यादा गर्मी लगती है। इसी वजह से इस मौसम में जॉर्जेट या फिर लिनेन की साड़ी ही शादी या फंक्शन्स में प्रेफर की जाती है।

लेकिन बनारसी साड़ी आजकल काफी पॉपुलर हो गई है।  इन्हें ट्रेडिशनल जूलरी के साथ पहनने का ट्रेंड जोरो पर है। इसीलिए ऑनलाइन स्टोर वीवरस्टोरी 10 और 11 अप्रैल को दिल्ली में स्थित आगा खान हॉल, मंडी हाउस में हाथों से बुनकर तैयार किए गए नए ‘बानारसी समर कलेक्शन’ को पेश करेगा।

Image result for chanderi silk

प्रदर्शनी में वीवरस्टोरी द्वारा नए चंदेरी सिल्क, बनारसी कॉटन्स, बंधेज साड़ी, दुपट्टा, लहंगा और चंदेरी के साथ रेडी टू वियर सूट भी प्रदर्शित किए जाएंगे। चंदेरी एक पारंपरिक एथनिक कपड़ा है जिसे पहनने से शानदार अनुभव होता है। चंदेरी कपड़े पारंपरिक रेशम के धागे और सोने के जरी के काम से तैयार होता है।

Image result for Chiffon sarees

बंधेज साड़ी जिसे बांधनी साड़ी के नाम से भी जाना जाता है। वह विशेष रूप से राजस्थान और गुजरात में मिलती है। इन साड़ियों की अच्छी किस्में मांडवी, भुज, जामनगर, पोरबंदर, अजमेर, बीकानेर आदि में बनाई गई हैं।

Image result for cotton saree

इस संग्रह के कुछ आकर्षण रहेंगे कूल बनारस कॉट्सन्स, हैंडब्लॉक मुद्रित अनारकली सेमीस्टिच्ड सूट, नई रेंज के बनारसी मूंगा सिल्क कुर्ता विद कड़वा मीनाकारी बूटा और चंदेरी सिल्क दुपट्टा आदि।

Related image

Wefornews Bureau

Continue Reading

लाइफस्टाइल

भारत का मिनी स्विट्जरलैंड है कौसानी

Published

on

mini swizerland

भारत में ऐसी कई जगह हैं, जो खूबसूरती में किसी विदेश की जगह से कम नहीं है। ऐसी ही एक जगह है कौसानी, जिसे भारत का मिनी स्विट्जरलैंड कहा जाता है। उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में 6075 फुट से ज्यादा की ऊंचाई पर बसा है खूबसूरत हिल स्टेशन कौसानी।

Image result for कौसानी

दिलकश नज़ारों के चलते ही इस जगह को भारत का स्विट्जरलैंड कहा जाता है। कहीं-कहीं इसे कुमाऊं का स्वर्ग भी कहते हैं। कौसानी पहुंचकर आपको हिमालय की चोटियों का 350 किलोमीटर फैला नजारा एक ही जगह से देखने का मौका मिलता है।

Image result for स्विट्जरलैंड है कौसानी

पहाड़ों से नीचे झांके तो कटौरी घाटी और गोमती नदी मन मोह लेती है। कौसानी पिंगनाथ चोटी पर बसा है। यहीं से नंदा देवी पर्वत की चोटी को करीब से देखा जा सकता है। इन खूबसूरत नजारों से रूबरू होने के लिए ही देश-दुनिया से टूरिस्ट कौसानी खिंचे चले आते हैं। रुद्रधारी फॉल्स, लक्ष्मी आश्रम, गांधी आश्रम और टी एस्टेट यहां के फेवरिट टूरिस्ट पॉइंट्स हैं।

Image result for स्विट्जरलैंड है कौसानी

कौसानी में लोग खुद को कुदरत के एकदम करीब महसूस करते हैं। चाय के बागान करीब 210 हेक्टेयर एरिया में फैले हैं। चाय पीने के शौकीनों के लिए तो कमाल की जगह है। यहां किस्म-किस्म की चाय पत्तियां उगाई जाती हैं।

Image result for स्विट्जरलैंड है कौसानी

यहां की बेस्ट चाय पत्ती ‘गिरियास टी’ की खेती भी यहां होती है। इसके अलावा ऑर्गेनिक टी भी मिलती है। कुछ एक चाय पत्तियां तो अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी और कोरिया तक एक्सपोर्ट की जाती हैं।

Related image

चाय के साथ ’आलू गुटका’ खूब खाया जाता है। उबले आलू को नमक-मिर्च का तड़का लगा कर बनाते हैं। चाय के साथ यही स्नैक सबसे ज्यादा खाया जाता है। कौसानी और आसपास के पहाड़ी शहरों की बाल मिठाई भी मशहूर है। दूध को घंटों काढ़-काढ़ कर बनाते हैं। चॉकलेट फ्लेवर के ऊपर सफेद मीठी चीनी के दाने लगे होते हैं।

Image result for कौसानी

पौराणिक कथाओं के मुताबिक यह आदि कैलाश है। यहीं भगवान शिव और विष्णु का वास था। यहां आने-जाने का रास्ता कठिन नहीं है। कौसानी के पास 12 किलोमीटर ट्रेकिंग करते-करते भी यहां पहुंच सकते हैं। ठंडे पानी का झरना काफी ऊंचाई से गिरता है।

Image result for कौसानी

जाने कैसे पहुंचे गए

दिल्ली से कौसानी सड़क मार्ग से जुड़ा है और इसकी दूरी करीब 410 किलोमीटर है। दिल्ली से कौसानी पहुंचने में करीब 9-10 घंटे का समय लगता है। नैनीताल कौसानी 120 किलोमीटर दूर है, जबकि अल्मोड़ा से इसकी दूरी सिर्फ 50 किलोमीटर है।

Related image

कौसानी का नजदीकी एयरपोर्ट पंत नगर है। हालांकि एयरपोर्ट भी करीब 180 किलोमीटर दूर है। नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जहां से अल्मोड़ा होकर कौसानी की दूरी 140 किलोमीटर के आसपास है। मार्च से जून के बीच कौसानी घूमने-फिरने का बेस्ट सीजन है। फिर सितंबर से नवंबर का समय भी अच्छा है।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

मिलावटी मेकअप उत्पादों में पशु मल के अंश पाए गए

Published

on

File Photo

अमेरिकी पुलिस को मिलावटी मेकअप उत्पाद में पशुओं का मल होने का पता चला है। भारत में इसका बाजार 40,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का है।

सीएनएन के मुताबिक, जिन ब्रांड्स में पशु मल के अंश पाए गए हैं, उनमें मशहूर मॉडल काइली जेनर का ब्रांड काइली कॉस्मेटिक्स भी शामिल है। लॉस एंजेलिस पुलिस विभाग ने कहा कि उसने ऐसे सौंदर्य उत्पादों को जब्त कर लिया है, परीक्षण में जिनमें बड़ी मात्रा में जीवाणु और पशु मल होने की पुष्टि हुई है।

Kylie Jenner. (Photo: Twitter/@KylieJenner)

लॉस एंजेलिस पुलिस विभाग के कप्तान मार्क रीना ने कहा कि सेंटी एली में 21 जगहों पर की गई छापेमारी के बाद करीब 700,000 डॉलर का मिलावटी मेकअप उत्पाद जब्त किया गया है। डिटेक्टिव रिक इशितानी ने सीएनएन से संबद्ध केएबीसी को बताया कि गेराज या बाथरूम में बनाए जा रहे उत्पादों में किसी तरह से मल मिश्रित हो जाता है।

काइली की बहन किम कर्दशियां वेल्ट ने इस छापेमारी को लेकर ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, “लॉस एंजेलिस पुलिस विभाग द्वारा जब्त काइली लिप किट्स में परीक्षण में मल होने की पुष्टि हुई है। कभी भी मिलावटी उत्पाद मत खरीदें।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular