Connect with us

राजनीति

मोदी सरकार के चार साल के कामकाज को जोशी ने बताया ‘कोरा कागज’

Published

on

pm modi
फाइल फोटो

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी ने मोदी सरकार के पिछले चार साल के कामकाज को कोरा कागज बताया है।

इंदौर में एक कार्यक्रम के दौरान जोशी से एक पत्रकार ने पूछा कि आप मोदी सरकार को कितने नंबर देंगे। इस पर उन्होंने तंज शब्दों में कहा कि कॉपी में कुछ लिखा हो, तब तो नंबर दूंगा।

जोशी ने शिक्षा के मुद्दे पर कहा कि निजी क्षेत्र हों या सरकार शिक्षा का विकास नहीं कर पा रही है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) अगर पैसा नहीं दे पा रही है तो सवाल किया जाना चाहिए कि आखिर इतना पैसा जा कहां रहा है?

बता दें कि मनोहर जोशी उत्तर प्रदेश के कानपुर सीट से सांसद हैं। बीजेपी के कद्दावर नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में उनकी माने हुए नेताओं में गिनती की जाती थी, लेकिन 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से पार्टी में उनका रुतबा पहले जैसा नहीं रहा है।

WeForNews

राजनीति

तोगड़िया 9 फरवरी को करेंगे नई पार्टी का ऐलान

Published

on

Pravin Togadia
अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया (फाइल फोटो)

इंदौर। अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि वह आगामी नौ फरवरी को दिल्ली में एक नए राजनीतिक दल की घोषणा करेंगे।

तोगड़िया ने यहां संवाददाताओं से कहा, “आगामी नौ फरवरी को दिल्ली में एक नए राजनीतिक दल की घोषणा की जाएगी।” राजनीतिक दल में शामिल होने वालों के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनके “संपर्क में कौन है, यह नहीं पूछें, बल्कि यह पूछें कि कौन नहीं है।”

मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के फैसले का स्वागत करते हुए तोगड़िया ने कहा, “अब सरकार को किसानों को उनकी उपज का उचित दाम दिलाने का कदम उठाना चाहिए। किसानों को दिन में 12 घंटे बिजली दी जाए। साथ ही मंदसौर गोलीकांड की जांच के लिए दूसरा आयोग बनाया जाए।” तोगड़िया ने एक सवाल के जवाब में कहा, “मैं एक दंपति के लिए दो बच्चों का पक्षधर हूं, लेकिन दो से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इसके लिए कानून बने। जिस परिवार में दो से ज्यादा बच्चें हों, उन्हें सरकारी सुविधाएं न मिले और उसे चुनाव लड़ने के अयोग्य माना जाए।”

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

ईवीएम हैकिंग मामले में गोपीनाथ मुंडे के भतीजे ने की RAW से जांच कराने की मांग

Published

on

एक साइबर एक्सपर्ट की ओर से 2014 के लोकसभा चुनावों में ईवीएम हैकिंग की जानकारी होने के कारण बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे की हत्या का दावा करने के बाद अब उनके मौत की जांच खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग से कराने की मांग की गई।

धनंजय मुंडे ने कहा कि गोपीनाथ मुंडे की मृत्यु की जांच रॉ अन्यथा सुप्रीम कोर्ट के जज की अगुवाई में होनी चाहिए, महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता मुंडे ने अमेरिका में रह रहे भारतीय स्वयंभू साइबर विशेषज्ञ के दावे पर आश्चर्य जताया।

उन्होंने कहा कि गोपीनाथ मुंडे से प्रेम करने वालों ने उनकी मृत्यु पर हमेशा सवाल उठाया है, उन्होंने पूछा है कि यह दुर्घटना थी या कोई साजिश।

बता दें है कि 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा को जीत मिलने के कुछ ही सप्ताह के भीतर दिल्ली में एक सड़क दुर्घटना में गोपीनाथ मुंडे की मृत्यु हो गई थी

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

मोदी सरकार को हटाने के लिए 2 तरह के गठजोड़, संपूर्ण एकता, संभव एकता : शरद यादव

Published

on

दिल्ली में भारी बारिश (PHOTO CREDIT ANI)

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार को हटाने के विपक्ष के लक्ष्य को पाने के लिए सभी राज्यों में दो तरह के गठजोड़ होंगे, एक तो ‘संपूर्ण एकता’ और दूसरा ‘संभव एकता’।

यादव ने आईएएनएस से साक्षात्कार में कहा कि अतीत में गठबंधन सरकार के प्रधानमंत्री का नाम आमतौर से लोकसभा चुनाव के बाद उभर कर सामने आता था और ऐसा ही आने वाले लोकसभा चुनाव के बाद होगा।

शरद यादव ने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर विपक्ष का गठबंधन काम करता नहीं दिख रहा है, ऐसे में राज्य आधारित गठजोड़ होंगे। शरद यादव ने कहा, “संपूर्ण एकता हो सकती है और संभव एकता हो सकती है। प्रयास संपूर्ण एकता के लिए है लेकिन अगर यह संभव नहीं हुआ तो फिर संभव एकता होगी।”

शरद यादव ने माना है कि कई राज्यों में विपक्षी दलों के अपने-अपने दावों के कारण पूर्ण एकता हासिल करना मुश्किल है।

तीन राज्यों से लोकसभा चुनाव जीत चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने उत्तर प्रदेश में गठबंधन करने का सही फैसला लिया है। यह भाजपा को चुनौती देने की दिशा में बड़ा कदम है।

शरद यादव ने कहा है कि पश्चिम बंगाल और केरल जैसे राज्यों में पूर्ण एकता हासिल करना मुश्किल है लेकिन जो भी हो, विपक्षी पार्टियां भाजपा को हराने के लिए एकजुट होंगी। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु, महाराष्ट्र और बिहार जैसे राज्यों में विपक्षी पार्टियां आसानी से पूर्ण एकता हासिल कर सकती हैं।

सात बार लोकसभा चुनाव जीत चुके शरद यादव ने कहा कि देश की जनता ने तय कर लिया है कि अब भाजपा को आने वाले चुनाव में बाहर का रास्ता दिखाना है। उन्होंने कहा, “पहली प्राथमिकता भाजपा को हराना है। सरकार गठन पर बाद में फैसला हो जाएगा।”

शरद यादव ने कहा है कि 1977, 1990, 1996 और 2004 में गठबंधन व अन्य सरकारें बनीं लेकिन तब भी पहले से प्रधानमंत्री उम्मीदवार के बारे में पता नहीं था। इस बार भी भाजपा चुनाव में हारती है तो प्रधानमंत्री चुनना मुश्किल नहीं होगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि लोकसभा में लोगों को मजबूत सरकार और मजबूर सरकार के बीच में से किसी एक को चुनना होगा, इस पर यादव ने कहा कि इस तरह के नारों का कोई अर्थ नहीं है। लोग ही अंत में संप्रभु प्राधिकारी हैं।

उन्होंने कहा है कि ऐसी सरकार से देश को कोई लाभ नहीं है, जो अपने आप को मजबूत सरकार बोलती है लेकिन ‘संविधान के तहत काम नहीं करती है।’ शरद ने कहा कि मोदी सरकार देश की जनता में फूट डाल रही है, सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर रही है और लोगों से किए अपने वादों को पूरा करने में असफल रही है। बिहार में लोकतंत्रिक जनता दल विपक्षी महागठबंधन का हिस्सा है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular