Connect with us

राष्ट्रीय

जेएनयू के फैसले के खिलाफ आमरण अनशन की तैयारी

Published

on

अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के खिलाफ विश्वविद्यालय परिसर में नौ फरवरी को हुए आयोजन मामले में जेएनयू छात्रों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई ने विश्वविद्यालय प्रशासन और आंदोलनकारी छात्रों के बीच शह-मात का खेल शुरू कर दिया है।

विश्वविद्यालय प्रशसन ने कार्रवाई का जो समय चुना वह उनके लिए फायदेमंद साबित हो रहा है। इसने आंदोलनकारियों को थोड़ी मुश्किल में जरूर डाल दिया है। जेएनयू में बुधवार से सेमेस्टर परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। देखना होगा कि छात्रसंघ क्या इसका तोड़ निकाल पाता है? एक तरफ आंदोलन दूसरे तरफ करियर! सूत्रों के मुताबिक प्रशासन की परीक्षाएं से ठीक पहले कार्रवाई की घोषणा छात्रों की सहभागिता को रोकने की रणनीति है।

उनका मानना था कि दंडात्मक कार्रवाई पर आंदोलन नहीं पनपेगा। लेकिन प्रशासन के कदम का जेएनयूएसयू और आइसा ने मात देने का फैसला किया है। जेएनयूएसयू ने दंडित करने के जेएनयू के फैसले के खिलाफ आमरण अनशन की तैयारी है। इसकी घोषणा किसी क्षण की जा सकती है। कन्हैया मामले पर कार्रवाई विश्वविद्यालय प्रशासन के लिए गले की हड्डी बन गई है। मामला राजनीतिक ही नहीं देश की संवेदना से जुड़ चुका है और सरकार की सीधी नजर इस मामले पर है।

लिहाजा जेएनयू प्रशासन इस मामले में फंूक-फूंक कर कदम रख रहा था। सूत्रों की मानें तो कार्रवाई भी करनी थी और मामले को तूल से भी बचाना था। इस मामले में दो बार यू टर्न लेना इस अंदेशे की पुष्टि करता है कि विश्वविद्यालय के कुलपति के लिए यह फैसला चुनौतीपूर्ण बन गया था। करीब एक महीने पहले कमेटी की रपट आई थी। कहना न होगा कि विश्वविद्यालय प्रशासन न तो आरोपी छात्रों को छोड़ पा रहा था और न ही उनके खिलाफ कार्रवाई कर पा रहा था।

दंडात्मक कार्रवाई तभी हो सकती थी लेकिन परीक्षा के ठीक पहले का समय चुनना एक सुलझी रणनीति का हिस्सा है। यहां यह बताना गैर बाजिब नहीं होगा कि दिल्ली के तत्कालीन पुलिस आयुक्त भीम सेन बस्सी का जल्दीबाजी में उठाए गए एक कदम की कीमत उन्हें कितनी चुकानी पड़ी! और नुकसान भरपाई के लिए इलाके के पुलिस उपायुक्त का तबादला तक करना पड़ा था। परिषद और भाजपा के लोग दबे जुबान से ही सही यह कहते नहीं रुकते कि पुलिस की कार्रवाई ने कन्हैया को हीरो बना दिया।

इसके बाद पुलिस संयमित हुई और आगे गिरफ्तारी से परहेज रखा। बावजूद इसके इस कार्रवाई ने कैंपस में आंदोलन का नया खाका खींच दिया है। छात्र संघ और वामपंथी आंदोलनकारियों की भी परीक्षा है। उन्होंने दो टूक प्रतिक्रिया जताई है। जेएनयू के विद्यार्थियों-उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य ने कहा कि उन्हें विश्वविद्यालय से निष्कासन का फैसला अस्वीकार्य है और उच्च स्तरीय जांच समिति की जांच बस हास्यास्पद है। छात्र संघ ने इस मामले पर देशव्यापी अभियान की धमकी दी है।

अपनी प्रतिक्रिया में जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा कि हास्यास्पद जांच के आधार पर दंडात्मक कार्रवाई अस्वीकार्य है और संघ इसे खारिज करता है। खुद कन्हैया कुमार पर विश्वविद्यालय प्रशासन ने 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। कन्हैया कुमार ने कहा कि जेएनयूएसयू हास्यास्पद समिति के आधार पर प्रशासन की ओर से दंड दिए जाने को खारिज करता है। अपने विरुद्ध फैसले को ‘अस्वीकार्य’ करार देते हुए अनिर्बान और उमर ने आरोप लगाया कि प्रशासन की कार्रवाई आरएसएस की शह पर परेशान करने जैसी है।

जेएनयू ने नौ फरवरी के विवादास्पद कार्यक्रम के सिलसिले में कुमार पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है जबकि पीएचडी स्कॉलर उमर और अनिर्बान को अलग-अलग अवधियों के लिए निष्कासित कर दिया है। आइसा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुचेता डे ने कहा, ‘यह लड़ाई है, शतरंज का खेल नहीं। लेकिन उन्होंने शह दिया है तो हम मात देगें’! उन्होंने कहा कि कार्रवाई पर फैसला विद्वत परिषद में हुआ है जबकि इसे कार्यकारी परिषद में आना चाहिए था।

दो पूर्व छात्राओं-बनज्योत्सना लाहिड़ी और द्रौपदी पर परिसर में पाबंदी लगायी गई है जबकि एक साल के लिए आशुतोष कुमार को और कोमल मोहिते को 21 जुलाई तक छात्रावास की सुविधा से बेदखल कर दिया गया है। संघ अध्यक्ष कन्हैया, उमर और अनिर्बान को विवादित कार्यक्रम के मामले में देशद्रोह के आरोप में फरवरी में गिरफ्तार किया गया और अभी वे सभी जमानत पर हैं। उनकी गिरफ्तारी को लेकर व्यापक विरोध हुआ था।

JNU fast unto death, Guru

wefornews bureau

राष्ट्रीय

संसद के दोनों सदनों में हंगामा, कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगित

Published

on

parliament
फाइल फोटो

नई दिल्ली। संसद की कार्यवाही सोमवार को हंगामे के चलते दिन भर के लिए स्‍थगति हो गई। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन की कार्यवाही शुरू होने के कुछ ही मिनटों में हंगामे के चलते पहले कार्यवाही दोपहर तक के लिए स्थगित की लेकिन जब दोबारा कार्यवाही शुरू हुई तो हंगामा इतना बढ़ा कि दिन भर के लिए स्‍थगित करना पड़ा। 

लोक सभा में हंगामे के दौरान विपक्षी सांसदों को अपनी सीटों से खड़े होकर विरोध प्रदर्शन करते देखा गया। इस बीच भाजपा सांसद कीर्ति सोमैया ने कहा कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश दोनों राज्यों में भाजपा जीत की ओर बढ़ रही है।

सोमैया ने कहा, “कांग्रेस हिमाचल प्रदेश में हार गई है और मैं गुजरात में अभूतपूर्व जीत के लिए प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं।”

उधर राज्‍य सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर लगाए गए आरोपों का कांग्रेस सदस्यों द्वारा पुरजोर विरोध करने की वजह से कार्यवाही बार-बार बाधित होती रही।

इस मामले पर चर्चा करने के लिए कांग्रेस द्वारा दायर नोटिस के खरिज होने के बाद पार्टी के गुस्साए सांसदों ने प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान कांग्रेसी सासंद नारेबाजी करते हुए सभापति के पोडियम के आसपास इकट्ठा हो गए।

विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, “आप रोजाना हर चीज खारिज नहीं कर सकते। यदि ऐसा है तो हम यहां क्या कर रहे हैं? 10 साल तक राज करने वाले एक पूर्व प्रधानमंत्री पर लगे आरोपों को साबित करना पड़ेगा। भाजपा लोगों के प्रति जवाबदेह है।” इस हंगामे के चलते उपसभापति पी.जे कुरियन ने राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्‍थगित कर दी।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

आंध्र प्रदेश में ट्रांसजेंडर्स को हर महीने मिलेगी पेंशन

Published

on

transgender
फाइल फोटो

आंध्र प्रदेश में ट्रांसजेंडर्स को अब हर महीने 1500 रुपए पेंशन मिलेगी। 18 साल से अधिक उम्र के ट्रांसजेंडर्स इस स्कीम का फायदा उठा सकेंगे। मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की कैबिनेट ने रविवार को इस नीति पर फैसला लिया। सरकार की ओर से तय की इस नीति में राज्य के 26,000 ट्रांसजेंडरों को फायदा मिलेगा। इस स्कीम के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।

कैबिनेट की इस योजना में ट्रांसजैंडर्स को भी राशन कार्ड, स्कॉलरशिप और पेंशन का मिलेगा फायदा। यही नहीं सरकार की इस स्कीम में स्किल डेवलपमेंट के कोर्स कराए जाएंगे।

सरकार की ओर से ट्रांसजेंडरों को पेंशन जैसी मूलभूत सुविधा देने की यह योजना इससे पहले केरल और ओडिशा शुरू कर चुके हैं। ऐसे में आंध्र प्रदेश अब तीसरा ऐसा राज्य है जो ट्रांसजेंडर को पेंशन देगा।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

उपराष्ट्रपति भोपाल पहुंचे, शिवराज ने स्वागत किया

Published

on

Venkaiah Naidu
फाइल फोटो

उपराष्ट्रपति एम़ वेंकैया नायडू रविवार को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल पहुंच गए। नायडू का हवाईअड्डे पर मुख्यमंत्री चौहान उनकी पत्नी साधना सिंह सहित अन्य नेताओं ने स्वागत किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अंग वस्त्र एवं सूत की माला भेंटकर उपराष्ट्रपति का स्वागत किया।

विमानतल पर विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा, महापौर आलोक शर्मा, जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह, संस्कृति राज्यमंत्री सुरेंद्र पटवा भी मौजूद थे।

नायडू यहां महिला स्वसहायता समूहों के राज्यस्तरीय सम्मेलन में शिरकत करेंगे। कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से पूर्व में हुए महिला सम्मेलनों में की गई घोषणाओं और उस पर हुए अमल का ब्योरा मांगा है।

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, उप राष्ट्रपति जम्बूरी मैदान में अपराह्न् तीन बजे तक महिला स्वसहायता समूहों के सम्मेलन में रहेंगे और वह इसके बाद दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।

कांग्रेस के विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने बयान जारी कर मुख्यमंत्री चौहान पर पूर्व में महिलाओं से किए वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाया।

आईएएनएस।

Continue Reading
Advertisement
Election Himachal
चुनाव55 mins ago

हिमाचल चुनाव : कई सीटों पर कांटे की टक्कर के बाद जीते नेता

satti dhumal
चुनाव1 hour ago

हिमाचल चुनाव : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व मुख्यमंत्री उम्मीदवार हारे

Himachal Pradesh Assembly Election
चुनाव2 hours ago

हिमाचल चुनाव : 2 निर्दलियों ने भाजपा उम्मीदवारों को हराया

Mamata Banerjee
राजनीति2 hours ago

गुजरात की जीत भाजपा की ‘नैतिक हार’ : ममता

Banarasi saree
व्यापार3 hours ago

बनारसी साड़ी व कालीन उद्योग पर जीएसटी का कहर

PM Modi
राजनीति3 hours ago

गुजरात चुनाव में जीत के बाद मोदी ने दिया नारा, ‘जीतेगा भाई जीतेगा विकास ही जीतेगा’

arun-yadav
चुनाव3 hours ago

जनादेश स्वीकार्य, मगर मोदी का तिलिस्म टूटा : कांग्रेस

gujrat election
राजनीति3 hours ago

मोदी के गृहनगर में बीजेपी को मिली हार

sanjay raut
राजनीति3 hours ago

गुजरात चुनाव में बीजेपी की जीत पर शिवसेना ने कसा तंज, कहा पार्टी की अपेक्षा के मुकाबले जीत नहीं

rahul-gandhi
राजनीति4 hours ago

कांग्रेस की सबसे बड़ी ताकत उसकी शालीनता और साहस है: राहुल गांधी

श्रीनगर
अंतरराष्ट्रीय2 weeks ago

श्रीनगर में अमेरिका के विरोध में प्रदर्शनों के मद्देनजर आंशिक प्रतिबंध

redlipstick
लाइफस्टाइल3 days ago

चाहिए स्‍मार्ट लुक तो ट्राई करें ये लिपशेड…

pr
लाइफस्टाइल3 days ago

इस अंडरग्राउंड शहर में उठाएं जिंदगी का लुत्फ

makeup
लाइफस्टाइल4 weeks ago

सर्दियों में यूं करें मेकअप

लाइफस्टाइल4 weeks ago

पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

Kapil Sibal
ओपिनियन3 weeks ago

दमनकारी विचारधारा के ज़रिये आस्था के नाम पर भय फैलाना बेहद ख़तरनाक है

modi-narendra-gujarat
ब्लॉग3 weeks ago

गुजरात में दिख रहे संघियों के दोमुँही बातों का इतिहास भी बेहद शर्मनाक रहा है!

Narendra Modi
ब्लॉग2 weeks ago

ज़िम्मेदारी लेने के नाम पर भी देश को बेवकूफ़ ही बना रहे हैं नरेन्द्र मोदी…!

india vs srilanka1
खेल2 weeks ago

दिल्‍ली टेस्‍ट ड्रा, भारत ने जीती 1-0 से सीरीज

Narendra Modi
ओपिनियन2 weeks ago

साफ़ दिख रहा है कि गुजरात की बयार देख बदहवास हो गये हैं मोदी…!

मनोरंजन3 days ago

अक्षय की फिल्म पैडमैन का ट्रेलर रिलीज

jammu and kashmir snowfall
राष्ट्रीय7 days ago

बारिश और बर्फबारी के बाद जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग बंद

saif-ali-khan
मनोरंजन2 weeks ago

सैफ की फिल्म ‘कालाकांडी’ का ट्रेलर रिलीज

bharuch rally
चुनाव2 weeks ago

पीएम की रैली में खाली पड़ी रहीं कुर्सियां!

kirron kher
शहर3 weeks ago

चंडीगढ़ रेप केस पर सांसद किरण खेर का बेतुका बयान, देखें वीडियो

sibal3
राजनीति3 weeks ago

असली हिन्‍दू नहीं हैं पीएम मोदी, उन्‍होंने सिर्फ हिन्‍दुत्‍व को अपनाया: कपिल सिब्‍बल

West Bengal
शहर3 weeks ago

कोलकाता के कारखाने में आग, कोई हताहत नहीं

NASA Super sonic parachute
टेक4 weeks ago

देखें मंगल 2020 मिशन के लिए नासा का पहला सफल पैराशूट परीक्षण

fukry
मनोरंजन4 weeks ago

‘फुकरे रिटर्न्स’ का दूसरा गाना रिलीज

Jammu Kashmir
शहर1 month ago

जम्मू कश्मीर: पीर पंजाल में भारी बर्फबारी, कई रास्ते बाधित

Most Popular