Connect with us

राजनीति

जेटलीजी और सत्ता के पक्ष में होने से ज्यादा न्यायोचित होना महत्वपूर्ण है : कांग्रेस

Published

on

randeep-surjewala
फाइल फोटो

कांग्रेस ने महाभियोग के प्रस्ताव को केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा ‘प्रतिशोध की याचिका’ करार दिए जाने वाले बयान पर शनिवार को पलटवार किया। कांग्रेस ने कहा कि ‘सत्ता के यथोचित पक्ष में होने से ज्यादा न्यायोचित होना महत्वपूर्ण है।’

सिलसिलेवार ट्वीट के जरिए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति सौमित्र सेन को अपदस्थ करने के लिए न्यायाधीश जांच अधिनियम के तहत संवैधानिक प्रक्रिया का पालन किया। उन्होंने ट्वीट के साथ महाभियोग को समर्थन करते हुए जेटली का एक वीडियो भी पोस्ट किया।

वीडियो का हवाला देते हुए कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “श्रीमान जेटली, आपने जब न्यायमूर्ति सेन के महाभियोग के पक्ष में दलील पेश की थी तो किसी ने आपके ऊपर प्रतिशोध की राजनीति करने का आरोप नहीं लगाया था। यूपीए सरकार ने न्यायाधीश जांच अधिनियम के तहत संवैधानिक प्रक्रिया का पालन किया था। ऐसा प्रतीत होता है कि इस मामले में आपका रुख भी यही था।”

एक अन्य ट्वीट में सुरजेवाला ने 2015 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्त आयोग (एनजेएसी) अधिनियम को विफल करने पर जेटली की प्रतिक्रिया का जिक्र किया।

उन्होंने कहा, “श्रीमान जेटली, सत्ता के यथोचित पक्ष में होने से ज्यादा न्यायोचित होना महत्वपूर्ण है। आपकी याददाश्त को ताजा करने का वक्त है। अगर सांसद महाभियोग की संवैधानिक प्रक्रिया का पालन करते हैं तो यह बदले की राजनीति है। अगर जेटली जी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अनिर्वाचित की निरंकुशता कहते हैं तो यह विधिमान्य विचार है।”

जेटली ने शुक्रवार को कांग्रेस पर महाभियोग प्रस्ताव को राजनीतिक औजार के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप लगाया और कहा कि यह न्यायाधीश बी.एस. लोया की मौत मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद न्यायपालिका को धमकाने की प्रतिशोधात्मक याचिका है।

कांग्रेस की अगुवाई में राज्यसभा में सात दलों के 64 सदस्यों ने शुक्रवार को उपराष्ट्रपति व राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा को कदाचार के पांच आधारों पर हटाने के लिए महाभियोग लाने का प्रस्ताव सौंपा है।

–आईएएनएस

मनोरंजन

भोपाल से करीना को कांग्रेस का उम्मीदवार बनाने की उठी मांग

Published

on

File Photo

मध्य प्रदेश में कांग्रेस बेहतर प्रदर्शन करना चाहती है और इसी क्रम में वह जीतने वाले उम्मीदवारों की तलाश में जुटी है।

यही कारण है कि भोपाल संसदीय क्षेत्र से करीना कपूर को उम्मीदवार बनाए जाने की मांग उठी है। इस संदर्भ में कांग्रेस पार्षद योगेंद्र सिंह चौहान उर्फ गुड्डू चौहान ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को पत्र लिखा है।

भोपाल संसदीय क्षेत्र भाजपा का गढ़ बन चुका है। यहां से लगातार भाजपा जीतती आई है, कांग्रेस इस सीट पर कब्जा करना चाहती है, इसी के चलते पार्षद चौहान ने सोमवार को राहुल गांधी को पत्र लिखा है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि आगामी लोकसभा चुनाव महत्वपूर्ण है, इसलिए भोपाल संसदीय क्षेत्र से करीना कपूर को उम्मीदवार बनाया जाए।

चौहान ने कहा है कि करीना को उम्मीदवार बनाए जाने से कांग्रेस को भोपाल में विजयश्री प्राप्त होगी। इसलिए, पार्टी को अभिनेत्री को उम्मीदवार बनाना चाहिए।

ज्ञात हो कि, करीना भोपाल के नवाब परिवार की बहू हैं। उनके पति सैफ अली खान है। उनका भोपाल आना-जाना भी होता है। पूर्व में पटौदी परिवार के मंसूर अली खान पटौदी ने साल 1991 में भोपाल संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा था, मगर जीत नहीं मिली थी।

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

इस बार लड़ाई मोदी बनाम भारत है: कांग्रेस

Published

on

abhishek manu singhvi
कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रेस कॉन्फेस को सबोंधित किया। उन्होंने कहा कि इस बार लड़ाई मोदी बनाम भारत की है, लड़ाई मोदी जी के ‘ठगबंधन’ और भारत के ‘जनबंधन’ के बीच होगी।

सिंघवी ने कहा कि अहंकार की जब चरमसीमा होती है तो ‘मेरे बाद अराजकता’ जैसी बात कही जाती है।

उन्होंने कहा कि गठबंधनों के बारे में कभी माननीय प्रधानमंत्री अपशब्द बोलते हैं तो कभी उनके साथी गठबंधन का मजाक उड़ाते हैं कुछ समय पहले इन्होंने सबसे अनैतिक गठबंधन किया था और उसके साथ सरकार चलाई थी, हालांकि कुछ समय बाद गठबंधन को बीच में छोड़कर भाग गये। खुद मोदी जी करीब 40-42 दलों के साथ गठबंधन करते है।

मनु सिंघवी ने कहा कि अब भी पता चल रहा है कि शायद मेहुल चोकसी भारत कभी आयेंगे ही नहीं, क्योंकि मेहुल चोकसी को किसी और देश की नागरिकता मिल गयी है। सिर्फ पिछले साल ही बैंक फ्राड में 72 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। भारत पर कर्ज 54 लाख करोड़ से बढ़कर 82 लाख करोड़ पर पहुंच गया है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने गैरकानूनी काम करने का एक और तरीका निकाला है कि जो नाम नियुक्ति समिति के सामने आयें वो पहले से ही पूर्वनिर्धारित ढंग से चुनकर भेजे जायें, ताकि अंतिम चयन उन्हीं में से हो।

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

चंडीगढ़ की सड़कों पर किरण खेर का पोस्टर लगाकर लिखा ‘द एक्सीडेंटल एमपी’

Published

on

Kirron Kher

‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ रिलीज होने के बाद से ही अनुपम खेर सुर्खियों का हिस्सा बने हुए है। अब उनकी पत्नी सांसद किरण खेर को लोगों ने ट्रोल करना शुरू कर दिया है।

कई जगह उनके पोस्टर चिपका कर उनको ‘द एक्सीडेंटल एमपी’ बताया गया है। अमर उजाला की खबर के मुताबिक चंडीगढ़ की सड़को पर किरण खेर के पोस्टर लगा रखे है।

इस पोस्टर में लिखा है ये हैं द एक्सीडेंटल एमपी। ये पोस्टर किसने लगाए इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। लेकिन कहा जा रहा है कि चंडीगढ़ बीजेपी अध्यक्ष संजय टंडन ग्रुप के कार्यकर्ताओं ने इन पोस्टरों को लगाया है।

पोस्टर पर साफ-साफ लिखा था ‘द एक्सीडेंटल एमपी’. जिससे इन पोस्टरों को लगाने वाले की मंशा पर सवाल खडे़ हो रहे हैं। इस पर सांसद खेर का कहना है कि फिल्म रिलीज होने के बाद से ही कुछ लोग राजनीति कर रहे हैं। फिल्म रिलीज होने के बाद से मेरे पति को और मुझे निशाने पर लिया जा रहा है।

उनके मुताबिक, जब अनुपम खेर को इस बारे में बताया तो हम दोनों काफी देर तक हंसे। इतना ही नहीं उन्होंने कहा की विरोधी हमारे विकास कार्यों को लेकर परेशान रहते हैं। आने वाले चुनाव में एक बार फिर विरोधियों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular