Connect with us

लाइफस्टाइल

सुबह बिस्तर से उठने का मन नहीं करता, तो हो सकती है ये बीमारी

Published

on

Sleep
प्रतीकात्मक तस्वीर

सुबह बिस्तर छोड़ने का मन नहीं करता और इसके लिए अगर आपको काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है तो इस पर आपको गौर करना चाहिए। जी हाँ! आराम से बिस्तर में नींद लेते हैंं और फिर उस आरामदायक बिस्तर को छोड़ने में सुबह मुश्किल होती है तो इसे आलस्‍य समझने की गलती मत कीजिए, ये एक बीमारी है। अगर आप अबतक इसे केवल आलस्‍य समझते आए हैं तो आज इस बात पर गौर कीजिए कि यह एक मेडिकल कंडीशन है और दुनिया में काफी संख्या में लोग इससे प्रभावित हैं।

जानकारी के मुताबिक इस बीमारी का नाम है डाइसेनिया। दरअसल डाइसेनिया एक डिसऑर्डर है जिसमें व्यक्ति को सुबह उठने में काफी दिक्कत होती है। कई बार तो लोग सोकर उठ भी जाए तो जगने के बाद फिर से सोने का बड़ा मन करता है। क्या आप जानते हैं डाइसेनिया पीड़ित लोग कई दिनों तक बिस्तर में रह सकते हैं और उठने के ख्याल भर से ही परेशान हो जाते हैं। यह हल्के में लेने वाली बीमारी नहीं है इसलिए डाइसेनिया से पीड़ित होने का शक होने पर तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए क्योंकि यह डिप्रेशन, क्रोनिक फैटिग्यू सिंड्रोम और पेन डिसऑर्डर फाइब्रोम्यालगिया का संकेत हो सकता है।

रिसर्च के अनुसार, डाइसेनिया से ग्रसित होने का दावा करने वाले लोगों का कहना है कि यह डिसऑर्डर भले ही मेडिकली रूप से ना पहचाना जाता हो लेकिन यह काफी रियल है। वैसे तो सुबह अलॉर्म बजते ही प्रत्येक व्यक्ति को गुस्सा आता है लेकिन डाइसेनिया मरीजों को बिस्तर से उठने में बहुत ज्यादा तकलीफ महसूस होती है। कहा जाता है कि इंसान को दिन में करीब 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए लेकिन डाइसेनिया से ग्रसित लोगों को 7-8 घंटे से ज्यादा नींद की जरूरत महसूस होती है। यहां तक कि बाहरी दुनिया में चाहे कितनी बड़ी कमिटमेंट हो, उसके बावजूद ये बिस्तर से नहीं निकल पाते हैं।

गौरतलब है नैशनल हेल्थ सर्विस (इंग्लैंड) ने अच्छी नींद के लिए कुछ सुझाव साझा किए है।
1. बिस्तर पर जाइए और प्रतिदिन सुबह एक ही समय बना लें और उस समय नींद से उठें।
2. बेडरूम का माहौल शांत होना चाहिए और तापमान, प्रकाश भी नियंत्रित होना चाहिए।
3. बिस्तर आरामदायक होना चाहिए।
4. सोने से पहले एल्कोहल लेने से बचें और भरपेट भोजन ना खाएं।
5. सोने से पहले धूम्रपान का सेवन ना करें।
6. अपनी चिंताओं को लिख लें और अगले दिन जो चीजें करनी हैं, उनकी एक लिस्ट बना लें।
7. अगर आप तब भी नहीं सो पा रहे हैं तो उठकर कुछ ऐसा काम करें जिससे आप थकान का अनुभव करें। बता दें कि डाइसेनिया की मेडिकली पहचान नहीं हुई है इसलिए इसकी वजह भी अभी पूर्ण रूप से साफ नहीं है।

WeForNews

लाइफस्टाइल

भूलकर भी ना दें अपने बच्चों को ये खाना…

Published

on

प्रतीकात्मक तस्वीर

बच्चों की हर जिद्द को माता-पिता पूरा करते हैं चाहे वह खाने-पीने की चीजें हो या खिलौनों की। लेकिन, अपने बच्चों की हर जिद को पूरा करके आप उन्हें उन्हें बीमार कर रहे हैं।

दरअसल, खाने की चीजों को लेकर तो हर बच्चे जिद करते हैं लेकिन कई बार कई तरह के फूड कॉम्बिनेशन बच्चों की सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक होते हैं। इन फूड कॉम्बिनेशंस के कारण बच्चों को पेट दर्द, गैस, कब्ज और डायरिया जैसी समस्या हो सकती है। आइए जानते हैं…

फल और योगर्ट

यह फूड कॉम्बो बेहद ही खतरनाक कॉम्बो है। इस कॉम्बो से जिन टॉक्सिन्स का उत्पादन होता है और यह टॉक्सिंस दस साल से कम बच्चों की आंतों को नुकसान पहुंचाता है। कुछ मामलों में इसके कारण सर्दी-जुकाम, साइनस, कफ या और कोई भी एलर्जी होती है। कभी भी अपने बच्चों को फल खिलाने के एक-दो घंटे के बाद ही दही खिलाएं।

केला और दूध
दूध और केले दोनों में ही कई सारे न्यूट्रीशिएंस पाए जाते हैं जो बच्चों के लिए फायदेमंद हैं। लेकिन आपको ध्यान रखना होगा कि इन दोनों चीजों का सेवन बच्चा एक साथ न करे, क्योंकि यह काफी भारी हो जाता है और इससे आपका बच्चा सुस्त हो सकता है। यही नहीं उसे ज्यादा नींद आने की समस्या शुरू हो जाएगी।

पिज्जा और सोडा

पिज्जा और सोडा बच्चों का मनपसंद कॉम्बो है, लेकिन इसे खाने से बच्चों की पाचन क्रिया पर असर पड़ सकता है। इस कॉम्बिनेशन में स्टार्च, प्रोटीन और कार्बेट्स तीनों ही मौजूद होते हैं जिससे बच्चे को पेट में भारीपन महसूस होगा।

बर्गर और फ्रेंच फ्राई

बर्गर और फ्रेंच फ्राई वैसे भी बड़ों को नुकसान पहुंचाता है और ये बच्चों के लिए तो ज्यादा नुकसानदायक है। दोनों ही चीजें फ्राइड होती हैं और इससे ब्लड में शुगर लेवल कम हो जाता है।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

वजन कम करना है तो पिएं दूध…

Published

on

सदियों से दूध हमारे भोजन का हिस्‍सा रहा है। दूध को संपूर्ण आहार माना जाता है क्‍योंकि इसमें ढेर सारी कैलरी, कैल्शियम और प्रोटीन होता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत अहम हैं। पर हाल ही में लोगों की खानपान की आदतों में बदलाव आया है और लोग दूध पीना छोड़कर वीगन लाइफस्‍टाइल अपना रहे हैं। लेकिन इस तरह दूध को नकारना ठीक नहीं है। आइए जानते हैं…

नाश्‍ते में टोस्‍ट, दो एग वाइट के साथ एक गिलास दूध से बेहतर कोई चीज हो ही नहीं सकती। यह कार्बोहाइड्रेट, मिनरल और प्रोटीन वाला परफेक्‍ट नाश्‍ता है। आप चाहे तो दूध में कॉर्न फ्लेक्‍स या ओट्स ले सकते हैं। इससे न केवल आपको दिन भर के लिए एनर्जी मिलेगी बल्कि आपका पेट भी देर तक भरा रहेगा।

शरीर को डिहाइड्रेशन से बचाने का सबसे अच्‍छा तरीका है कि एक ग्‍लास दूध पी लिया जाए। यह सोडा, एनर्जी ड्रिंक्‍स और दूसरे सॉफ्ट ड्रिंक्‍स की तुलना में बेहतर विकल्‍प है। दूध में सोडियम और पोटेशियम होते हैं जो हमारे शरीर में इलेक्‍ट्रोलाइट का बैलेंस बनाए रखने में मदद करते हैं।

दूध में फैट, कैल्शियम और दूसरे जरूरी पोषक पदार्थों की संतुलित मात्रा होती है जो आपको दिन भर एक्टिव रहने में मदद करती है। इससे आपको जरूरी ऊर्जा मिलती है और शरीर का मेटाबॉलिज्‍म भी अपने टॉप गियर में रहता है। इसकी वजह से तेजी से और स्‍वस्‍थ तरीके से वजन घटाने में मदद मिलती है।

दूध पीने से हमारी हड्डियां और मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। इस वजह से जिम में हमारी परफॉर्मेंस बेहतर होती है। जिम के बाद दूध पीने से न केवल थकान दूर होती है बल्कि ऐसे जरूरी पोषक तत्‍व मिलते हैं जो शरीर के ऊतकों में हुई टूटफूट की मरम्‍मत करते हैं।

WeForNews

Continue Reading

ज़रा हटके

इंदौर में युवक ने किन्नर से रचाया ब्याह

Published

on

By

Junaid Khan Marry transgender

इंदौर, 15 फरवरी | वैलेंटाइन डे पर यहां एक युवक ने किन्नर से विवाह रचाया, जिसकी जानकारी शुक्रवार को सामने आई है। सामने आए वीडियो से खुलासा हुआ है कि इंदौर में जुनैद खान ने टांसजेंडर जयासिंह परमार के साथ विवाह रचा लिया है। जो वीडियो सामने आए हैं, उससे पता चलता है कि विवाह पूरी तरह हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक हुआ है।

सूत्रों के अनुसार, जयासिंह और जुनैद की प्रेम कहानी की जानकारी किन्नर समाज के बीच काम करने वाली एक संस्था को हुई। जया भी इसी संस्था के लिए काम करती थी। संस्था के प्रतिनिधियों ने दोनों को विवाह कराने में मदद का भरोसा दिलाया, मगर जयासिंह डरी हुई थी। बाद में तय हुआ कि वैलेंटाइन डे को विवाह होगा, मगर सूचना किसी को नहीं दी जाएगी।

विवाह कराने में मददगार रहे लोगों के अनुसार, गुरुवार को एक मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज के साथ विवाह संपन्न हो गया। अब इस विवाह का पंजीयन कराया जाएगा, ताकि इसे कानूनी मान्यता मिल सके।

Continue Reading

Most Popular