Connect with us

टेक

क्या चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम है भारत?

Published

on

face recognition india

चेहरे की पहचान की प्रौद्योगिकी का उपयोग दुनियाभर में बढ़ रहा है। ऐसे में इसके दुरुपयोग को रोकना आवश्यक है। विशेषज्ञों की माने तो डाटा सुरक्षा और डाटा निजता कानून के अभाव के कारण भारत इस प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम नहीं है। देश में साइबर कानून के शीर्ष स्तर के विशेषज्ञ पवन दुग्गल ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, “भारत में चेहरे की पहचान की प्रौद्योगिकी के दुरुपयोग को रोकने के लिए कोई कानूनी तंत्र नहीं है।”

उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी कानून में खास तौर से इस प्रौद्योगिकी के दुरुपयोग से नहीं निपट का तरीका नहीं है।

उन्होंने कहा, “शायद इस प्रौद्योगिकी के उचित उपयोग से होने वाले लाभ के कारण इसके उपयोग पर कोई प्रतिबंध भी नहीं है क्योंकि इससे अपेक्षित समय से काफी कम समय में फोटो और वीडियो में लोगों या वस्तुओं की पहचान हो जाती है।”

पिछले साल अप्रैल में चेहरे की पहचान प्रणाली के परीक्षण के दौरान दिल्ली पुलिस ने महज चार दिन में 3,000 लापता बच्चों की पहचान की।

हालांकि कानून लागू करने वाली एजेंसियों के लिए अपराध से निपटने और लापता लोगों की पहचान करने के साथ-साथ कारोबार के लिहाज से उद्योग के लिए भी प्रौद्योगिकी के फायदे से इनकार नहीं किए जा सकते हैं, लेकिन यह प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग है जिससे देश के नागरिकों के लिए समस्या पैदा हो सकती है।

दुग्गल ने कहा, “चेहरे की पहचान की प्रौद्योगिकी के लिए विनियामक रूपरेखा की गैर-मौजूदगी का पहला शिकार लोगों की निजता का अधिकार बन रहा है।”

उन्होंने कहा, “भारत में चेहरे की पहचान के डाटा संग्रहन को विनियमित करने के लिए कोई रूपरेखा भी नहीं है। साइबर अपराधी परिस्थिति का लाभ ले रहे हैं और वे डार्क नेट पर ऐसे डाटा उपलब्ध करवा रहे हैं।”

माइक्रोसॉफ्ट और अमेजन जैसी कुछ बड़ी प्रौद्योगिकी कंपनियां भी इस बात से सहमत हैं कि सरकार के लिए इस प्रौद्योगिकी को विनियमित करने की जरूरत है।

माइक्रोसॉफ्ट प्रेसिडेंट ब्रैड स्मिथ ने दिसंबर में एक ब्लॉग पोस्ट में इस बात का जिक्र किया कि इस प्रौद्योगिकी के कुछ उपयोग से पूर्वाग्रही फैसलों का खतरा बढ़ सकता है और लोगों की निजता में दखलंदाजी हो सकती है। इसके अलावा, प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल व्यापक स्तर पर निगरानी के लिए किए जाने पर लोकतांत्रिक स्वतंत्रता का हनन हो सकता है।

दुग्गल ने कहा कि कोई इस प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल निर्भय होकर कर सकता है क्योंकि उसे किसी हानिकर कानूनी परिणाम का डर नहीं होगा।

उन्होंने कहा, “यहां का कानून नागरिकों को सुरक्षा देने में सक्षम नहीं है।” उन्होंने कहा कि चेहरे की पहचान का स्वनियमन प्रभावकारी नहीं होगा।

दुग्गल ने कहा, “हम जितनी जल्दी चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी को विनियमित करने के लिए प्रभावी कानूनी तंत्र मुहैया करवाने में सक्षम होंगे, यह देश और इसके नागरिकों के लिए उतना ही बेहतर होगा।”

टेक

Samsung ने पहला 5G स्मार्टफोन किया लॉन्च

Published

on

Samsung
फोटो-Samsung

एप्पल की टक्कर में सैमसंग ने यहां बिल ग्राहम सिविक ऑडिटोरियो में अपने फ्लैगशिप स्मार्टफोन्स -गैलेक्सी एस10, गैलेक्सी एस10 प्लस, किफायती गैलेक्सी एस10ई और गैलेक्सी एस5जी लॉन्च किए।

कंपनी ने अभी तक इन डिवाइसों की भारत में कीमत की घोषणा नहीं की है। सैमसंग ने इन डिवाइसों में नया ‘इनफिनिटी-0’ स्क्रीन दिया है, जिसमें बहुत छोटा सा कैमरा होल है।

इसका मतलब यह है कि यूजर्स को कोई नॉच नहीं मिलेगा, जैसा कि आईफोन्स में होता है। सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के आईटी और मोबाइल कम्यूनिकेशंस के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डीजे कोह ने कहा, “गैलेक्सी एस10 में तकनीकी रूप से उत्कृष्ट डिस्प्ले, कैमरा और प्रदर्शन नवोन्मेष को शामिल किया गया है।

इसका निर्माण ग्राहकों को ध्यान में रखकर किया गया है, सैमसंग स्मार्टफोन प्रौद्योगिकी के एक नए युग की शुरुआत करने के लिए उद्योग का एक दशक नेतृत्व करने की अपनी क्षमता का लाभ उठा रहा है।”

एप्पल के आईफोन एक्सआर से सैमसंग के किफायती फोन गैलेक्सी एस10ई की सीधी टक्कर होगी। हालांकि इसमें महंगे गैलेक्सी एस10 और गैलेक्सी एस10प्लस वाले सारे फीचर्स नहीं हैं, जिसमें इन-स्क्रीन फिंगरप्रिंट स्कैनर, उन्नत कैमरे या कव्र्ड डिस्प्ले शामिल है।

लेकिन इसमें प्रोसेसर वही लगाया गया है, जोकि नया क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 855 प्रोसेसर है। इसकी कीमत 749 डॉलर (करीब 53,000 रुपये) से शुरू होती है।गैलेक्सी एस 10 की कीमत 849 डॉलर (करीब 60,00 रुपये) से शुरू होती है।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

पॉप-अप सेल्फी कैमरे वाला Vivo V15 Pro हुआ लॉन्च

Published

on

Vivo-
फोटो-ट्विटर

चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनी वीवो ने भारत में नया मॉडल ‘Vivo V15 Pro’ लॉन्च किया है। पॉप-अप सेल्फी कैमरे वाले स्मार्टफोन की कीमत 28,990 रुपये है।

डिवाइस में आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस (एआई) से लैस ट्रिपल कैमरा, एक ‘इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट स्कैनर’ और ‘सुपर एमोल्ड डिस्प्ले’ है।

वीवो ने अपने इस क्रांतिकारी फोन का भारत में ग्लोबल लॉन्च किया। वीवो इंडिया के सीईओ केंट चेंग ने यहां संवाददाताओं से कहा, अल्टीमेट बेजल-लेस डिस्प्ले देने वाले मोबाइल उद्योग के पहले एलेवेटिंग फ्रंट कैमरे के अलावा, हम हमेशा क्रांतिकारी फीचर्स लाने की कोशिश करते हैं, जैसे उच्च गुणवत्ता के कैमरे और स्मार्टर एआई सेवाएं।”

लगभग पूरी तरह ‘बेजल-लेस 91.64 स्क्रीन-टू-बॉडी’ अनुपात वाला स्मार्टफोन छह जीबी रैम और 128 जीबी इंटरनल स्टोरेज वाला वैरिएंट का प्री ऑर्डर ‘वीवो इंडिया ई-स्टोर’, ‘एमेजन डॉट इन’ और फ्लिपकार्ट पर 20 फरवरी से शुरू हो जाएगा।

छह मार्च से बाजार में आ रहा यह डिवाइस ‘टोपाज ब्ल्यू’ और ‘रूबी रेड’ रंगों में उपलब्ध होगा। 32 जीबी पॉप-अप सेल्फी कैमरे और एआई क्षमता से लैस 4.8 करोड़ क्वैड पिक्सल सैंसर वाले स्मार्टफोन में आठ एमपी प्लस पांच एमपी ट्रिपल कैमरे के रियर कैमरे हैं।

डिवाइस आधुनिक ‘स्नैपड्रैगन 675एआईई ऑक्टाकोर’ प्रोसेसर से लैस है, जो सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के दौरान भी बैटरी की कम खपत करता है।’वी15 प्रो’ में 6.39 इंच की अल्ट्रा फुलव्यू डिस्प्ले है और इसमें पांचवीं पीढ़ी की ‘इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट स्कैनिंग’ प्रौद्योगिकी का उपयोग किया गया है।

यह डिवाइस नवीनतम ‘फनटच ओएस 9’ ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) पर चलती है और यह ‘एंड्रोएड 9.0’ पर आधारित है। माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए इस फोन के स्टोरेज को 256GB तक बढ़ा सकते हैं। वीवो भारत में मैन्युफैक्चरिंग के लिए 4,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। Vivo V15 Pro को कंपनी के ग्रेटर नोएडा मैन्युफैक्चरिंग प्लांट में बनाया जाएगा।

WeForNews

Continue Reading

टेक

फेसबुक पर संवेदनशील स्वास्थ्य डेटा के खुलासे का आरोप

Published

on

facebook
File Photo

फेसबुक पर अपने समूहों में यूजर्स के संवेदनशील स्वास्थ्य डेटा की सुरक्षा में नाकाम रहने का आरोप लगा है।

फेडरल ट्रेड कमीशन (एफटीसी) में सोमवार को दायर एक शिकायत में कहा गया, “फेसबुक ने इन उत्पादों का विपणन पर्सनल हेल्थ रिकार्ड बोलकर किया था और

जिन मरीजों ने इस पर अपने डेटा रखे, उन्हें सार्वजनिक कर दिया। द वर्ज की रिपोर्ट में कहा गया कि यह मामला सबसे पहले जुलाई में संज्ञान में आया था, जब महिलाओं के समूह के एक सदस्य जो जीन म्यूटेशन से पीड़ित थी,

उन्होंने पाया कि बड़ी आसानी से यूजर्स के नाम और ईमेल पते एक साथ भारी संख्या में डाउनलोड हो गए, इसे मैनुअली और क्रोम एक्सटेंशन के माध्यम से डाउनलोड किया गया।

उसके बाद, सोशल नेटवर्किंग दिग्गज ने दावा किया था कि उसने ‘ग्रुप्स’ में बदलाव किया है और उसे ‘सेक्रेट ग्रुप्स’ में बदल दिया है। हालांकि अब इसे ज्वाइन

करना मुश्किल हो गया है, क्योंकि इसे खोजना भी मुश्किल हो गया है।हालांकि, शिकायत में कहा गया है कि निजी रूप से पोस्ट किए गए निजी स्वास्थ्य जानकारियों को सार्वजनिक रूप से साझा करना कानून का उल्लंघन है, जोकि

फेसबुक के निजता क्रियान्वयन तरीकों की गंभीर समस्या है। द वर्ज ने कहा कि फेसबुक पहले से ही निजता चूक को लेकर एफटीसी के साथ अरबों डॉलर के जुर्मानों को लेकर बातचीत कर रहा है और जुर्माने की रकम को घटाने का आग्रह कर रहा है। इस मुद्दे पर अभी तक कंपनी ने कोई आधिकारिक जवाब नहीं दिया है।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
hafiz saeed pakistan
अंतरराष्ट्रीय10 hours ago

पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जेयूडी पर फिर से पाबंदी लगायी

raveena-tandon-min
मनोरंजन14 hours ago

रवीना टंडन शहीदों के बच्चों की शिक्षा के लिए मदद करेंगी

sensex-min
व्यापार14 hours ago

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 142 अंक ऊपर

राष्ट्रीय14 hours ago

मोदी ने दक्षिण कोरियाई विश्वविद्यालय में गांधीजी की प्रतिमा का किया अनावरण

Archana Puran
मनोरंजन14 hours ago

सिद्धू की जगह लेने की संभावना है : अर्चना

शहर14 hours ago

दिल्ली में अक्षरधाम के पास फायरिंग

व्यापार14 hours ago

ईपीएफओ की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी

Farmers
राजनीति15 hours ago

महाराष्ट्र में किसानों का फिर से शुरू हुआ ‘लॉन्ग मार्च’

Samsung
टेक15 hours ago

Samsung ने पहला 5G स्मार्टफोन किया लॉन्च

Supreme_Court_of_India
राष्ट्रीय15 hours ago

पूर्व न्यायाधीश जैन बीसीसीआई के लोकपाल नियुक्त किया

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

vailtine day
लाइफस्टाइल1 week ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

chili-
स्वास्थ्य22 hours ago

हरी मिर्च खाने के 7 फायदे

face recognition india
टेक2 weeks ago

क्या चेहरे की पहचान प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग रोकने में सक्षम है भारत?

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

vijay mallya-min
ब्लॉग2 weeks ago

ईडी की जांच में हुआ खुलासा, माल्या ने कर्ज लेकर रकम देश से बाहर भेजी, लौटाने का इरादा नहीं था

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन4 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन4 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

Most Popular