Connect with us

राष्ट्रीय

आविष्कार और नई खोज में फिसड्डी है भारत, पहुंचा 37वें पायदान पर

Published

on

फाइल फोटो

कंज्यूमर टेक्नोलॉजी एसोसिएशन (CTA) की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक अविष्कार और खोज करने वाले शीर्ष के देशों में कहीं भी भारत का नाम नहीं है। आविष्कार और नई खोज करने के मामले में भारत, दूसरे देशों की तुलना में हमेशा से पिछड़ता आया है।

भारत की बात करें तो रिपोर्ट में हमें 37वीं रैंक मिली है। इसके आधार पर देश को आविष्कार और नई खोजों में मामूली योगदान देने वाला मुल्क माना गया है।

भारत को रिपोर्ट में 1.28 स्कोर मिला है। इसके साथ पड़ोसी मुल्क चीन को इस सूची में 26वीं रैंक मिली है। चीन को खोज और आविष्कार को अपनाने वाले मुल्कों में शामिल किया गया है। जबकि स्कोर 2.12 है।

कंज्यूमर टेक्नोलॉजी एसोसिएशन यानी CTA 38 देशों वाली अमेरिका की सबसे बड़ी टेक संस्था है जो इनोवेशन चैंपियन, लीडर, एडॉप्टर और मामूली योगदान कैटेगरी के आधार पर विभिन्न देशों को रेंक देती है। इसी रेंक के हिसाब से भारत को 37 वीं नंबर पर रखा गया है।

शीर्ष के पांच देशों की अगर हम बात करें तो इसमें पहले स्थान प्राप्त करने वाला देश फिनलैंड है, जिसको 3.28 अंक हासिल हुए है। दूसरे पायदान पर UK का नाम है, तीसरे पर ऑस्ट्रेलिया, चौथे पर स्वीडन और पांचवें स्थान पर अमेरिका का नाम आता है।

कंज्यूमर टेक्नोलॉजी एसोसिएशन यानि CTA 38 देशों वाली अमेरिका की सबसे बड़ी टेक संस्था है। संस्था 4 आधार पर मुल्कों को रैंकिंग और स्कोर देते हैं।

जो इनोवेशन चैंपियन, लीडर, एडॉप्टर और मामूली योगदान कैटेगरी में मुल्कों को विभाजित करते हैं। ये संस्था स्कोर अमेरिकी दृष्टिकोण से सरकारी पॉलिसी और महत्वपूर्ण पहचान के आधार पर स्कोर देते हैं।

WeForNews

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राष्ट्रीय

हिमाचल के किन्नौर में भूकंप के झटके, तीव्रता 4.1

Published

on

earthquake

हिमाचल के जिला किन्नौर में भूकंप के झटके महसूस किेए गए। यह झटके सोमवार शाम 4 बजकर 21 मिनट पर आए हैं। रिएक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 4.1 मापी गई है।

भूकंप के चलते जानमाल के नुकसान की फिलहाल अभी कोई खबर नहीं है। दस दिनों के भीतर ये तीसरा मौका है जब हिमाचल प्रदेश भूकंप के झटकों से दहला है। इससे पहले 10 और 12 मई को भी हिमाचल प्रदेश में भूंकप आने की वजह से लोगों में दहशत फैल गई थी।

12 मई को रिक्टर पैमाने 3.0 की तीव्रता का भूकंप हिमाचल मे आया था। हिमाचल के चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा में भूंकप महसूस किया गया था। उससे पहले पहले 10 मई को भी शिमला, चंबा, ऊना, कुल्लू, मंडी, हमीरपुर सहित अन्य जिलों में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

wefornews

Continue Reading

राष्ट्रीय

नक्सलवाद जमीन खो रहा है : राजनाथ

Published

on

rajnath
फाइल फोटो

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि नक्सलवाद सिमट रहा है और अपनी जमीन खो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि यह फिर भी एक चुनौती बना हुआ है।

राजनाथ छत्तीसगढ़ में सीआरपीएफ की 261 बस्तरिया बटालियन की पासिंग आउट परेड का निरीक्षण कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों के हताहत होने में 55 फीसदी की कमी आई है।

उन्होंने कहा, “नक्सलवाद एक चुनौती है, लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि यह समस्या अब कम हो रही है और जमीन खो रही है।” राजनाथ ने कहा कि नक्सलवादी विकास नहीं चाहते, क्योंकि वे जानते हैं कि अगर विकास होता है तो उनकी खतरनाक योजना कभी सफल नहीं हो पाएगी।

उन्होंने कहा, “बहुत से नक्सलवादी नेताओं ने अवैध गतिविधियों से खूब पैसा बनाया है। हमारी सरकार इस अवैध धन का खुलासा करेगी।” उन्होंने कहा, “हमने फैसला किया है कि सभी वाम शाखा के कट्टरवादी नेताओं, जिन्होंने गरीब लोगों के भोलेपन का फायदा उठाकर धन कमाया है, को दंडित करेंगे।”

उन्होंने सीआरपीएफ व राज्य पुलिस को नक्सलवादियों के 40 से 45 फीसदी भौगोलिक विस्तार पर नियंत्रण करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा, “छत्तीसगढ़ में हमने अपनी लड़ाई में जो सफलता हासिल की है वह राज्य पुलिस व सीआरपीएफ के बीच अच्छे समन्वय की वजह से है।”

उन्होंने सीआरपीएफ जवानों से कहा कि आपका परिवार हमारा परिवार है। हम आपके साथ हर समय खड़े रहेंगे। उन्होंने कहा, “सीआरपीएफ ने अपने समर्पण, प्रतिभा, साहस और प्रतिबद्धता से देश के लोगों से बड़ा सम्मान अर्जित किया है। यहां तक कि कश्मीर में भी सेना के साथ, वे आतंकवादियों से बहुत साहस और दृढ़ता से लड़ रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “बस्तरिया बटालियन का गठन एक सुविचारित फैसला है। हमने बस्तर क्षेत्र से युवा पुरुषों और महिलाओं को इस बटालियन में शामिल करने के लिए कई मानदंडों में ढील दी है।”

उन्होंने कहा, “मैं छत्तीसगढ़ के लोगों को बताना चाहता हूं कि उनका विकास हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है और हम राज्य के विकास को नई ऊंचाई पर ले जाने के लिए हर संभव मदद सुनिश्चित करेंगे।”

–आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

रूस के सोचि में राष्ट्रपति पुतिन से मिले पीएम मोदी

Published

on

पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के सोची शहर में आज रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अनौपचारिक शिखर बैठक की। इस दौरान पुतिन ने कहा कि भारत-रूस के संबंध काफी मजबूत हैं।

वहीं पीएम मोदी ने रूस का राष्ट्रपति बनने पर पुतिन को बधाई दी और कहा कि दोबारा इस मुलाकात पर काफी खुशी हो रही है। मोदी ने कहा कि पूरा भारत की तरफ से आपको बधाई। इससे पहले पीएम मोदी का सोची हवाई अड्डे पर भारत के राजदूत पंकज शरण तथा रूस सरकार के अधिकारियों ने स्वागत किया।

इससे पहले रूस रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ उनकी वार्ता से दोनों देशों के बीच संबंधों में और मजबूती आएगी। मोदी ने कहा, “रूस के मित्रतापूर्ण लोगों का अभिनंदन, मैं कल (सोमवार) सोची के दौरे पर जाने और राष्ट्रपति पुतिन से अपनी मुलाकात का इंतजार कर रहा हूं। उनसे मिलना हमेशा सुखद होता है।”

कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

हथियारों का व्यापार करने वाली रूस की सरकारी कंपनी रोसेबोरोनेक्सपोर्ट समेत रूसी कुलीन तबके के कुछ लोगों और कंपनियों पर प्रतिबंध से मास्को से सैन्य साजो-सामान की खरीद पर संभावित प्रभाव को लेकर भारत की चिंता बढ़ गई है।

विदेश मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा कि मोदी का रूस दौरा एक अहम मौका होगा क्योंकि वह पुतिन से अंतरराष्ट्रीय मसलों पर अपने विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। साथ ही, विशेषाधिकृत रणनीतिक साझेदारी को मजबूती प्रदान करने के दीर्घकालीन परिप्रेक्ष्य में बातचीत करेंगे।

मंत्रालय ने कहा कि भारत और रूस के बीच उच्चस्तर पर नियमित मंत्रणा की परंपरा के अनुरूप यह शिखर सम्मेलन होने जा रहा है। गौरतलब है कि पुतिन भी इस साल वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत आने वाले हैं।

आपको बता दें कि रूस और जापान दो ही ऐसे देश हैं जिनके साथ भारत वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन आयोजित करता है। पुतिन के इस साल मार्च में चौथी बार पद संभालने के बाद मोदी रूस की यात्रा पर जा रहे हैं, पुतिन करीब दो दशक से सत्ता में हैं।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular