हल्की खांसी और गले में खराश, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

हल्की खांसी और गले में खराश, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

Published

on

ayurved
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना संकट के इस दौर में हल्की खांसी और गले में खराश को लेकर बहुत परेशान होने की जरूरत नहीं है। मौसम में बदलाव और ठंडा-गर्म खानपान के कारण यह समस्या हो सकती है। इसके लिए अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसकी दवा तो आपकी रसोई में ही मौजूद है। बस, जरूरत है उसे जानने और दूसरों को समझाने की। आयुर्वेद के इसी ज्ञान से खुद और दूसरों को सुरक्षित रखा जा सकता है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की आयुष इकाई के महाप्रबंधक डॉ. रामजी वर्मा का कहना है कि सूखी खांसी व गले में खराश को दूर करने में आयुष का घरेलू उपचार बहुत ही कारगर है। इसके लिए ताजे पुदीने के पत्ते और काला जीरा को पानी में उबालकर दिन में एक बार भाप लेने से इस तरह की समस्या से राहत मिल सकती है। इसके अलावा लौंग के पाउडर को मिश्री-शहद के साथ मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन करने से इस तरह की समस्या दूर हो सकती है।

डॉ. वर्मा का कहना है कि अगर इसके बाद भी परेशानी ठीक नहीं होती है, तब चिकित्सक की सलाह लें।

उन्होंने बताया कि इसके अलावा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के एक से एक नुस्खे आयुर्वेद में मौजूद हैं, जिसको आजमाकर हम कोरोना ही नहीं अन्य संक्रामक बीमारियों को भी अपने से दूर कर सकते हैं । इसके अलावा इन नुस्खों के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।

डॉ. वर्मा ने बताया कि भोजन में हल्दी, धनिया, जीरा और लहसुन का इस्तेमाल भी इसमें बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है। इसके अलावा दूध में हल्दी मिलाकर पीना, गुनगुना पानी और हर्बल चाय का काढ़ा पीकर भी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

इसके साथ ही योगा, ध्यान और प्राणायाम का भी सहारा लिया जा सकता है। बदली परिस्थितियों में आप यही छोटे-छोटे नुस्खे आजमाकर स्वस्थ रह सकते हैं, क्योंकि अभी अस्पताल और चिकित्सक कोरोना के मरीजों की जांच और देखरेख में व्यस्त हैं। इसलिए अस्पतालों में अनावश्यक दबाव बढ़ाने से बचें और सुरक्षित रहें।

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

पर्यटन : सर्दियों से पहले यात्रा उद्योग में सुधार की उम्मीद नहीं

Published

on

नई दिल्ली: विश्व के अधिकतर देश कोरोनावायरस महामारी से जूझ रहे हैं। इसका अन्य क्षेत्रों के साथ ही पर्यटन पर भी गहरा असर पड़ा है।

संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा निलंबित है और आने वाले दिनों में यहां बाहरी पर्यटकों के आने की संभावना नगण्य है।

एस. पी. जैन ग्लोबल की ओर से आयोजित वैश्विक लक्जरी बिजनेस पैनल के अनुसार, आतिथ्य एवं विमानन क्षेत्र (हॉस्पिटैलिटी एवं एविएशन सेक्टर) कोविड-19 के कारण सबसे अधिक प्रभावित हैं। भारतीय आतिथ्य उद्योग को 4.5 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।

हालांकि उद्योग के चौथी तिमाही में वापसी करने का अनुमान भी है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों पर देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के कारण इनबाउंड और आउटबाउंड पर्यटन ठंडा रहने की ही उम्मीद है। घरेलू कॉर्पोरेट यात्रा में भी देश में व्यवसायों की स्थिति के आधार पर असर देखने को मिल सकता है। हालांकि घरेलू अवकाश यात्रा में फिर से उछाल आ सकता है और यह उद्योग को महामारी के बाद उबरने में मदद करने का एक प्रमुख कारक होगा।

आईजे ड्रीम वकेशन के निदेशक देबाशीष मैत्रा ने आईएएनएस को बताया, शुरुआत में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फंसे लोग भारत की यात्रा करेंगे। कुल मिलाकर इनबाउंड टूरिज्म में धीमी वृद्धि देखी जा सकती है। हालांकि भारत हमेशा से ही अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी एक पसंदीदा और किफायती स्थान रहा है। इसलिए हम 2021 तक सामान्य स्थिति की उम्मीद कर सकते हैं।

स्टर्लिग हॉलिडे रिसॉर्ट्स के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक रमेश रामनाथन के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय यात्रा कम से कम इस वर्ष के लिए धीमी रहने की उम्मीद है। उन्होंने ईमेल के जरिए कहा, गंतव्य को शॉर्ट लिस्ट करते समय सुरक्षा, स्वच्छता, सामाजिक दूरी जैसे पहलुओं पर ध्यान दिया जाएगा। भारत में हिल स्टेशनों, समुद्र तटों, जंगलों, सांस्कृतिक स्थलों और अन्य प्रतिष्ठित एवं शानदार स्थानों की भरमार है और भारतीय यात्रियों की ओर से अपने करीबी लोगों के साथ तनाव मुक्त, पॉकेट-फ्रेंडली घरेलू छुट्टी की योजना बनाने की सबसे अधिक संभावना है।

रामनाथन ने कहा कि कई लोग कोविड-19 के तनाव को दूर करने के लिए जुलाई से बुकिंग कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि स्थिति सही होने में तीन से छह महीने और लगेंगे।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

लॉकडाउन प्रभाव : ग्रूमिंग उत्पादों की बिक्री में ‘5 गुनी वृद्धि’ हुई

Published

on

grooming

नई दिल्ली, सेल्फ-ग्रूमिंग इस समय रफ्तार पकड़ रहा है, हर कोई इसे खुशी से कर रहा है। अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने अपने पति को स्टाइलिश हेयरकट दिया, आलिया भट्ट ने भी अपना हेयर कट कराया।

यहां तक कि डचेस ऑफ कैम्ब्रिज, केट मिडलटन ने भी लॉकडाउन के दौरान अपने छोटे बच्चों की हेयरस्टाइलिंग की।

लोग अपने घरों में सुरक्षित रहते हुए अपनी सुंदरता के लिए उपाय कर रहे हैं, उससे ग्रूमिंग प्रोडक्ट्स का बिजनेस बढ़ गया है।

हेयर ड्रायर, हेयर स्टाइलर, हेयर कर्लर, हेयर स्ट्रेटनर, बॉडी ग्रूमिंग किट, और सबसे महत्वपूर्ण बात, ट्रिमर और पुरुषों के शेवर जैसे उत्पादों की मांग बढ़ी है। जिससे इन ब्रांड की बिक्री के आंकड़ों में बड़े पैमाने पर उछाल आया है।

पैनासोनिक इंडिया के लाइफस्टाइल बिजनेस ग्रुप के बिजनेस हेड शरथ नायर ने आईएएनएस को बताया, पुरुषों और महिलाओं दोनों श्रेणियों में ट्रिमर, हेयर स्टाइलिंग टूल जैसे उत्पादों की मांग बढ़ी है। हमारे ट्रिमर और हेयर ड्रायर हमारे लिए सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद बने हुए हैं। वास्तव में, हमने अपनी मूल बिक्री में 5 गुना की वृद्धि दर्ज की है।

उन्होंने आगे कहा, मैं देख रहा हूं कि लॉकडाउन ने उपभोक्ताओं में एक व्यवहारिक परिवर्तन किया है। हम निश्चित रूप से कम समय के लिए सकारात्मक प्रभाव देख रहे हैं, इसके दीर्घकालिक प्रभाव हमें आगे का समय बताएगा।

बता दें कि अपने घरों में रह रहे लोग इलेक्ट्रॉनिक चीजों की मदद से अपने दैनिक काम निपटा रहे हैं। लॉकडाउन के कारण पहले जो काम पास के सलून और नाई की दुकानों पर जाकर होता था, वो अब खुद घर पर कर रहे हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

कोरोना और सामान्य फ्लू के लक्षण में ऐसे करें फर्क

Published

on

Coronavirus

लखनऊ: कोरोना के इस काल में खांसी और बुखार आते ही लोग दहशत में आ जा रहे हैं। इसकी वजह कोरोनायरस और सामान्य फ्लू के लक्षणों का आपस में मिलना है। प्रदेश सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर रोजाना आ रही सैकड़ों काल इसकी तस्दीक करती हैं।

सवाल यह है कि दोनों में फर्क कैसे किया जाए। क्या खांसी और बुखार आते ही आपको कोरोना की जांच करानी चाहिए? माइक्रोबायोलाजिस्ट डॉ. टी.एन.ढोल के मुताबिक दोनों में काफी बारीक फर्क है। शुरूआती लक्षण काफी-कुछ मिलते-जुलते हैं, लेकिन पहचान करना संभव है। डॉ. ढोल एसजीपीजीआई में सीनियर माइक्रोबायोलाजिस्ट रहे हैं। इस वक्त हिन्द इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस में माइक्रोबायोलाजी विभाग के हेड हैं।

डॉ. ढोल के मुताबिक बुखार के साथ अगर सांस लेने में तकलीफ और सूखी खांसी है तो सावधान हो जाना चाहिए। इसके अलावा अगर खांसी के साथ गले में खराश हो रही है तो व्यक्ति फौरन डॉक्टर से संपर्क करे। डाक्टर कोरोना टेस्ट कराएगा और जरूरी दवाएं देगा जिससे पकड़ में आ जाएगा कि मरीज कोरोना से संक्रमित तो नहीं।

डॉ. ढोल ने कहा कि कोरोना में खून में आक्सीजन की कमी (40 से 50 प्रतिशत) हो जाती है। यह भी एक लक्षण है कोरोनावायरस को पहचाने का। उन्होंने कहा कि इसकी जांच पल्स आक्सीमीटर नाम की मशीन से किया जा सकता है। इस मशीन को हाथ की किसी उंगली में लगाने पर आक्सीजन लेवल पता चल जाता है जिससे झट कोरोना के बारे में पता चल सकता है।

कोरोना के लक्षण :

सांस लेने में तकलीफ, गले में खराश होने के साथ सूखी खांसी, मांसपेशियों में दर्द, बुखार

सामान्य फ्लू के लक्षण

जुकाम (नाक बहना), बुखार- खांसी, सिरदर्द, आंखों का लाल होना या आंखों में पानी आना आदि हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय11 mins ago

दिल्ली में 8 जून से धार्मिक स्थलों को खोलने का ऐलान

Coronavirus-
राष्ट्रीय12 mins ago

महाराष्ट्र में कोरोना के 2487 नए मामले आए सामने

राष्ट्रीय16 mins ago

नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गया स्पेस एक्स का यान

Randeep Surjewala
राजनीति26 mins ago

देश को आगे की योजना बताए सरकार : कांग्रेस

coronavirus
राष्ट्रीय27 mins ago

गोवा में कोरोना के पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या हुई 71

Coronavirus
राष्ट्रीय38 mins ago

जम्मू और कश्मीर में 105 नए मामले

Coronavirus
राष्ट्रीय49 mins ago

मुंबई के धारावी में कोरोना के 38 नए मामले आए सामने

-Coronavirus-min
राष्ट्रीय54 mins ago

हरियाणा में कोरोना के 168 केस

टेक58 mins ago

माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज 10 अपडेट की, खामियां भी उजागर

मनोरंजन1 hour ago

कोरोना आफ्टरशॉक : मानसिक स्वास्थ्य सहायता उपलब्ध कराएंगे रिकी मार्टिन

Multani Mitti-
लाइफस्टाइल4 weeks ago

चेहरे के लिए इतनी फायदेमंद होती है मुल्तानी मिट्टी…

pm modi cm meeting
ओपिनियन4 weeks ago

धन्य है गोदी मीडिया जिसने प्रधानमंत्री के बयान को भी ‘अंडरप्ले’ कर दिया!

Modi Trump
ओपिनियन4 weeks ago

ट्रम्प को अपना सिंहासन डोलता दिख रहा है, भारत भी अछूता नहीं रहने वाला

Migrant Workers in Train
ब्लॉग4 weeks ago

सम्पन्न तबके की दूरदर्शिता के बग़ैर पटरी पर नहीं लौटेगी अर्थव्यवस्था

Narendra Modi
ब्लॉग4 weeks ago

अद्भुत है मोदीजी की ‘कष्ट-थिरैपी’!

Sonia Gandhi Congress Prez
ओपिनियन4 weeks ago

क्या काँग्रेस के लिए टर्निंग प्वाइंट बनेगी ग़रीबों का रेल-भाड़ा भरने की पेशकश?

Rs 2000 Note
व्यापार4 weeks ago

कर्नाटक में बंद प्रभावित सेक्टरों के लिए 1610 करोड़ रुपये का राहत पैकेज

Swine Flu
राष्ट्रीय4 weeks ago

कोरोना संकट के बीच भारत में पहली बार खतरनाक अफ्रीकी फ्लू की दस्तक

wheat-min
व्यापार4 weeks ago

पंजाब में गेहूं की खरीद 100 लाख टन के पार

मनोरंजन4 weeks ago

डीडी नेशनल पर रविवार से प्रसारित होगा लोकप्रिय धारावाहिक श्रीकृष्णा

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय3 weeks ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर1 month ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य2 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति2 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

मनोरंजन2 months ago

रफ्तार का नया गाना ‘मिस्टर नैर’ लॅान्च

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय2 months ago

चीन ने महामारी के फैलाव को कारगर रूप से नियंत्रित किया : डब्ल्यूएचओ

मनोरंजन2 months ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन3 months ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Akshay Kumar
मनोरंजन3 months ago

धमाकेदार एक्शन के साथ रिलीज हुआ ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर

Kapil Mishra in Jaffrabad
राजनीति3 months ago

3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे: कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम

Most Popular