अगर है ये बीमारियां तो कराए स्वाइन फ्लू की जांच | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

अगर है ये बीमारियां तो कराए स्वाइन फ्लू की जांच

Published

on

swin-flu--

अगर किसी व्यक्ति को खांसी, गले में दर्द, बुखार, सिरदर्द, मतली और उल्टी के लक्षण हैं, तो स्वाइन फ्लू की जांच करानी चाहिए। इस स्थिति में दवाई केवल चिकित्सक की निगरानी में ही ली जानी चाहिए।

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने एक बयान में कहा है, “स्वाइन फ्लू में खांसी या गले में खरास के साथ 1000 फारेनहाइट से अधिक तक बुखार हो सकता है। निदान की पुष्टि आरआरटी या पीसीआर तकनीक से किए गए लैब टैस्ट से होती है।”

उन्होंने कहा, “हल्का फ्लू या स्वाइन फ्लू बुखार, खांसी, गले में खरास, नाक बहने, मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द, ठंड और कभी-कभी दस्त और उल्टी के साथ आता है। हल्के मामलों में, सांस लेने में परेशानी नहीं होती है। लगातार बढ़ने वाले स्वाइन फ्लू में छाती में दर्द के साथ उपरोक्त लक्षण, श्वसन दर में वृद्धि, रक्त में ऑक्सीजन की कमी, कम

रक्तचाप, भ्रम, बदलती मानसिक स्थिति, गंभीर निर्जलीकरण और अंतर्निहित अस्थमा, गुर्दे की विफलता, मधुमेह, दिल की विफलता, एंजाइना या सीओपीडी हो सकता है।”डॉ. अग्रवाल ने कहा कि गर्भवती महिलाओं में, फ्लू भ्रूण की मौत सहित अधिक गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है।

हल्के-फुल्के मामलों में अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती, लेकिन गंभीर लक्षण होने पर मरीज को भर्ती करने की आवश्यकता हो सकती है। उन्होंने कहा कहा कि 23-27 अक्टूबर तक यहां तालकटोरा स्टेडियम में 25वें परफेक्ट हैल्थ मेले में स्वाइन फ्लू पर चर्चा होगी।उन्होंने कहा है कि सितंबर माह में बेंगलुरू में सकारात्मक एच1एन1 मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है।

अक्टूबर के पहले सप्ताह के दौरान 68 सकारात्मक मामले सामने आए थे, जो कुछ ही दिनों में 21 और बढ़ गए। ऐसे में सावधानी सबसे बड़ा उपाय है। गौरतलब है कि स्वाइन फ्लू इन्फ्लूएंजा-ए वायरस के एक स्ट्रेन के कारण होती है और सुअरों से इंसानों में संचरित होती है। समय पर इलाज नहीं होने पर एच1एन1 घातक भी हो सकता है।

WeFornews

लाइफस्टाइल

भारत यात्रा के सपने देख रही हैं रीज विदरस्पून

Published

on

लॉस एंजेलिस: अमेरिकी अभिनेत्री रीज विदरस्पून और उनके बेटे टेनेसी भारत की यात्रा करने का सपना देख रहे हैं। विदरस्पून का हालिया इंस्टाग्राम पोस्ट इस तथ्य को रेखांकित करता है। पोस्ट में, मां-बेटे को भारत की एक एक्टिविटी बुक में मगन देखा जा सकता है।

तस्वीर में, टेनेसी पेन पकड़े हुए हैं, जबकि विदरस्पून ‘इंडिया’ लिखे पेज की ओर इशारा करती नजर आ रही है। पास ही में एक मेज पर भारत का एक ब्रोशर और फर्जी पासपोर्ट भी पड़ा है, जो खेलने के लिए है।

अभिनेत्री ने तस्वीर के साथ लिखा, “हम उन जगहों के सपने देख रहे हैं, जहां हम जाएंगे। आप कहां जाने का सपना देख रहे हैं?”

लॉकडाउन के बीच अभिनेत्री परिवार के साथ गुणवत्तापूर्ण अच्छा वक्त गुजार रही हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

नाश्ते में ऐसे बनाएं सूजी-दही चीला

Published

on

Suji Chila-m

नई दिल्ली, सुबह के नाश्ते में अगर कुछ हेल्दी खाना है तो एक बार ट्राई करें सूजी दही चिला। इसे बनाना भी बहुत आसान है। साथ ही इसे बनाने के लिए आपको ज्यादा सामग्री की भी जरूरत नही पड़ेगी।

सामग्री

1 कप सूजी , 1/2 कप दही, 1/4 कप टमाटर, 1/4 कप प्याज, 1/4 कप शिमला मिर्च, 1/4 टीस्पून काली मिर्च पाउडर, 1 टीस्पून चाट मसाला
नमक स्वादानुसार, तेल जरूरत के अनुसार”

विधि

सबसे पहले एक बर्तन में सूजी, दही, टमाटर, प्याज, शिमला मिर्च और थोड़ा पानी डालकर एक गाढ़ा घोल तैयार कर लें।फिर इस घोल को 15 मिनट के लिए अलग रख दें। इस बीच मीडियम आंच पर तवे पर तेल डालकर गरम करने के लिए रख दें। तय समय के बाद घोल में नमक मिला लें। घोल का एक चम्मच लेकर गरम तवे पर फैला दें।

एक तरफ से सिंकने के बाद पैन केक तेल लगाकर पलट कर सेंक लें। पैनकेक के को दोनों तरफ से सुनहरा होने तक सेंक लें। इसी तरह से सारे चिले बना लें। लिजिए तैयार है सूजी दही चिला। इसे अब सॉस के साथ गर्म-गर्म सर्व करें

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

चांदनी चौक में खुल गई गोलगप्पे, चाट की दुकानें

Published

on

CHADNI CHOWK
File Photo

नई दिल्ली, दिल्ली के कई इलाकों में अब सम-विषम के आधार पर बाजार खुलने लगे हैं। इसके साथ ही चटपटा खाने के शौकीन लोगों का मनपसंद स्नैक्स भी अब उन्हें मुहैया होने लगा है। इनमें पुरानी दिल्ली के गोलगप्पे और मिठाइयां शामिल हैं।

बाजार खुलने लगे तो इसके साथ ही पुरानी दिल्ली में कई स्थानों पर गोलगप्पे, चाट पकौड़ी और मिठाई की दुकानें भी एक बार फिर से खुल रही हैं। हालांकि फिलहाल यहां केवल पैकेट बंद गोलगप्पे व अन्य सामान मिल रहे हैं। बाजार में खड़े होकर खाने की सुविधा अभी नहीं दी गई है।

गोलगप्पे और चाट के अलावा खाने-पीने की अन्य दुकानें, जूस, मिठाई आदि की दुकानें भी खुल रहीं हैं। वहीं कई स्थानों पर होम डिलीवरी करने वाले रेस्तरां, कुल्फी और गुजराती नमकीन की दुकानें भी खुल रही हैं। हालांकि खरीदार इनमें से केवल कुछ ही दुकानों को नसीब हो पा रहे हैं।

पुरानी दिल्ली में एक बार फिर गुलजार हुई इन दुकानों में खाने पीने और मिठाई की दुकानों पर ग्राहक नजर आए। जिन दुकानों पर खरीदार मौजूद थे वहां सोशल डिस्टेंसिंग की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं थी। दुकानों पर मौजूद ग्राहकों और स्वयं दुकानदारों में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर लेकर लेकर कोई खास सजगता नहीं दिखाई दी।

सावधानी बरतते हुए गोलगप्पे पॉलिथीन में पैक किए गए थे। गोलगप्पे का पानी, चटनी और उसमें भरने वाले आलू भी अलग-अलग पॉलिथीन में पैक करके बेचे जा रहे हैं। गोलगप्पे विक्रेता आसाराम ने कहा, “अब जब सरकार से इजाजत मिल गई है तो हम 2 महीने बाद फिर से अपना छोटा सा कारोबार खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं।

अभी हम पहले की तरह ग्राहकों को मौके पर ही गोलगप्पे नहीं खिला रहे हैं बल्कि सारा सामान अलग-अलग थैलियों में पैक करके रखा है। हमने 20, 50 और 100 रुपये के अलग-अलग पैकेट बनाए हैं।”

वहीं बाजार खुलने के बावजूद ज्यादा ग्राहक अभी तक बाजारों में नहीं आए हैं। करोल बाग के एक दुकानदार गुरबख्श आहूजा ने कहा, “बाजार में आधी दुकानें खुल रही हैं लेकिन ग्राहक एक चौथाई भी नहीं है दिन भर की दुकानदारी में महज चार-पांच ग्राहक ही खरीदारी के लिए आ रहे हैं।”

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular