Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

उत्तर कोरिया से वार्ता सफल नहीं रही तो बीच में ही बैठक छोड़ दूंगा : ट्रंप

Published

on

Donald Trump
File Photo

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगर उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन के साथ उनकी योजनाबद्ध वार्ता सकारात्मक नहीं होती है तो वह वार्ता छोड़कर बाहर चले जाएंगे।

‘बीबीसी’ की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने यह बात अमेरिका के दौरे पर आए जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कही। राष्ट्रपति ट्रंप ने किम के साथ बैठक के बारे में कहा कि अगर उन्हें लगेगा कि यह बैठक सफल नहीं होने वाली तो वे इसमें शामिल ही नहीं होंगे और अगर बैठक होती है और सकारात्मक दिशा में आगे नहीं बढ़ती है तो वे इसे बीच में ही छोड़ देंगे।

उन्होंने कहा, “उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण तक अधिकतम दबाव की हमारी नीति बरकरार रहेगी।” आबे फ्लोरिडा में वार्ता के लिए ट्रंप के मार-ए-लागो रिसॉर्ट में रुके हैं। इससे पहले ट्रंप ने पुष्टि की थी कि सेंट्रल इंटेलीजेंस एजेंसी (सीआईए) के निदेशक माइक पोम्पियो ने ईस्टर सप्ताहांत में किम से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया का गुप्त दौरा किया था। उन्होंने कहा कि पोम्पियो ने किम के साथ अच्छे संबंध बनाए थे। ट्रंप ने कहा कि पोम्पियो-किम की मुलाकात बहुत अच्छी रही।

–आईएएनएस

अंतरराष्ट्रीय

नॉर्थ कोरिया के साथ वार्ता 12 जून को संभव: ट्रंप

Published

on

फाइल फोटो

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ सिंगापुर में 12 जून को ही बैठक कर सकते हैं। ट्रंप ने शुक्रवार को खुद इसकी संभावना जताई। ट्रंप ने कहा कि उनका प्रशासन उत्तर कोरियाई अधिकारियों से इस मुद्दे पर चर्चा कर रहा है।

ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ‘हम देखते हैं कि आगे क्या होता है। हम उनके साथ बातचीत कर रहे हैं। मैं बैठक करना चाहता हूं। हम बैठक करना पसंद करेंगे। देखते हैं आगे क्या होगा।’ ट्रंप ने ट्वीट कर बताया कि इस बारे में सकारात्मक बातचीत हुई है और अगर संभव हुआ तो मुलाकात 12 जून का न कर आगे भी की जा सकती है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप सिंगापुर में 12 जून को रद्द हो चुकी बातचीत को लेकर आशावादी नजर आए। ट्रंंप ने एक सवाल के जवाब में कहा , ‘यह 12 जून को भी हो सकती है।’ इससे एक दिन पहले, ट्रंप ने किम को लिखे पत्र में सिंगापुर में 12 जून को प्रस्तावित बातचीत को रद्द करने की घोषणा की थी। उन्होंने प्योंगयांग के अत्यंत गुस्से को अपने फैसले की वजह बताया था।

उधर, उत्तर कोरिया ने एक बयान में शिखर वार्ता रद्द होने पर अफसोस जताया था और कहा था कि वह किसी भी समय वार्ता के लिए इच्छुक है।  दोनों नेताओं के बीच होने वाली मुलाकात पर पूरी दुनिया की नजर थी, लेकिन उससे पहले ही यह रद्द हो गई।

ट्रंप ने कहा कि किम के हाल के बयानों से यह मुलाकात संभव नहीं है। ट्रंप ने हाल ही में इशारा भी किया था कि ये मुलाकात टल सकती है। मुलाकात तय होने के बाद ही किम ने चीन का दौरा किया था, जो अमेरिका की आंखों में खटकने लगा था। उसके बाद ही इस मुलाकात पर ग्रहण लग गया था।

मुलाकात रद्द होने से दुखी दक्षिण कोरिया ने अब फिर से मुलाकात की संभावनाओं का स्वागत किया है। दक्षिण कोरिया को उम्मीद है कि उत्तर कोरिया के किम और दक्षिण कारेयाई राष्ट्रपति मून जेई-इन के बीच हुई ऐतिहासिक बैठक के बाद से शांति की दिशा में और प्रगति होगी।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

‘ईरान परमाणु समझौते को बनाए रखने को लेकर आश्वस्त’

Published

on

iran
फाइल फोटो

आस्ट्रिया की राजधानी वियना में हुई बैठक के बाद ईरान के विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ऐतिहासिक ईरान परमाणु समझौते के बने रहने को लेकर उम्मीद जताई है। ईरान के उपविदेश मंत्री अब्बास अरागची ने कहा कि वह शुक्रवार को समझौते से जुड़े पांच अन्य पक्षों के साथ वार्ता के बाद इस समझौते को बनाए रखने को लेकर अधिक आश्वस्त हो गए हैं।

अमेरिका इस ऐतिहासिक परमाणु समझौते से बाहर निकल गया है। अरागची ने कहा, “बैठक में सभी सदस्य देशों ने इस समझौते को बनाए रखने की इच्छा जताई।” उन्होंने कहा कि अमेरिका के इस समझौते से हाथ खींचने पर सभी सदस्य देशों को खेद भी है।

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

धोखाधड़ी मामले में ट्रंप के पूर्व प्रचार प्रमुख मनाफोर्ट की सुनवाई स्थगित

Published

on

donald-trump
फाइल फोटो

अमेरिका के वर्जीनिया के संघीय न्यायाधीश ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व प्रचार प्रमुख पॉल मनाफोर्ट की सुनवाई दो सप्ताह के लिए स्थगित कर दी है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, न्यायाधीश टी.एस.इलिस ने शुक्रवार को कहा कि अब इस मामले की सुनवाई 24 जुलाई को होगी। पहले इस मामले की सुनवाई 10 जुलाई को होनी थी।

न्यायाधीश ने कहा कि उनके परिवार के एक सदस्य की चिकित्सा जांच प्रक्रिया की वजह से यह देरी हुई है। मनाफोर्ट मार्च में वर्जीनिया की संघीय अदालत में बैंक और कर धोखाधड़ी सहित 18 आपराधिक मामलों में दोषी नहीं पाए गए थे लेकिन अभियोजको ने अदालत में कहा था कि वे सुनवाई के लिए 20 से 25 प्रत्यक्षदर्शियों को बुलाना चाहते हैं और यह विवाद दो सप्ताह तक चल सकता है। यदि मनाफोर्ट दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें 305 साल कैद की सजा हो सकती है।

मनाफोर्ट पर इस साल दो अलग-अलग सुनवाइयां होंगी। एक सुनवाई 17 सितंबर से वाशिंगटन में शुरू होगी और कई कई सप्ताह तक चल सकती है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular