इंदौर के गौतमपुरा में बरसे आग के गोले, 19 घायल | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Viral सच

इंदौर के गौतमपुरा में बरसे आग के गोले, 19 घायल

Published

on

Hingot Bomb War

इंदौर, 28 अक्टूबर | मध्य प्रदेश की व्यावसायिक नगरी इंदौर के गौतमपुरा में वषरें से चली आ रही परंपरा के मुताबिक, दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा के मौके पर हिंगोट युद्घ आयोजित किया गया। आसमान पर उड़ते हुए आग के गोले दो दलों ने एक-दूसरे पर बरसाए। इस युद्घ में कुल 19 लोग घायल हुए, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद घरों को रवाना कर दिया गया। जिला मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर स्थित गौतमपुरा में दीपावली के अगले दिन और भाईदूज की पूर्व संध्या पर दो दल जमा हुए, जिनमें से एक दल गौतमपुरा का ‘तुर्रा’ दूसरा रुणजी गांव का ‘कलंगी’ दल था। दोनों दलों के सदस्यों ने एक-दूसरे पर हिंगोट से हमला किया।

देपालपुर क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस (एसडीओ-पी) रामकुमार राय ने आईएएनएस को बताया, “हिंगोट युद्घ में दोनों ओर से चले हिंगोट से किसी भी व्यक्ति को गंभीर चोट नहीं आई है। कुल 19 लोगों को मामूली चोटें लगीं, जिन्हें प्रारंभिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया है।”

उन्होंने प्रशासन की ओर से की गई तैयारियों का ब्यौरा देते हुए बताया, “पुलिस और प्रशासन ने हिंगोट युद्घ में किसी तरह का हादसा न हो, इसके पुख्ता इंतजाम किए थे। मैदान के चारों ओर जाली लगाई गई थी, जिससे हिंगोट बाहर नहीं आ सकता। बीते साल से दोगुना पुलिस बल की तैनाती की गई थी।”

Image result for हिंगोट बम

गौतमपुरा में हिंगोट युद्घ की यह परंपरा कई वर्षो से चली आ रही है। हिंगोट एक फल है। यहां के लेाग लगभग एक माह पहले से कंटीली झाड़ियों में लगने वाले हिंगोट को जमा करते हैं, उसके अंदर के गूदे को अलग कर दिया जाता है, और उसके कठोर बाहरी आवरण को धूप में सुखाने के बाद उसके भीतर बारूद, कंकड़-पत्थर भरे जाते हैं।

बारूद भरे जाने के बाद यह हिंगोट बम का रूप ले लेता है। उसके एक सिरे पर लकड़ी बांधी जाती है, जिससे वह राकेट की तरह आगे जा सके। एक हिस्से में आग लगाने पर हिंगोट राकेट की तरह घूमता हुआ दूसरे दल की ओर बढ़ता है। दोनों ओर से चलने वाले हिंगोट के कारण गौतमपुरा का भगवान देवनारायण के मंदिर का मैदान जलते हुए गोलों की बारिश के मैदान में बदल गया। देानों दलों के योद्घाओं ने एक-दूसरे पर जमकर हिंगोट चलाए, जिसमें 19 लोगों को चोटें आईं।

आखिर हिंगोट युद्घ की शुरुआत कैसे, क्यों और कब हुई, इसका कहीं भी उल्लेख नहीं मिलता है। लेकिन किंवदंती है कि रियासतकाल में गौतमपुरा क्षेत्र की सीमाओं की रक्षा के लिए तैनात जवान दूसरे आक्रमणकारियों पर हिंगोट से हमले करते थे।

स्थानीय लोगों के मुताबिक, हिंगोट युद्घ एक किस्म के अभ्यास के रूप में शुरू हुआ था और उसके बाद इसके साथ धार्मिक मान्यताएं जुड़ती चली गईं।

इंदौर मुख्यालय से लगभग 55 किलोमीटर दूर बसे गौतमपुरा में इस आयोजन को लेकर खासा उत्साह रहा और हिंगोट युद्घ शुरू होने से पहले ही लोगों का हुजूम मौके पर पहुंचने लगा था। एक तरफ जहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे, वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती की गई थी। एंबुलेंस भी थे, ताकि इस युद्घ के दौरान घायल होने वालों को जल्दी उपचार मिल सके।

Viral सच

क्या कोमा में चले गए हैं उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन

Published

on

Kim-Jong-Un

ययांग: उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन (KIM JONG-UN) की सेहत को लेकर पिछले कुछ दिनों से काफी खबरें तैर रही हैं और हर खबर उनकी हालत के गंभीर होने के संकेत दे रहे हैं। अब बताया जा रहा है कि मित्र चीन ने किम के लिए मेडिकल टीम उत्तर कोरिया भेजी है जिसके बाद अब जापानी मीडिया दावा कर रही है कि हार्ट सर्जरी के बाद किम कोमा में चले गए हैं।

जापान के शुकान गेडई वीकली मैगजीन ने शुक्रवार को ऐसा दावा किया है कि उत्तर कोरिया के शासक किम कोमा में चले गए हैं। उनकी महीने की शुरुआत में हार्ट सर्जरी हुई है। इसमें चीनी मेडिकल टीम के सदस्य के हवाले से बताया गया है कि हार्ट संबंधी सामान्य समस्या के इलाज में देरी के काऱण किम गंभीर रूप से बीमार हो गए।

रॉयटर्स के मुताबिक, सूत्र बताते हैं कि वह ग्रामीण इलाके का दौरा कर रहे थे तभी उन्हें सीने में दर्द की शिकायत हुई और वह जमीन पर जा गिरे। हालांकि, उस वक्त एक डॉक्टर उनके साथ ही दौरा कर रहा था जिसने उन्हें सीपीआर दिया और फिर अस्पताल में भर्ती कराया।

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के इंटरनैशनल लैजन डिपार्टमेंट के सीनियर सदस्यों का एक प्रतिनिधमंडल गुरुवार को उत्तर कोरिया के लिए रवाना हुआ। हालांकि, सूत्रों ने यह बताने से इनकार कर दिया कि वे वहां क्यों गए हैं। हालांकि, दक्षिण कोरिया के अधिकारियों और यहां तक कि एक चीनी अधिकारी ने भी किम के गंभीर रूप से बीमार होने की खबरों का खंडन किया है। दक्षिण कोरिया का कहना है कि उन्हें उत्तर कोरिया में कोई असामान्य गतिविधि नजर नहीं आई है।

Continue Reading

Viral सच

कोरोना से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ

Published

on

coronavirus Fact Covid

ये सबसे बड़ा झूठ है कि कोरोना वायरस को चीन या अमेरिका ने अपने किसी जैविक हथियार के रूप में विकसित किया था, लेकिन दुर्भाग्यवश वो प्रयोगशालाओं के तालों और दीवारों को चकमा देकर निकल भागा और अब सारी दुनिया में नरसंहार कर रहा है। जबकि वैज्ञानिक सच्चाई ये है कि आज तक मनुष्य अपनी प्रयोगशालाओं में किसी भी नये जन्तु का निर्माण नहीं कर पाया है। लिहाज़ा, कोरोना वायरस को किसी जैविक हथियार के रूप में पेश करना पूरी तरह से झूठ और भ्रामक है। अलबत्ता, इसमें कोई शक़ नहीं कि कोरोना वायरस के परिवार में COVID-19 एक नया सदस्य है। लेकिन इसकी जननी प्रकृति या क़ुदरत ही है।

वैज्ञानिकों ने बैक्टीरिया और वायरस जैसे घातक सूक्ष्म जीवों को मारने की दवाएँ तो तैयार की हैं, जेनेटिक बदलाव करके कई जीवों की प्रकृति में बदलाव करने में भी सफलता पायी है, लेकिन किसी नये जीव की रचना करने में उसे अभी तक कामयाबी नहीं मिली है। फिर चाहे ऐसे सूक्ष्म जीव इंसानों के लिए फ़ायदेमन्द हो या नुकसानदायक। इंसान अभी तक सिर्फ़ क्लोन पैदा कर सका है, टेस्ट ट्यूब में निषेचन (fertilization) करवा सका है, लेकिन वो शुक्राणु या अंडाणु को प्रयोगशाला में बना नहीं सका है। क्लोन को नया जीव नहीं माना गया है। बल्कि ये महज डुप्लीकेट है। ओरिजनल जैसे गुणों वाला डुप्लीकेट। लेकिन इस डुप्लीकेट को कभी भी ओरिजनल और स्वतंत्र नहीं माना गया।

क्या हैं जैविक और रासायनिक हथियार?

जैविक और रासायनिक अलग ही चीज़ होते हैं। सारी दुनिया में इसके निर्माण पर इस्तेमाल पर बेहद सख़्त पाबन्दी है। परमाणु हथियारों से भी कहीं ज़्यादा सख़्त। जैविक हथियार वो हैं जो ज्ञात घातक जन्तुओं या बीमारियों के संक्रमण के रूप में दुश्मनों पर फेंके जा सकते हैं। जैसे, चेचक के विषाणु। लेकिन इसकी भी कई प्रजाति हैं। जैसे small pox, chicken pox, measles आदि। इसमें से small pox का टीका विकसित करके इसे सारी दुनिया से मिटाया जा चुका है। ऐसे ही हैज़ा, प्लेग, टीबी जैसी बीमारियाँ काबू में हैं। लेकिन यदि कोई देश प्रयोगशालों में इनके कीटाणुओं की संख्या को बढ़ाकर उससे दुश्मन देश को संक्रमित करना चाहे तो ये प्रक्रिया जैविक हथियार का इस्तेमाल या हमला कहलाएगी।

दूसरी ओर रासायनिक हथियार का मतलब है युद्ध में ऐसे ज़हरीले कैमिकल्स को दुश्मन पर फेंकना जिससे उसे जान-माल का भारी नुक़सान हो, जिसमें रसायनों के प्रभाव से सेना या नागरिकों की मौत का ख़तरा हो। ऐसे घातक रसायनों या यौगिकों (compounds) को भी प्रयोगशालाओं में ही बनाया जाता है। ये ठोस, द्रव या गैस – किसी भी रूप में हो सकते हैं। लेकिन इनका निर्माण हमेशा उन प्राकृतिक पदार्थों से होता है जिन्हें क़ुदरत ने बनाया है। मनुष्य तो सिर्फ़ घातक यौगिक बना सकता है। किसी नये जीव की तरह, नया तत्व बनना भी हमेशा इसके बूते से बाहर ही रहा है।

बैक्टीरिया बनाम वायरस

जीव विज्ञान की परिभाषाओं के मुताबिक़, वायरस (विषाणु) और बैक्टीरिया दोनों ही सूक्ष्म जीव हैं। प्रकृति या कुदरत ही दोनों की जननी है। दोनों संक्रामक हैं। दोनों परजीवी हैं। यानी इन्हें पनपने के लिए अन्य प्राणियों के सम्पर्क में आना पड़ता है। दोनों में सबसे बड़ा फ़र्क़ ये है कि बैक्टीरिया जन्मजात तौर पर सजीव होते हैं। इनका प्रसार भी सजीव के रूप में ही होता है। जबकि वायरस बुनियादी तौर पर स्वतंत्र और निर्जीव होता है। लेकिन किसी सजीव प्राणी के सम्पर्क में आने पर थोड़े समय में ही इसमें सजीवों वाले गुण पनप जाते हैं।

एक बार सजीव बनने के बाद वायरस का भी जैविक विभाजन और विस्तार होने लगता है। लेकिन नवजात वायरस भी अपने पैतृक स्वभाव की वजह से तब तक निर्जीव ही बना रहता है जब तक कि वो किसी सजीव प्राणी में प्रवेश करके वहाँ फलने-फूलने ना लगे। सजीव के सम्पर्क के आने के बाद जल्द ही ये भी सजीव बन जाता है। मानव शरीर में एक ही तरह के लक्षण दिखाने वाले फ़्लू और इन्फ़्लूएंजा के वायरसों की दो सौ से भी अधिक ज्ञात किस्में हैं। इनके गुण-धर्म एक जैसे नहीं होते इसीलिए वैज्ञानिक मनुष्यों में फ़्लू पैदा करने वाले वायरसों का आज तक कोई ऐसा टीका नहीं विकसित कर पाये सके जो हरेक तरह के वायरस पर प्रभावी हो।

रोचक बात ये भी है कि चाहे जिस तरह का वायरस हो उसकी ज़िन्दगी यानी उम्र चार-छह दिन से ज़्यादा की नहीं होती है। इसीलिए इससे पैदा होने वाली तकलीफ़ें भी हफ़्ते-दस दिन बाद दूर होने लगती हैं। इस दौरान शरीर की प्रतिरोधक क्षमता वायरसों के लक्षणों से ख़ुद को उबार ही लेती है। इसीलिए वायरसों को तब तक जानलेवा नहीं माना जाता जब तक कि वो अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीज़ों की दशा में और बेकाबू ना बना दे। इसीलिए, डॉक्टरों को बस वायरस के पीड़ित मरीज़ों को कष्टकारी लक्षणों को क़ाबू में रखना होता है और वो इसके लिए ही दवाइयाँ देते हैं।

दूसरी चुनौती होती है, वायरस को फ़ैलने से रोकना। इसके लिए ही अत्यधिक साफ़-सफ़ाई और सम्पर्क-विहीनता पर ज़ोर दिया जाता है। यदि वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलेगा नहीं तो अपनी अल्प-आयु की वजह से भी ख़ुद ही बेअसर बन जाएगा। दूसरी ओर, बैक्टीरिया अपनी वृद्धि स्वतंत्र रूप से करता है। इसीलिए इसके संक्रमण और दुष्प्रभाव की रोकथाम के लिए डॉक्टर को एंटी बायोटिक दवाओं का इस्तेमाल करना पड़ता है। कमज़ोर शरीर पर बैक्टीरिया से पीड़ित होने की आशंका ज़्यादा रहती है। कोई मरीज़ बैक्टीरिया और वायरस दोनों से पीड़ित हो सकता है। इसीलिए डॉक्टरों को एंटी बायोटिक दवाओं की निर्धारित ख़ुराक यानी कोर्स के ज़रिये बैक्टीरिया का सफ़ाया करना पड़ता है। ये दवाएँ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। बैक्टीरिया के गुण-धर्मों की वजह से उनके टीके बना पाना सम्भव हुआ है जबकि यही काम वायरस के लिए कर पाना हमेशा से बेहद कठिन साबित हुआ है।

Continue Reading

Viral सच

कोरोना वायरस के डर से चिकन की जगह कटहल की मांग बढ़ी

हालांकि, इस मेले ने वायरस के प्रकोप के बीच लोगों के मन से चिकन, मटन और मछली के सेवन को लेकर आशंकाएं दूर करने में कुछ खास काम नहीं किया।

Published

on

By

लखनऊ, 11 मार्च | कोरोना वायरस के डर से जहां चिकन, मटन की बिक्री में कमी आ रही है, वहीं इसके विकल्प के तौर पर कटहल की बिक्री बढ़ रही है। कटहल अब 120 रुपए किलो बिक रहा है, जो कि इसकी सामान्य कीमत 50 रुपए किलो से 120 फीसदी ज्यादा है। इस समय कटहल की कीमत चिकन की कीमत से ज्यादा है। अभी चिकन, मांग में कमी के कारण महज 80 रुपए किलो बिक रहा है, जो कि आमतौर पर 130 से 150 रुपए किलो बिकता है।

नियमित रूप से नॉन-वेज खाने वाली पूर्णिमा श्रीवास्तव ने कहा, “मटन बिरयानी खाने से बेहतर है कटहल बिरयानी खाना। यह स्वाद में अच्छी है। बस, एक समस्या है कि कटहल सब्जी मार्केट में गायब है और इसे ढूंढना थोड़ा मुश्किल हो रहा है।”

कोरोना वायरस के डर ने मुर्गी पालन व्यवसाय को खासा नुकसान पहुंचाया है। पोल्ट्री फार्म एसोसिएशन ने गोरखपुर में चिकन मेले का आयोजन किया, ताकि लोगों के मन से इस भ्रांति को निकाला जा सके कि यह पक्षी कोरोना वायरस का वाहक है।

एसोसिएशन के प्रमुख विनीत सिंह ने कहा, “हमने लोगों को चिकन से बने व्यंजन खाने के लिए प्रेरित करने के लिए केवल 30 रुपए प्लेट में चिकन डिश दीं। हमने 1000 किलो चिकन इस मेले के लिए पकाया था, जो कि पूरा बिक गया।”

हालांकि, इस मेले ने वायरस के प्रकोप के बीच लोगों के मन से चिकन, मटन और मछली के सेवन को लेकर आशंकाएं दूर करने में कुछ खास काम नहीं किया।

Continue Reading
Advertisement
Indian Army in Jammu and Kashmir
अंतरराष्ट्रीय9 mins ago

पाक द्वारा संघर्षविराम उल्लंघनों में पिछले 6 महीनों में 14 भारतीयों की मौत

imran khan
अंतरराष्ट्रीय12 mins ago

पाकिस्तान : प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय पार्को के संरक्षण के लिए पहल की

earthquake
राष्ट्रीय15 mins ago

मिजोरम में 4.6 तीव्रता का भूकंप

shinzo
अंतरराष्ट्रीय17 mins ago

लद्दाख मुद्दे पर भारत को जापान का मजबूत समर्थन

राष्ट्रीय24 mins ago

बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी कोरोना पॉजिटिव

Tomato
व्यापार30 mins ago

टमाटर हुआ लाल, दिल्ली में 70 रुपये किलो हुआ भाव

Delhi Police
राष्ट्रीय38 mins ago

दिल्ली में पुलिस ने किया नकली टाटा नमक निर्माण इकाई का भंडाफोड़

Hallmark Gold Jewellery
अंतरराष्ट्रीय39 mins ago

पाकिस्तान में महंगा हुआ सोना, जाने कीमत

chingari app
टेक40 mins ago

1 करोड़ से अधिक बार डाउनलोड किया गया ‘चिंगारी’ ऐप

Lionel Messi
खेल53 mins ago

2021 के बाद बार्सिलोना के साथ करार बढ़ाना नहीं चाहते मेसी: रिपोर्ट

Social media. (File Photo: IANS)
टेक3 weeks ago

सोशल मीडिया पर अश्लील तस्वीर डालने पर नायब तहसीलदार निलंबित

Stock Market Down
ब्लॉग3 weeks ago

शेयर बाजार में पूरे सप्ताह रहा उतार-चढ़ाव, 1.5 फीसदी टूटे सेंसेक्स, निफ्टी

Mark Zuckerberg
टेक4 weeks ago

ब्लैक लाइव्स मैटर, नस्लीय भेदभाव को संबोधित करेंगे : जुकरबर्ग

अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा कोरोना पॉजिटिव

टेक3 weeks ago

भारत में गुगल सर्च, असिस्टेंट एंड मैप्स पर कोरोना परीक्षण केंद्र खोजें

-Coronavirus-min
राष्ट्रीय3 weeks ago

उत्तराखंड में कोरोना 77 नए मामले

Coronavirus
राष्ट्रीय3 weeks ago

चंडीगढ़ में कोरोना के 5 नए मामले

लाइफस्टाइल3 weeks ago

जेजीयू क्यूएस रैंकिंग 2021 में भारत का शीर्ष निजी विश्वविद्यालय बना

ayurved
लाइफस्टाइल4 weeks ago

कोरोना : इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अब सैशे में मिलेगा आयुष क्वाथ

लाइफस्टाइल4 weeks ago

जमीनी हालात देखकर अगस्त के बाद खोले जाएंगे स्कूल

Kapil Sibal
राजनीति3 weeks ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय2 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर3 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य3 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति3 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

मनोरंजन3 months ago

रफ्तार का नया गाना ‘मिस्टर नैर’ लॅान्च

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय3 months ago

चीन ने महामारी के फैलाव को कारगर रूप से नियंत्रित किया : डब्ल्यूएचओ

मनोरंजन3 months ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन4 months ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Akshay Kumar
मनोरंजन4 months ago

धमाकेदार एक्शन के साथ रिलीज हुआ ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर

Most Popular