महिलाओं में स्तन कैंसर को खत्म कर सकती है मात्र एक गोली | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

स्वास्थ्य

महिलाओं में स्तन कैंसर को खत्म कर सकती है मात्र एक गोली

Published

on

भारत में स्तन कैंसर के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच एक नए अध्ययन ने स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं के बीच नई उम्मीद जगाई है। स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं को देश में अबतक कीमोथेरेपी देने की सिफारिश की जाती थी लेकिन हाल ही में इजाद की गई हार्मोनल थेरेपी में दी जाने वाली एक गोली ‘कैमॉक्सगन’ स्तन कैंसर को जड़ से खत्म कर सकती है।

दिल्ली स्थित इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल की सर्जीकल ऑन्कोलोजी की सीनियर कंसल्टेंट डॉ. रमेश सरीन ने आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कहा, “देश में धीरे-धीरे बढ़ने वाले स्तन कैंसर के 70 फीसदी मामले में से 35 फीसदी शुरुआती चरण में आते हैं, जबकि विदेशों में यह आंकड़ा 70 प्रतिशत है। इन 35 फीसदी महिलाओं के लिए एक नया परीक्षण शुरू किया गया है, अगर वे यह टेस्ट कराएं तो उन्हें कीमोथेरेपी की कतई जरूरत नहीं पड़ेगी।”

उन्होंने कहा, “इस नए टेस्ट को हार्मोनल थेरेपी कहते हैं जिसमें पॉजिटिव पाए जाने पर ‘कैमॉक्सगन’ नाम की एक गोली दी जाती है, जिससे 90 से 95 फीसदी लोग बिल्कुल ठीक हो जाते हैं लेकिन यह टेस्ट करने के बाद पता लगता है कि यह टयूमर हार्मोन के संपर्क में आएगा या नहीं।”

डॉ. रमेश सरीन ने कहा, “हार्मोनल थेरेपी का खर्चा मात्र 1100 रुपये प्रति महीना है जबकि कीमोथेरेपी पर हर दूसरे सप्ताह कम से कम 20 से 30 हजार रुपये का खर्चा आता है यानी की पांच से छह लाख की दवाई छह महीनों में लेनी होती है। यह गोली लेने तो लंबे समय के लिए होती है लेकिन एक साल में इसका फायदा दिखाई देने लगता है। हालांकि टेस्ट थोड़ा महंगा होता है इसकी कीमत ढाई लाख रुपये है। इसके लिए हमें बस चुनाव करना होगा कि किस मरीज का ट्यूमर वहां परीक्षण करने लायक है या नहीं।”

उन्होंने कहा, “यह टेस्ट सिर्फ अमेरिका में एक ही जगह होता है। अभी भारत समेत यूरोप के कई देशों में यह इलाज उपल्बध नहीं है। लेकिन यहां से कैंसर के टिशू वहां भिजवा सकते हैं, जो कि खराब नहीं होता और आसानी से वहां पहुंच जाता है और दो सप्ताह में इसकी रिपोर्ट आ जाती है। रिपोर्ट के सही आने पर स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं को कीमोथेरेपी से छुटकारा मिल सकता है।”

देश में स्तन कैंसर के मामलों में 0.46 से 2.56 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर्ज की गई है। दुनिया भर में डायग्नोस किए गए स्तन कैंसर रोगियों में से अधिकांश में हार्मोन-पॉजिटिव, एचईआर 2-निगेटिव, नोड-निगेटिव कैंसर पाया गया है। ट्रायल एसाइनिंग इंडिविजुअलाइज्ड ऑप्शंस फॉर ट्रीटमेंट (टेलरेक्स) के एक अध्ययन में सामने आया है कि जो लोग हार्मोन रिसेक्टम पॉजिटिव होते हैं अगर वह शुरुआती चरण में आए तो उन्हें कीमोथेरेपी की जरूरत नहीं है।

डॉ. रमेश सरीन ने कहा, “कीमोथेरेपी महंगी होने के साथ साथ इसके बुरे प्रभाव होते हैं, सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव होता है महिलाओं के बाल झड़ना, साथ ही उनके स्तन भी निकालने पड़ सकते हैं। एक बार कीमोथेरेपी लेने वाली महिला यही गुजारिश करती है इससे अच्छा उनकी जान ले ले। कीमोथेरेपी कराने वाली महिलाओं का मुंह का टेस्ट बदल जाता है, खाना नहीं खातीं, उलटी होती है इसके साथ ही इसके बहुत सारे बुरे प्रभाव होते हैं, इसलिए आप इस एक गोली से इन सब बुरे प्रभाव से बच सकते हैं।”

इसके लक्षणों के सवाल पर डॉ. सरीन ने बताया, “शुरुआती चरण से तात्पर्य है कि जब महिलाओं के स्तन में गांठ हो, या स्तन से रिसाव हो तो आपको चिकित्सकों को दिखाना चाहिए। हमारे देश में भी स्तन कैंसर बहुत तेजी से बढ़ रहा है अगर आप जल्दी आते हैं जैसे स्टेज 1, स्टेज 2 (ए) में और आपका हर्मोन पाॉजिटीव है तो आपके लिए हार्मोनल टैबलेट फायदेमंद है, इससे आपके कीमोथेरेपी की जरूरत नहीं होगी। इससे बचने का कारण पता लगने के तुरंत बाद चिकित्सकों से संपर्क करें, जिससे आपको स्तन, पैसे, बाल खोने का डर भी नहीं रहेगा। स्तन कैंसर को कम करने का कोई रास्ता नहीं है लेकिन इससे डरने की भी जरूरत नहीं है।”

महिलाओं में तेजी से बढ़ते स्तन कैंसर के पीछे कारणों के सवाल पर डॉ. रमेश सरीन ने आईएएनएस को बताया, ” स्तन कैंसर हमारी आधुनिक जीवनशैली से बढ़ रहा है इसके पीछे है हमारी बदलती दिनचर्या जैसे कि व्यायाम नहीं करना, गलत खानपान, देर से विवाह, स्तनपान नहीं कराना, कम से कम बच्चे आदि। यह बीमारी आगे जाकर और बढ़ेगी क्योंकि इन कारणों का निदान बहुत मुश्किल है।”

–आईएएनएस

स्वास्थ्य

सेहत के लिए इतना फायदेमंद होता हैं पालक का सेवन…

Published

on

Palak
File Photo

हरी सब्जियां का सेवन करना आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इन हरी सब्जियों में से एक है पालक। बता दें पालक में कई तरह के मिनरल्स, विटामिन और अन्य पोषक तत्व पाए जाते है।

इतना ही नहीं पालक में मैग्नीशियम, कैरोटीन, आयरन, आयोडीन, कैल्शियम, मैग्नीज, सोडियम, फॉस्फोरस, अमिन ऐसिड भी पाया जाता है। जो आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है। इसिलए पालक का जूस पीने से आपके शरीर में खून तेजी से बढ़ता है।

आइए जानते है पालक खाने से और क्या-क्या फायदे होते है।

*बता दें पालक में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। जिसका सेवन करने से आपके चेहरे की झुर्रियां गायब हो जाती है। साथ ही ये आपके चेहरे में चमक लाता है।

पालक में विटामिन सी की मात्रा भी अच्छी पाई जाती है। इसिलए गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर पालक का जूस पीने की सलाह देते है।

इसका जूस पीने से गर्भ में पल रहें बच्चे को आयरन की कमी नहीं होती। एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि पालक में मौजूद कैरोटीन और क्लोरोफिल कैंसर से बचाने में आपकी मदद करता है। पालक के जूस का सेवन करने से आपके आँखों की रोशनी भी तेज होती है।

बता दें पाचन क्रिया को ठीक करने के लिए भी आप पालक के जूस का सेवन कर सकते है। पालक के जूस का सेवन आपके शरीर से कई जहरीले पदार्थ बहार निकलता है, जो आपको हेल्थी रखने में मददगार साबित होता है।

WeForNews

Continue Reading

स्वास्थ्य

क्या आपको पता है काले चने खाने से होते हैं ये फायदे…

Published

on

Chana

काले चने तो आप सभी खाते होंगे, क्या आपको इससे होने वाले फायदे के बारे में पता है। काले चने हमारी सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद हैं।

काले चने भुने हुए हों, अंकुरित हों या इसकी सब्जी बनाई हो, यह हर तरीके से सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन्स, फाइबर, कैल्शियम, आयरन और विटामिन्स पाए जाते हैं।

Image result for काला चना

● शरीर को सबसे ज्यादा फायदा अंकुरित काले चने खाने से होता है, क्योंकि अंकुरित चने क्लोरोफिल, विटामिन ए, बी, सी, डी और के, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मिनरल्स का अच्छा स्रोत होते हैं। साथ ही इसे खाने के लिए किसी प्रकार की कोई खास तैयारी नहीं करती पड़ती। रातभर भिगोकर सुबह एक-दो मुट्ठी खाकर हेल्थ अच्छी हो सकती है।

Image result for काला चना

1) कब्ज से राहत मिलती है चने में मौजूद फाइबर की मात्रा पाचन के लिए बहुत जरूरी होती है। रातभर भिगोए हुए चने से पानी अलग कर उसमें नमक, अदरक और जीरा मिक्स कर खाने से कब्ज जैसी समस्या से राहत मिलती है।Image result for काला चना

साथ ही जिस पानी में चने को भिगोया गया था, उस पानी को पीने से भी राहत मिलती है। लेकिन कब्ज दूर करने के लिए चने को छिलके सहित ही खाएं।

2) ये एनर्जी बढ़ाता है कहा तो यहाँ तक जाता है इंस्टेंट एनर्जी चाहिए, तो रातभर भिगोए हुए या अंकुरित चने में हल्का सा नमक , नींबू, अदरक के टुकड़े और काली मिर्च डालकर सुबह नाश्ते में खाएं , बहुत फायदेमंद होता है।

Image result for काला चनाआप चने का सत्तू भी खा सकते हैं। यह बहुत ही फायदेमंद होता है।गर्मियों में चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलाकर पीने से शरीर को एनर्जी तो मिलती ही है, साथ ही भूख भी शांत होती है।

3) पथरी की प्रॉब्लम दूर करता है दूषित पानी और खाने से आजकल किडनी और गॉल ब्लैडर में पथरी की समस्या आम हो गई है। हर दूसरे-तीसरे आदमी के साथ स्टोन की समस्या हो रहीहै। इसके लिए रातभर भिगोए हुए काले चने में थोड़ी सी शहद की मात्रा मिलाकर खाएं।

रोजाना इसके सेवन से स्टोन के होने की संभावना काफी कम हो जाती है और अगर स्टोन है तो आसानी से निकल जाता है। इसके अलावा चने के सत्तू और आटे से मिलकर बनी रोटी भी इस समस्या से राहत दिलाती है।

4) काला चना शरीर की गंदगी को पूरी तरह से बाहर भी निकालता है ।

● एनर्जी बढ़ाता है, डायबिटीज से छुटकारा मिलता है,एनीमिया की समस्या दूर होती है, बुखार में पसीना आने की समस्या दूर होती है, पुरुषोंके लिए फायदेमंद, हिचकी में राहत दिलाता है, जुकाम में आराम मिलता है, मूत्र संबंधित रोग दूर होते हैं, त्वचा की रंगत निखारता है।

● डायबिटीज से छुटकारा दिलाता है चना ताकतवर होने के साथ ही शरीर में एक्स्ट्रा ग्लूकोज की मात्रा को कम करता है जो डायबिटीज के मरीजों के लिए कारगर होता है। लेकिन इसका सेवन सुबह-सुबह खाली पेट करना चाहिए। चने का सत्तू डायबिटीज़ से बचाता है। एक से दो मुट्ठी चने का सेवन ब्लड शुगर की मात्रा को भी नियंत्रित करने के साथ ही जल्द आराम पहुंचाता है।

● एनीमिया की समस्या दूर होती है शरीर में आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया की समस्या को रोजाना चने खाकर दूर किया जा सकता है। चने में शहद मिलाकर खाना जल्द असरकारक होता है। आयरन से भरपूर चना एनीमिया की समस्या को काफी हद तक कम कर देता है। चने में 27 फीसदी फॉस्फोरस और 28 फीसदी आयरन होता है जो न केवल नए बल्ड सेल्स को बनाता है, बल्कि हीमोग्लोबिन को भी बढ़ाता है।

● हिचकी में राहत दिलाए हिचकी की समस्या से ज्यादा परेशान हैं, तो चने के पौधे के सूखे पत्तों का धूम्रपान करने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। साथ ही चना आंतों/इंटेस्टाइन की बीमारियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

● बुखार में पसीना आने पर बुखार में ज्यादा पसीना आने पर भुने हुए चने को पीसकर, उसमें अजवायन मिलाएं। फिर इससे मालिश करें। ऐसा करने से पसीने की समस्या खत्म हो जाती है।

Image result for काला चना

● मूत्र संबंधित रोग में आराम भुने हुए चने का सेवन करने से बार-बार पेशाब जाने की बीमारी दूर होती है। साथ ही गुड़ व चना खाने से यूरीन से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या में राहत मिलती है। रोजाना भुने हुए चनों के सेवन से बवासीर ठीक हो जाती है।

● पुरुषों के लिए फायदेमंद चीनी-मिट्टी के बर्तन में रातभर भिगोए हुए चने को चबा-चबाकर खाना पुरुषों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। पुरुषों की कई प्रकार की कमजोरी की समस्या खत्म होती है। जल्द असर के लिए भीगे हुए चने के साथ दूध भी पिएं। भीगे हुए चने के पानी में शहद मिलाकर पीने से पौरुषत्व बढ़ता है।

● त्वचा की रंगत निखारता है चना केवल हेल्थ के लिए ही नहीं, स्किन के लिए भी बहुत फायदेमंद है। चना खाकर चेहरे की रंगत को बढ़ाया जा सकता है। वैसे चने की फॉर्म बेसन को हल्दी के साथ मिलाकर चेहरे पर लगा।

Wefornews Bureau

Continue Reading

स्वास्थ्य

कॉफी के तत्व प्रोस्टेट कैंसर का खतरा घटाने में सहायक

Published

on

सुबह का बेहतरीन पेय होने के साथ ही कॉफी प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है, जिससे दवा-प्रतिरोधी कैंसर के इलाज का मार्ग प्रशस्त हो सकता है।

जापान के कनाजावा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल तत्वों की पहचान की है, जो प्रोस्टेट कैंसर की वृद्धि को रोक सकते हैं। 

ये दोनों तत्व हाइड्रोकॉर्बन यौगिक हैं, जो प्राकृतिक रूप से अरेबिका कॉफी में पाए जाते हैं। 

इसके पायलट अध्ययन से पता चलता है कि कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल कोशिकाओं की वृद्धि को रोक सकते हैं, जो आम कैंसर रोधी दवाओं जैसे कबाजिटेक्सेल का प्रतिरोधी है।

शोध के प्रमुख लेखक हिरोकी इवामोटो ने कहा, “हमने पाया कि कहविओल एसिटेट व कैफेस्टोल ने चूहों में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि रोक दी, लेकिन इसका संयोजन एक साथ ज्यादा प्रभावी होगा।”

इस शोध के लिए दल ने कॉफी में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले छह तत्वों का परीक्षण किया। इस शोध को यूरोपियन एसोसिएशन ऑफ यूरोलॉजी कांग्रेस में बार्सिलोना में प्रस्तुत किया गया। शोध के तहत मानव की प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं पर प्रयोगशाला में अध्ययन किया गया।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Admiral Karambir Singh
राष्ट्रीय1 min ago

देश के अगले नेवी चीफ होंगे वाइस एडमिरल करमबीर सिंह

RAHUL
राजनीति20 mins ago

चौकीदार अमीरों के घर होते हैं: राहुल

digvijay Singh
चुनाव36 mins ago

दिग्विजय सिंह भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

New Delhi: Congress MP Renuka Chowdhury arrives at Parliament on Feb 7, 2018. (Photo: IANS)
चुनाव1 hour ago

कांग्रेस ने खम्मान सीट पर रेणुका चौधरी को उतारा

rahul
चुनाव1 hour ago

केरल कांग्रेस चीफ का दावा- वायनाड सीट से चुनाव लड़ेंगे राहुल

Palak
स्वास्थ्य2 hours ago

सेहत के लिए इतना फायदेमंद होता हैं पालक का सेवन…

raj babbar
चुनाव2 hours ago

मुरादाबाद की जगह फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ेंगे राजबब्बर

Raja Bhaiya
चुनाव2 hours ago

राजा भैया ने अपनी पार्टी से उतारे दो प्रत्याशी

congress
राजनीति3 hours ago

कांग्रेस ने तमिलनाडु से आठ लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा की

karela-juice-
लाइफस्टाइल3 hours ago

करेला का जूस आपकी सेहत के लिए होता हैं इतना फायदेमंद…

green coconut
स्वास्थ्य4 weeks ago

गर्मियों में नारियल पानी पीने से होते हैं ये फायदे

sugarcanejuice
लाइफस्टाइल4 weeks ago

गर्मियों में गन्ने का रस पीने से होते है ये 5 फायदे…

ILFS and Postal Insurance Bond
ब्लॉग4 weeks ago

IL&FS बांड से 47 लाख डाक जीवन बीमा प्रभावित

Bharatiya Tribal Party
ब्लॉग4 weeks ago

अलग भील प्रदेश की मांग को लेकर राजस्थान में मुहिम तेज

indian air force
ब्लॉग3 weeks ago

ऑपरेशन बालाकोट में ग़लत ‘सूत्रों’ के भरोसे ही रहा भारतीय मीडिया

Raveesh Kumar
ओपिनियन3 weeks ago

जंग के कुहासे में धूमिल पड़ गई सच्चाई

Chana
स्वास्थ्य3 days ago

क्या आपको पता है काले चने खाने से होते हैं ये फायदे…

Narendra Modi
ब्लॉग3 weeks ago

जुमलेबाज़ी के बजाय प्रधानमंत्री राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े सवालों का जवाब दें

F-16 jet
ओपिनियन3 weeks ago

क्या अमेरिका F-16 विमान के बेज़ा इस्तेमाल के लिए पाकिस्तान को सज़ा देगा?

Jeera Cumin
स्वास्थ्य3 weeks ago

बड़े काम का ‘जीरा’

Most Popular