Connect with us

राजनीति

गुजरात: प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक शख्स ने रामदास अठावले पर फेंका काला कपड़ा

Published

on

गुजरात के सूरत में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक शख्स ने केंद्रीय मंत्री रामदाव आठवले के ऊपर काला कपड़ा डालने की घटना सामने आई।

आठवले पर कपड़ा डालने वाले युवक ने कहा कि दलितों पर अत्याचार होते हैं और हमारे नेता राजनीति करते रहते हैं। बता दें कि रामदास आठवले खुद भी दलित समुदाय से ही आते हैं।

रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के नेता रामदास आठवले वर्तमान एनडीए सरकार में हिस्सेदार हैं और केंद्रीय भी हैं। उन पर युवक  की ओर से कपड़ा फेंक कर विरोध जताया गया, इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने युवक को कमरे से बाहर निकाल दिया।

बता दें कि एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हुए भारत बंद से दलितों में असंतोष फैला है। इससे वर्तमान एनडीए सरकार और उसके सहयोगियों पर विपक्ष और तमाम दलित संगठन हमलावर हैं। दलितों में फैसे रोष का सामना आए दिन मंत्रियों, विधायकों और सांसदों को भी जहां तहां करना पड़ रहा है।

WEFORNEWS

राजनीति

कांग्रेस ने उठाया सवाल- कानून मंत्री को कैसे पहले ही मिल गई अदालत के फैसले की प्रति

Published

on

Surjewala
कांग्रेस प्रवक्ता, रणदीप सुरजेवाला (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि यह कौतूहल का विषय है कि न्यायाधीश बी. एच. लोया की मौत के मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले की प्रति कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के पास पहले से ही थी, जबकि वकीलों या मीडिया के पास इसकी कोई प्रति नहीं थी और शीर्ष अदालत की वेबसाइट भी खराब हो गई थी। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, “सचमुच कौतूहल का विषय है। कानून मंत्री के पास सर्वोच्च न्यायालय के फैसले की प्रति कैसे आई, जबकि न तो प्रेस को प्रति मिली थी न ही अधिवक्ताओं को? और सर्वोच्च न्यायालय की वेबसाइट भी हैक कर ली गई थी। पादर्शिता और निष्पक्षता के लिए इतना!”

कांग्रेस नेता ने यह बात रविशंकर प्रसाद द्वारा भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर में यहां की गई प्रेसवार्ता के संदर्भ में कही। प्रेसवार्ता में उन्होंने उच्चतम न्यायालय के फैसले को पढ़कर विस्तार से उसके बारे में चर्चा की थी।

शीर्ष अदालत ने गुरुवार को न्यायाधीश लोया की मौत की जांच एसआईटी से करवाने की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया। न्यायाधीश लोया का जब निधन हुआ था उस समय वह सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे।

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

इज्‍जत का खतरा बता अभिनेत्री ने छोड़ी बीजेपी

Published

on

malika-rajput
मलिका राजपूत

दो साल पहले बीजेपी में शामिल हुई बॉलीवुड अभिनेत्री मलिका राजपूत ने पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी इज्जत को खतरा था, इसलिए बीजेपी छोड़ने का फैसला किया। वह उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की रहने वाली है। उन्होंने कांग्रेस का दामन थामा है।

‘रिवॉल्वर रानी’ में कंगना रनौत के साथ काम कर चुकीं मलिका ने कहा कि इस तरह के मुद्दों (उन्नाव और कठुआ गैंगरेप) के बीच में आपको लगता है कि मैं एक महिला होने के नाते बीजेपी में खुद को सुरक्षित महसूस कर सकती हूं? जो पार्टी अपना राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए किसी भी जगह हिंदू-मुस्लिम और दलित दंगा कर सरती है वो पार्टी क्या महिला का इस्तेमाल नहीं कर सकती है? मुझे लगता है कि इस पार्टी के अंदर मेरी आत्मिक अस्मिता को खतरा है, इसलिए बीजेपी को छो़ड़ कर अपने घर वापस आ रही हूं। घर वापस आने को ज्वाइनिंग नहीं कहते हैं। मलिका ने कहा कि पूरा सुल्तानपुर शहर उनका अपना है।

मलिका राजपूत ने वर्ष 2016 में बीजेपी ज्वाइन किया था। उस समय उन्होंने कहा था कि उन्हें एक ईमानदार पार्टी की जरूरत थी, इसलिए बीजेपी में आने का फैसला लिया। इतन ही नहीं, मलिका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ‘शासक’ नाम से किताब भी लिख चुकी हैं। हालांकि, दो साल में ही बीजेपी से उनका मोह भंग हो गया। अभिनेत्री ने तब कहा था कि राजनीति में आने का उनका मकसद पूरी तरह से स्पष्ट है। राजनीति के जरिये वह जनता की सेवा करना चाहती हैं।

बता दें कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में मलिका एक्टर रवि किशन के साथ मिलकर कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार भी किया था। बीजेपी छोड़ कर वह एक बार फिर से कांग्रेस में शामिल हुई हैं। बता दें कि अगले साल लोकसभा के चुनाव होने हैँ।

WEFORNEWS

Continue Reading

राजनीति

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी नेता के जहरीले बोल- राम मंदिर चाहिए तो भाजपा और बाबरी मस्जिद तो कांग्रेस को दें वोट

Published

on

sanjay partil
बेलागावी से भाजपा विधायक संजय पाटिल (Photo: Twitter Profile)

कर्नाटक विधानसभा चुनाव आते ही राजनीति तेज हो गई है। ऐसे में बेलागावी से भाजपा विधायक संजय पाटिल ने विवादित बयान देते हुए कहा कि 12 मई को होने वाला चुनाव सड़कों और पीने के पानी के बारे में नहीं, बल्कि हिंदू-मुस्लिम घटनाओं के बारे में है। पाटिल के बयान का वीडियो भी वायरल हो रहा है।

पाटिल ने कहा है कि मै संजय पाटिल हूं। मैं एक हिंदू हूं, यह एक हिंदू राष्‍ट्र हैं और हम राम मंदिर बनाना चाहते हैं। अगर लक्ष्‍मी हेब्‍बालिकर (कांग्रेस उम्‍मीदवार और कर्नाटक कांग्रेस की महिला विंग की अध्‍यक्ष) कहती हैं कि वह मंदिर बना सकती हैं तो उन्‍हें वोट दो। वो उसकी जगह बाबरी मस्जिद बनाएंगे। जो भी बाबरी मस्जिद, टीपू जयंती चाहता है, वो कांग्रेस को वोट करे। और जो शिवाजी महराज और राम मंदिर चाहते हैं, उन्‍हें बीजेपी को वोट देना चाहिए।

बता दें कि संजय पाटिल जिस विधानसभा से आते हैं, वह महाराष्ट्र सीमा से जुड़ा है। ये पहली बार नहीं हुआ जब वो विवादों में घिरे हों इससे पहले पिछले साल उनका एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वो पुलिस अधिकारी पर चिल्लाते और धमकाते नजर आए थे।

कर्नाटक विधानसभा की 224 सीटों पर 12 मई को मतदान होगा और मतों की गिनती 15 मई को होगी।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular