Connect with us

राजनीति

गुजरात: प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक शख्स ने रामदास अठावले पर फेंका काला कपड़ा

Published

on

गुजरात के सूरत में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक शख्स ने केंद्रीय मंत्री रामदाव आठवले के ऊपर काला कपड़ा डालने की घटना सामने आई।

आठवले पर कपड़ा डालने वाले युवक ने कहा कि दलितों पर अत्याचार होते हैं और हमारे नेता राजनीति करते रहते हैं। बता दें कि रामदास आठवले खुद भी दलित समुदाय से ही आते हैं।

रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के नेता रामदास आठवले वर्तमान एनडीए सरकार में हिस्सेदार हैं और केंद्रीय भी हैं। उन पर युवक  की ओर से कपड़ा फेंक कर विरोध जताया गया, इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने युवक को कमरे से बाहर निकाल दिया।

बता दें कि एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हुए भारत बंद से दलितों में असंतोष फैला है। इससे वर्तमान एनडीए सरकार और उसके सहयोगियों पर विपक्ष और तमाम दलित संगठन हमलावर हैं। दलितों में फैसे रोष का सामना आए दिन मंत्रियों, विधायकों और सांसदों को भी जहां तहां करना पड़ रहा है।

WEFORNEWS

राजनीति

अविश्वास प्रस्ताव पर सोनिया ने कहा, कौन कहता है हमारे पास संख्याबल नहीं है

Published

on

sonia gandhi

नई दिल्ली, 18 जुलाई | कांग्रेस ने बुधवार को लोकसभा में विपक्षी पार्टियों के अविश्वास प्रस्ताव की सफलता के लिए जरूरी संख्याबल के प्रति विश्वास प्रकट किया। सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर शुक्रवार को चर्चा होगी। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, “कौन कहता है कि विपक्षी दलों के पास संख्याबल नहीं है।”

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बुधवार को विपक्षी दलों द्वारा नरेंद्र मोदी सरकार के विरुद्ध लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया।

प्रश्नकाल के बाद मुद्दे पर महाजन ने कहा कि उन्हें केंद्रीय मंत्रिपरिषद में विश्वास की कमी व्यक्त करते हुए विपक्षी सांसदों के नोटिस प्राप्त हुए हैं और यह उनका कर्तव्य है कि वह इसे सदन में विचार के लिए रखें।

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

एससी/एसटी कानून कमजोर नहीं होने दिया जाएगा: राजनाथ

Published

on

rajnath singh
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को राज्यसभा को आश्वस्त किया कि सरकार अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के किसी भी प्रावधान को कमजोर नहीं होने देगी।

सिंह ने ऊपरी सदन को प्रश्न काल के दौरान आश्वस्त किया, “किसी भी व्यक्ति या संगठन द्वारा संविधान में एससी/एसटी अधिनियम के लिए उपलब्ध संरक्षण को छीना नहीं जा सकता।”

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) सरकार ने अधिनियम को मजबूत करने के लिए हरेक कदम उठाए हैं और किसी को भी इसे कमजोर करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा, “2015 में हमारी सरकार ने इस अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए न केवल संशोधन किए, बल्कि इसे मजबूत करने के लिए नियमों में बदलाव भी किए।”

एससी/एसटी अधिनियम के विरुद्ध अपराधों में दोषी ठहराए जाने की दर में कमी के संबंध में पूछे गए प्रश्न में सिंह ने कहा कि सरकार ने इस तरह के मामलों के जल्द निपटारे के लिए 194 विशिष्ट विशेष अदालतों की स्थापना की है।

कांग्रेस सदस्य शमशेर सिंह ढिल्लों ने आरोप लगाया था कि गत चार वर्षो में एससी और एसटी के विरुद्ध अत्याचार के मामले बढ़े हैं, जिसपर गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़े के हवाले से कहा, “एससी और एसटी के विरुद्ध अपराधों में बढ़ोतरी नहीं हुई है।”

अहीर ने कहा, “सरकार एससी और एसटी के विरुद्ध अत्याचार को रोकने के लिए गंभीर है।”

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

चंदन मित्रा ने छोड़ी बीजेपी, TMC में जाने की अटकलें

Published

on

chandan mitra-min
चंदन मित्रा (फाइल फोटो)

सीनियर पत्रकार और दो बार राज्यसभा सांसद रहे चंदन मित्रा ने भाजपा छोड़ दी है। अटकले लगाई जा रही हैं कि वो तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। हालांकि चंदन मित्रा ने साफ किया है कि उन्होंने भाजपा से इस्तीफा दिया है लेकिन कहीं जाने को लेकर फैसला नहीं किया है। उन्होंने कहा कि कहां जाना इसको लेकर कुछ तय नहीं किया है।

बता दें कि मंगलवार को मित्रा ने अपना इस्तीफा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को भेज दिया है। चंदन के इस्तीफे के बाद लगातार कहा जा रहा है कि 21 जुलाई को वो टीएमसी मुखिया और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हो सकते हैं। पश्चिम बंगाल के भाजपा और तृणमूल नेताओं ने भी इस पर खुलकर कुछ नहीं कहा है।

लालकृष्ण आडवाणी के करीबी रहे चंदन मित्रा दो बार (2003-2009 फिर 2010-2016) राज्यसभा के सदस्य रह चुके हैं। काफी समय से भाजपा में अपनी स्थिति को लेकर खुश नहीं थे।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular