व्यापार

जीएसटी काउंसिल में हुआ फैसला, शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य टैक्‍स दायरे से बाहर

वित्‍तमंत्री ने जीएसटी को कंज्‍यूमर फ्रेंडली बताया है। (फाइल फोटो)

श्रीनगर में चल रही दो दिवसीय जीएसटी काउंसिल की बैठक खत्‍म हो गई है। गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स (जीएसटी) काउंसिल की मीटिंग के दूसरे दिन शुक्रवार को सर्विसेज पर टैक्स रेट तय किए गए। शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। गोल्ड के लिए टैक्स रेट अभी तय नहीं किए जा सके हैं। 3 जून को काउंसिल की एक और मीटिंग बुलाई गई है।

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) की दरों को वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा तय कर दिया गया है। शुक्रवार (19 मई) को एलान किया गया कि हेल्थकेयर व शिक्षा को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा जाएगा। वहीं बाकी सेवाओं के लिए 5,12,18 और 28 प्रतिशत की दर तय की गई हैं। ट्रांसपोर्ट की सेवा पर पांच प्रतिशत टैक्स तय किया गया है। रेस्टोरेंट जिनका टर्नओवर पचास लाख रुपए या फिर उससे नीचे हैं उनको भी पांच प्रतिशत टैक्स स्लेब में रखा गया है।

वहीं नॉन ऐसी रेस्टोरेंट को 12 प्रतिशत की स्लैब में रखा गया है। अरुण जेटली ने बताया कि जिस ऐसी रेस्टोरेंट ने दारू का लाइसेंस ले रखा होगा उसको 18 प्रतिशत की स्लैब में रखा जाएगा। वहीं पांच सितारा होटल 28 प्रतिशत वाली स्लैब में आएंगे। जिन होटलों का किराया एक हजार रुपए तक है वह 12 प्रतिशत वाली स्लैब में आएंगे।

जेटली ने कहा कि दूरसंचार, वित्तीय सेवाओं पर 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगेगा जबकि सिनेमा हॉल, जुआ घरों और घुड़ दौड़ पर 28 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगाया जायेगा। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने हवाई यात्रा का जिक्र करते हुए बताया कि एकोनामी क्लास में हवाई यात्रा पर 5 प्रतिशत और बिजनेस क्लास पर 12 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। वहीं ओला और उबर जैसी ऐप के जरिये कैब सेवायें उपलब्ध कराने वाली कंपनियों पर पांच प्रतिशत दर से जीएसटी लगेगा।

जीएसटी को एक जुलाई से लागू कर दिया जाएगा। इसको आजादी के बाद का सबसे बड़ा कर सुधार कहा जा रहा है। अबतक लगने वाले सभी टैक्स जैसे एक्साइज ड्यूटी, वैट, सर्विस टैक्स, एंट्री, लग्जरी और इंटरटेनमेंट लेवी सब इसमें होंगे।

काउंसिल की मीटिंग के बाद फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने कहा कि देश का सबसे इफिशिएंट टैक्स होने के साथ ही कंज्यूमर फ्रेंडली होने जा रहा है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि किसी भी रेट्स को बढ़ाना खासा मुश्किल है। उन्होंने कहा कि मौजूदा रेट्स को या तो बरकरार रखा गया है या उनको नीचे लाया गया है।

 

क्या है GST, कब से लागू होगा?
GST का मतलब गुड्स एंड सर्विसेस टैक्‍स है। आसान शब्‍दों में कहें तो GST पूरे देश के लिए इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है, जो भारत को एक जैसा बाजार बनाएगा। संसद इसका बिल पास कर चुकी है। 10 राज्य स्टेट GST पास कर चुके हैं। 1 जुलाई से GST देशभर में लागू होना है।

wefornews bureau

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top