Connect with us

ज़रा हटके

गंगा, गाय, गरीब के नाम पर आई सरकार ‘जुमलों’ में सिमटी : राजेंद्र

“वर्तमान की केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए गंगा नदी, देश का गरीब वर्ग, गाय और स्वदेशी की इकाई गांव कोई मायने नहीं रखते हैं। यह सरकार देश की सांस्कृतिक विरासत से मुंह मोड़ चुकी है। गाय-गरीब मरता है तो मर जाए, उसकी उसे चिंता नहीं है, गंगा नदी की बदहाली लगातार बढ़ती जा रही है, मगर सरकार उस ओर से आंखें मूंदे हुए है।”

Published

on

rajendra-singh-water-man

ग्वालियर, 4 अक्टूबर | जल कार्यकर्ता राजेंद्र सिंह वर्तमान केंद्र सरकार के रवैए से बेहद खफा हैं। उनका कहना है कि गंगा, गाय, गरीब और गांव के नाम पर आई इस सरकार ने इन सभी को भुला दिया है, और यह सरकार अब सिर्फ जुमलों में सिमट कर रह गई है।

एकता परिषद और सहयोगी संगठनों द्वारा जल, जंगल और जमीन की लड़ाई को लेकर मंगलवार से ग्वालियर में शुरू हुए जनांदोलन-2018 में हिस्सा लेने आए राजेंद्र से, सत्ता में आने से पूर्व भाजपा द्वारा किए गए वादों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “वर्तमान की केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए गंगा नदी, देश का गरीब वर्ग, गाय और स्वदेशी की इकाई गांव कोई मायने नहीं रखते हैं। यह सरकार देश की सांस्कृतिक विरासत से मुंह मोड़ चुकी है। गाय-गरीब मरता है तो मर जाए, उसकी उसे चिंता नहीं है, गंगा नदी की बदहाली लगातार बढ़ती जा रही है, मगर सरकार उस ओर से आंखें मूंदे हुए है।”

सिंह से जब गंगा की स्थिति को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, “गंगा नदी की अविरलता, निर्मलता के लिए डॉ. जी. डी. अग्रवाल (स्वामी सानंद) 105 दिनों से उपवास पर हैं और अब वह सिर्फ गंगाजल का सेवन करने वाले हैं। 86 साल के बुजुर्ग की इस सरकार को चिंता तक नहीं है, वह सुध नहीं ले रही। डॉ. अग्रवाल उसी विचारधारा को मानने वाले हैं, जिसकी इन दिनों देश में सत्ता है। वह अपने लिए कुछ नहीं मांग रहे, वह तो इस देश की धरोहर और संस्कृति की पूंजी को बचाने की बात कर रहे हैं, मगर सरकार कान में तेल डाले बैठी है।”

स्टॉकहोम वाटर प्राइज विजेता सिंह ने कहा, “गंगा की अविरलता और निर्मलता के लिए गौमुख से गंगा सागर तक ‘सद्भावना यात्रा’ निकाली जा रही है। यह यात्रा गंगा के तटों पर जाकर उनका हाल देखेगी, साथ ही लोगों को जागृत करने का काम किया जाएगा। इस यात्रा में गंगा विशेषज्ञ, वैज्ञानिक और गंगा भक्त शामिल हैं, जो अपने लिए कुछ नहीं मांग रहे, बल्कि गंगा को बचाने की बात कर रहे हैं।”

केंद्र में भाजपा की सरकार आने के समय के वादों को याद करते हुए सिंह कहते हैं, “प्रधानमंत्री ने अपने को गंगा का बेटा बताया था, तब सभी में उम्मीद जागी थी कि वह गंगा के लिए जरूर कुछ करेंगे। यही कारण था कि उस दौरान शुरू किया जाने वाला आंदोलन स्थगित कर दिया गया था, मगर बीते साढ़े चार वर्षो में एक प्रतिशत भी काम नहीं हुआ है। गंगा के लिए 20,000 करोड़ रुपये की योजना बनी, मगर खर्च कितना हुआ और गंगा की सेहत में क्या बदलाव आया, यह किसी से छुपा नहीं है।”

मैगसेसे पुरस्कार विजेता सिंह ने आरोप लगाया, “चुनाव करीब आते ही सरकार ने फिर गंगा की बात शुरू कर दी है और 18,668 करोड़ रुपये की योजनाएं बनाई गई हैं। सारा पैसा बांट दिया गया है, इस बात की उम्मीद कम है कि गंगा की सेहत सुधरेगी, हां ठेकेदारों का स्वास्थ्य जरूर दुरुस्त हो जाएगा।”

सिंह ने साफ शब्दों में कहा कि गंगा नदी किसी एक व्यक्ति या वर्ग की नहीं है, वह हमारी संस्कृति की प्रतीक है। लिहाजा उसे बचाने की जिम्मेदारी समाज के हर वर्ग की है, इसलिए वह गंगा की खातिर गौमुख से यात्रा शुरू कर चुके हैं, जो 14 जनवरी मकर संक्रांति के दिन गंगा सागर जाकर विसर्जित होगी।

— आईएएनएस

ज़रा हटके

इंदौर में युवक ने किन्नर से रचाया ब्याह

Published

on

By

Junaid Khan Marry transgender

इंदौर, 15 फरवरी | वैलेंटाइन डे पर यहां एक युवक ने किन्नर से विवाह रचाया, जिसकी जानकारी शुक्रवार को सामने आई है। सामने आए वीडियो से खुलासा हुआ है कि इंदौर में जुनैद खान ने टांसजेंडर जयासिंह परमार के साथ विवाह रचा लिया है। जो वीडियो सामने आए हैं, उससे पता चलता है कि विवाह पूरी तरह हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक हुआ है।

सूत्रों के अनुसार, जयासिंह और जुनैद की प्रेम कहानी की जानकारी किन्नर समाज के बीच काम करने वाली एक संस्था को हुई। जया भी इसी संस्था के लिए काम करती थी। संस्था के प्रतिनिधियों ने दोनों को विवाह कराने में मदद का भरोसा दिलाया, मगर जयासिंह डरी हुई थी। बाद में तय हुआ कि वैलेंटाइन डे को विवाह होगा, मगर सूचना किसी को नहीं दी जाएगी।

विवाह कराने में मददगार रहे लोगों के अनुसार, गुरुवार को एक मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज के साथ विवाह संपन्न हो गया। अब इस विवाह का पंजीयन कराया जाएगा, ताकि इसे कानूनी मान्यता मिल सके।

Continue Reading

ज़रा हटके

मध्य प्रदेश : बापू की याद में कांग्रेस विधायक ने छोड़ी तंबाकू!

“बापू नशे के सख्त विरोधी थे, इसलिए मैं भी संकल्प लेता हूं कि आज के बाद गुटखा नहीं खाऊंगा।”

Published

on

By

Tobaco Give up

श्योपुर, 12 फरवरी | मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में तीन नदियों के संगम पर महात्मा गांधी की स्मृति में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में कांग्रेस विधायक बाबू सिंह जंडेल ने तंबाकू सेवन न करने का संकल्प लिया।

महात्मा गांधी सेवा आश्रम श्योपुर के प्रबंधक जय सिंह जादौन ने आईएएनएस को बताया, “बीते 71 सालों से तीन नदियों -चंबल, बनास और सीप- के संगम स्थल पर स्मृति दिवस का आयोजन किया जा रहा है। मंगलवार को 72वें आयोजन समारोह में विधायक जंडेल ने जहां महात्मा गांधी स्मृति द्वार बनाने के लिए विधायक निधि से पांच लाख रुपये देने का ऐलान किया, वहीं उन्होंने तंबाकू त्यागने का संकल्प भी लिया।”

बकौल जादौन, जंडेल ने कहा, “बापू नशे के सख्त विरोधी थे, इसलिए मैं भी संकल्प लेता हूं कि आज के बाद गुटखा नहीं खाऊंगा।” उन्होंने वहां मौजूद लोगों से भी नशा त्यागने का आह्वान किया।

जादौन के मुताबिक, महात्मा गांधी की हत्या के बाद 12 फरवरी, 1948 को श्योपुर में अस्थियों का विसर्जन किया गया था। उसके बाद से ही यहां हर साल 12 फरवरी को महात्मा गांधी स्मृति दिवस समारोह आयोजित किया जाता है। इस मौके पर विधायक जंडेल सहित बड़ी संख्या में गांधीवादी मौजूद रहे।

Continue Reading

ज़रा हटके

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

Published

on

By

Digital Revolution

नई दिल्ली, 28 जनवरी | सिर्फ व्यापार और लाभ पर ध्यान केंद्रित रखने वाले भारतीय बनिया समुदाय ने अपने ग्राहकों को बेहतर समझने और अपनी प्रगति को तेजी देने के लिए डिजिटल यात्रा शुरू कर दी है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), मशीन लर्निग (एमएल) और डेटा एनलिटिक्स जैसी आधुनिक प्रौद्योगिकियों का अपने व्यापारों में उपयोग कर रहा यह समुदाय जानता है कि युवा खरीदार किसे तरजीह देते हैं।

जब कीमतों की तुलना करने की बात आती है तो आज का युवा ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों को अपनाता है और ऑफलाइन खरीदारी करने के बावजूद वे उत्पाद की समीक्षा करने के लिए ऑनलाइन का ही सहारा लेते हैं।

पारंपरिक कुशलता मिश्रित आधुनिक प्रौद्योगिकियों ने बनियों की नई नस्ल तैयार की है, जिन्होंने पुरानी बुद्धिमत्ता को नकारते हुए नए तरीके अपनाए हैं।

देश के प्रमुख सोशल मीडिया विशेषज्ञ अनूप मिश्रा कहते हैं, “कोई भी व्यक्ति छोटी या बड़ी परियोजना या निवेश से नया व्यवसाय स्थापित कर सकता है, लेकिन व्यापार और बाजार के ट्रेंड की जानकारी के बिना वे सफल नहीं हो सकते। बनिया इन मामले में आगे हैं, जिन्हें पारिवारिक हुनर और समुदाय का अतिरिक्त सहयोग मिलता है।”

वैश्विक सर्विसिस फर्म डेलॉइट का कहना है कि देश में 18-35 वर्ष आयुवर्ग की आबादी 34 फीसदी है। इस आयु वर्ग के लोग इंटरनेट का अधिक उपयोग कर रहे हैं, और इसके कारण ई-कॉमर्स खुदरा व्यापार भी बढ़ रहा है।

रपट के अनुसार, खरीदारी के लिए युवाओं के बढ़ते इंटरनेट उपयोग से ऑनलाइन रिटेल व्यापार बढ़ता है। भारतीय रिटेल बाजार में ई-रिटेल की हिस्सेदारी 2017 के तीन फीसदी बढ़कर 2021 में सात फीसदी होने का अनुमान है।

कहीं भी और कभी भी खरीदारी, छूट जैसे कुछ प्रमुख कारक ऑफलाइन पर उपलब्ध नहीं हैं, जिनके कारण भारतीय युवा अब ऑफलाइन खरीदारी का रुख कर रहे हैं और बनिया इससे अच्छी तरह परिचित हैं।

सत्विको फूड्स के सह-संस्थापक और निदेशक प्रसून गुप्ता कहते हैं कि उनका विचार नाश्ता पेश करने का था, जो युवा ग्राहकों के लिए पारंपरिक भारतीय व्यंजनों से उत्पन्न लेकिन आधुनिकता की झलक के साथ हो।

गुप्ता ने आईएएनएस से कहा, “अन्य लोगों और उनकी सेवाओं से खुद को अलग करने के लिए एक नए विचार के साथ आई सात्विको ने कई परेशानियों से पार पाया है और अपने सफर में कायम रहकर आज यहां पहुंच गया है।”

उन्होंने वितरण माध्यमों को बढ़ाने और मापने के लिए एआई आधारित प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म ‘जिगसॉ’ विकसित किया है।

बनिया लोग अपने लेन-देन का बहीखाता हमेशा अप-टू-डेट रखने के मामले में सख्त होते हैं।

Continue Reading
Advertisement
शहर8 mins ago

जम्मू में 5वें दिन भी कर्फ्यू जारी

jammu kashmir
शहर13 mins ago

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर एकतरफा यातायात को अनुमति

राष्ट्रीय14 mins ago

शहीद मेजर वीएस ढौंडियाल को अंतिम विदाई

petrol
व्यापार18 mins ago

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी

Archana Puran Singh-
मनोरंजन30 mins ago

‘द कपिल शर्मा शो’ में सिद्धू की जगह नहीं ली : अर्चना पूरन सिंह

sensex
व्यापार1 hour ago

शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में मजबूती

शहर1 hour ago

माघ पूर्णिमा: पांचवें शाही स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु

pm modi
राजनीति2 hours ago

प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा आज, कई करोड़ योजनाओं की देंगे सौगात

शहर2 hours ago

यमुना एक्सप्रेसवे पर एंबुलेंस और कार की टक्कर,7 की मौत

Actor Prashant Narayanan.
मनोरंजन2 hours ago

मोदी की बायोपिक में प्रशांत निभाएंगे विरोधी का किरदार

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल1 week ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

mehul-choksi
राष्ट्रीय4 weeks ago

मेहुल चोकसी ने छोड़ी भारतीय नागरिकता

vailtine day
लाइफस्टाइल5 days ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन3 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन3 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

politician
ब्लॉग3 weeks ago

‘बदजुबानी’ के आगे दफन हो रहे अहम मुद्दे : जमुना प्रसाद बोस

Priyanka Gandhi
चुनाव3 weeks ago

प्रियंका की ‘संजीवनी’ से उप्र में जिंदा हो सकती है कांग्रेस!

Most Popular