नकली सामान बेचने पर ई-कॉमर्स कंपनी पर FIR | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

टेक

नकली सामान बेचने पर ई-कॉमर्स कंपनी पर FIR

Published

on

e-commerce.
File Photo

चीनी ई-कॉमर्स कंपनी क्लब फैक्ट्री, उसके निदेशकों जियालुन ली, गर्वित अग्रवाल और सीएफओ अश्विनी रस्तोगी पर प्रसिद्ध ब्रांड्स के नकली सामान बेचने पर आईपीसी की धारा 420 और 406 के तहत धोखाधड़ी करने को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है।

यह शिकायत लखनऊ निवासी आलोक कक्कड़ ने वजीराबाद पुलिस थाने में दर्ज कराई है। शिकायत में उन्होंने कहा है कि क्लब फैक्ट्री ने लोकप्रिय ब्रांडों पर भारी छूट का विज्ञापन देकर एक आपराधिक षड्यंत्र के तहत ग्राहकों को नकली उत्पाद दिए हैं।

शिकायतकर्ता ने क्लब फैक्ट्री से टाइटन घड़ी खरीदी थी, जिस पर 86 प्रतिशत की छूट थी, और रे-बन के दो सनग्लासेज ऑर्डर किए थे, जिस पर 90 प्रतिशत की छूट दी गई थी। उन्हें 25 नवंबर को ऑर्डर मिला, जिसे खोलने पर उन्हें पता चला कि ऑर्डर किए गए दोनों उत्पाद नकली हैं।

इसके बाद उन्होंने कंपनी द्वारा उपलब्ध कराए गए टोलफ्री नंबर पर संपर्क करने की कोशिश की। हालांकि इस पर उन्हें कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिली। वहीं क्लब फैक्ट्री की वेबसाइट पर सेलर का नाम महाकाल एंटरप्राइज और परफेक्ट टाइम्स दिया गया था। शिकायतकर्ता ने कंपनी को इन्वॉइस की एक प्रति के लिए ईमेल किया था, लेकिन उन्हें इन्वॉइस की वह प्रति नहीं दी गई।

क्लब फैक्ट्री से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर शिकायतकर्ता ने टाइटन और रे-बन के कस्टमर केयर से संपर्क साधा। इसके बाद उन्हें पता चला कि दोनों कंपनियों का क्लब फैक्ट्री से कोई संबंध नहीं है और न ही वे अपने उत्पादों को क्लब फैक्ट्री के जरिए बेचते हैं।

वहीं कक्कड़ ने अपनी शिकायत में यह भी बताया कि क्लब फैक्ट्री के टोलफ्री नंबर पर दोबारा बात करने पर उनके प्रतिनिधियों ने समस्या का समाधान करने के बजाय उन्हें धमकी दे दी।शिकायतकर्ता को कंपनी से मिली आपराधिक धमकी से संबंधित आईपीसी की धारा 506 के तहत भी कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है।

एफआईआर में कंपनी के दो निदेशकों, जियालुन ली और गर्वित अग्रवाल, कंपनी के सीएफओ अश्विनी रस्तोगी और क्लब फैक्ट्री के शिकायत अधिकारी के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 406, 506 और 120 बी के तहत धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश और आपराधिक धमकी देने को लेकर मामला दर्ज कराया गया है। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि मामले की आगे की जांच की जा रही है।

–आईएएनएस

टेक

टिकटॉक ने फेसबुक पर लगाया ‘चोरी और नुकसान पहुंचाने’ का आरोप

Published

on

TikTok

पिछले हफ्ते फेसबुक को कॉपीकैट कहने के बाद चीन में स्थित टिकटॉक की मूल कंपनी बाइटडांस ने इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर चोरी और नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। सोमवार को मीडिया रपटों के मुताबिक, बाइटडांस ने फेसबुक के बारे में कहा है कि यह सभी प्रकार की जटिल और अकल्पनीय कठिनाइयों का सामना करती है।

बाइटडांस ने चीनी समाचार एग्रीगेटर ऐप जिनरी टुटियाओ पर अपनी भाषा में इस बयान को पोस्ट किया है। इसमें कहा गया है कि कंपनी एक गहन अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक वातावरण, विभिन्न संस्कृतियों के टकराव व संघर्ष और अपने प्रतिद्वंद्वियों से चोरी व नुकसान पहुंचाने के आरोपों का सामना कर रही है।

फेसबुक ने अभी तक इन आरोपों पर अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। पिछले हफ्ते टिकटॉक के सीईओ केविन मेयर ने रील्स नामक एक कॉपीकैट प्रोडक्ट को लॉन्च किए जाने पर फेसबुक की आलोचना की।

रील्स, टिकटॉक जैसा ही एक ऐप है जिसे भारत में टेस्टिंग के बाद लॉन्च कर दिया गया है। ज्ञात हो कि बीते दिनों अन्य कई चीनी ऐप सहित टिकटॉक पर भी देश में बैन लगा दिया गया है।

मेयर ने अपने ब्लॉगपोस्ट में लिखा था, टिकटॉक पर हम मुकाबले की सराहना करते हैं। हमें लगता है कि निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा हम सभी को बेहतर बनाती है। प्रतिस्पर्धी उत्पादों को लॉन्च करने की इच्छा रखने वालों के लिए हम कहते हैं कि वे बिल्कुल ऐसा करें। फेसबुक भी एक और कॉपीकैट उत्पाद रील्स (इंस्टाग्राम से संबंधित) को अपने एक और कॉपीकैट लास्सो के तुरंत विफल हो जाने के बाद लॉन्च कर रहा है।

–आईएएनएस

Continue Reading

टेक

TikTok को खरीदने की तैयारी में माइक्रोसॉफ्ट

Published

on

Microsoft,
File Photo

चीनी ऐप TikTok भारत में बैन हो चुका है और अमेरिका में भी बैन होने की कगार पर है। अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रंप ने कहा है कि इस ऐप पर बैन लगाया जाएगा।

बड़ी ख़बर ये है कि माइक्रोसॉफ़्ट इस ऐप को ख़रीद सकता है। कंपनी ने एक स्टेटमेंट जारी किया है जिसमें कहा गया है कि अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने इस बारे में माइक्रोसॉफ़्ट के सीईओ सत्य नडेला से बातचीत की है।

इस स्टेटमेंट में माइक्रोसॉफ़्ट ने ये भी कहा है कि कंपनी माइनॉरिटी बेसिस पर अमेरिकी निवेशकों को इसमें हिस्सा लेने के लिए इन्वाइट कर सकती है। इससे पहले भी ये बात चल रही थी कि अमेरिका में टिक टॉक बिक सकता है।

माइक्रोसॉफ़्ट द्वारा जारी किए गए एक स्टेटमेंट में कहा गया है, ‘माइक्रोसॉफ़्ट के सीईओ सत्य नडेला और प्रेसिडेंट डोनल्ड ट्रंप के बीच हुई बातचीत के बाद माइक्रोसॉफ़्ट अमेरिका में टिक टॉक को ख़रीदने के लिए बातचीत करने को तैयार है।’

माइक्रोसॉफ़्ट के इस स्टेटमेंट में ये भी कहा गया है कि कंपनी अमेरिका के हित के लिए ही टिक टॉक ख़रीदने के बारे में सोच रही है। चूंकि प्रेसिडेंट ट्रंप इस ऐप की सिक्योरिटी को लेकर चिंतित हैं इसलिए अमेरिकी हितों के लिए कंपनी अमेरिका में टिक टॉक का अधिग्रहण कर सकती है।

माइक्रोसॉफ़्ट ने ये भी साफ़ कर दिया है कि टिक टॉक की पेरेंट कंपनी बाइटडांस के साथ अधिग्रहण के लिए की जाने वाली बातचीत 15 सितंबर तक पूरी कर ली जाएगी।

WeForNews

Continue Reading

टेक

भारत में नए यूजर्स मैजिक कीबोर्ड के साथ नई मैकबुक एयर के लिए दिखा रहे रुचि

Published

on

कोरोनावायरस महामारी के समय अधिकतर दफ्तरों का काम घर से ही किया जा रहा है। ऐसे समय में देश में उच्च स्तर के प्रीमियम लैपटॉप की मांग में तेजी देखी जा रही है। इस बीच एप्पल के मैक लैपटॉप के प्रति खासा आकर्षण देखने को मिल रहा है।

उद्योग पर नजर रखने वाले विशेषज्ञों के अनुसार, विशेष रूप से नए उपभोक्ता नए लॉन्च किए गए मैकबुक एयर के लिए गहरी रुचि दिखा रहे हैं।

एप्पल ने जून की तिमाही (वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही) में मैक के लिए बहुत मजबूत दोहरे अंकों की वृद्धि दर्ज की है, जो कि आपूर्ति की कमी के बावजूद वैश्विक स्तर पर छाई हुई है और भारत भी इसका अपवाद नहीं है।

यानी भारत में भी इस डिवाइस के लिए खासतौर पर आकर्षण बना हुआ है। उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार, मैजिक कीबोर्ड के साथ नए मैकबुक एयर के लिए ग्राहकों की प्रतिक्रिया देश में बेहद मजबूत रही है, जो न केवल मैक पारिस्थितिकी तंत्र (इकोसिस्टम) पर हैं, बल्कि नए उपभोक्ताओं ने भी प्रीमियम पेशकश में गहरी रुचि दिखाई है।

आईडीसी इंडिया में क्लाइंट डिवाइसेज के एसोसिएट रिसर्च मैनेजर जयपाल सिंह ने आईएएनएस को बताया, एप्पल मैक लैपटॉप के प्रति सुपर फैन फॉलोइंग और त्रुटिहीन वफादारी के लिए बड़े कारक हैं। गेमिंग, क्रिएटिव डिजाइनिंग, वीडियो एडिटिंग और सोशल मीडिया के क्षेत्र में अन्य कंटेंट क्रिएटर्स जैसे लोग मैक लैपटॉप और मैकबुक एयर से मैजिक कीबोर्ड से जुड़े हैं, उनके लिए शानदार विकल्प है।

नया 13 इंच का मैकबुक एयर भारत में 92,990 रुपये से शुरू होता है और 10वीं जनरेशन के इंटेल कोर प्रोसेसर और इंटेल आइरिस प्लस ग्राफिक्स के साथ तेजी से प्रदर्शन प्रदान करता है। इसमें दो बार भंडारण क्षमता, ट्रू टोन तकनीक, टच आईडी, फोर्स टच के साथ 13-इंच रेटिना डिस्प्ले दिया गया है। इसके साथ ही इस डिवाइस में ट्रैकपैड और लगभग पूरे दिन की बैटरी लाइफ की सुविधा दी गई है।

सिंह के अनुसार, एप्पल ने मैक सेगमेंट में अच्छा प्रदर्शन किया है और भारतीय उपयोगकर्ता (यूजर्स) मैजिक कीवर्ड जैसे एक बड़े कारण के लिए नए डिवाइस में अपग्रेड होने की उम्मीद कर रहे हैं।

नए मैजिक कीबोर्ड में एरो कीज के लिए एक इनवर्टेड-टी की व्यवस्था है, जिससे स्प्रेडशीट के माध्यम से नेविगेट करना आसान है और इसमें नीचे देखने के बिना ही गेम खेलने का आनंद लिया जा सकता है। एक हालिया सर्वेक्षण में विश्व स्तर पर मैक के लिए शानदार आकर्षण देखने को मिला है।

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular