Connect with us

ब्लॉग

कहीं फ़ारूक़ अब्दुल्ला ये तो नहीं कह रहे कि ‘कमबख़्त, चुनाव बड़ी क़मीनी चीज़ है!’

Published

on

farooq-abdullah

कश्मीर घाटी के तमाम नेताओं की तरह फ़ारूक़ अब्दुल्ला की सियासी विचारधारा भी हमेशा बेपेंदी के लोटा वाली रही है। अपने प्रतिद्वन्दी महबूबा मुफ़्ती की तरह वो भी जब सत्ता से बाहर होते हैं तो अलगाववादियों के हिमायती बन जाते हैं। जबकि सत्ता में रहने पर दोनों ही प्रतिद्वन्दियों को भारत के संविधान के प्रति निष्ठा दिखाने की शपथ से बँधकर चलना पड़ता है। कमबख़्त! ये चुनाव, है ही ऐसी क़मीनी चीज़ कि वोट की ख़ातिर दोनों ही पार्टियों को कश्मीर घाटी और ख़ासकर दक्षिण कश्मीर में पसरी अलगाववादी मानसिकता के प्रति हमदर्दी दिखानी पड़ती है। कश्मीर घाटी में सियासी जमात की यही सबसे बड़ी लाचारी है। क्योंकि ऐसी हमदर्दी की बदौलत उन लोगों का वोट पाना आसान हो जाता है, जो कमोबेश अलगाववाद के समर्थक हैं।

जम्मू-कश्मीर की दो लोकसभा सीटों श्रीनगर और अनन्तनाग के उपचुनाव के लिए क्रमशः 9 और 12 अप्रैल को मतदान होना है। 80 वर्षीय फ़ारूक़ अब्दुल्ला इस बार भी श्रीनगर सीट से उम्मीदवार हैं। हालाँकि, 2014 में उन्हें इसी सीट पर पीडीपी के तारिक़ अहमद कर्रा ने 40 हज़ार वोटों से हराया था। लेकिन तीन साल में झेलम में काफ़ी पानी बह चुका है। पिछले साल 8 जुलाई को हिज़बुल मुज़ाहिद्दीन के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद से कश्मीर का उबाल लगातार जारी है। इसी वजह से घाटी ने दुनिया का सबसे लम्बा कर्फ़्यू भी झेला। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने बीजेपी और संघ से जो ज़ुगलबन्दी की है, उसकी सबसे अहम अग्नि-परीक्षा इसी उपचुनाव में होने वाली है। इसीलिए फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने कश्मीर के पत्थरबाज़ों के प्रति अपना सुर बदल लिया है।

अब्दुल्ला ने अपनी चुनावी रैली में कहा, “यदि वो (पथराव करने वाला युवक) अपनी जान दे रहा है, तो वो पर्यटन के लिए नहीं कर रहा है। वो अपनी जान इसलिए दे रहा है ताकि इस देश के भाग्य का निर्णय हो सके जो इस स्थान के लोगों को स्वीकार्य हो। इसे समझने की ज़रूरत है। हाल में सुरंग चालू हुई है। जहाँ उन्होंने (प्रधानमंत्री) कहा कि यहाँ के युवाओं को सोचना होगा कि उन्हें पर्यटन चाहिए या आतंकवाद। मैं मोदी साहब से कहना चाहता हूँ कि पर्यटन हमारी जीवन-रेखा है, इसमें कोई सन्देह नहीं है। लेकिन पथराव करने वालों का पर्यटन से कोई लेना देना नहीं है, क्योंकि वो भूखा मर जाएगा। लेकिन जो अपने देश के लिए पथराव कर रहा है, उसे समझने की ज़रूरत है।”

फ़ारूक़ अब्दुल्ला ये भी कहा कि यदि भारत और पाकिस्तान अपने मुद्दे नहीं सुलझा सकते तो अमेरिका को आगे आना चाहिए और द्विपक्षीय मुद्दों को सुलझाने में तीसरा पक्ष बनकर मदद करनी चाहिए। साफ़ तौर पर, चुनाव को सामने देखकर फ़ारूक़ अब्दुल्ला के सुर बदल गये हैं। क्योंकि 18 सितम्बर 2010 को उन्होंने ही कहा था, “यहाँ कुछ लोग सोच रहे हैं कि पत्थर फेंक-फेंककर कश्मीर को भारत से अलग कर लेंगे। वो लोग पहले बम और बन्दूकें भी ला चुके हैं। लेकिन भारत को नहीं झुका पाये। मैं वादा करता हूँ कि भारत इस बार भी नहीं हारेगा। ये लोग कामयाब नहीं हो पाएँगे। इस तरह हिंसा फैलाकर ये लोग सिर्फ़ अपनी क़ब्रें खोद रहे हैं। घाटी में हो रही पत्थरबाज़ी निन्दनीय है। बढ़ती हिंसा के बीच सरकार को इनसे निपटने की रणनीति ढूँढ़नी पड़ेगी।”

जब फ़ारूक़ अब्दुल्ला पत्थरबाज़ों की निन्दा कर रहे थे, तब उनके बेटे उमर अब्दुल्ला की सरकार थी और महबूबा मुफ़्ती की पार्टी विपक्ष में थी। तब महबूबा की अलगाववादियों के प्रति हमदर्दी हुआ करती थी। लेकिन अब महबूबा, पत्थरबाज़ों की निन्दा करती हैं और अब्दुल्ला उनके हमदर्द बने फिर रहे हैं। इसी तरह से अभी बीजेपी, फ़ारूक़ अब्दुल्ला के बयान को चिन्ताजनक बता रही है। तो पीडीपी को इसमें ‘राजनीतिक अवसरवाद’ दिख रहा है, क्योंकि अभी उसका बीजेपी से गठबन्धन है। फ़ारूक़ अब्दुल्ला अभी यूपीए में हैं। लेकिन वो एनडीए में भी रह चुके हैं। साफ़ है कि राजनीतिक निष्ठा या विचारधारा के टकराव की कश्मीर में कोई अहमियत नहीं है। वहाँ हरेक नेता को सिर्फ़ वोट की पड़ी है। शायद, सभी नेताओं की नज़र में ‘कमबख़्त, चुनाव बड़ी क़मीनी चीज़ है!’

बदले माहौल को देखते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जीतेन्द्र सिंह ने फ़ारूक़ अब्दुल्ला को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि अब्दुल्ला के क़द का नेता भी चुनाव के दबाव में आ गया है। इसीलिए उनका झुकाव अलगाववादियों की भाषा बोलने की ओर बढ़ रहा है। सिंह ने 1994 में संसद से पारित हुए उस प्रस्ताव का वास्ता दिया जिसका अब्दुल्ला की पार्टी ने समर्थन किया था। प्रस्ताव में कहा गया था कि भारत को पाक अधिकृत कश्मीर को उसके कब्ज़े से आज़ाद कराकर उसका देश में विलय किया जाना चाहिए। अब्दुल्ला ये भी कहते रहे हैं कि भारत को पाकिस्तानी धरती से संचालित हो रहे आतंकियों के ठिकानों पर बमबारी करनी चाहिए। इसीलिए ऐसा लगता है कि पत्थरबाज़ों की पैरोकारी करके अब्दुल्ला कुछ ख़ास मतदाताओं को रिझाना चाहते हैं।

श्रीनगर सीट पर अब्दुल्ला, नैशनल कान्फेंस और काँग्रेस के साझा उम्मीदवार हैं। उनके सामने हैं पीडीपी के नाज़िर अहमद ख़ान। उधर, अनन्तनाग की सीट पर महबूबा ने अपने भाई तस्सदुक़ मुफ़्ती को काँग्रेस के ग़ुलाम अहमद मीर के ख़िलाफ़ मैदान में उतारा है। इस सीट को पिछले साल अप्रैल में मुख्यमंत्री बनने के बाद महबूबा ने खाली किया था। इस तरह, दोनों ही सीटों पर महबूबा की साख दाँव पर है। बहरहाल, ये देखना दिलचस्प होगा कि पत्थरबाज़ों की हिमायत करने से फ़ारूक़ अब्दुल्ला जैसे अनुभवी नेता को क्या हासिल होगा!

ब्लॉग

कश्मीर को हमने हिंदू-मुसलमान का मसला बना दिया

कश्मीर में 2010 से लेकर 2014 तक आतंकवाद नियंत्रित था, लेकिन अचानक हिरोइज्म की शुरुआत हुई और काफी सारे लोग सड़कों पर आने शुरू हो गए।

Published

on

india-kashmir-protest

कश्मीर समस्या अब तक इसलिए नहीं सुलझ पाई, क्योंकि हमने इसे हमेशा जमीन के एक टुकड़े की तरह देखा है। हमने कश्मीरियों को कभी भारत का नागरिक माना ही नहीं। दोनों देशों ने कश्मीर को अपने ‘अहं’ का सवाल बना लिया है। आम कश्मीरी पाकिस्तान को पसंद नहीं करता, उसकी पैन इस्लामिज्म में कोई दिलचस्पी नहीं है। वह रोजगार और शांति से जीना चाहता है। यह कहना है ‘कश्मीरनामा’ के लेखक अशोक कुमार पांडेय का।

कश्मीर की नब्ज समझने वाले लेखक कहते हैं कि कश्मीरी लोगों को लेकर हमारे अंदर मोहब्बत नहीं, संशय बना हुआ है। वह कहते हैं, “कश्मीर को हमने हिंदू-मुसलमान का मसला बना दिया है। मेरा मानना है कि यदि कश्मीर को अपना मानना है, तो वहां के लोगों की परेशानियों को अपनी परेशानियां समझना होगा। जैसे देखिए, अभी कश्मीर का एक लड़का शताब्दी एक्सप्रेस में बिना टिकट यात्रा करते पाया गया और उसे आतंकवादी और पता नहीं क्या-क्या कह दिया गया, यह सोच खत्म करने की जरूरत है।”

अशोक कुमार पांडेय की किताब ‘कश्मीरनामा’ कश्मीर के भारत में विलय और उसकी परिस्थितियों को बयां करती है। वह कहते हैं, “जब मैं कश्मीर का अध्ययन कर रहा था, तो कश्मीर का मतलब मेरे लिए सिर्फ एक जगह नहीं थी, बल्कि वहां के लोग थे। पिछले कुछ दशकों में कश्मीर का मामला सुलझने की बजाय और उलझ गया है।”

वह कहते हैं कि कश्मीर के लोग परेशान हैं कि उनसे जो वादे किए गए थे, उन्हें निभाया नहीं गया। सारी समस्याओं की जड़ यही है कि भारत और पाकिस्तान दोनों कश्मीर पर अपना हक जताना चाहते हैं। पांडेय कहते हैं, “अगर आप कानूनी रूप से देखें, तो कश्मीर और हिंदुस्तान के बीच संधि हुई थी, तो इस लिहाज से कश्मीर पर भारत का हक बनता है। लेकिन पाकिस्तान इसे अलग तरह से परिभाषित करता है। दोनों देशों ने इसे अपने अहं का सवाल बना लिया है।”

उन्होंने कहा, “इन सभी उलझनों के बीच में पैन इस्लामिज्म ने प्रवेश किया। पैन इस्लामिज्म के बाद यह पूरा मूवमेंट ही बदल गया। सच्चाई यह है कि आम कश्मीरी पाकिस्तान को पसंद नहीं करता। पैन इस्लामिज्म में उसकी कोई दिलचस्पी नहीं है। वह चैन की जिंदगी गुजर-बसर करना चाहता है। वह चाहता है कि कश्मीर में तैनात सुरक्षाबलों की संख्या में घटाई जाए। नौकरियां दी जाएं और वह हिंदुस्तान में शांति से रह सके।”

अशोक पांडेय की इस किताब का आज प्रगति मैदान में विश्व पुस्तक मेले में औपचारिक लोकार्पण हुआ। किताब के बारे में वह कहते हैं, “इस किताब को पूरा करने में उन्हें चार साल लगे। इनमें से दो साल शोध कार्यो में, जबकि दो साल लेखन में लगे। इस दौरान मैंने 125 किताबों की मदद ली, जिसमें आठ से नौ शोधग्रंथ भी हैं। इस सिलसिले में चार बार कश्मीर जाना हुआ।”

उन्होंने कहा, “यह शोधकार्य था। इसलिए जरूरी था दस्तावेज इकट्ठा करना। इसे लेकर मैंने श्रीनगर विश्वविद्यालय, जम्मू और कश्मीर के शोपियां और कई गांवों की खाक छानी। इंटरनेट से भी काफी मदद ली। कुछ ऐसे लोगों से भी मिला, जो पहले आतंकवादी थे लेकिन अब मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं।”

पांडेय कहते हैं, “कश्मीर की एक समस्या यह भी है कि यहां कभी जनमत संग्रह नहीं हो पाया और इसके लिए हिंदुस्तान अकेला जिम्मेदार नहीं है, पाकिस्तान भी उतना ही जिम्मेदार है। हमने कश्मीर की समस्या को हिंदू-मुसलमान समस्या में तब्दील कर दिया है। दूसरी बात है कि कश्मीर लोग सिर्फ घूमने जाते हैं। यह सिर्फ पर्यटन तक सिमट गया है, कश्मीरियों से कोई संवाद नहीं है। दोनों के बीच में संवाद बेहद जरूरी है। मैंने किताब के अंत में यही बात लिखी है कि यदि कश्मीर के स्कूली बच्चे अन्य राज्यों में जाएं और वहां के छात्र यहां आएं तो संवाद की स्थिति बेहतर हो सकती है।”

वह कहते हैं, “कश्मीर में जिस तरह का माहौल है, उस पर लेबल चिपकाना बहुत गलत है। हम किसी को देशद्रोही या देशभक्त नहीं कह सकते। कश्मीर के साथ दिक्कत यही है कि वहां उद्योग-कारखाने नहीं हैं, लोगों के पास नौकरियां नहीं हैं, कहीं विकास नहीं है और ऊपर से कश्मीरियों का अपमान अलग से। मेरे लिए विकास का सीधा मतलब है कि लोगों को रोजगार मिले। लोगों को पढ़ने का मौका मिले।”

पांडेय कहते हैं, “कश्मीर के मसले पर सभी सरकारों ने कोई न कोई गलती की है। इंदिरा गांधी की अपनी गलतियां थीं, राजीव गांधी की अपनी और वाजपेयी जी के समय में कुछ काम जरूर हुआ, लेकिन वो कहीं पहुंच नहीं पाया। उसके बाद की सरकार की अपनी गलतियां और इस सरकार की अपनी गलतियां हैं। दिक्कत यही है कि कश्मीर को हमने कभी अपना नहीं समझा। हम सिर्फ यह मान बैठे हैं कि यह एक ऐसा इलाका है, जिस पर हमें कब्जा रखना है। इस मानसिकता को खत्म करना होगा। “

वह कहते हैं कि देश में हर जगह बवाल हो रहा है, हरियाणा में आरक्षण को लेकर कितनी हिंसा हुई। बिहार में जमकर बवाल हुआ। दलितों को छोटी सी बातों पर उन्हें मार दिया जाता है, खाप पंचायतों की करनी किसी से छिपी हुई न हीं है, लेकिन वे देशविरोधी नहीं कहलाते। वहीं, जब बात कश्मीर की आती है तो बलवा करने वाले को फौरन देशद्रोही बता दिया जाता है। हम कश्मीर को गैर मानकर चलते हैं। वे नाराज हैं और अपनी बात कहते हैं तो समझा जाता है कि वे पाकिस्तान का समर्थन कर रहे हैं। यही मानसिकता उन्हें एक दिन पाकिस्तान के पक्ष में धकेल देगी।

पांडेय कहते हैं, “नरेंद्र मोदी जब गुजरात में भाजपा के महासचिव थे तो उन्होंने कहा था कि कश्मीर समस्या के समाधान के लिए तीन ‘डी’ सूत्र जरूरी है- डेवलपमेंट, डेमोक्रेसी और डायलॉग और जब ये तीनों असफल रहें तो चौथे डी ‘डिफेंस’ का प्रयोग करना चाहिए, लेकिन दिक्कत यह है कि कश्मीर में अक्सर चौथा डी पहले प्रयोग में लाया जाता है। अगर पहले तीनों डी का सही तरीके से उपयोग किया जाए, थोड़ा धीरज रखा जाए, सेना को नियंत्रण में रखा जाए और लोगों का विश्वास जीता जाए तो एक दशक में ही कश्मीर में काफी हद तक आतंकवाद खत्म हो जाएगा।”

वह आगे कहते हैं, “कश्मीर में 2010 से लेकर 2014 तक आतंकवाद नियंत्रित था, लेकिन अचानक हिरोइज्म की शुरुआत हुई और काफी सारे लोग सड़कों पर आने शुरू हो गए।”

By : रीतू तोमर

Continue Reading

ब्लॉग

‘स्लोगन बाबा’ ने गंगा प्रेमियों को भी ठगा : राजेंद्र सिंह

गंगा पर बैराज बनाए जा रहे हैं, गंदे नाले मिल रहे हैं, इससे गंगा तो और खत्म होने के कगार पर पहुंच जाएगी। लिहाजा, अब तो वर्तमान सरकार पुरानी सरकार से ज्यादा संवेदनहीन दिखाई देने लगी है।

Published

on

Ganga Polluton

लगभग पौने चार वर्षो में केंद्र सरकार गंगा नदी की अविरलता और इसे प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए कोई सार्थक काम कर पाने में नाकाम रही। इससे गंगा प्रेमी नाराज हैं। दुनिया में ‘जलपुरुष’ के नाम से विख्यात राजेंद्र सिंह का तो यहां तक कहना है कि ‘स्लोगन बाबा (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) ने गंगा प्रेमियों को भी ठगने में कसर नहीं छोड़ी है।’

स्टॉकहोम वॉटर प्राइज से सम्मानित राजेंद्र सिंह ने आईएएनएस से फोन पर चर्चा के दौरान कहा, “वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में जब केंद्र में नई सरकार आई थी, तो इस बात की आस बंधी थी कि गंगा नदी का रूप व स्वरूप बदलेगा, क्योंकि प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी ने कहा था- ‘गंगा मां ने मुझे बुलाया है।’ उनकी इस बात पर प्रो. जी.डी. गुप्ता, नदी प्रेमी और संत समाज शांत होकर बैठ गया था, बीते पौने चार साल के कार्यकाल को देखें तो पता चलता है कि केंद्र सरकार ने अपने उन वादों को ही भुला दिया है, जो चुनाव के दौरान किए गए थे, अब तो सरकार गंगा माई का नाम ही नहीं लेती।”

Image result for स्टॉकहोम वॉटर प्राइज से सम्मानित राजेंद्र सिंह

Waterman India Rajendra Singh

बीते पौने चार वर्ष तक गंगा प्रेमियों के किसी तरह की आवाज न उठाने के सवाल पर राजेंद्र सिंह ने कहा, “सभी गंगा प्रेमियों को इस बात का भरोसा था कि नई सरकार वही करेगी, जो उसने चुनाव से पहले कहा था। मगर वैसा कुछ नहीं हुआ। तीन साल तक इंतजार किया, अब गंगा प्रेमियों में बेचैनी है, क्योंकि जो वादा किया गया था, उसके ठीक उलट हो रहा है।”

उन्होंने कहा, “गंगा पर बैराज बनाए जा रहे हैं, गंदे नाले मिल रहे हैं, इससे गंगा तो और खत्म होने के कगार पर पहुंच जाएगी। लिहाजा, अब तो वर्तमान सरकार पुरानी सरकार से ज्यादा संवेदनहीन दिखाई देने लगी है।”

‘जलपुरुष’ ने याद दिलाया कि वर्तमान सरकार ने नोटीफिकेशन कर गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित किया था, मगर गंगा को वैसा सम्मान नहीं मिला, जैसा प्रोटोकॉल के तहत मिलना चाहिए था। गंगा को वही सम्मान दिया जाए, जो राष्ट्रंीय ध्वज को दिया जाता है।

सरकार आखिर गंगा की अविरलता के लिए काम क्यों नहीं कर रही? इस सवाल पर राजेंद्र सिंह ने कहा, “उन्हें लगता है कि गंगा माई की सफाई में कोई कमाई नहीं हो सकती, इसलिए उस काम को किया ही न जाए। ऐसा सरकार से जुड़े लोगों ने सोचा। छोटे-छोटे काम भी अपने दल से जुड़े लोगों को ही दिया गया है।”

Related image

अपनी मांगों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, “रिवर और सीवर को अलग-अलग किया जाए, हिमालय से गंगासागर तक गंगा को साफ किया जाए, गंगा के दोनों ओर की जमीन का संरक्षण हो, न कि विकास के नाम पर उद्योगपतियों को सौंपने की साजिश रची जाए।”

राजेंद्र सिंह का आरोप है, “कुछ पाखंडी गुरुओं ने नदियों की जमीन पर पौधरोपण करने के नाम पर सरकारों से जमीन और पैसे पाने के लिए सहमतिपत्र तैयार किए हैं। यह संकट पुराने संकट से बड़ा है, क्योंकि इसमें किसानी की जमीन बड़े औद्योगिक घरानों को दिलाने का षड्यंत्र नजर आता है। इस षड्यंत्र के बारे में भी गंगा के किसानों को बताना जरूरी है। इस सब संकटों के समाधान के लिए गंगा प्रेमी एक साथ बैठकर चर्चा करने की तैयारी में हैं।”

Continue Reading

ब्लॉग

लोकतांत्रिक देश में पार्टियां प्राइवेट लिमिटेड!

Published

on

Indian Politics

इसमें कोई शक नहीं कि हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र हैं, जिस पर गर्व भी है। सच्चाई भी है कि सरकार केंद्र या राज्य कहीं भी हो, पार्टियों के अंदर का लोकतंत्र दूर-दूर तक गायब है। विडंबना, कुटिलता या एकाधिकारवादी प्रवृत्ति, कुछ भी कहें, भारत में शुरू से ही राजनीतिक पार्टियां व्यक्ति के आसरे या प्रभाव से ही प्रभावित रही हैं।

फिलहाल ‘आप’ में भी इसी बात को लेकर घमासान मचा है, तो नया क्या है? रिवाज सरीखे तमाम पार्टियां ‘आम’ आदमी से ‘खास’ बन जाती हैं। गर्व कीजिए कि सरकारें तो लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई होती हैं! ऐसे में ‘आप’ पर ही तोहमत क्यों?

दरअसल, राजनीति शह-मात का खेल है। नकेल जिसके हाथ है, पार्टी उसके नाम है। पुराने दौर से अब तक कमोवेश यही सिलसिला जारी है। ऐसी विविधता दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र, यानी भारत में ही दिखती है। खुश होइए कि लोकतंत्र जिंदाबाद है।

अहम यह कि पार्टियों के भीतर लोकतंत्र रहा ही कब? गांधीजी ने कांग्रेस के लिए देशभर में सदस्य बनाए। जिले तक को तवज्जो दी। सम्मेलनों में अध्यक्ष चुनने की शुरुआत हुई। लेकिन तब भी गांधीजी की पसंद खास होती थी। वर्ष 1937 को देखिए, पहला चर्चित चुनाव हुआ, तब सरदार पटेल संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष थे, लेकिन उम्मीदवारों का चयन पूरी तरह से केंद्रीकृत रहा। कुछ लोकतंत्र बचा रहा, जिसे बाद में इंदिराजी ने खत्म कर दिया। अब अमूमन सारी पार्टियां यही व्यवहार कर रही हैं। एक-एक सीट आलाकमान से तय होती है।

प्रदेश, जिला, नगर, यहां तक कि वार्ड की अहमियत नकारा है। सुप्रीमो पद्धति जन्मी और पार्टियां एक तरह से प्राइवेट लिमिटेड बनती चली गईं। राजनैतिक अनुभव या समाजसेवा से इतर फिल्मी स्टारों ने भी बहती गंगा में गोते लगाए। दर्जनों स्टार देखते-देखते बड़े नेता बन गए, वहीं कई मुख्यमंत्री तक हुए। भला रिटायर्ड या इस्तीफा दिए नौकरशाह या सैन्य अधिकारी क्यों पीछे रहते? भारत की राजनीति सरकारी पदों की अहमियत को भुनाने का मौका जो देती है।

अभी तो आम आदमी पार्टी की बात है, धारा का रुख देख भ्रष्टाचार विरोधी गोते लगाए गए। समाज-सेवक से लेकर नौकरशाह, कवि से लेकर पत्रकार, सभी ने बहती बयार को समझा और एक आंदोलन उपजाया। भारतीय इतिहास में जितनी तेजी से इस पार्टी ने झंडा गाड़ा, यकीनन जात-पात, अगड़े-पिछड़े और फिल्मी लोकप्रियता के नाम की राजनीति भी पीछे हो गई।

आम आदमी की पार्टी कहां से चली और धीरे-धीरे कहां पहुंच गई, सबको दिख रहा है। जब बारी लोकतंत्र में आहूति देने की आई, तो उच्च सदन के खास यजमान एकाएक अवतरित हुए! कहने की जरूरत नहीं कि लोकतंत्र में मतदाता केवल एक वोट बनकर रह गया है, जिसकी अहमियत चंद सेकेंड में बटन दबाने से ज्यादा कुछ नहीं। बाद में उसकी क्या पूछ परख है, खुली किताब है।

दूसरी पार्टियां ‘आप’ के घमासान पर विलाप करें या प्रलाप, लेकिन जब बात उनकी होती है तो लोकतंत्र की दुहाई देते नहीं अघाते। पार्टी कुछ नहीं होती, होते हैं उनको चलाने वाले ही बलशाली और महारथी।

अब मोदी-शाह के कमल की बहार हो, राहुल की कांग्रेस का हाथ हो, केजरीवाल के आप की झाड़ू, अखिलेश-मुलायम की साइकिल, मायावती का हाथी, ममता के दो फूल, लालू का लालटेन, उद्धव का तीर कमान, राज ठाकरे का रेल इंजन, अभिनेत्री जयललिता के बाद पनीर सेल्वम-पलनीस्वामी की दो पत्तियां, करुणानिधि का उगता सूरज, शरद पवार की घड़ी, बीजू जनता दल का शंख, कभी जॉर्ज फर्नांडीज तो अब नीतीश के जद (यू) का तीर, अभिनेता एनटी रामाराव के बाद चंद्रबाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी की साइिकल। हाल-फिलहाल रजनीकांत की दहाड़। इनके अलावा देश में न जाने कितने क्षत्रप और उनकी पार्टियां हैं, सच्चाई सबको पता है।

दलों का दलदल हो या हमाम, बस नजर का पर्दा ही है, जिसमें सब कुछ दिखकर भी कुछ नहीं दिखता। यही भारतीय लोकतंत्र है। अब इसे खूबी कहें या दाग, पार्टी तो चलाते हैं केवल सरताज। ऐसे में आम आदमी की क्या हैसियत? जो अंदर है, वह बाहर दिखता जरूर है। अब इस पर चीत्कार करें या आर्तनाद, कोई फर्क नहीं पड़ता।

कहने को कुछ भी कह लें, लेकिन हकीकत यही है कि कम से कम भारतीय राजनीति की यही सुंदरता है, उसका कलेवर हाड़-मांस का तो नहीं, कांच का भी नहीं, लेकिन फिर भी इतना कुछ पारदर्शी है कि सब कुछ दिखता है। इसे मत-मतांतर का फेर, सपनों की सौदागीरी, शब्दों की बाजीगरी कुछ भी कह लें।

लेकिन जानते, देखते और समझते हुए भी दलदल में हर बार हमारा वोट गोता खाकर रह जाता है और हम कहते हैं कि ‘अबकी बार हमारी सरकार।’ इतना कहना ही क्या कम है? तो आइए, एक बार फिर से कहें ‘लोकतंत्र जिंदाबाद’।

By : ऋतुपर्ण दवे

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व पत्रकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

Continue Reading
Advertisement
india-vs-south-africaa-min
खेल6 hours ago

सेंचुरियन टेस्ट- चौथा दिन : 258 पर सिमटी साउथ अफ्रीका टीम, भारत को मिला 287 रनों का लक्ष्‍य

loya
राष्ट्रीय6 hours ago

जस्टिस लोया की मौत पर उठे इन सवालों का जवाब ही उनके लिए सच्‍चा इंसाफ होगा…

murder
शहर6 hours ago

त्रिपुरा में बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या

LPG
राष्ट्रीय7 hours ago

गैस कंपनियों ने 30 लाख रसोई गैस खाते बंद किए

sensex
व्यापार7 hours ago

सेंसेक्स में 72 अंकों की गिरावट

WB Rao
मनोरंजन7 hours ago

सिनेमाटोग्राफर्स डब्ल्यू.बी. राव का निधन

vyapam
राष्ट्रीय7 hours ago

व्यापम मामले में CBI ने 95 लोगों के खिलाफ दायर किया आरोपपत्र

shabbir shah
राष्ट्रीय8 hours ago

मनी लॉन्ड्रिंग केस में शब्बीर शाह के खिलाफ मुकदमा शुरू

togadia-hardik
राष्ट्रीय8 hours ago

मोदी-शाह मिलकर तोगड़िया के खिलाफ रच रहे हैं साजिश : हार्दिक पटेल

खेल8 hours ago

कप्तान कोहली पर लगा जुर्माना

narottam patel
राजनीति2 weeks ago

रूपाणी कैबिनेट में दरार के आसार! नितिन पटेल के समर्थन में उतरे बीजेपी नेता नरोत्‍तम पटेल

lalu yadav
राजनीति1 week ago

चारा घोटाला: लालू को साढ़े तीन साल की सजा

Vinod Rai CAG
ब्लॉग4 weeks ago

संघ के 92 साल के इतिहास में विनोद राय की टक्कर का फ़रेबी और कोई नहीं हुआ!

sports
खेल1 week ago

केपटाउन टेस्‍ट: गेंदबाजों की मेहनत पर बल्‍लेबाजों ने फेरा पानी, 72 रनों से हारी टीम इंडिया

Congress party
ब्लॉग3 weeks ago

काँग्रेसियों की अग्निपरीक्षा! इन्हें ही एक बार फिर देश को आज़ाद करवाना होगा

hardik-nitin
राजनीति2 weeks ago

नितिन पटेल की नाराजगी पर हार्दिक की चुटकी, कहा- ’10 एमएलए लेकर आओ, मनमाफिक पद पाओ’

atal bihari vajpai
ज़रा हटके3 weeks ago

आजीवन क्यों कुंवारे रह गए अटल बिहारी बाजपेयी?

ananth-kumar-hegde
ओपिनियन3 weeks ago

ज़रा सोचिए कि क्या भारत के 69 फ़ीसदी सेक्युलर ख़ुद को हरामी बताये जाने से ख़ुश होंगे!

Modi Manmohan Sonia
ओपिनियन3 weeks ago

2G मामले में ट्रायल कोर्ट के फ़ैसले से सुप्रीम कोर्ट और विपक्ष दोनों ग़लत साबित हुए!

rape case
ओपिनियन4 weeks ago

2017 In Retrospect : दुष्कर्म के 5 चर्चित मामलों ने खोली महिला सुरक्षा की पोल

shivraj singh chouhan
राजनीति11 hours ago

शिवराज सिंह ने किसको जड़ा थप्पड़? देखें वीडियो…

अंतरराष्ट्रीय3 days ago

PoK में पाक सरकार के खिलाफ प्रदर्शन, सड़कों पर उतरे व्यापारी

Supreme Court Judges
राष्ट्रीय4 days ago

पहली बार SC के जज आए सामने, कहा- ‘हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा’

gadkari
राजनीति5 days ago

नौसेना पर बरसे गडकरी, कहा- ‘दक्षिणी मुंबई में नहीं दूंगा एक इंच जमीन’

mumbai-
शहर5 days ago

मुंबई के हुक्काबार में जमकर तोड़फोड़

helicopter
शहर6 days ago

आर्मी-डे परेड की रिहर्सल के दौरान 3 जवान घायल…देखें वीडियो

Ashwini-Kumar-Chopra
राजनीति6 days ago

भाजपा सांसद का बयान- 2019 में जिताओगे तो 2014 के वादे पूरे करूंगा, देखिए वीडियो

iligaters
अन्य6 days ago

ठंड का कहर: मगरमच्छ बन गया बर्फ…देखें वीडियो

bjp mla
राजनीति1 week ago

बीजेपी विधायक ने खुद को बताया ‘महागुंडा’, देखें वीडियो…

Dinesh Sharma
राजनीति1 week ago

वोट मांगने गए बीजेपी प्रत्याशी को जनता ने पहनाई जूतों की माला

Most Popular