Connect with us

व्यापार

डेटा लीक मामले में फेसबुक को बड़ा झटका, 35 अरब डॉलर की गिरावट

Published

on

mark-zuckerberg
फाइल फोटो

करोड़ों यूजर्स के डेटा लीक मामले में फेसबुक को बड़ा झटका लगा है। सोमवार को इस अमेरिकी सोशल मीडिया के शेयर करीब 7 फीसदी टूट गए और कंपनी के मार्केट वैल्यू में करीब 35 अरब डॉलर तक की गिरावट आ गई।

राजनीतिक विज्ञापन कंपनी के करोड़ों फेसबुक यूजर्स के डेटा उनकी सहमति के बिना अपने पास रखने की खबर आने पर अमेरिकी और यूरोपीय सांसदों ने फेसबुक इंक से जवाब मांगा।

शेयर की कीमत घटने की वजह से फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्क को एक दिन में 6.06 अरब डॉलर (करीब 395 अरब रुपये) का झटका लग गया। अमेरिका और यूरोप के सांसदों ने जकरबर्ग को उनके सामने पेश होने के लिए कहा है। वे जानना चाहते हैं कि ब्रिटेन की कैंब्रिज एनालिटिका ने डॉनल्ड ट्रंप को अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव जीतने में किस तरह से मदद की?

बीबीसी के मुताबिक, फेसबुक के डिप्टी लीगल एडवाइजर पॉल ग्रेवाल ने अपने ब्लॉग में कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है और जांच पूरी होने तक ‘कैम्ब्रिज एनालिटिकल’ का निलंबन जारी रहेगा। इसी फर्म ने ट्रम्प के इलेक्शन कैंपेन में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर कानूनी कदम भी उठाया जा सकता है।

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प की मदद करने वाली एक फर्म ‘कैम्ब्रिज एनालिटिका’ पर लगभग 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के निजी जानकारी चुराने के आरोप लगे हैं। इस जानकारी को चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया गया है।

फेसबुक पहले ही यह बता चुका है कि 2016 में अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले उसके प्लेटफॉर्म का, प्रचार-प्रसार करने वाले रूसी लोगों ने कैसे इस्तेमाल किया था, लेकिन इसे लेकर जकरबर्ग कभी सवालों के घेरे में नहीं आए थे। इस मामले से सोशल नेटवर्किंग साइट्स के सख्त रेग्युलेशन का दबाव भी बन सकता है। ब्रिटेन के एक सांसद ने सोमवार को कहा कि देश के प्राइवेसी वॉचडॉग को अधिक ताकत मिलनी चाहिए।

WeForNews

व्यापार

हरे निशान में खुले शेयर बाजार

Published

on

sensex-min

मुंबई, देश के शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में सोमवार को मजबूती का रुख है। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 9.40 बजे 215.97 अंकों की बढ़त के साथ 36,178.90 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 49.10 अंकों की मजबूती के साथ 10,854.55 पर कारोबार करते देखे गए।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 166.2 अंकों की मजबूती के साथ 36,129.13 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 47.75 अंकों की बढ़त के साथ 10,853.20 पर खुला।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्स में 33 अंकों की तेजी

Published

on

देश के शेयर बाजारों में शुक्रवार को तेजी रही। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 33.29 अंकों की तेजी के साथ 35,962.93 पर और निफ्टी 13.90 अंकों की तेजी के साथ 10,805.45 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 30.55 अंकों की तेजी के साथ 35,960.19 पर खुला और 33.29 अंकों या 0.09 फीसदी तेजी के साथ 35,962.93 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,019.02 के ऊपरी स्तर और 35,813.85 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 29.25 अंकों की तेजी के साथ 15,192.84 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 4.07 अंकों की तेजी के साथ 14,501.76 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 7.05 अंकों की गिरावट के साथ 10,784.50 पर खुला और 13.90 अंकों या 0.13 फीसदी तेजी के साथ 10,805.45 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,815.75 के ऊपरी और 10,752.10 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 13 सेक्टरों में तेजी रही। दूरसंचार (3.08 फीसदी), तेल और गैस (1.74 फीसदी), उपभोक्ता सेवाएं (0.98 फीसदी), ऊर्जा (0.95 फीसदी) और बिजली (0.93 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

सेंसेक्स के सर्वाधिक गिरावट वाले पांच सेक्टरों में स्वास्थ्य (0.81 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (0.69 फीसदी), उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.31 फीसदी), उद्योग (0.28 फीसदी) और वित्त (0.17 फीसदी) प्रमुख रूप से शामिल रहे।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

देश की थोक महंगाई दर नवंबर में 4.64 फीसदी

Published

on

Inflation
प्रतीकात्मक तस्वीर

खाद्य व तेल की कीमतों में कमी की वजह से थोक मूल्य पर आधारित देश की सलाना महंगाई दर नवंबर में घटकर 4.64 फीसदी रही है। यह अक्टूबर में 5.28 फीसदी थी। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, साल-दर-साल आधार पर थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) के आंकड़े में वृद्धि दर्ज की गई है, जो कि साल 2017 के इसी महीने में 4.02 फीसदी थी।

मंत्रालय ने नवंबर के लिए ‘भारत की थोक मूल्य सूचकांक संख्या’ की समीक्षा में कहा, “मासिक डब्ल्यूपीआई पर आधारित सालाना मुद्रास्फीति दर (अनंतिम) नवंबर में (साल 2017 के अक्टूबर की तुलना में) 4.64 फीसदी रही, जबकि इसके पिछले महीने यह 5.28 फीसदी (अनंतिम) और पिछले साल के नवंबर में 4.02 फीसदी रही थी।”

वाणिज्य मंत्रालय के आधिकारिक बयान में कहा गया है, “चालू वित्त वर्ष में अबतक बिल्ड अप मुद्रास्फीति दर 4.73 फीसदी रही है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 2.83 फीसदी थी।”

क्रमिक आधार पर, प्राथमिक वस्तुओं पर खर्च 0.88 फीसदी घटा है, जिसका डब्ल्यूपीआई में 22.62 फीसदी भार है। यह अक्टूबर में 1.79 फीसदी पर था। इसी प्रकार खाद्य पदार्थो की कीमतें गिरी हैं। इस श्रेणी का डब्ल्यूपीआई सूचकांक में भार 15.26 फीसदी है।

इसके अतिरिक्त ईंधन और बिजली खंड, जिसका सूचकांक में भार 13.15 फीसदी है, में नवंबर में 16.28 फीसदी वृद्धि दर रही है। विनिर्मित उत्पादों के खर्च में 4.21 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular