Connect with us

व्यापार

डेटा लीक मामले में फेसबुक को बड़ा झटका, 35 अरब डॉलर की गिरावट

Published

on

mark-zuckerberg
फाइल फोटो

करोड़ों यूजर्स के डेटा लीक मामले में फेसबुक को बड़ा झटका लगा है। सोमवार को इस अमेरिकी सोशल मीडिया के शेयर करीब 7 फीसदी टूट गए और कंपनी के मार्केट वैल्यू में करीब 35 अरब डॉलर तक की गिरावट आ गई।

राजनीतिक विज्ञापन कंपनी के करोड़ों फेसबुक यूजर्स के डेटा उनकी सहमति के बिना अपने पास रखने की खबर आने पर अमेरिकी और यूरोपीय सांसदों ने फेसबुक इंक से जवाब मांगा।

शेयर की कीमत घटने की वजह से फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्क को एक दिन में 6.06 अरब डॉलर (करीब 395 अरब रुपये) का झटका लग गया। अमेरिका और यूरोप के सांसदों ने जकरबर्ग को उनके सामने पेश होने के लिए कहा है। वे जानना चाहते हैं कि ब्रिटेन की कैंब्रिज एनालिटिका ने डॉनल्ड ट्रंप को अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव जीतने में किस तरह से मदद की?

बीबीसी के मुताबिक, फेसबुक के डिप्टी लीगल एडवाइजर पॉल ग्रेवाल ने अपने ब्लॉग में कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है और जांच पूरी होने तक ‘कैम्ब्रिज एनालिटिकल’ का निलंबन जारी रहेगा। इसी फर्म ने ट्रम्प के इलेक्शन कैंपेन में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर कानूनी कदम भी उठाया जा सकता है।

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प की मदद करने वाली एक फर्म ‘कैम्ब्रिज एनालिटिका’ पर लगभग 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के निजी जानकारी चुराने के आरोप लगे हैं। इस जानकारी को चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया गया है।

फेसबुक पहले ही यह बता चुका है कि 2016 में अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले उसके प्लेटफॉर्म का, प्रचार-प्रसार करने वाले रूसी लोगों ने कैसे इस्तेमाल किया था, लेकिन इसे लेकर जकरबर्ग कभी सवालों के घेरे में नहीं आए थे। इस मामले से सोशल नेटवर्किंग साइट्स के सख्त रेग्युलेशन का दबाव भी बन सकता है। ब्रिटेन के एक सांसद ने सोमवार को कहा कि देश के प्राइवेसी वॉचडॉग को अधिक ताकत मिलनी चाहिए।

WeForNews

व्यापार

आरटीआई का खुलासा- मोदी कार्यकाल में तीन गुना बढ़ा एनपीए!

Published

on

bad-loan
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत बताया कि मोदी कार्यकाल में सरकारी बैंकों का एनपीए पहले से तीन गुना ज्‍यादा हो गया है।

जनसत्‍ता के मुताबिक, एक समाचार चैनल के सवालों का जवाब देते हुए आरबीआई ने कहा है कि 30 जून, 2014 से दिसंबर, 2017 के अंत तक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एनपीए बढ़कर तीन गुना हो गया है। रिजर्व बैंक ने कहा है, 30 जून, 2014 तक सरकारी क्षेत्र के बैंकों का कुल एनपीए 2,24,542 करोड़ रुपये था जो साढ़े तीन साल यानी दिसंबर 2017 तक बढ़कर 7,23,513 करोड़ रुपये हो गया। रिजर्व बैंक ने सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों की रिपोर्ट के आधार पर यह आंकड़ा जारी किया है। आरटीआई में 30 जून, 2018 तक बैड लोन की जानकारी मांगी गई थी लेकिन आरबीआई ने आंकड़ा नहीं होने का हवाला देकर आगे की सूचना देने में असमर्थता जाहिर की।

WeForNews

Continue Reading

व्यापार

सेंसेक्‍स 169 अंकों की गिरावट के साथ बंद

Published

on

sensex
File Photo

मुंबई। देश के शेयर बाजारों में बुधवार को गिरावट दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 169.45 अंकों की गिरावट के साथ 37,121.22 पर और निफ्टी 44.55 अंकों की गिरावट के साथ 11,234.35 पर बंद हुआ। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 142.26 अंकों की तेजी के साथ 37,432.93 पर खुला और 169.45 अंकों या 0.45 फीसदी गिरावट के साथ 37,121.22 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 37,530.63 के ऊपरी और 37,062.69 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 115.80 अंकों की गिरावट के साथ 15,867.84 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 161.41 अंकों की गिरावट के साथ 16,250.96 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 47.75 अंकों की तेजी के साथ 11,326.65 पर खुला और 44.55 अंकों या 0.39 फीसदी गिरावट के साथ 11,234.35 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 11,332.05 के ऊपरी और 11,210.90 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से छह शेयरों में तेजी रही। धातु (1.25 फीसदी), तेल और गैस (0.98 फीसदी), आधारभूत सामग्री (0.20 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (0.15 फीसदी) और ऊर्जा (0.14 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – तेज खपत उपभोक्ता वस्तु (1.09 फीसदी), वित्त (1.01 फीसदी), रियल्टी (0.96 फीसदी), उपभोक्ता गैर अनिवार्य वस्तु और सेवाएं (0.82 फीसदी) और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तु (0.80 फीसदी)।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

रुपये के गिरने का नया रिकॉर्ड, पहुंचा 73 के पास

Published

on

dollar vs rupees
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की मजबूती लगातार टूटती जा रही है। मंगलवार (18 सितंबर) को रुपया अबतक के निम्‍नतम रिकॉर्ड स्‍तर पर जा पहुंचा। डॉलर की तुलना में रुपया 46 पैसे और गिरकर 72.97 के नए निचले स्‍तर पर बंद हुआ। इससे पहले मंगलवार को ही सुबह शुरुआती कारोबार में रुपया 10 पैसे मजबूत होकर 72.41 रुपए प्रति डॉलर पर था।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular