रोज एक अंडा खाने से होते हैं ये फायदे.... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

स्वास्थ्य

रोज एक अंडा खाने से होते हैं ये फायदे….

Published

on

egg-
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

ज्यादातर लोगों को ये पता है कि अंडा एक पौष्ट‍िक खाद्य है। ऐसा कम ही लोग जानते हैंं कि अंडा खाने से क्या-क्या फायदे होते हैं। अंडा प्रोटीन और अमीनो एसिड का एक बहुत अच्छा सोर्स है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

कुछ ही ऐसी चीजें होती हैं जिनमें संपूर्ण प्रोटीन होता है और अंडा उनमें से एक है। साथ ही इसमें सभी नौ जरूरी अमीनो एसिड्स भी पाए जाते हैं जो शरीर के लिए बेहद जरूरी होते हैं। इसके अलावा ये विभिन्न प्रकार के विटामिन्स जैसे विटामिन A, B12, D और E से भी भरपूर होता है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

अंडा फोलेट, सेलेनियम और दूसरे कई प्रकार के लवणों से भी युक्त होता है। चीन में हुई एक स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया गया है कि दिनभर में एक अंडा खाने से दिल संबंधी बीमारियों का खतरा बेहद कम हो जाता है। ‘हार्ट जर्नल’ में प्रकाशित इस स्टडी में लगभग 4 लाख लोगों को शामिल किया गया है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

आइए जानें, क्या कहती है स्टडी की रिपोर्ट…

स्टडी की रिपोर्ट के मुताबिक, रोजाना अंडा खाने वाले लोगों में दिल की बीमारी की वजह से मौत होने की संभावना अंडा न खाने वाले लोगों के मुकाबले 18 फीसदी कम होती है। इतना ही नहीं दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों में हार्ट अटैक, स्ट्रोक और दिल संबंधी कई दूसरी समस्याएं होने का खतरा रहता है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

आजकल अधिकतर लोग ब्लड प्रेशर, मोटापा और ब्लड शुगर जैसी गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं, जो दिल की बीमारी को न्योता देने का काम करती हैं। इसके अलावा खान-पान में लापरवाही, स्मोकिंग और अल्कोहल के सेवन से भी दिल की बीमारियों का खतरा कई गुना अधिक बढ़ जाता है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

हालांकि, कई डॉक्टर कुछ मरीजों को ज्यादा अंडे न खाने की सलाह देते हैं। इस पर स्टडी के सहलेखक और ‘पेकिंग यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ’ के एसोसिएट प्रोफेसर Canqing Yu ने बताया कि विटामिन और अन्य गुणों से भरपूर अंडे में भारी मात्रा में कोलेस्ट्रोल भी होता है, जिस वजह से कुछ लोगों को लगता है कि अंडा सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

इसके अलावा उन्होंने ये भी बताया कि अभी तक अंडे के सेवन और दिल संबंधी समस्याओं पर जितनी भी स्टडी हुई हैं, उनमें काफी कम जानकारी दी गई है। उन सभी स्टडी में खान-पान की आदतें, जीवनशैली और बीमारी होने के कारणों में काफी अंतर है, जिस वजह से उन्होंने और उनके अन्य साथियों ने अंडे के सेवन से दिल की बीमारियों के संबंध को देखते हुए इस पर रिसर्च करने का फैसला किया।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने एक दूसरी स्टडी के डेटा को भी इस्तेमाल किया, जिसमें चीन के 10 अलग-अलग क्षेत्रों में रहने वाले लगभग लाखों लोगों को शामिल किया गया था। उस स्टडी में करीबन 416,213 ऐसे लोग थे जिनको कभी कैंसर, डायबिटीज या दिल से जुड़ी कोई बीमारी नहीं हुई थी।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

बता दें, इनमें से 13 फीसदी लोग 30 से 79 की उम्र वाले थे,जो रोजाना अंडा खाते थे। वहीं 9 फीसदी लोग ऐसे भी सामने आए जो अंडा नहीं खाते थे लेकिन चिकन खाते थे। लगभग 9 साल की रिसर्च के बाद शोधकर्ता इस स्टडी के नतीजों पर पहुंचे है। शोधकर्ताओं ने बताया कि चीन में सबसे ज्यादा मौतें दिल की बीमारियों की वजह से होती हैं।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

इसके अलावा स्टडी के दौरान लगभग 9,985 लोगों की दिल की बीमारी की वजह से मौत के मामले सामने आए। वहीं, करीब 84,000 लोगों में दिल की बीमारी की शिकायत सामने आई। सभी जानकारी का विश्लेषण करने के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि अंडे खाने वाले लोगों में उन लोगों के मुकाबले दिल की बीमारी होने का खतरा बेहद कम होता है जो अंडा नहीं खाते हैं।

...इसलिए आपको रोज खाना चाहिए एक अंडा

WeForNews

स्वास्थ्य

वेट लूज करने के लिए करें ये काम…

Published

on

weight-loss-min
file photo

कैलोरी घटाने और हेल्थी रहने के लिए एक्सरसाइज जरूरी है, लेकिन एक नए रिसर्च में यह बात सामने आई है कि वेट लूज करने के लिए सिर्फ एक्सरसाइज करना ही काफी नहीं है। इसके लिए पर्याप्त और संतुलित आहार भी जरूरी है।

अमेरिका की सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क के रिसर्चर्स हर्मन पांट्जर के मुताबिक, “हेल्थ के लिए एक्सरसाइज बहुत जरूरी है। हमारे पास ऐसे बहुत से सबूत हैं, जो बताते हैं कि एक्सरसाइज करने से माइंड और बॉडी दोनों फिट रहते हैं।

fat-wefornews

लेकिन हमने इस रिसर्च में पाया है कि वेट कंट्रोल करने के लिए प्रोपर डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी है। वेट कम करने के लिए ज्यादातर लोग तरह-तरह के इवेंट में हिस्सा लेते हैं, जिससे उनका वेट तो कम हो जाता है, लेकिन कुछ दिनों के बाद वजन फिर से बढ़ने लगता है।

fatigue-wefornews

कंपेयरिजन से ये भी सामने आया है कि ज्यादा एक्टिव लाइफस्टाइल जीने वाले लोगों में अधिक गतिहीन लोगों के समान ही दैनिक ऊर्जा व्यय होती है।”

इसका पता लगाने के लिए रिसर्चर्स ने 300 पुरुषों और महिलाओं पर दैनिक ऊर्जा व्यय और गतिविधि स्तर के संबंधों का अध्ययन किया।

रिसर्चर्स ने यह पाया कि बॉडी की एक्टिविटी और डेली एनर्जी के प्रभावों पर फिर से विचार किया जाना चाहिए। वेट लूज करने के लक्ष्य में यह फूड और एक्सरसाइज की तरह ही इंपॉर्टेंट है।

wefornews bureau 

Continue Reading

स्वास्थ्य

ऐसिडिटी की दवा रेनिटिडिन से हो सकता है कैंसर…

Published

on

Ranitidine-
प्रतीकात्मक तस्वीर

ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया ने मंगलवार को रेनिटिडिन पर सार्वजनिक स्वास्थ्य चेतावनी जारी की है और कहा है कि इसमें ऐसे रसायन पाए जाते हैं, जिससे कैंसर हो सकता है।

रेनिटिडिन एक सस्ते दाम में मिलनेवाला बहुत पुरानी दवा है, जिसका इस्तेमाल पेट की एसिडिटि को कम करने के लिए किया जाता है। कई अन्य देशों के ड्रग रेगुलेटर ने भी इसमें हानिकारक रसायन पाएं और इसे अपने यहां प्रतिबंधित किया है।

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के अधीन ड्रग्स कंट्रोलर, वी. जी. सोमानी ने सभी राज्यों को निर्देश जारी कर रेनिटिडिन को लेकर चेतावनी जारी की है और कहा कि वे मरीजों की सुरक्षा के लिए सभी ड्रग निर्माताओं से कदम उठाने के कहें।

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के अधीन ड्रग्स कंट्रोलर, वी. जी. सोमानी ने सभी राज्यों को निर्देश जारी कर रेनिटिडिन को लेकर चेतावनी जारी की है और कहा कि वे मरीजों की सुरक्षा के लिए सभी ड्रग निर्माताओं से कदम उठाने के कहें।

रेनिटिडिन दवा का उपयोग देश में कई लक्षणों के इलाज में किया जाता है और यह अलग-अलग फोर्मूलेशन में टैबलेट और इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध है। यह सेड्युल एच के तहत प्रेसक्रिप्शन ड्रग है, यानी इसे दवाई की दुकान से खरीदने के लिए डाक्टर की पर्ची की जरूरत होती है।

इस दवाई में कैंसर के कारकों का पता सबसे पहले अमेरिका की एफडीए ने लगाया था और इस संबंध में अलर्ट जारी किया था। भारत में इस दवाई का उत्पादन करने वाली कंपनियों को तुरंत प्रभाव से इस दवा का उत्पादन रोकने के लिए कहा गया है।

ड्रग कंट्रोलर के निर्देशों के तहत डाक्टरों को यह सलाह जारी की गई है कि वे इस दवाई को मरीजों को लेने की सलाह ना दें।

–आईएएनएस

Continue Reading

स्वास्थ्य

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है अशांत नींद

Published

on

Sleep-Nap
File Photo

एक अध्ययन के अनुसार, त्रासदी के दो साल बाद भी प्राकृतिक आपदा से बचे लोगों में नींद की गड़बड़ी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ी है।

स्लीप पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में लगभग 31 वर्षों की औसत आयु वाले 165 प्रतिभागी (52 प्रतिशत पुरुष) शामिल थे। प्रतिभागी 2010 के भूकंप से प्रभावित क्षेत्रों में से एक पोर्ट-ए-प्रिंस हैती में रह रहे थे।

सर्वेक्षण के अनुसार, यह देश के इतिहास में सबसे विनाशकारी भूकंप था। आपदा ने लगभग दो लाख लोगों को मार डाला और 10 लाख से अधिक निवासियों को विस्थापित होने पर मजबूर होना पड़ा।

न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय से अध्ययन के प्रमुख लेखक जूडिट ब्लैंक ने कहा, “2010 के हैती भूकंप के बचे लोगों में नींद की गड़बड़ी की व्यापकता की जांच करने वाला यह पहला महामारी विज्ञान का अध्ययन है।”

ब्लैंक ने कहा, “हमारे अध्ययन में सामान्य आघात से संबंधित विकारों और जीवित बचे लोगों के समूह के मध्य कोमोरिड नींद की स्थिति के बीच मजबूत संबंध को रेखांकित किया गया है।”

शोधकर्ताओं ने भूकंप के बाद दो साल तक जीवित रहने वालों का सर्वेक्षण किया और पाया कि 94 प्रतिशत प्रतिभागियों ने अनिद्रा के लक्षणों और आपदा के बाद के जोखिम का अनुभव किया।

दो साल बाद 42 प्रतिशत में पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पीटीएसडी) का महत्वपूर्ण स्तर दिखा।लगभग 22 प्रतिशत में अवसाद के लक्षण थे।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular