शहर

सरकारी साड़ी पाने को महिलाओं ने खींचे एक-दूसरे के बाल

telangana

गरीबी रेखा से नीचे की महिलाओं को साड़ी बांटने की तेलंगाना सरकार की योजना विवादों में घिरती नजर आ रही है। मंगलवार से नौ दिवसीय शुरु होने वाले बथुकम्मा त्‍योहार के उपलक्ष्‍य में साड़ी वितरण की योजना के चंद्रशेखर राव ने बनाई। राज्‍य सरकार ने कहा है कि गरीबों को त्‍योहार के उपहारस्‍वरूप इन साडि़यों को वितरित किया जाना है।

इसके तहत 222 करोड़ रुपये की लागत से एक करोड़ से ज्यादा साडि़यां मुफ्त में वितरित करने का सरकार ने फैसला किया है। वरिष्‍ठ नौकरशाहों की टीम ने साडि़यों की 500 डिजाइन पसंद की है।

बता दें कि सोमवार से उनके वितरण का कार्यक्रम था। सुबह से ही महिलाओं की लंबी कतारें लगी थीं। इस बीच लचर प्रबंधन के चलते धक्‍का-मुक्‍की की स्थिति उत्‍पन्‍न हो गई थी। कई जगहों पर महिलाओं के बीच साड़ी पाने की होड़ में झगड़ा हो गया था। स्‍थानीय टीवी चैनलों में महिलाओं को एक-दूसरे के बाल नोंचते हुए दिखे। कई महिलाएं मारपीट पर उतर आईं। इसको नियंत्रित करने में पुलिस को काफी मशक्‍कत भी करनी पड़ी।

उसके बाद जब साड़ी मिलनी शुरु हो गई तो बवाल मचने लगा। कई जगहों पर महिलाओं ने इन साडि़यों की क्‍वालिटी पर सवाल खड़े किए यहां तक कि इनको घटिया तक कह डाला।

दरअसल सरकार की योजना को जल्‍दबाजी में अमलीजामा पहनाने के लिए आधी साडि़यां गुजरात के सूरत से मंगाई गईं और आधी तेलंगाना के पावरलूम से खरीदी गई थीं।

वहीं विरोध करने वाली महिलाओं ने कहा है कि उनको पावरलूम की साडि़यां देने का वादा किया गया था लेकिन बाद में पॉलिस्‍टर की साडि़यां दे दी गईं। कईयों ने तो साडि़यों को जला तक दिया। सत्‍ताधारी टीआरएस ने इस हंगामे के लिए कांग्रेस को जिम्‍मेदार ठहराया है।

wefornews bureau 

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top